This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

loading...

4 मई 2016

Uric-Acid-यूरिक एसिड क्या होता है

By
यदि किसी कारणवश गुर्दे की छानने की क्षमता कम हो जाए तो यह यूरिया में Uric-Acid-यूरिक एसिड बदल जाता है-जो कि बाद में हड्डियों में जमा हो जाता है जिस कारण व्यक्ति को दर्द रहने लगता है यूरिक एसिड प्‍यूरिन के टूटने से बनता है वैसे तो यूरिक एसिड(Uric-Acid) शरीर से बाहर पेशाब के रूप में निकल जाता है परन्तु किसी कारण-वश जब Uric-Acid जब शरीर में रह जाए तो धीरे -धीरे इसकी मात्रा शरीर के लिए नुकसान दायक हो जाती है-

Uric-acid

क्या होता है यूरिक अम्ल(Uric-Acid)-

कार्बन,हाईड्रोजन,आक्सीजन और नाईट्रोजन तत्वों से बना यह योगिक जिस का अणुसूत्र C5H4N4O3.यह एक विषमचक्रीय योगिक है जो कि शरीर को प्रोटीन से एमिनोअम्ल के रूप मे प्राप्त होता है प्रोटीनों से प्राप्त ऐमिनो अम्लों को चार प्रमुख वर्गों में विभक्त किया गया है-

  • उदासीन ऐमिनो अम्ल
  • अम्लीय ऐमिनो अम्ल
  • क्षारीय ऐमिनो अम्ल
  • विषमचक्रीय ऐमिनो अम्ल

  1. यह आयनों और लवण के रूप मे यूरेट और एसिड यूरेट जैसे अमोनियम एसिड यूरेट(Ammonium acid urate) के रूप में शरीर मे उपलब्ध है प्रोटीन एमिनो एसिड के संयोजन से बना होता है-पाचन की प्रक्रिया के दौरान जब प्रोटीन टूटता है तो शरीर में यूरिक एसिड(Uric-Acid) बनता है जब शरीर मे Purine nucleotides टूट जाती है तब भी यूरिक एसिड बनता है प्युरीन क्रियात्मक समूह होने के कारण यूरिक अम्ल Aromatic compound होते हैं. शरीर मे Uric-Acid का स्तर बढ़ जाने की स्थिति को(hyperuricemia)कहते हैं.  हम प्रोटीन कहाँ से प्राप्त करते है और प्रोटीन क्यों जरूरी हो शरीर के लिए ये जानना भी जरूरी हो जाता है-
  2. मनुष्यों और अन्य जीव जंतुओं के लिए प्रोटीन बहुत जरूरी आहार है. इससे शरीर की नयी  कोशिकाएँ और नये ऊतक बनते हैं पुरानी कोशिकाओं और उत्तको(Tissue) की टूटफूट की मरम्मत के लिए प्रोटीन बहुत जरूरी आहार है प्रोटीन के अभाव से शरीर कमजोर हो जाता है और कईं रोगों से ग्रसित  होने की संभावना बढ़ जाती है-
  3. प्रोटीन शरीर को ऊर्जा भी प्रदान करता है-वृद्धिशील शिशुओं-बच्चो-किशोरों और गर्भवती स्त्रियों के लिए अतरिक्त प्रोटीन भोजन की मांग ज्यादा होती है परन्तु 25 वर्ष की आयु के बाद कम शारीरिक श्रम करने वाले व्यक्तियों के लिए अधिक मात्रा मे प्रोटीन युक्त भोजन लेना उनके लिए यूरिक अम्लों(Uric-Acid) की अधिकताजन्य दिक्कतों का खुला निमंत्रण साबित होते हैं-
  4. रेडमीट-सीफूड-रेडवाइन-दाल-राजमा-मशरूम-गोभी-टमाटर-मटर-पनीर-भिन्डी-अरबी-चावल आदि के अधिक मात्रा में सेवन से भी Uric-Acid बढ जाता है-
  5. और आगे देखे-

Upcharऔर प्रयोग-

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

लेबल