मंगलवार करता है मंगल -कामना -

3:24 pm Leave a Comment
मेरा प्रयोग समाज के कुछ उन लोगो के लिए है- जिनकी प्रभु में आस्था है -





जो लोग इससे अलग है कृपया कमेन्ट न करे पोस्ट को इग्नोर कर दे -

शास्त्रों के अनुसार मंगलवार को ही बजरंग बली का जन्म हुआ है। यही कारण है मंगलवार के दिन बजरंगबली की पूजा आराधना सच्चे मन से की जाए तो यह जल्दी ही शुभ फल प्रदान करते हैं।

हम यहां आपको ऐसे तीन उपाय बताने जा रहे हैं जिन्हें आजमाकर आप हनुमानजी से इच्छित वर की प्राप्ति के लिए वर मांग सकते हैं-


पहला उपाय:-



किसी भी हनुमान मंदिर में अपने साथ एक नींबू और 4 लौंग लेकर जाएं। इसके बाद मंदिर में हनुमानजी के सामने नींबू के ऊपर चारों लौंग अर्पित करें। फिर हनुमान चालीसा का पाठ करें या हनुमानजी के मंत्रों का जप करें। मंत्र जप के बाद हनुमानजी से सफलता की कामना करें और इस नींबू को अपने साथ ही रख लें। नींबू के प्रभाव से आपके कार्य में सफलता मिलने की संभावनाएं काफी बढ़ जाएंगी-


दूसरा उपाय:-



एक नारियल लेकर किसी हनुमान मंदिर जाएं। मंदिर में हनुमानजी की प्रतिमा के सामने नारियल को अपने सिर पर से सात बार वार लें। इसके साथ हनुमान चालीसा का जप करते रहें। 


सिर पर नारियल वारने(उतारने ) के बाद इसे हनुमानजी के सामने फोड़ दें। इस उपाय से आपकी सभी बाधाएं दूर हो जाएंगी।

नोटः- इस उपाय को अकेले में करें और उपाय के संबंध में किसी अन्य व्यक्ति से चर्चा न करें। हनुमान जयंती पर इस उपाय के साथ ही बजरंग बली को पुष्प-हार और प्रसाद भी अर्पित करें।


तीसरा उपाय:-


आपको हर रात हनुमानजी के सामने एक विशेष दीपक जलाना है। रात में किसी हनुमान मंदिर जाएं और वहां प्रतिमा के सामने में चौमुखा दीपक लगाएं। चौमुखा दीपक यानी दीपक चारों ओर से जलाना है। इसके साथ ही हनुमान चालीसा का पाठ करें। ऐसा प्रतिदिन करेंगे तो बहुत ही जल्द बड़ी-बड़ी परेशानियां भी आसानी से दूर हो जाएंगी।


इनको भी आजमाएं:-



हनुमानजी को सिंदूर और तेल अर्पित करें। जिस प्रकार विवाहित स्त्रियां अपने पति या स्वामी की लंबी उम्र के लिए मांग में सिंदूर लगाती हैं, ठीक उसी प्रकार हनुमानजी भी अपने स्वामी श्रीराम के लिए पूरे शरीर पर सिंदूर लगाते हैं। जो भी व्यक्ति हनुमानजी को सिंदूर अर्पित करता है, उसकी सभी इच्छाएं पूरी हो जाती हैं।


यदि आप सभी प्रकार की परेशानियों से मुक्ति चाहते हैं तो हनुमानजी के मंदिर जाएं और अपने साथ एक नारियल लेकर जाएं। मंदिर पहुंचकर हनुमानजी की प्रतिमा के सामने नारियल पर स्वस्तिक बनाएं और हनुमान जी को अर्पित करें। इसके साथ ही हनुमान चालीसा का पाठ करें। इस उपाय से जल्दी ही शुभ फल प्राप्त होते हैं।


किसी पीपल पेड़ में जल चढ़ाएं। इसके बाद सात बार पीपल की परिक्रमा करें। परिक्रमा पूर्ण होने पर पीपल के नीचे बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ करें-


बजरंग बाण का पाठ किसी भी मंगलवार से ग्यारह बार शुरू करे और ग्यारह बार अग्नि में हवन सामग्री +बूरा+जो+चावल+देसी घी +पंचमेवा मिला कर अर्पित करे इस प्रकार चालीस दिन करने से आपके द्वारा सोची गई मनोकामना की पूर्ति होती है आजमाया हुआ है -


नोट :- हनुमान जी से स्त्री वशीकरण ,धन इत्यादि के लिए मनोकामना नहीं करनी चाहिए -

                                           श्री बजरंग बाण का पाठ



                                                   दोहा 

                                                                     

                                                  निश्चय प्रेम प्रतीति ते, बिनय करैं सनमान।
                                                  तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्ध करैं हनुमान॥

                                                  चौपाई 

                                                                    

                                          जय हनुमंत संत हितकारी। सुन लीजै प्रभु अरज हमारी॥
                                          जन के काज बिलंब न कीजै। आतुर दौरि महा सुख दीजै॥

                                         जैसे कूदि सिंधु महिपारा। सुरसा बदन पैठि बिस्तारा॥
                                         आगे जाय लंकिनी रोका। मारेहु लात गई सुरलोका॥

                                         जाय बिभीषन को सुख दीन्हा। सीता निरखि परमपद लीन्हा॥
                                         बाग उजारि सिंधु महँ बोरा। अति आतुर जमकातर तोरा॥

                                         अक्षय कुमार मारि संहारा। लूम लपेटि लंक को जारा॥
                                         लाह समान लंक जरि गई। जय जय धुनि सुरपुर नभ भई॥

                                         अब बिलंब केहि कारन स्वामी। कृपा करहु उर अंतरयामी॥
                                         जय जय लखन प्रान के दाता। आतुर ह्वै दुख करहु निपाता॥

                                        जै हनुमान जयति बल-सागर। सुर-समूह-समरथ भट-नागर॥
                                        ॐ हनु हनु हनु हनुमंत हठीले। बैरिहि मारु बज्र की कीले॥

                                        ॐ ह्नीं ह्नीं ह्नीं हनुमंत कपीसा। ॐ हुं हुं हुं हनु अरि उर सीसा॥
                                        जय अंजनि कुमार बलवंता। शंकरसुवन बीर हनुमंता॥

                                        बदन कराल काल-कुल-घालक। राम सहाय सदा प्रतिपालक॥
                                        भूत, प्रेत, पिसाच निसाचर। अगिन बेताल काल मारी मर॥

                                        इन्हें मारु, तोहि सपथ राम की। राखु नाथ मरजाद नाम की॥
                                        सत्य होहु हरि सपथ पाइ कै। राम दूत धरु मारु धाइ कै॥

                                        जय जय जय हनुमंत अगाधा। दुख पावत जन केहि अपराधा॥
                                        पूजा जप तप नेम अचारा। नहिं जानत कछु दास तुम्हारा॥

                                        बन उपबन मग गिरि गृह माहीं। तुम्हरे बल हौं डरपत नाहीं॥
                                        जनकसुता हरि दास कहावौ। ताकी सपथ बिलंब न लावौ॥

                                       जै जै जै धुनि होत अकासा। सुमिरत होय दुसह दुख नासा॥
                                       चरन पकरि, कर जोरि मनावौं। यहि औसर अब केहि गोहरावौं॥

                                      उठु, उठु, चलु, तोहि राम दुहाई। पायँ परौं, कर जोरि मनाई॥
                                      ॐ चं चं चं चं चपल चलंता। ॐ हनु हनु हनु हनु हनुमंता॥

                                      ॐ हं हं हाँक देत कपि चंचल। ॐ सं सं सहमि पराने खल-दल॥
                                      अपने जन को तुरत उबारौ। सुमिरत होय आनंद हमारौ॥

                                      यह बजरंग-बाण जेहि मारै। ताहि कहौ फिरि कवन उबारै॥
                                      पाठ करै बजरंग-बाण की। हनुमत रक्षा करै प्रान की॥

                                     यह बजरंग बाण जो जापैं। तासों भूत-प्रेत सब कापैं॥
                                     धूप देय जो जपै हमेसा। ताके तन नहिं रहै कलेसा॥

                                                             

                                              दोहा 

                                    उर प्रतीति दृढ़, सरन ह्वै, पाठ करै धरि ध्यान।                                    
                                     बाधा सब हर, करैं सब काम सफल हनुमान॥                         
                                                                    

                                               

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो कृपया शेयर करे हो सकता है आपका एक शेयर किसी जरुरत मंद के काम आ जाए-


KHAJANA NEWS

0 comments :

एक टिप्पणी भेजें

TAGS

आस्था-ध्यान-ज्योतिष-धर्म (55) हर्बल-फल-सब्जियां (24) अदभुत-प्रयोग (22) जानकारी (21) स्वास्थ्य-सौन्दर्य-टिप्स (21) स्त्री-पुरुष रोग (19) एलर्जी-गाँठ-फोड़ा-चर्मरोग (17) मेरी बात (17) होम्योपैथी-उपचार (15) घरेलू-प्रयोग-टिप्स (14) मुंह-दांतों की देखभाल (12) चाइल्ड-केयर (11) दर्द-सायटिका-जोड़ों का दर्द (11) बालों की समस्या (11) टाइफाइड-बुखार-खांसी (9) पुरुष-रोग (8) ब्लडप्रेशर (8) मोटापा-कोलेस्ट्रोल (8) मधुमेह (7) थायराइड (6) पेशाब रोग-हाइड्रोसिल (6) जडी बूटी सम्बन्धी (5) हीमोग्लोबिन-प्लेटलेट (5) अलौकिक सत्य (4) पेट दर्द-डायरिया-हैजा-विशुचिका (4) यूरिक एसिड-गठिया (4) सूर्यकिरण जल चिकित्सा (4) स्त्री-रोग (4) आँख के रोग-अनिंद्रा (3) पीलिया-लीवर-पथरी-रोग (3) फिस्टुला-भगंदर-बवासीर (3) अनिंद्रा-तनाव (2) गर्भावस्था-आहार (2) कान-नाक-गले का रोग (1) टान्सिल (1) ल्यूकोडर्मा-श्वेत कुष्ठ-सफ़ेद दाग (1)
-->