This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

loading...

4 जनवरी 2016

रोगाणु छह महीनों तक जीवित रह सकते हैं - Rogaanu six month Tak Jivit Rah Sakte Hai

By
Rogaanu six month Tak Jivit Rah Sakte Hai

रोगाणु छह महीनों तक जीवित रह सकते हैं - Rogaanu six month Tak Jivit Rah Sakte Hai

क्या आप जानते है कि एक हाल में नया खुलासा हुआ है कि कुकीज और सैंडविच जैसे खाद्य पदार्थो में बेहद हानिकारक रोगाणु(Rogaanu) कम से कम छह महीनों तक जीवित रह सकते हैं चूँकि ये अध्ययन खाद्य जनित रोगों की संख्या में बढ़ोतरी होने के कारण हाल ही में यह अध्ययन किया गया है-

शोधकर्ता इस बात का पता लगाना चाहते थे- कि जिन रोगाणुओं के कारण खाद्य जनित रोग होते हैं वे किसी खाद्य पदार्थ में कितने दिनों तक जीवित रह सकते हैं ये अध्ययन अमेरिका में जॉर्जिया विश्वविद्यालय से मुख्य शोधकर्ता लैरी ब्युचाट ने किया चूँकि दूषित सूखे खाद्य पदार्थो से जुड़ी कई बीमारियों में बढ़ोतरी हो रही थी जबकि शुष्क वातावरण के खाद्य पदार्थो में सैल्मोनेला जैसे हानिकारक रोगाणु के बढ़ने की उम्मीद नहीं थी-

शोधकर्ताओं ने पाया कि कुकीज और क्रीम बिस्किट जैसे सूखे खाद्य पदार्थो में हानिकारक जीवाणु न केवल जीवित रह सकते हैं बल्कि लंबी अवधि जीवित रहते हैं इस शोध के दौरान शोधकर्ताओं ने पांच विभिन्न प्रकार के सैल्मोनेला रोगाणुओं का अध्ययन किया है  लैरी ने कहा- "कम नमी वाले खाद्य पदार्थो से इन रोगाणुओं को अलग किया गया था।"

शोधकर्ताओं ने सैल्मोनेला रोगाणुओं को कुकीज और क्रिम बिस्किट में इस्तेमाल होने वाले चार तरह के भरावन में डाला और इसके बाद उन्हें संग्रहित करके रख दिया- शोधकर्ताओं ने साथ ही कुकीज और क्रिम बिस्किट में भरावन के लिए पनीर और पीनट बटर का इस्तेमाल भी किया-

संग्रहित करने के बाद वैज्ञानिकों ने पाया कि प्रत्येक भरावन में कितनी अवधि के लिए सैल्मोनेला रोगाणु जीवित रहने में सक्षम हैं- शोध से पता चला कि कुछ मामलों में ये रोगाणु क्रिम बिस्किटों में कम से कम छह महीने तक जीवित रहे थे अब आप समझ ही गए होगे कि  "इस परिणाम की उम्मीद नहीं की गई थी।" 

इस अध्ययन को 'जर्नल और फूड प्रोटेक्शन' में प्रकाशित किया गया है-

उपचार और प्रयोग-

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें