19 अगस्त 2015

शहद के प्रयोग-


शरीर को स्वस्थ, निरोग और उर्जावान बनाये रखने के लिये शहद को आयुर्वेद में अमृत भी कहा गया है। यूं तो सभी मौसमों में शहद का सेवन लाभकारी है, लेकिन सर्दियों में तो शहद का प्रयोग विशेष लाभकारी होता है।

नियमित रूप से शहद का सेवन करने से शरीर को स्फूर्ति, शक्ति और ऊर्जा मिलती है। शहद से शरीर स्वस्थ, सुंदर और सुडौल बनता हैं। शहद मोटापा घटाता भी है और शहद मोटापा बढ़ाता भी है। मीठे शहद के गुणों से रोगी व्यक्ति स्वस्थ हो सकता है।

औषधीय गुणों का खजाना माना गया है। शहद का अलग-अलग तरह से उपयोग कर हम हमारे शरीर की कई सारी समस्याओं को दूर भगा सकते हैं। शहद में यह गुण होता भी है कि इसका अलग-अलग वस्तुओं के साथ उपयोग करने पर इसकी तासीर भी भिन्न हो जाती है।

शहद के गुण :-
========

शहद का प्रयोग जहां आंखों की रोशनी बढ़ाने तथा कफ एवं अस्थमा और उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में कारगर सिद्ध हुआ है, वहीं रक्त शुद्धि तथा दिल को मजबूत करने में भी सहायक है, तो पेश है कुछ टिप्स कि शहद को किन-किन बीमारियों में तथा किन द्रव्यों के साथ अनुपात निर्धारण से हम इसका लाभ उठा सकते हैं।

शहद, गाजर के जूस के साथ लेने से आंखों की रोशनी को बढ़ाने में मदद करता है। इसे खाना खाने से एक घंटा पहले लेना चाहिये। शहद के औषधीय गुणों के कारण अनेक बीमरियों से छुटाकरा पाने के लिए इसका उपयोग किया जाता है। शहद को खाने से आंखों की रोशनी बढ़ती है और मोतियाबिंद जैसी बीमारियों को भी शहद से दूर किया जा सकता है।


कब्ज दूर करने के लिए भी शहद का इस्तेमाल किया जाता है। टमाटर या संतरे के रस में एक चम्मच शहद डालकर प्रतिदिन लेने से कब्ज की शिकायत दूर होती है।


 शहद को मसूड़ों पर मलने से पायरिया नहीं होता।


 छोटे बच्चों को दूध पिलाने से पहले शहद चटा दें। फिर दूध पिलाएं ये रोग निरोधक क्षमता बढ़ाता है।


शहद के है ये प्रयोग:-
=============


बेसन, मलाई में शहद मिलाकर त्वचा पर लगाएं। थोड़ी देर बाद धो लें, चेहरा चमक उठेगा ।


प्रतिदिन 25 ग्राम शहद दूध के साथ जरूर लें । इससे शरीर को ताकत मिलती है।


त्वचा सम्बन्धी रोग हो या कहीं जल-कट गया हो तो शहद लगाएं। जादू सा असर दिखाई देगा।


रात को सोने से पहले दूध के साथ शहद लेने पर बहुत अच्छी नींद आती है।


दूध में शक्कर की जगह शहद लेने से गैस नहीं बनती और #पेट के कीड़े भी निकल जाते हैं।


जुकाम होने पर पानी में शहद की भाप लें व उसी पानी से कुल्ला करें।

उपचार स्वास्थ्य और प्रयोग -http://www.upcharaurprayog.com
loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Tags Post

अनुभूत औषधीय प्रयोग (3) अस्थमा-खांसी-गले के रोग (8) आध्यात्मिक ध्यान (8) आयुर्वेदिक हर्बल-जड़ी-बूटी (45) आस्था-वास्तु (27) एक्यूप्रेशर-इंडियन नेचुरोपैथी (26) गर्भावस्था आहार देखभाल (6) घरेलू उपचार (39) घरेलू उपचार-टिप्स (9) चाइल्ड केयर (12) चिंता विकार-मानसिक बीमारी-हिस्ट्रीरिया (11) जननांग रोग (12) त्वचा रोग (5) थायराइड संबंधित समस्याएं (1) फूड थेरेपी (16) बालों की बीमारी (19) बीज चिकित्सा (3) बेच फ्लावर (Bach Flower) (14) भारतीय पुष्प-चिकित्सा (14) महिला सौंदर्य-समस्या (23) मुंह-दांत की देखभाल (20) मूत्र संक्रमण-रोग-मधुमेह (5) रंग चिकित्सा (3) लकवा-पैरालायसिस (Paralysis) (3) लीवर के रोग (1) वजन-मोटापा (3) विशिष्ट लेख (18) शास्त्रोक्त आयुर्वेदिक प्रयोग (55) सामाजिक-कल्याण-लेख (12) सुजोक चिकित्सा (2) स्त्री-पुरुष-समस्या (10) स्वप्नदोष (7) स्वास्थ्य सुझाव (15) हार्ट-ब्लड प्रेशर-कोलेस्ट्रॉल (6)

Information on Mail

Loading...