सूर्य की किरणों से झुलसी त्वचा(सनबर्न)के लिए

2:12 pm Leave a Comment
गर्मी के दिनों में त्वचा सूर्य की किरणों के सम्पर्क में आती है तो वह झुलसकर काली पड जाती हैं इसे सनबर्न(Sunburn)कहते हैं ये सूर्य की अल्ट्रा वॉयलेट किरणें(UltraVioletRays)आपकी त्वचा में उपस्थित मेलानिन(Melanin)तत्व नष्ट कर देती हैं इसके फलस्वरूप त्वचा सांवली या काली हो जाती है लेकिन कुछ बातों का खास ध्यान रखने पर चिल-चिलाती धूप में भी पाई जा सकती है खिली-खिली त्वचा-कुदरत ने हमें वरदान में ऎसी बहुत सारी चीजें दी हैं जिनका सही इस्तेमाल करके त्वचा की जलन और दाग-धब्बों से छुटकारा पाया जा सकता है-

Sunburn


सनबर्न(Sunburn)त्वचा के लिए-

ऐलोवेरा(Aloe vera)के पत्तों को बीच में काटकर गाढा जेल निकालें और झुलसी हुई त्वचा पर लगाएं। त्वचा की लाली, जलन दूर करने के साथ नमी के सन्तुलन को बरकरार रखेगा और मृत त्वचा हटाने में भी मदद करेगा।

एक चम्मच चंदन का बूरा,एक चम्मच बेसन,एक चम्मच गुलाबजल और आधा चम्मच नींबू का रस-इन सबको मिलाकर सनबर्न(Sunburn)पर लगाएं और फिर 10 मिनट बाद ठंडे पानी से साफ कर लें-

पुदीने की पत्तियों(Mint leaves)का रस निकालकर झुलसी त्वचा(Sunburn)पर नियमित रूप से लगाने से काफी लाभ होता है-

एक चम्मच उडद की दाल को दही के साथ पीसकर झुलसी त्वचा पर लगाएं। 15 मिनट बाद ठंडे पानी से साफ कर लें।

मिनरल वॉटर में मुलतानी मिट्टी कापेस्ट बना लें। इसे अपने चेहरे की झुलसी त्वचा पर लगाएं। 10-15 मिनट बाद ठंडे पानी से साफ कर लें।

ठंडा दूध स्किन के लिए बहुत उपयोगी होता है। दूध में लैक्टो-पैलियो होता है, जो त्वचा की धूप से सुरक्षा भी करता है और मृत त्वचा को हटाकर नई स्किन को पोषण देने का काम भी करता है। एक कटोरी में ठंडा दूध डालकर रूई की सहायता से त्वचा पर लगाएं। सूखने पर ठंडे पानी से धो लें। झुलसी हुई त्वचा पर भूल कर भी पेट्रोलियम जैली ना लगाएं। यह त्वचा के छिद्र बंद कर देगी।

स्किन की जलन दूर करने के लिए आलू किसी वरदान से कम नहीं। दो आलूओं को धोकर छोटे टुकडे कर लें। इसे ब्लेंडर या फूड प्रोसेसर में पीस लें। इसके रस को प्रभावित स्थान पर लगाएं। सूखने के बाद ठंडे पानी से शॉवर लें। ऎसा 4-5 बार करने से जल्दी आराम मिल जाता है।

ठंडे पानी में थोडा बेकिंग सोडा डालकर शॉवर लेने से त्वचा की जलन कम होती है। सोडा मिले पानी में लगभग 10-15 मिनट तक त्वचा को डुबोएं। इसके अलावा पानी में ओटमील मिलाकर त्वचा साफ करने से जलन और कालापन हट जाता है। बाथ सॉल्ट, ऑयल या बबल बाथ का इस्तेमाल न करें। बजाय इसके एक कप ओटमील को घोल कर कुछ देर त्वचा पर लगाएं। यह स्किन सूदर का काम करता है।

गर्म तौलिये को ठंडे पानी में भिगोकर झुलसी हुई त्वचा पर कुछ देर रखें। ऐसा दिन में कई बार करें। चाहें तो पानी में थोडा सा बेकिंग सोडा और फिटकरी पाउडर मिलाएं। यह त्वचा की जलन को शांत करेगा।

विटमिन ई कैप्सूल को तोडकर प्रभावित स्थान पर लगाएं। विटमिन ई, संवेदनशील त्वचा के लिए भी लाभकारी होता है। अगर इसे धूप के संपर्क में आने के तुरंत बाद लगाया जाए तो काफी राहत मिलेगी।

कोकोनट ऑयल को भी आप इसे सनब्लॉक के तौर पर भी इस्तेमाल कर सकती हैं। त्वचा की झुलसन व कालापन दूर करने के लिए इसका इस्तेमाल प्रभावकारी होता है। इसमें थोडा सा कपूर मिलाकर त्वचा पर लगाने से जलन कम होती है। इसके बाद ठंडे पानी से धो लें।

एवोकैडो में भी कुदरती एंटी इन्फ्लैमटरी तत्व होते हैं, जो जलन कम करते हैं। इसमें विटमिंस और पोषक तत्व भी होते हैं। 1-2 एवोकैडो को काटकर बीच वाला हिस्सा (गूदा) मसल लें। इसमें थोडा ऑलिव ऑयल और ऐलोवेरा जेल मिलाकर लगाएं। तब तक लगा रहने दें जब तक कि इसका रंग बदल न जाए। फिर त्वचा को गीला करके गीली रुई से हलके से साफ करें। अब ठंडे पानी से धो लें।

इसमें टैनिन एसिड होता है, जो त्वचा को ठंडक पहुंचाता है। 2 कप गर्म पानी में 2-3 टी बैग डालें। फिर ठंडा होने दें। इस पानी में कॉटन बॉल डुबोएं और लगाएं। आप चाहें तो नहाने के पानी में भी 4-5 टी बैग्स डाल सकती हैं। ठंडा टी बैग भी उन स्थानों पर रख सकती हैं, जहां तुरंत आराम की जरूरत हों। मसलन आंखों, गाल और नाक पर।

घर से निकलने के पहले ठंडा पानी या नींबू पानी पी लें। इससे शरीर में नमी बनी रहती हैं। चेहरा, गाल, पीठ, गर्दन, हाथ, पैर आदि पर सनस्क्रीन लोशन लगाएं। सनबर्न के कारण त्वचा पर काले चकत्ते हो गए हैं तो प्रभावी हिस्से पर बर्फ रगडने से निशान काफी हद तक कम हो जाते है। झुलसी त्वचा पर रूई या टिशू पेपर को गुलाबजल में भिगोकर लगाएं। इससे काफी आराम मिल जाता है। त्वचा पर किसी प्रकार के साबुन का इस्तेमाल ना करें। त्वचा को साफ करने के लिए आटा या बेसन का प्रयोग करें। ठंडे पानी से स्नान के बाद कोल्ड क्रीम या जैतून का तेल लगाएं।

Upcharऔर प्रयोग-

0 comments :

एक टिप्पणी भेजें

TAGS

आस्था-ध्यान-ज्योतिष-धर्म (55) हर्बल-फल-सब्जियां (24) अदभुत-प्रयोग (22) जानकारी (21) स्वास्थ्य-सौन्दर्य-टिप्स (21) स्त्री-पुरुष रोग (19) एलर्जी-गाँठ-फोड़ा-चर्मरोग (17) मेरी बात (17) होम्योपैथी-उपचार (15) घरेलू-प्रयोग-टिप्स (14) मुंह-दांतों की देखभाल (12) चाइल्ड-केयर (11) दर्द-सायटिका-जोड़ों का दर्द (11) बालों की समस्या (11) टाइफाइड-बुखार-खांसी (9) पुरुष-रोग (8) ब्लडप्रेशर (8) मोटापा-कोलेस्ट्रोल (8) मधुमेह (7) थायराइड (6) पेशाब रोग-हाइड्रोसिल (6) जडी बूटी सम्बन्धी (5) हीमोग्लोबिन-प्लेटलेट (5) अलौकिक सत्य (4) पेट दर्द-डायरिया-हैजा-विशुचिका (4) यूरिक एसिड-गठिया (4) सूर्यकिरण जल चिकित्सा (4) स्त्री-रोग (4) आँख के रोग-अनिंद्रा (3) पीलिया-लीवर-पथरी-रोग (3) फिस्टुला-भगंदर-बवासीर (3) अनिंद्रा-तनाव (2) गर्भावस्था-आहार (2) कान-नाक-गले का रोग (1) टान्सिल (1) ल्यूकोडर्मा-श्वेत कुष्ठ-सफ़ेद दाग (1)
-->