This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

19 जून 2017

टेसू यानि पलास के अदभुत प्रयोग

By
भारत में टेसू यानि पलाश(Palash)का पेड़ सभी स्थान पर पाए जाते हैं प्राचीन समय से इसका प्रयोग उपचार के लिए औषधि के रूप में किया जाता है टेसू के पेड़ 150 से 450 सेंटीमीटर तक ऊंचे होते हैं इसके पत्ते लगभग 6 इंच लम्बे होते हैं इसकी छाल आधा इंच मोटी और खुरदरी होती है गर्मियों के मौसम में इसकी छाल को काटने पर एक प्रकार का रस निकलता है जो जमने पर लाल गोंद जैसा पदार्थ बन जाता है पलास के फूल चमकीले लाल व नारंगी रंग के होते हैं-

टेसू यानि पलास के अदभुत प्रयोग

पलास(Palash)के पत्ते प्रायः पत्तल और दोने आदि के बनाने के काम आते हैं राजस्थान और बंगाल में इनसे तंबाकू की बीड़ियाँ भी बनाते हैं और फूल और बीज ओषधि के रूप में प्रयुक्त होते हैं इसके वीज में पेट के कीड़े मारने का गुण विशेष रूप से है तथा फूल को उबालने से एक प्रकार का ललाई लिए हुए पीला रंगा भी निकलता है जिसका खासकर होली के अवसर पर प्रयोग किया जाता है इसकी फली की बुकनी कर लेने से वह भी अबीर का काम देती है और छाल से एक प्रकार का रेशा निकलता है जड़ की छाल से जो रेशा निकलता है उसकी रस्सियाँ बटी जाती हैं तथा दरी और कागज भी इससे बनाया जाता है Palash पतली डालियों को उबालकर एक प्रकार का कत्था तैयार किया जाता है जो कुछ घटिया होता है और बंगाल में अधिक खाया जाता है-

मोटी डालियों और तनों को जलाकर कोयला तैयार करते हैं छाल पर बछने लगाने से एक प्रकार का गोंद भी निकलता है जिसको 'चुनियाँ गोंद' या पलास का गोंद कहते हैं इसके फूल बहुत ही आकर्षक होते हैं इसके आकर्षक फूलो के कारण इसे "जंगल की आग" भी कहा जाता है-

पलास(Palash)का रोगों में उपचार-


1- टेसू(Palash)के फूल का सेवन करने से शरीर को शक्ति मिलती है और प्यास दूर होती है इसके सेवन से शरीर में खून की वृद्धि होती है तथा पेशाब भी खुलकर आता है- 

2- कुष्ठरोग, मौसमी बुखार, जलन, खांसी, पेट में गैस बनना, वीर्य सम्बंधी रोग, संग्रहणी(दस्त के साथ आंव आना), आंखों के रोग, रतौंधी, प्रमेह(वीर्य विकार), बवासीर तथा पीलिया आदि रोग इसके सेवन करने से ठीक हो जाते हैं- 

3- यह बलगम(कफ)पित्त को कम करता है तथा पेट के कीड़े को खत्म करता है तथा खून के प्रवाह को कम करता है और इसके गोंद का सेवन करने से एसिडिटी दूर हो जाती है तथा यह पाचन की शक्ति को बढ़ाता है-इसके पत्ते को सूजन पर लगाने से सूजन कम हो जाती है-यह भूख को बढ़ाता है लीवर को मजूबूती प्रदान करता है तथा बलगम को कम करता है-

4- टेसू की जड़ का प्रयोग रतौंधी(रात में दिखाई न देना)को ठीक करने तथा आँख की सूजन को नष्ट करने तथा आंखों की रोशनी को बढ़ाने के लिए किया जाता है-

कैसे प्रयोग करे-


अफारा(पेट में गैस बनना)-

टेसू की छाल और शुंठी का काढ़ा 40 मिलीलीटर की मात्रा सुबह और शाम पीने से अफारा और पेट का दर्द नष्ट हो जाता है-

आंखों के रोग-

टेसू की ताजी जड़ का 1 बूंद रस आंखों में डालने से आंख की झांक, खील, फूली मोतियाबिंद तथा रतौंधी आदि प्रकार के आंखों के रोग ठीक हो जाते हैं-

नकसीर(नाक से खून आना)-

टेसू के 5 से 7 फूलों को रात भर ठंडे पानी में भिगोएं और सुबह के समय में इस पानी से निकाल दें और पानी को छानकर उसमें थोड़ी सी मिश्री मिलाकर पी लें इससे नकसीर में लाभ मिलता है-

मिर्गी(Epilepsy)-

चार से पांच बूंद टेसू की जड़ों का रस नाक में डालने से मिर्गी का दौरा बंद हो जाता है-

गलगण्ड(घेंघा)रोग-

टेसू की जड़ को घिसकर कान के नीचे लेप करने से गलगण्ड मिटता है-

उदरकृमि(पेट के कीड़े)-

टेसू के बीज, कबीला, अजवायन, वायविडंग, निसात तथा किरमानी को थोड़े सी मात्रा में मिलाकर बारीक पीसकर रख लें तथा इसे लगभग तीन ग्राम की मात्रा में गुड़ के साथ देने से पेट में सभी तरह के कीड़े खत्म हो जाते हैं या फिर टेसू के बीजों के चूर्ण को एक चम्मच की मात्रा में दिन में 2 बार सेवन करने से पेट के सभी कीड़े मरकर बाहर आ जाते हैं-

प्रमेह(वीर्य विकार)-

टेसू की मुंहमुदी(बिल्कुल नई)कोपलों को छाया में सुखाकर कूट-छानकर गुड़ में मिलाकर लगभग 10 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम खाने से प्रमेह नष्ट हो जाता है-

टेसू की जड़ का रस निकालकर उस रस में तीन दिन तक गेहूं के दाने को भिगो दें फिर उसके बाद दोनों को पीसकर हलवा बनाकर खाने से प्रमेह, शीघ्रपतन(धातु का जल्दी निकल जाना)और कामशक्ति की कमजोरी दूर होती है-

रक्तार्श(खूनी बवासीर)-

टेसू के पंचाग(जड़, तना, पत्ती, फल और फूल)की राख लगभग 15 ग्राम तक गुनगुने घी के साथ सेवन करने से खूनी बवासीर में आराम होता है तथा इसके कुछ दिन लगातार खाने से बवासीर के मस्से सूख जाते हैं-

अतिसार(दस्त)-

टेसू के गोंद लगभग 650 मिलीग्राम से लेकर 2 ग्राम तक लेकर उसमें थोड़ी दालचीनी और अफीम(चावल के एक दाने के बराबर)मिलाकर खाने से दस्त आना बंद हो जाता है-

टेसू के बीजों का क्वाथ(काढ़ा)एक चम्मच, बकरी का दूध एक चम्मच दोनों को मिलाकर खाने के बाद दिन में 3 बार खाने से अतिसार में लाभ मिलता है-

सूजन(Swelling)-

टेसू के फूल की पोटली बनाकर बांधने से सूजन नष्ट हो जाती है-

सन्धिवात(जोड़ों का दर्द)-

टेसू के बीजों को बारीक पीसकर शहद के साथ दर्द वाले स्थान पर लेप करने से संधिवात में लाभ मिलता है-

बंदगांठ(गांठ)-

टेसू के पत्तों की पोटली बांधने से बंदगांठ में लाभ मिलता है या फिर टेसू के जड़ की तीन से पांच ग्राम छाल को दूध के साथ पीने से बंदगांठ में लाभ होता है-

अंडकोष की सूजन-

टेसू के फूल की पोटली बनाकर नाभि के नीचे बांधने से मूत्राशय(वह स्थान जहां पेशाब एकत्रित होता हैं)के रोग समाप्त हो जाते हैं और अंडकोष की सूजन भी नष्ट हो जाती है-

टेसू की छाल को पीसकर लगभग चार ग्राम की मात्रा में पानी के साथ सुबह और शाम देने से अंडकोष का बढ़ना खत्म हो जाता है-

हैजा(Cholera)-

टेसू के फल 10 ग्राम तथा कलमी शोरा 10 ग्राम दोनों को पानी में घिसकर या पीसकर लेप बना लें फिर इसे रोगी के पेडू पर लगाएं-यह लेप रोगी के पेड़ू पर बार-बार लगाने से हैजा रोग ठीक हो जाता है-

वाजीकरण(सेक्स पावर)-

पांच से छ: बूंद टेसू के जड़ का रस प्रतिदिन दो बार सेवन करने से अनैच्छिक वीर्यस्राव(शीघ्रपतन)रुक जाता है और काम शक्ति बढ़ती है-

टेसू के बीजों के तेल से लिंग की सीवन सुपारी छोड़कर शेष भाग पर मालिश करने से कुछ ही दिनों में हर तरह की नपुंसकता दूर होती है और कामशक्ति में वृद्धि होती है-

गर्भनिरोध(Contraception)-

टेसू के बीजों को जलाकर राख बना लें और इस राख से आधी मात्रा हींग को इसमें मिलाकर रख लें अब इसमें से तीन ग्राम तक की मात्रा ऋतुस्राव(माहवारी)प्रारंभ होते ही और उसके कुछ दिन बाद तक सेवन करने से स्त्री की गर्भधारण करने की शक्ति खत्म हो जाती है-

टेसू के बीज दस ग्राम, शहद बीस ग्राम और घी 10 ग्राम सब को मिलाकर इसमें रुई को भिगोकर बत्ती बना लें और इसे स्त्री प्रसंग से 3 घंटे पूर्व योनिभाग में रखने से गर्भधारण नहीं होता है-


Upcharऔर प्रयोग-

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें