Chrysanthemum-गुलदाउदी का प्रयोग

2:55 pm Leave a Comment
Chrysanthemum-गुलदाउदी संसार के सबसे प्रसिद्ध एवं शरद ऋतु में फूलनेवाले पौधों में से है गुलदाउदी(Chrysanthemum)का पौधा शाक(herbs)की श्रेणी में आता है इसकी जड़ें मुख्यतया प्रधान मूल,शाखादार और रेशेदार होती हैं इसका तना कोमल,सीधा तथा कभी कभी रोएँदार होता है Chrysanthemum(गुलदाऊदी)या सेवती के फूल बहुत सुन्दर होते हैं छोटे फूलों वाली गुलदाऊदी के औषधीय गुण अधिक होते हैं इससे घर का वातावरण भी अच्छा होता है-

Chrysanthemum-गुलदाउदी


जाने इसके प्रयोग-

घर में Chrysanthemum(गुलदाउदी)दो-तीन पत्तों पर देसी घी लगाकर कच्चे कोयले पर जलाएं तो नकारात्मक ऊर्जा खत्म होती है-

हृदय रोग के लिए गर्म पानी में गुलदाउदी(Chrysanthemum)पत्तियां डालकर दो मिनट बाद निकाल  लें फिर उस पानी को पीयें-
.
जिन महिलाओं को मासिक धर्म अनियमित हो या दर्द रहता हो तो इसके फूलों व पत्तियों का काढ़ा पीयें-

पेट दर्द होने पर इसके फूलों का रस शहद या पानी के साथ लें 

यदि कहीं पर गाँठ हो गयी हो तो Chrysanthemum जड़ घिसकर लगायें-

जिसे भी kidney stone हों तो इसके फूलों को सुखाकर उनकी चाय पीना लाभदायक है-

जिसको Urine रुककर आता हो तो इसकी चार-पांच छोटी छोटी पत्तियों में काली मिर्च मिलाकर काढ़ा बनाकर पीयें-


Upcharऔर प्रयोग -

0 comments :

एक टिप्पणी भेजें

TAGS

आस्था-ध्यान-ज्योतिष-धर्म (55) हर्बल-फल-सब्जियां (24) अदभुत-प्रयोग (22) जानकारी (21) स्वास्थ्य-सौन्दर्य-टिप्स (21) स्त्री-पुरुष रोग (19) एलर्जी-गाँठ-फोड़ा-चर्मरोग (17) मेरी बात (17) होम्योपैथी-उपचार (15) घरेलू-प्रयोग-टिप्स (14) मुंह-दांतों की देखभाल (12) चाइल्ड-केयर (11) दर्द-सायटिका-जोड़ों का दर्द (11) बालों की समस्या (11) टाइफाइड-बुखार-खांसी (9) पुरुष-रोग (8) ब्लडप्रेशर (8) मोटापा-कोलेस्ट्रोल (8) मधुमेह (7) थायराइड (6) पेशाब रोग-हाइड्रोसिल (6) जडी बूटी सम्बन्धी (5) हीमोग्लोबिन-प्लेटलेट (5) अलौकिक सत्य (4) पेट दर्द-डायरिया-हैजा-विशुचिका (4) यूरिक एसिड-गठिया (4) सूर्यकिरण जल चिकित्सा (4) स्त्री-रोग (4) आँख के रोग-अनिंद्रा (3) पीलिया-लीवर-पथरी-रोग (3) फिस्टुला-भगंदर-बवासीर (3) अनिंद्रा-तनाव (2) गर्भावस्था-आहार (2) कान-नाक-गले का रोग (1) टान्सिल (1) ल्यूकोडर्मा-श्वेत कुष्ठ-सफ़ेद दाग (1)
-->