This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

1 फ़रवरी 2016

आर्थिक स्थिति खराब पैसा नहीं रुकता - Aarthik Sthiti Kharab Paesa Nahi Rukata

By
आज सभी की आवश्यकता है धन और धन के बिना जीवन जीना बहुत दुर्लभ है खास कर गृहस्थ व्यक्ति के लिए रात-दिन मेहनत के बाद भी पैसे की परेशानी से जूझता रहता है कुछ व्यक्ति जीवन में कठिनाइयो का सामना करते हुए पूरा जीवन व्यतीत कर देते है-




आज के  जीवन में    धन   की महत्ता   से   इनकार नहीं किया   जा सकता हैं  पर यह   धन का  आगमन  हो कैसे  -कुछ को    तो  व्यापार   अपने  परिवार  से   मिला  हैं    तो   कुछ   स्वतः     ही   इस   और आकर्षित  हो जाते हैं पर बहुसंख्यक   वर्ग   तो  एक  नौकरी किसी  तरह मिल जाए  उसी  पर  ही  निर्भर  करता हैं   पर   भले   ही कितनी   रोजगार के  अवसर   मिल   रहे  हो  या  सामने  आ  रहे   हो पर   एक   रोजगार  मिलना   या  नौकरी मिलना  इतना   भी  आसान  कहाँ है -

जब  माता पिता   की  गाढ़ी कमाई के   सहारे  उच्च  शिक्षा   प्राप्त करके  भी   कोई  मार्ग  सामने  दिख  न  रहा हो    तब  क्या  किया  जाए और कितने  इस   मानसिक  स्थिति   में  असामाजिक  रास्ते    पर  भी चल  पड़ते हैं पर जब कोई मार्ग  न  दिख  रहा  हो  तो-

दुखी व्यक्ति नीचे लिखे मंत्र का जप करें-

मंत्र -

ॐ श्रीं श्रीं श्रीं परमाम् सिद्धिं श्री श्री श्रीं

इस मंत्र को सिद्ध करने के लिए पूर्ण स्वच्छता का ध्यान रखें पूर्ण साफ मन से प्रदोष के दिन स्नान करके प्रभु शिव का ध्यान करते हुए पूर्ण निराहार होकर व्रत (उपवास) रखें। उस दिन अन्न न लें। शाम को (गोधूली बेला में) शिवजी का पूजन करें एवं असगंध के फूल को घी में डूबाकर रख लें। तीन माला जाप उपरोक्त मंत्र की करें। तत्पश्चात एक माला से मंत्र पढ़ते हुए हवन करें-

यह प्रयोग 11 प्रदोष तक लगातार विश्वास-पूर्वक करें- पूर्ण फल मिलेगा-

आर्थिक उन्नति प्राप्ति के लिए-

किसी गुरु पुष्य योग और शुभ चन्द्रमा के दिन सुबह-सुबह हरे रंग के कपड़े की छोटी थैली तैयार करें। श्री गणेश के चित्र अथवा मूर्ति के आगे 'संकटनाशन गणेश स्तोत्र' के 11 पाठ करें। तत्पश्चात् इस थैली में 7 मूंग, 10 ग्राम साबुत धनिया, एक पंचमुखी रूद्राक्ष, एक चांदी का रुपया या 2 सुपारी, 2 हल्दी की गांठ ले कर दाहिनी सूंड के गणेश जी को शुद्ध घी के मोदक का भोग लगाएं। फिर यह थैली तिजोरी या कैश बॉक्स में रख दें। आर्थिक स्थिति में शीघ्र सुधार आएगा। एक  साल बाद नई थैली बना कर बदलते रहें।गुरु पुष्य योग पंचांग से पता करे -

अगर आप अपार धन-समृद्धि चाहते हैं तो आपको पके हुए मिट्टी के घड़े को लाल रंग से रंगकर, उसके मुख पर नाड़ा यानी मौली बांधकर तथा उसमें जटायुक्त नारियल रखकर बहते हुए जल में प्रवाहित कर देना चाहिए। रूके हुए आर्थिक कार्यों की सिद्धि के लिए यह टोटका बहुत ही लाभदायक है।ये क्रिया प्रत्येक रविवार को करे -

किसी भी आर्थिक कार्य में बार-बार असफलता मिल रही हो तो यह टोटका करें-


सरसो के तेल में सिके गेहूं के आटे व पुराने गुड़ से तैयार सात पूए, सात मदार (आक) के फूल, सिंदूर, आटे से तैयार सरसो के तेल का दीपक, पत्तल या अरण्डी के पत्ते पर रखकर शनिवार की रात में किसी चौराहे पर रख कर कहें -

  'हे मेरे दुर्भाग्य तुझे यहीं छोड़े जा रहा हूं कृपा करके मेरा पीछा ना करना'

ये सामान रखकर पीछे मुड़कर न देखें।ये प्रत्येक शनिवार करे तो उत्तम है अगर न कर सके तो ये हर माह में कम से कम एक बार कृष्ण पक्ष के शनिवार को अवस्य करे धीरे -धीरे भाग्य आपका साथ देना शुरू कर देगा लेकिन कर्म आप को करना है ये प्रयोग उनके लिए बिलकुल नहीं है जो अजगर की तरह घर बेठे सब कुछ पाना चाहते है लेकिन कर्म करने से कतराते है उनका भाग्य उनका भी साथ छोड देता है -
कार्य सफलता हेतु करे ये उपाय-


कभी -कभी हम किसी कार्य के लिए जाते है और हमारा कार्य नहीं होता है व्यक्ति कोई न कोई बहाना बना कर हमें निराश कर देता है उनके लिए ये प्रयोग अपनाए . किसी भी गणेश चतुर्थी को गणेश जी का ऐसा चित्र घर या दुकान पर लगाएं, जिसमें उनकी सूंड दाईं ओर मुड़ी हुई हो। उनकी आराधना करें। उनके आगे लौंग तथा सुपारी रखें। जब भी कहीं काम पर जाना हो, तो इस लौंग तथा सुपारी को साथ ले कर जाएं, तो काम सिद्ध होगा। और प्रतिदिन एक लौंग और एक सुपारी अलग से भी साथ में रखें। प्रतिदिन काम पर जाने से पहले लौंग चूसें तथा सुपारी को वापस ला कर गणेश जी के आगे रख दें तथा जाते हुए कहें- 

     'जय गणेश काटो कलेश'

इसे भी देखे- क्यों झाड़ू को घर में छुपा के रक्खे -

उपचार और प्रयोग-

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें