This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

14 नवंबर 2015

क्या इन अन्धविश्वास में कुछ वैज्ञानिक सत्य है - Scientific truth Some of these superstitions

By

भारत में कई अंधविश्वास और मान्यताएं हैं जिन्हें या तो धर्म से जोड़ा जाता है या उन्हें विश्वास बताया जाता है। कई लोगों का कहना है कि बिल्ली रास्ता काट दें तो आगे ना जाएं जबकि कई लोगों का मानना है कि कुत्ते के रोने से अनहोनी होती है। आज हमारे बीच कई ऐसे अंधविश्वास है जिनसे रोज आपका सामना होता है। आज हम आपको बता रहे हैं ऐसे ही कुछ अंधविश्वास जो कि हमारे बीच में प्रचलित हैं-





नींबू-मिर्च नींबू मिर्च आप भारत के कई घरों और दुकानों में नींबू मिर्च लटकी हुई देखी होगी। मिर्चो के साथ एक नींबू को लटकाना अच्छा  माना जाता है, लोगों का मानना है कि इससे बुरी नजर नहीं लगती है। लोग मानते है कि ऐसा करने से घर में या व्यवसाय में सुख-समृद्धि वापस आ जाती है-



कहा जाता है कि अगर कुत्ता रोता है तो घर के लिए अशुभ होता है। मान्यता है कि घर के सामने घर की ओर मुंह करके कोई कुत्ता रोए तो उस घर पर किसी प्रकार की विपत्ति आने वाली है या घर के किसी सदस्य की मौत होगी। कहा जाता है कि घर के सामने सुबह के समय यदि कुत्ता रोए तो उस दिन कोई भी महत्वपूर्ण कार्य नहीं करना चाहिए। यदि किसी मकान की दीवार पर कुत्ता रोते हुए पंजा मारता दिखे तो समझा जाता है कि उस घर में चोरी हो सकती है या कोई संकट आ सकता है।



सपनों से पता चलता है शुभ और अशुभ: अंधविश्वास का सबसे बड़ा उदाहरण है सपनें। लोग सपनों के आधार पर ही अपना भविष्य देख लेते है। कई लोग कहते हैं कि सपने में सांप दिख जाए तो अच्छा होता है, कोई कहता है कि सांप दिख जाए तो अशुभ होता है। हालांकि विज्ञान के अनुसार सपने आने के कई कारण है। साथ अच्छे-बुरे सपने आपकी मानसिक दशा पर निर्भर करते है-

मंगलवार, गुरुवार को बाल कटवाना अशुभ: समाज में पढ़े लिखे लोगों के होने के बाबजूद भी लोग इस अंधविश्वास को सबसे ज्यादा मानते है। कहा जाता है कि मंगलवार, गुरुवार, शनिवार को बाल नहीं कटवाने चाहिए। ऐसा करना अशुभ होता है। इतना ही नहीं अब तो सैलून भी मंगलवार या गुरुवार को बंद रहते हैं-





माना जाता है कि अगर आप किसी काम से जा रहे हैं और कोई टोक दे या पूछे कि कहां जा रहो..? तो इसका मतलब आपका काम नहीं होगा। साथ ही अगर आप कहीं जा रहे हो और अगर आपके पीछे से कोई छींक दे तो आपका काम नहीं होगा। जबकि बछड़ा, बैल, सुहागिन, मेहतर और चूड़ी पहनाने वाला दिखाई दे तो शुभ होता है-




कई लोगों मानना है कि अगर घर के बारह रखे जूतें या चप्पल उल्टे हो जाएं तो उन्हें तुरंत सीधा कर देना चाहिए। ऐसा ना करने पर आपकी किसी से लड़ाई होने की संभावना बढ़ जाती है। साथ ही अगर आप चप्पल सीधी कर रहे हैं तो आपको दूसरी चप्पल का सहारा लेना चाहिए। हालांकि कई लोग जूतें-चप्पलों को नजर उतारने के लिए भी काम में लेते हैं-



हिंदू धर्म में झाड़ू को लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है। मान्यता है कि शाम के वक्त और रात में झाड़ू लगाने से लक्ष्मी चली जाती है और व्यक्ति के बुरे दिन शुरू हो जाते हैं। इसलिए रात को झाड़ू नहीं लगानी चाहिए। साथ ही झाड़ू को खड़ा भी नहीं रखना चाहिए क्योंकि इससे घर में कलह होता है। खुले स्थान पर झाड़ू रखना अपशकुन माना जाता है इसलिए इसे छिपाकर रखा जाता है-



बांस भले ही कई चीजें बनाने के काम में आता हो, लेकिन भारतीय सभ्यता में बांस को लेकर भी कई अंधविश्वास है। कहा जाता है कि अगर कोई बांस जलाता है तो उसका वंश नष्ट हो जाता है या घर में किसी की म्रत्यु  हो जाती है। हालांकि कई लोग बांस को शुभ मानते हैं-





बंदर का मुंह सुबह देखने से खाना नहीं मिलता..?ऐसे तो बंदर को भगवान हनुमान का प्रतीक माना जाता है, लेकिन माना जाता है कि अगर सुबह-सवेरे बंदर के दर्शन हो जाए तो दिनभर खाना नसीब नहीं होता है। जबकि शाम को बंदर दिख जाए तो शुभ होता है। बंदर का दाहिनी और बिल्ली का बाईं ओर दिखना शुभ होता है-




ऐसी मान्यता हैं कि किसी सुनसान या जंगल की किसी विशेष भूमि कर पेशाब कर देने से भूत पीछे लग जाता है। ऐसे में कुछ लोग पहले थूकते हैं फिर पेशाब करते हैं और कुछ लोग कोई मंत्र वगैरह पढ़कर ऐसा करते हैं। साथ ही लोग नदी, पूल या जंगल की पगडंडी पर पेशाब नहीं करते। भोजन के बाद पेशाब करना और उसके बाद बाईं करवट सोना बड़ा हितकारक है-



हमने अपने जीवन में कई बार करके इन बातो को समझा है और किसी हद तक कहूँ तो कुछ परिणाम सच और सार्थक ही पाया है मगर समझ नहीं आता ये सब अंधविश्वास है  या कोई वैज्ञानिक कारण ...आप ने कभी आजमाया है- कभी इन चीजों को अगर हाँ तो क्या कहेगे आप ....?

उपचार और प्रयोग-

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

लेबल