Breast-स्तन का आकार कम करें

4:33 pm Leave a Comment
स्त्री के सौंदर्य को बनाये रखना हो या शिशु को जीवन पान कराना, उनके Breast-स्तन की विशेष भूमिका होती है क्योंकि स्तन यदि ढीले, कमजोर या अधिक बड़े हों-तो उसकी शरीरिक सुंदरता कम होती है और वहीं यदि स्तन आकर्षक, पुष्ट और प्राकृतिक रूप से सुडौल हों तो वह नारी की सौंदर्यता को और अधिक निखार देते हैं तथा स्वास्थ्य की दृष्टी से भी बहुत बड़े स्तन ठीक नहीं होते और इस लेख में हम आपको बता रहे हैं कि आप जरूरत से बड़े Breast-स्तनों का आकार कैसे कम कर सकती हैं-


स्तन का आकार कम करे-Reduce Breast Size

आप सुंदर कपड़े और शर्ट पहनना चाहती हैं पर आपके Breast Size(ब्रेस्ट आकार) सही ना होने के कारण आपको ऐसा करने में तकलीफ होती है तथा कई बार जरूरत से ज्यादा बड़े ब्रेस्ट होने से महिलाओं को कपड़े सही फिट नहीं आते हैं ऐसे में Breast-ब्रेस्ट को लिफ्ट देकर इस समस्या से निजात पाई जा सकती है-

शर्मिंदगी के कारण ज्यादातर महिलाएं इस बारे में बात नहीं करतीं है जिस कारण कई बार स्तन कैंसर, पीठ दर्द, त्वचा पर चकते और एलर्जी जैसी समस्याओं के होने का खतरा भी बढ़ जाता है यूं तो आजकल ब्रेस्ट के साइज में किसी तरह का बदलाव करने के लिए Breast-ब्रेस्ट सर्जरी भी काफी चलन में हैं लेकिन ब्रेस्ट वसा ऊतकों से बने होता हैं इसलिए आप अपने ब्रेस्ट के आकार को कम करने के लिए सर्जरी के बजाय वजन घटाने के कार्यक्रमों या एक्ससाइज का सहारा भी ले सकती हैं अगर आपके Breast-ब्रेस्ट छोटे है तो आप अपने जीवन शैली में कुछ परिवर्तन करके इनका आकार सही कर सकती हैं-

Woman's Breast(नारी और स्तन)-

नारी वक्ष की दो अहम कार्य होते हैं- पहला शिशु का पोषण (दुग्धपान) तथा दूसरा यौनाकर्षण- नारी स्तनों की यौनाकर्षण वाली भूमिका ही ज्यादा महत्वपूर्ण होती है-छोटे स्तन की महिलाओं के प्रति पुरुषों की रूचि भी कम होती है-

Due to large breasts(बड़े स्तनों के कारण)-

बड़े स्तन होने के कई कारण हो सकते हैं-मोटापे की वजह से भी ऐसा होता है या फिर यह समस्या वंशानुगत भी हो सकती है- कभी-कभी शरीर में एस्‍ट्रोजन का लेवल हाई हो जाने के कारण भी ऐसी समस्‍या आ जाती है लेकिन ब्रेस्‍ट साइज को कम करने के लिये कुछ सिंपल एक्‍सर्साइज, योग किये  जा सकते हैं या फिर कुछ नुस्खे भी अपनाए जा सकते हैं-

Excercise(स्तनों का आकार कम करने के लिए एक्सरसाइज)-

स्तन बहुत से फैटी टिशू से मिलकर बना होता है, जिनको कम करके आप अपने स्तनों को कम कर सकती हैं इसके लिए सही कसरत करना बहुत जरूरी होता है शरीर की वसा को घटा कर आप अपने स्तनों को आराम से कम कर सकती हैं- आपको दौड़ने, साइकलिंग, सीढि़यां चढ़ने और स्‍विमिंग करने जैसी कैलोरी बर्न करने वाली एक्‍सर्साइज करनी चाहिए- इसके लिए आपको नियमित रूप से पुश-अप एक्‍सर्साइज, स्‍विमिंग, जौगिंग तथा चेस्‍ट फ्लाइ जैसे व्यायाम करने होंगे-लेकिन ध्यान रहे जब भी आप व्यायाम करें तो स्पोर्ट्स ब्रा जरूर पहने क्योंकि हम जैसे-जैसे मूवमेंट करते हैं स्तन भी वैसे ही मूवमेंट करते हैं इसलिए बिना सही सपोर्ट के व्यायाम करने से स्तनों में दर्द हो सकता है साथ ही इसके लिगामेंट को भी नुकसान पहुंच सकता है और त्वचा ढीली पड़ सकती है-

Take the help of yoga(योग की मदद लें)-

अपने बेस्ट के आकार को कम करने के लिए आप योग का सहारा ले सकती हैं इसके लिए नियमित रूप से अर्द्ध चक्रासन मुद्रा बेहद मददगार साबित होती है-

अर्द्ध Ckrasn(चक्रासन) कैसे करें-

स्तन का आकार कम करे-Reduce Breast Size

सीधे खड़े होकर अपने हाथों को एक साथ ऊपर की तरफ फैला दें फिर अपने हथेलियों की मुटठी बांध ले और अपनी हथेलियों को एक साथ शामिल करके अपनी कलाई को मजबूत करें अब अपने शरीर को ऊपर की ओर खींचे, अपने कंधों को सुनिश्चित करके अपने कान को छूए-गहरी सांस ले अपने शरीर को कूल्हों के सहारे ऊपरी की ओर पुश करें तथा साथ ही अपने घुटनों को मोड़े- यहं आसन एक या दो मिनट के लिए करें-

Aerobics Cardio(कार्डियो- एरोबिक्स) करें-


  1. आपको अपने ब्रेस्ट के आकार को कम करने के लिए अपने शरीर से अतिरिक्त वसा कम करनी होगी अच्छी तरह के आकार और छोटे ब्रेस्ट के लिए एरोबिक्स करें तथा बहुत भारी वजन न उठाएं- ये आपके मांसपेशियों के भारीपन को कम नहीं करता- बल्कि मांसपेशियों को टोन करता है- यदि आप जिम नहीं जाना चाहतीं तो घर पर ही आसान से कार्डियो एक्ससाइज कर सकती हैं-
  2. अगर आप सोचते हैं कि छाती से संबंधित व्यायाम सिर्फ पुरुषों के लिए होते हैं- तो आप गलत हैं पुश-अप्स और बेंच प्रेसेस के जरिए पेक्टरल (छाती से संबंधित) मसल्स के लिए व्यायाम करने से आपके स्तन के उभार और आकार में सुधार आएगा- अगर आप उभार भरे स्तन के लिए फर्मिंग क्रीम और डेकोलेटेग का इस्तेमाल करते हैं, तो इन व्यायामों के जरिए आप नेचुरल लुक हासिल कर सकते हैं-
  3. जॉगिंग करें, ब्रेस्ट के आकार को कम करने के लिए यह एक अच्छा उपाय है साथ ही घूमना भी एक अच्छा तरीका होगा- 30 मिनट या एक दिन में 20 मिनट जॉगिंग या तेज चलना भी आपके ब्रेस्ट से अतिरिक्त वसा को कम करने में मदद करता है साथ ही 25 मिनट तक एरोबिक्स करना भी ब्रेस्ट के आकार को कम करने में मददगार साबित हो सकता है-स्तनों का बढा आकार कम करने के लिए आपको व्यायाम के साछ अपने खान-पान पर भी ध्यान देना होगा- बहुत अधिक फैटी फूड खाने से व भोजन में अनियनिता के कारण भी स्तनों का आकार बढ़ सकता है-
  4. आप व्यायाम करें तो स्पोर्ट्स ब्रा जरूर पहने- हम जैसे-जैसे मूवमेंट करते हैं- हमारा स्तन भी वैसे ही मूवमेंट करता है- इसलिए बिना सही सपोर्ट के व्यायाम करने से स्तन में दर्द हो सकता है साथ ही इसके लिगामेंट को नुकसान पहुंच सकता है और त्वचा ढीली पड़ सकती है इन बातों को लेकर उन महिलाओं को ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है, जिनके स्तन का आकार बड़ा है- इस बात को सुनिश्चित करें कि आप का स्तन व्यायाम के प्रभाव से पूरी तरह मुक्त हो-
  5. महिलाएं नियमित रूप से संसक्रीन का इस्तेमाल नहीं करती हैं- छाती के संवेदनशील त्वचा पर सन लॉसन नहीं लगाने से न सिर्फ सनबर्न और स्किन कैंसर का खतरा बढ़ता है, बल्कि इससे स्किन पर समय से पहले बुढ़ापा भी दिखने लगता है- झुर्रीदार क्लीवेज से बचने और चिकना व चुस्त डेकोलेटेग के लिए जरूरी है कि जब भी आप धूप में निकलें तो कम से कम एसपीएफ 15 संसक्रीन जरूर लगाएं-
  6. अगर आप अपने स्तन में तुरंत सुधार लाना चाहते हैं तो आप अपने पोस्‍चर को ठीक करें- जब चलते समय आपका कंधा झुका हुआ होगा तो छाती का मसल्स लचीलापन खो देगा साथ ही समय के साथ-साथ त्वचा भी ढीली पड़ने लगेगी- वहीं बिल्कुल सीधा चलने से आपका स्तन बड़ा और आकर्षक दिखेगा- इस बात पर ध्यान दें कि पूरे दिन आप किस तरह खड़े होते हैं और बैठते हैं-
  7. और भी देखे-

Upcharऔर प्रयोग-

0 comments :

एक टिप्पणी भेजें

TAGS

आस्था-ध्यान-ज्योतिष-धर्म (55) हर्बल-फल-सब्जियां (24) अदभुत-प्रयोग (22) जानकारी (21) स्वास्थ्य-सौन्दर्य-टिप्स (21) स्त्री-पुरुष रोग (19) एलर्जी-गाँठ-फोड़ा-चर्मरोग (17) मेरी बात (17) होम्योपैथी-उपचार (15) घरेलू-प्रयोग-टिप्स (14) मुंह-दांतों की देखभाल (12) चाइल्ड-केयर (11) दर्द-सायटिका-जोड़ों का दर्द (11) बालों की समस्या (11) टाइफाइड-बुखार-खांसी (9) पुरुष-रोग (8) ब्लडप्रेशर (8) मोटापा-कोलेस्ट्रोल (8) मधुमेह (7) थायराइड (6) पेशाब रोग-हाइड्रोसिल (6) जडी बूटी सम्बन्धी (5) हीमोग्लोबिन-प्लेटलेट (5) अलौकिक सत्य (4) पेट दर्द-डायरिया-हैजा-विशुचिका (4) यूरिक एसिड-गठिया (4) सूर्यकिरण जल चिकित्सा (4) स्त्री-रोग (4) आँख के रोग-अनिंद्रा (3) पीलिया-लीवर-पथरी-रोग (3) फिस्टुला-भगंदर-बवासीर (3) अनिंद्रा-तनाव (2) गर्भावस्था-आहार (2) कान-नाक-गले का रोग (1) टान्सिल (1) ल्यूकोडर्मा-श्वेत कुष्ठ-सफ़ेद दाग (1)
-->