स्तन पुष्ट करे-सस्ता और प्राकतिक इलाज- Breast Improvement

स्तन पुष्ट करे-सस्ता और प्राकतिक इलाज- Breast Improvement

स्तन पुष्ट करे-सस्ता और प्राकतिक इलाज- Breast Improvement-

नारी के सौन्दर्य का महत्वपूर्ण अंग है उसका स्तन(Breast) बहुत सी महिलाओं में असमय ही स्तन छोटे एवं ढीले हो जाते है जिसकी वजह से उनके मन में एक कुंठा सी बन जाती है उनको चाहिए कि कुछ आयुर्वेदिक उपायों का प्रयोग करे और अपने स्तन को सुद्रढ़ बनाए -

आयुर्वेदिक प्रयोग-

पावडर+ अनार का पांचांग (जड़+डंढल+पत्ता+फूल+ फल या अनार के छिलके) माजूफल+शतावरी सबको मिला कर उसका लेप तैयार कर लें। अब इसे स्तन पर लेप करें- ये लेप त्वचा के भीतर तक जाकर स्तनों की मांसपेशियों को पुष्ट बनाते हैं-समय थोडा लगता है लेकिन ये स्तनों को काफी मायने में पुष्ट बना देते है-

अश्वगंधा चूर्ण (बाजार में उपलब्ध) रोजाना छह से दस ग्राम तक दूध के साथ सेवन करें -अनार पांचांग तेल ये भी स्तनों के विकास के लिये जरूरी है- इस तेल से नियमित दिन में दो बार मालिश करते रहें- स्तन फिर से सुडौल होने लगेंगे- अनार तेल के मसाज से कोशिकाओ में रक्त संचार तेजी से शुरू होता है- स्तनों की मांस पेशिययों में तंतुओं की मात्रा बढ़ने लगती है- स्तन में मजबूती व कठोरता आने लगती है- ये उपयोग लगातार एक माह तक अवश्य करें-

स्तन सुद्रढ़ ठोस करने का उपाय-

स्त्रियों के कुछ अंग वास्तव में सोन्दर्य के प्रतीक हैं-जैसे स्तन,आंख,नाक आदि।कुछ स्त्रियों के स्तन छोटे होते हैं उनकी उचित वृद्धि नही होती और कलसोडे की पत्तियों का सत्व( सत्व पत्तियों को पीस कर पानी में छान-घोल कर फिर धूप में रक्खा जाता है और सूखने के बाद नीचे बर्तन में सुखा पावडर बचता है उसे सत्व कहा जाता है)  छोटी इलायची+कमल गट्टे की मिंगी का भी कभी ये लटक कर या ढीले होकर स्त्री के सोन्दर्य को कम कर देते हैं-जवकि अगर स्त्री के स्तन भरे हुये औऱ पुष्ट हों तो उसके सोन्दर्य में अनुपम वृद्धि होती है-छोटे स्तनों को पुष्ट करने के लिए पोष्टिक आहार व पुष्टिकारक ब्रंहणीय औषधियाँ प्रयोग करने के साथ साथ अश्वगंघा तैल का मसाज नियमित करने से न तो स्तन ढीले होते हैं और न ही लटकते ही हैं- कभी कभी अश्वगंधा तेल की रात में एक या दो बार मालिश करके आप यह लाभ प्राप्त कर सकते हैं-

इसके अलावा एक नुस्खा और दे रहा हूँ जिनको इस प्रकार की समस्या है वे प्रयोग कर लाभ उठा सकती हैं-

सामग्री इस प्रकार है-

अनार का पंचाग अर्थात जड़+तना+पत्ती+फल व फूल(केवल फल से दाने निकाल कर खा सकते हैं)

माजूफल
शतावर
छोटी इलायची
कमल गटटे की मींग
लसोड़े की पत्तियाँ

ये सभी औषधीय द्रव्यों को बरावर लेकर बारीक पिसवा लें या महीन पीस लें-फिर आवस्यकतानुसार एक से तीन चम्मच तक लेकर पानी मिलाकर पेस्ट सा बना लें-इसे रोजाना रात को लगाकर सोयें कुछ ही दिनो में स्तन सुद्रण हो जाएगें-रोजाना रात को अश्वगंधा चूर्ण भी 6 से 10 ग्राम की मात्रा में सेवन करते रहें-इसके अलाबा अनार पंचाग का तेल भी लगा सकते हैं यह बाजार से मिल जाए तो अच्छा अगर न मिले तो अनार पंचाग लेकर सरसों के तेल में पकाकर छान कर रख लें इस तेल के द्वारा 2-3 बार मालिस करने से भी स्तन सुद्रण होते हैं-

ये ध्यान रखें स्तनों पर सरसों के इसी तेल से करीब आधा घंटा हल्के हाथ से मालिश करें- नीचे से ऊपर की ओर करें। फिर दस पंद्रह ठंडे पानी की पट्टियां एक के बाद एक रखते रहें-स्तन का आकार बढ़ेगा।

स्तनों की मालिश हमेंशा नीचे से ऊपर की ओर ही करनी चाहिये-

इसे भी देखे- बेडौल ब्रेस्ट है बनाए ये तेल - Brest is unformed maintain these oil

Upcharऔर  प्रयोग-
loading...
Share This Information With Your Friends
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें