क्या आप तर्जनी ऊँगली से उठा सकते है नब्बे किलो का पत्थर ....?


जी हाँ क्या आप तर्जनी अंगुली से 90 कि.ग्रा. वजन के पत्थर को अपने सर तक उठा सकते है.?

अमूमन ज्यादा तर लोगों का जबाव नहीं में ही होगा-लेकिन महाराष्ट्र में पुणे स्थित 'बाबा हजरत कमर अली की दरगाह' में यह चमत्कार आप कर सकते है-

यहां अंगुली से 11 भक्त उठाते हैं चमत्कारी पत्थर....!

यहां है चमत्कारी दरगाह-

हजरत कमर अली दरवेश बाबा की दरगाह पुणे-बेंगलुरु हाईवे पर स्थित शिवपुर गांव में है-यहां पर आज से 700 वर्ष पहले सूफी संत हजरत कमर अली को दफनाया गया था-

हजरत कमर अली एक सूफी थे जिनका निधन मात्र 18 साल की उम्र में हो गया था- उन्हें उनकी मृत्यु के पश्चात संत की उपाधि से सम्मानित किया गया था-

इस दरगाह में सूफी संत की चमत्कारिक शक्तियां आज भी मौजूद हैं- यहां दरगाह परिसर में रखा करीब 90 कि.ग्रा. का पत्थर है- यदि इस पत्थर को 11 लोग सूफी संत का नाम लेते हुए अपनी तर्जनी अंगुली (इंडेक्स फिंगर) से उठाते है तो यह पत्थर आसानी से ऊपर उठ जाता है-

लेकिन यदि इस पत्थर को दरगाह परिसर से बाहर ले जाकर उठाएं तो यह टस से मस भी नहीं होता है- भक्त इसका कारण दरगाह में आज भी विधमान हजरत कमर अली दरवेश बाबा की शक्तियों को मानते हैं-

इसके अलावा भी इस पत्थर से एक और रहस्य जुड़ा है यदि लोग तर्जनी अंगुली के अलावा कोई दूसरी अंगुली का इस्तेमाल करें या लोगों की संख्या 11 से कम या ज्यादा हो तो भी पत्थर नहीं हिलता है-

इस दरगाह पर साल भर सभी धर्म, जाति और समुदाय के लोगों का तांता लगा रहता है-ख़ास बात यह है कि अन्य दरगाहों की तरह यहां पर महिलाओं को लेकर कोई बंदिश नहीं है- अन्य धार्मिक स्थलों की तरह यहां भी भक्तों की मान्यता है कि यहां मांगी हुई हर मुराद पूरी होती है-सर्वधर्म समभाव का प्रतीक है -

Upcharऔर प्रयोग -
loading...


EmoticonEmoticon