12 अक्तूबर 2014

अलसी के दोहे.......!

loading...

तेल तड़का छोड़ कर नित घूमन को जाय,

मधुमेह का नाश हो जो जन अलसी खाय। 


नित भोजन के संग में , मुट्ठी अलसी खाय।
अपच मिटे, भोजन पचे, कब्जियत मिट जाये।। 

घी खाये मांस बढ़े, अलसी खाये खोपड़ी। 
दूध पिये शक्ति बढ़े, भुला दे सबकी हेकड़ी।।

धातुवर्धक, बल-कारक, जो प्रिय पूछो मोय।
अलसी समान त्रिलोक में, और न औषध कोय।। 

जो नित अलसी खात है, प्रात पियत है पानी।
कबहुं न मिलिहैं वैद्यराज से, कबहुँ न जाई जवानी।। 

अलसी तोला तीन जो, दूध मिला कर खाय।
रक्त धातु दोनों बढ़े, नामर्दी मिट जाय।।

- स्वामी ओमानन्द

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Loading...

कुल पेज दृश्य

Upchar और प्रयोग

प्रस्तुत वेबसाईट में दी गई जानकारी आपके मार्गदर्शन के लिए है किसी भी नुस्खे को प्रयोग करने से पहले आप को अपने निकटतम डॉक्टर या वैध्य से अवश्य परामर्श लेना चाहिए ...

लोकप्रिय पोस्ट

लेबल