This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

loading...

17 मार्च 2016

Wet Dreams-स्वप्न दोष स्त्रियों में भी होता है

By
ये ही सच नहीं है कि सिर्फ पुरुष खासकर युवा ही स्वप्न-दोष(Wet Dreams)का शिकार होते है महिलाए भी इसका शिकार होती है जबकि स्वप्न-दोष(Wet Dreams)वह अवस्था है जिसमे सोते -सोते अचानक पुरुष को वीर्यपात हो जाता है और उनके कपड़ो में गीला-पन हो जाता है यहाँ तक कि बिस्तर पर सफ़ेद दाग पड़ जाते है और सुबह उठने पे शर्मिंदगी महसूस करते है इसको ही भारतीय समाज में Wet Dreams-स्वप्न-दोष का नाम दिया गया है-

Wet Dreams-स्वप्न दोष स्त्रियों में भी होता है


जबकि पश्चिमी देशो में इसे किसी तरह का दोष नहीं माना जाता है बल्कि वहां तो इसे वेट ड्रीम(Wet Dreams) कहा जाता है जो शायद एक उचित शब्द  है-

पुरुषों में स्वप्नदोष(Wet dreams)-

किशोरावस्था में बात बहुत ही सामान्य बात है इसे लेकर मन में आप किसी प्रकार की गिल्टी न पाले क्युकि सभी युवा इस स्वप्नदोष(Wet Dreams)का शिकार होते है या फिर इसी तरह की किसी यौन उत्तेजना  से उत्पन्न सोच से लिंग से भी स्खलित हो जाता है-

इसी प्रकार युवा लडकियों में भी ये प्रक्रिया होती है मगर ये इसलिए पता नहीं चलता है क्युकि उनकी जननांग की संरचना भीतर की ओर होती है इसलिए स्वप्नदोष(Wet Dreams)का पता उनको नहीं चल पाता है-

अधिकतर युवाओं में रात भर में करीब तीन से चार बार जननांग का उत्तेजित होना स्वाभाविक होता है जबकि सुबह के समय इसकी Stimulus बढ जाती है और स्वप्नदोष(Wet Dreams) भी अक्सर सुबह के तीन से पांच के बीच ही अधिक होता है लिंग के उत्तेजना से नियमित रक्त का संचालन होता रहता है जो लिंग की मांसपेशियों व ऊतकों के स्वास्थ के लिहाज से अच्छा ही है- 

जबकि यह एक तरह से लिंग की कसरत है जब उत्तेजित लिंग वीर्य के भार को थामने में जब नाकाम रहता है तो वीर्यपात हो जाता है जो बहुत Natural बात है-

लडकियों का स्वप्न-दोष (Wet Dreams)-

गाइनकोलॉजिस्‍टों व मनो-चिकित्सक के अनुसार स्त्रियां भी Intense sexual अहसास से गुजरती हैं किशोरावस्था -युवावस्था या फिर पति से बहुत अधिक दिनों तक दूर रहने पर कई बार महिलाओं में तीव्र यौन इक्षा जाग्रत होती है और वह सोते से उठ जाती हैं- पुरुषों के समान उनमें वीर्यपात जैसा तो कुछ नहीं होता है लेकिन उत्तेजना से उनकी Vagina अंदर से गीली और चिकनी हो जाती है-

चूंकि महिलाओं का जननांग अंदर की ओर विकसित होता है इसलिए वह स्वप्नदोष(Wet Dreams)को ठीक से समझ ही नहीं पाती हैं- महिलाओं को सोते वक्त कई बार जननांग या उसके आसपास दबाव पडने से या फिर घर्षण आदि के कारण कामोत्तेजना का अहसास होता है ऐसा अक्सर टाइट पैंटी पहनने से या फिर जांघों के बीच हाथ दबाकर सोते वक्त हाथ से उत्पन्न घर्षण आदि से भी अचानक से सोई हुई उत्तेजना को जगा देता है जिससे अक्सर नींद खुल जाती है और देखने पर गीलेपन का एहसास होता है यही महिलाओं का स्वप्नदोष(Wet Dreams)है -

वैसे महिलाएं चाहें तो अपने स्वप्नदोष  का अहसास कर सकती हैं-जब कभी रात में अचानक एक तीव्र व Pleasant feeling के साथ नींद के खुलते ही अपनी ऊंगली Vagina के अंदर ले जाने पर उनको  चिप-चिपापन(Viscosity)और गीलेपन का अहसास होगा-

किशोरियों को ऐसे समय किसी अनजान साथी का, युवा लड़की को अपने बॉयफ्रेंड का और पति से दूर रही रही पत्नी को अपने पति की दूरी का तीव्रता से अहसास होता है-

स्त्रियां कल्पना में भी यदि Sexual intercourse करती हैं तो वह किसी अजनबी की जगह अपने साथी का ख्‍याल ही मन में लाती हैं-

कामोत्तेजना सेहत के लिए उचित-

शादीशुदा महिलाओं में भी कामोत्तेजना बढ़ने से जननांग में रक्तसंचार होता है जो यौन व प्रजनन स्वास्थ के हिसाब से बहुत उपयुक्त है इससे योनि का लचीलापन बना रहता है जो आगे चलकर पुरुष के साथ यौन संबंध बनाने में तो सहज करता ही है लेकिन प्रसव के समय बच्चे के बाहर आने में भी आसानी होती है-

स्वपन-दोष(Wet Dreams)कोई दोष नहीं-

परंपरागत भारतीय समाज में वीर्य की रक्षा करने पर मुख्‍य जोर रहा है शायद इसी वजह से स्वप्न की वजह से होने वाले वीर्य स्खलन को स्वप्नदोष कह दिया गया है लेकिन आधुनिक मनोविज्ञानी इसे किसी भी तरह से दोष नहीं मानते हैं सोते में कामुक कल्पनाओं का उभरना  और उसके प्रभाव से वीर्यस्राव कहीं से बुरा नहीं है चूँकि वीर्य की मात्रा जब शरीर में बढ जाती है तो वह बाहर निकलने का रास्ता तलाशती है इसे ऐसे समझिए कि जब पानी का टंकी भर जाता है तो Overflow हो जाता है यह बहुत कुछ वैसा ही है-

सुझाव-

अत्यधिक  Erotic thoughts करना Pornography पर ज्यादा समय व्यतीत करना या फिर  Alcohol सिगरेट- अधिक तला- मसालेदार और खटटा खाने जैसे कुछ ऐसे कारण हैं तो इसकी बारंबारता को बढा देते हैं- मसालेदार भोजन यौन उत्तेजना बढाने में सहायक हैं- भारतीय समाज ने शायद किशोर-वस्था  में अधिक कामोत्तेजना -शराब-सिगरेट का सेवन और मसालेदार भोजन आदि से दूर रहने के लिए ही इसे दोष का नाम दिया- 

पोर्नोग्राफी-शराब-सिगरेट और मसालेदार भोजन से बचना तो वैसे भी आपके स्वास्थ के लिए उत्तम  है क्युकि ये सभी एडिशनल का खतरा पैदा करते हैं-


Upcharऔर प्रयोग-

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

लेबल