loading...

17 जून 2017

माइग्रेन का क्या इलाज है

माईग्रेन(Migraine)को कई लोग अलग-अलग नाम से जानते है कुछ लोग इसे अधकपारी या आधाशीशी का दर्द भी कहते है ये माईग्रेन(Migraine)एक बेहद दर्दकारक समस्या है और ज्यादातर देखा जाता है की माईग्रेन का दर्द सिर के बाएं अथवा दाहिने भाग में होता है यानि सिर के एक ही हिस्से में इसे महसूस किया जाता है इसलिये इसे आधा सिर दर्द भी कहा जाता है-

माइग्रेन का क्या इलाज है

कभी-कभी यह दर्द ललाट और आंखों पर भी स्थिर हो जाता है जो नज़र की कमज़ोरी के कारण भी हो जाता है और कई दफ़ा माईग्रेन(Migraine)का दर्द सुबह उठते ही प्रारंभ हो जाता है और सूरज के चढ़ने के साथ रोग भी बढ़ता जाता है तथा दोपहर बाद माईग्रेन(Migraine)के दर्द में कमी हो जाती है कारगर उपायों के तौर पर सुदुर ग्रामीण अंचलों में आदिवासी हर्बल जानकार अनेक हर्बल नुस्खों का इस्तेमाल करते हैं आज हम ऐसे ही एक कारगर नुस्खे का जिक्र करेंगे जिसे आमतौर पर आदिवासी अक्सर इस्तेमाल में लाते हैं-

माईग्रेन(Migraine)के लिए क्या करें-


1- माईग्रेन होने पर हर रोज एक-एक बूँद श्री तुलसी की पानी में या चाय मे डॉल कर दो या तीन बार पी ले-

2- तुवर के पत्तों या अहरहर के पत्तों का रस 50 ग्राम तथा दूब यानि दूर्वा घास 50 ग्राम का रस निकल कर फिर आप इन दोनो मिश्रण को आपस में अच्छी तरह घोल ले और इसमें 3-4 काली मिर्च भी कूटकर मिला ले इस रस की 2-3 बूंद को नाक के दोनो नथूनों में डालें  15 से 20 दिन तक दिन में दो बार करें यह माईग्रेन(Migraine)का सबसे बढ़िया उपचार है-

3- माईग्रेन के नाम पर दर्द निवारक दवाएं दी जाती हैं लेकिन दर्द निवारक दवाओं से दर्द मे तो राहत मिल जाती है मगर इनके घातक दुष्प्रभावों से कई अन्य रोग होना भी आम बात है इस रोग के इलाज में माडर्न दवाएं ज्यादा सफ़ल नहीं हैं तथा इसके साईड इफेक्ट ज्यादा होते हैं-

निम्नलिखित उपाय निरापद हैं और कारगर भी हैं-


1- बादाम 10-12 नग प्रतिदिन खाएं-यह माईग्रेन का उत्तम उपचार है-

2- बंद गोभी को कुचलकर एक सूती कपडे में बिछाकर मस्तक(ललाट)पर बांधें आप रात को सोते वक्त या दिन में भी सुविधानुसार कर सकते हैं जब गोभी का पेस्ट सूखने लगे तो नया पेस्ट बनाकर पट्टी बांधें-मेरे अनुभव में यह माईग्रेन(Migraine)का सफ़ल उपचार हैं-

3- गरम जलेबी 200 ग्राम नित्य सुबह सूर्य उगने के समय खाने से भी कुछ रोगियों को लाभ हुआ है ये जलेबी आप पहले सूर्य को दिखाए जैसे आप किसी बच्चे को ललचा कर उसे न दे कर खुद खा लेते है ठीक इसी प्रकार आप सूर्य भगवान् को दिखाए और खुद खा ले ये एक प्रकार का टोटका ही है लेकिन बहुत से लोगों को लाभ हुआ है इसका प्रभाव रविवार को जादा होता है लेकिन आपको लगातार तीन दिन करना है-

4- विटामिन बी काम्प्लेक्स का एक घटक नियासीन है यह विटामिन आधाशीशी रोग में उपकारी है 100 मिलि ग्राम की मात्रा में रोज लेते रहें-

5- आधा चम्मच सरसों के बीज का पावडर 3 चम्मच पानी में घोलकर नाक में रखें माईग्रेन(Migraine) का सिरदर्द कम हो जाता है-

6- माईग्रेन(Migraine)रोगी देर से पचने वाला और मसालेदार भोजन न करें-

7- आप तनाव मुक्त जीवन शैली अपनाएं तथा हरी सब्जियों और फ़लों को अपने भोजन में प्रचुरता से शामिल करें-

8- गाजर का रस और पालक का रस दोनों करीब 300 मिलिलीटर पीयें आधाशीशी में गुणकारी है-

9- अंगूर का रस 200 मिलिलीटर सुबह-शाम पीयें ये भी आजमाने योग्य कारगर नुस्खा है-

10- नींबू के छिलके कूट कर पेस्ट बना लें तथा इसे ललाट पर बांधें आपको जरूर फ़ायदा होगा तथा सिर को कपडे से मजबूती से बांधें इससे खोपडी में रक्त का प्रवाह कम होकर सिरदर्द से राहत मिल जाती है-


सभी पोस्ट एक साथ पढने के लिए नीचे दी गई फोटो पर क्लिक करें-



सभी पोस्ट एक साथ पढने के लिए नीचे दी गई फोटो पर क्लिक करें-

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Loading...