मसल्स बिल्डिंग के लिए क्या जरुरी है - What is important for building muscle

5:10 pm Leave a Comment
पुरुषों के लिए मसल्स काफी मायने रखता है। देखा जाए तो मसल्स हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण और अहम हिस्सा है। एक पेन उठाने से लेकर कंप्यूटर पर टाइपिंग करने, दौड़ने, टहलने आदि सब में मसल्स की जरूरत होती है। इससे आपका कार्डियोवेस्कूलर सिस्टम अच्छी स्थिति में रहता है अगर आप दौड़ने और दूसरी गतिविधियों में अपने मसल्स का इस्तेमाल नहीं करेंगे तो आपका दिल मजबूत और स्वस्थ नहीं रह सकेगा-





अगर आप पर्याप्त एक्सरसाइज करेंगे तो इससे ओवरवेट की भी समस्या नहीं आएगी। यह पूरी तरह से आपके मेहनत पर निर्भर करता है कि आप अपने मसल्स को कितना अच्छा बना सकते हैं। जब आप अपने बॉडी के मसल्स का ठीक से इस्तेमाल नहीं करते हैं तो इससे उन्हें नुकसान होता है। अपने मसल्स को बनाने के लिए आपको जरूरी मात्रा में प्रोटीन और विटामिन लेने की जरूरत पड़ती है। संतुलित आहार के साथ फिजिकल एक्टिविटी और नियमित एक्सरसाइज भी बेहद अहम है। फिजिकल फिटनेस को किसी भी रूप में नजरअंदाज करने पर इसका सीधा असर मसल्स पर पड़ता है और शरीर कमजोर हो जाता है-

खानपान की बात की जाए तो प्रोटीन और विटामिन मसल्स बनाने में बेहद महत्वपूर्ण होते हैं। विटामिन की बात करें तो विटामिन बी1, बी2, बी3 और विटामिन सी का विशेष महत्व है। मसल्स बनाने के लिए शरीर को प्रोटीन को तोड़ने की जरूरत होती है। वहीं विटामिन मसल्स बिल्डिंग को बढ़ावा देता है। ज्यादातर विटामिन हमें फल, सब्जी और मांस से मिलता है। इसलिए ऐसे आहार लेना बेहद जरूरी है, जो इन विटामिनों से भरे हों-

अब आइए हम आपको बताते हैं मसल्स बिल्डिंग के लिए जरूरी कुछ विटामिनों के बारे में-



मसल्स बनाने में विटामिन बी1 का बड़ा हाथ होता है। ये आपके द्वारा लिए गए कार्बोहाइड्रेट और दूसरे पौष्टिक तत्वों को एनर्जी में बदलता है। सनफ्लावर का बीच विटामिन बी1 से प्रचूर होता है-




विटामिन बी2 यह एक और महत्वपूर्ण विटामिन है। इसे रिबोफ्लाविन के नाम से भी जाना जाता है। यह तीन माइक्रोन्यूट्रीअंट प्रोटीन, कार्ब और फैट को तोड़ने में शरीर की मदद करता है। मसल्स बनाने में इन तीनों का विशेष महत्व होता है। दूध में रिबोफ्लाविन बड़ी मात्रा में पाया जाता है-




विटामिन बी3 एनर्जी प्रोडक्शन और नर्वस सिस्टम को बनाए रखने में विटामिन बी3 का खास महत्व होता है। इसके अलावा यह पाचन प्रक्रिया को भी बेहतर बनाता है। चिकन ब्रेस्ट मीट विटामिन बी3 का एक बेहतरीन स्रोत है-



विटामिन सी विटामिन सी शरीर में कनेक्टिव टीशू की देखभाल करता है। यह एंटीआक्सीडेंट गुणों से भी भरपूर होता है, जिससे हमारा इम्यून सिस्टम भी सुरक्षित रहता है। बंदगोभी, ब्रोकली, लाल शिमला मिर्च और पपीता विटामिन सी का सबसे अच्छा स्रोत है-




बायोटीन से हमारा शरीर लिए गए पौष्टिक तत्वों के ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल में सक्षम होता है। साथ ही रेड ब्लड सेल्स को भी बढ़ाता है। चूंकि पूरे शरीर में आक्सीजन पहुंचाने के लिए रेड ब्लड सेल्स की जरूरत होती है, ऐसे में यह उनके लिए खासतौर से फायदेमंद होता है जो नियमित रूप से फिजिकल एक्टिविटी करते हैं-




फालिक ऐसिड शरीर में नए सेल्स का निर्माण करता है और एनिमिया से बचाता है। एक कप मसूर दाल से हमें हर दिन के लिए जरूरी फालिक एसिड का करीब 90 प्रतिशत हिस्सा मिल जाता है-




विटामिन ए को रेटिनल के नाम से भी जाना जाता है। इसका प्रमुख काम आंखों की रोशनी को स्वस्थ रखना है। साथ ही यह इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने का काम करता है। गाजर, पालक, मीठा आलू, ठंड का स्क्वाश और शलजम विटामिन ए का बेहतरीन स्रोत है-



विटामिन डी विटामिन डी को सनसाइन विटामिन भी कहते हैं। जब शरीर को पर्याप्त सूरज की रोशनी मिलती है तो शरीर में यह खुद ब खुद बन जाता है। दूध, सामन, झींगा और अंडे में विटामिन डी प्रचूर मात्रा में पाया जाता है-
उपचार और प्रयोग -

0 comments :

एक टिप्पणी भेजें

TAGS

आस्था-ध्यान-ज्योतिष-धर्म (38) हर्बल-फल-सब्जियां (24) अदभुत-प्रयोग (22) जानकारी (22) स्वास्थ्य-सौन्दर्य-टिप्स (21) स्त्री-पुरुष रोग (19) पूजा-ध्यान(Worship-meditation) (17) मेरी बात (17) होम्योपैथी-उपचार (15) घरेलू-प्रयोग-टिप्स (14) चर्मरोग-एलर्जी (12) मुंह-दांतों की देखभाल (12) चाइल्ड-केयर (11) दर्द-सायटिका-जोड़ों का दर्द (11) बालों की समस्या (11) टाइफाइड-बुखार-खांसी (9) पुरुष-रोग (8) ब्लडप्रेशर (8) मोटापा-कोलेस्ट्रोल (8) मधुमेह (7) थायराइड (6) गांठ-फोड़ा (5) जडी बूटी सम्बन्धी (5) पेशाब में जलन(Dysuria) (5) हीमोग्लोबिन-प्लेटलेट (5) अलौकिक सत्य (4) पेट दर्द-डायरिया-हैजा-विशुचिका (4) यूरिक एसिड-गठिया (4) सूर्यकिरण जल चिकित्सा (4) स्त्री-रोग (4) आँख के रोग-अनिंद्रा (3) पीलिया-लीवर-पथरी-रोग (3) फिस्टुला-भगंदर-बवासीर (3) अनिंद्रा-तनाव (2) गर्भावस्था-आहार (2) कान-नाक-गले का रोग (1) टान्सिल (1) ल्यूकोडर्मा-श्वेत कुष्ठ-सफ़ेद दाग (1) हाइड्रोसिल (1)
-->