This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

6 अगस्त 2015

हनुमान विवाहित -लेकिन फिर भी है ब्रह्मचारी - Hanuman Vivahit - Lekin Fir Bhi Hai Bramhchaari

By
भारत में मारुतिनंदन का एक ऐसा मंदिर है, जहां वह अपनी पत्नी सुर्वचला के साथ विराजे हैं। दरअसल यह मंदिर हैदराबाद से करीब 220 किलोमीटर दूर तेलंगाना के खम्मन जिले में स्थित है-



देश विदेश में हनुमान जी के कई मंदिर हैं जहा तरह तरह के रूप में संकट मोचन अपने भक्तो को दर्शन देते हैं.. लेकिन खम्मम जिले में बना हनुमान जी का यह मंदिर काफी मायनों में ख़ास है.. ख़ास इसलिए की यहाँ हनुमान जी अपने ब्रम्हचारी रूप में नहीं बल्कि बल्कि गृहस्थ रूप में विराजमान है .. अपनी पत्नी सुवर्चला के साथ... हनुमान जी के सभी भक्त यही मानते आये हैं की वे बाल ब्रह्मचारी थे. और बाल्मीकि, कम्भ, सहित किसी भी रामायण और रामचरित मानस में बालाजी के इसी रूप का वर्णन मिलता है.. लेकिन पंडितो की माने तो उत्तर रामायण के लव कुश की कथा के बाद हनुमान जी की शादी का जिक्र आता है  यही कारण  है की किसी भी रामायण में इसका उल्लेख नहीं है-

पराशर संहिता में भी इसी बात का उल्लेख है.. जिसके आधार पर पंडितो का दावा है की भले ही सभी सदा से ये मानते आए हैं कि मां अंजऩी के लाल, केसरी नंदन और भगवान श्रीराम के अनन्य भक्त महावीर हनुमान बाल ब्रह्मचारी थे। किंतु ये पूर्ण रुप से सत्य नहीं है-



हनुमान जी ने बाकायदा विधि विधान से विवाह किया था और उनकी पत्नी भी थी। इसका सबूत है आंध्र प्रदेश के खम्मम ज़िले में बना एक खास मंदिर जो प्रमाण है हनुमान जी की शादी का। इस मंदिर में भगवान बजरंगबली अपनी पत्नी सुवर्चला के साथ विराजते हैं। ये मंदिर याद दिलाता है रामदूत के उस चरित्र का जब उन्हें विवाह के बंधन में बंधना पड़ा था। लेकिन इसका ये अर्थ नहीं कि भगवान हनुमान बाल ब्रह्मचारी नहीं थे। पवनपुत्र का विवाह भी हुआ था और वो बाल ब्रह्मचारी भी थे। किंतु कुछ विशेष परिस्थियों के बन जाने पर बजरंगबली को सुवर्चला के साथ विवाह के बंधन में बंधना पड़ा।

पाराशर संहिता में हनुमानजी के विवाह की कथा का उल्लेख है। भारत के कुछ हिस्सों विशेषरूप से तेलंगाना में हनुमान जी को विवाहित माना जाता है। किंवदंती है कि सुवर्चला सूर्य देव की पुत्री हैं। जिनका विवाह पवनपुत्र हनुमानजी के साथ हुआ था। मान्यता है कि जो भी हनुमानजी और उनकी पत्नी के दर्शन करता है, उन भक्तों के वैवाहिक जीवन की सभी परेशानियां दूर हो जाती हैं और पति-पत्नी के बीच प्रेम बना रहता है।

पाराशर संहिता के अनुसार हनुमानजी अविवाहित नहीं, विवाहित हैं। हनुमानजी ने सूर्य देव को अपना गुरु बनाया था। सूर्य देव के पास 9 दिव्य विद्याएं थीं। इन सभी विद्याओं का ज्ञान बजरंग बली प्राप्त करना चाहते थे।

सूर्य देव ने इन 9 में से 5 विद्याओं का ज्ञान तो हनुमानजी को दे दिया, लेकिन शेष 4 विद्याओं के लिए सूर्य के समक्ष एक संकट खड़ा हो गया। शेष 4 दिव्य विद्याओं का ज्ञान सिर्फ उन्हीं शिष्यों को दिया जा सकता था जो विवाहित हों। हनुमानजी बाल ब्रह्मचारी थे, इस कारण सूर्य देव उन्हें शेष चार विद्याओं का ज्ञान देने में असमर्थ हो गए।

समस्या के निराकरण के लिए सूर्य देव ने हनुमानजी से विवाह करने की बात कही। पहले तो हनुमानजी विवाह के लिए राजी नहीं हुए, लेकिन उन्हें शेष 4 विद्याओं का ज्ञान पाना ही था। तब हनुमानजी ने विवाह के लिए हां कर दी।

जब हनुमानजी विवाह के लिए मान गए तब उनके योग्य कन्या के रूप में सूर्य देव की पुत्री सुवर्चला को चुना गया। सूर्य देव ने हनुमानजी से कहा कि सुवर्चला परम तपस्वी और तेजस्वी है और इसका तेज तुम ही सहन कर सकते हो। सुवर्चला से विवाह के बाद तुम इस योग्य हो जाओगे कि शेष 4 दिव्य विद्याओं का ज्ञान प्राप्त कर सको। सूर्य देव ने यह भी बताया कि सुवर्चला से विवाह के बाद भी तुम सदैव बाल ब्रह्मचारी ही रहोगे, क्योंकि विवाह के बाद सुवर्चला पुन: तपस्या में लीन हो जाएगी।

इस तरह हनुमानजी और सुवर्चला का विवाह सूर्य देव ने करवा दिया। विवाह के बाद सुवर्चला तपस्या में लीन हो गईं और हनुमानजी से अपने गुरु सूर्य देव से शेष 4 विद्याओं का ज्ञान भी प्राप्त कर लिया। इस प्रकार विवाह के बाद भी हनुमानजी ब्रह्मचारी बने हुए हैं-

उपचार और प्रयोग-

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें