Homeopathy-Tooth and gum disease-दांत और मसूड़े का रोग

Tooth and gum disease
Tooth and gum disease
दाँत खींच कर निकाल डालने की इच्छा-

यह एक महिला का केस था उन्होंने मुझे अपने ऊपरी जबडे के बीच के दाँत को बताते हुए कहा कि डॉक्टर साहब मेरी ऐसी इच्छा होती हैं कि मैं यह दाँत खींच कर बाहर निकाल कर फेंक दूँ  -मैंने उनसे पूँछा कि क्या इसमें दर्द होता है - उन्होंने कहा नहीं - मैंने पूँछा कि पानी लगता है - उन्होंने कडा कि मुझे इस दाँत मेँ कोई कष्ट नहीं हैं-बस ऐसा लगता है कि मैं इसे निकाल कर फेंक दूँ केण्ट की रिपर्टरी में ये लक्षण मिल गया - हमने उन्हें बस 'बेलाडोना1000' की दो खुराके ही दी और हमेशा ले लिए उनकी इस इच्छा को समाप्त कर दिया -


मसूढे का फोडा-

सेंवढा मेँ एक सब्जी बेचने वाली कूँजडी की ऊपर के जबडे की एक डाढ टूट जाने से मसूढे में फोडा हो गया - बहुत अधिक सूजन,मबाद और असहनीय पीडा के कारण उसका बुरा डाल था - पीडानाशक व अन्य दवाइयाँ सब निष्कलं सिद्ध हो रही थी- डॉक्टरों ने कैंसर की शंका व्यक्त करते हुए जांच व इलाज के लिये उसे ग्वालियर जाने की सलाह दे दी- वहाँ उन्होने कह दिया जल्द से जल्द इन्हें  मुम्बई ले जाओ नही तो रोग बढ़ जायगा- निराश हो कर यह सेवढा वापिस आ गई- बस स्टैण्ड पर ही एक सिन्धी सज्जन की दुकान थी - उन्होंने उसे मेरे घर भेज दिया - समय के अभाव के कारण नियमित चिकित्सा कार्य तो मैं कर नहीं पाता था किन्तु भूला भटका कोई मरीज आ ही जाय तो देख भी लिया करता था - लक्षण जानने पर मैंने अनुमान लगाया कि शायद दाँत की कोई जड जबडे में अटकी रह गई है जिसके कारण यह सब उपद्रव हो रहा है अत: 'साइशाशेवा1000' की दो खुराकें दे दीं और दो घण्टे बाद छोडा फूट गया और लगभग 750 मिलीलीटर मवाद निकल गया - दर्द तो तुरन्त ही खत्म हो गया दो-तीन दिन में सब कुछ सामान्य होगया- मुझे तो नहीं किन्तु सेंवढा के लोग आज भी यही समझते हैं कि मैंने कैंसर को ठीक कर दिया है -

दाँतो का हिलना-

मेरा अनुभव हे कि बुढापे के कारण हिलने वाले दातों के लिये अगर 'केल्लेरिया फ्लोर 1000' पोटेन्सी की दो खुराकें आधे-आधे  घण्टे से दो वार दे दी जाये तो लगभग छह महिने के लिये दाँत जम जाते है  और दुसरी बार यही प्रयोग करने पर दांत तीन महिने के लिये गिरने से रुक  जाते हैं किंतु अन्तत: वे गिरते तो हैं ही सामान्य रुप से देखा गया है कि रुट कैनाल ट्रीटमेंट कराने के बाद दोंतों में तकलीफ अवश्य होती है - पीले दाँतों के लिये 'कल्केरिया रेनेलिस' एक वहुत अच्छी दवा है - एलोपैथिक दवाइयों मे किसीका पायोरिया ठीक होते तो मैंने आज तक देखा ही नहीं है-

मेरा पता है-



होम्योपैथी दवा के लिए रोगी ही फोन करे ताकि लक्षण को जाना जा सके बेमतलब जानकारी मात्र के लिए डिस्टर्व न करे-

KAAYAKALP

Homoeopathic Clinic & Research Centre

23,Mayur Market, Thatipur, Gwalior(M.P.)-474011

Director & Chief Physician:

Dr.Satish Saxena D.H.B.

Regd.N.o.7407 (M.P.)

Ph :    0751-2344259 (C)
          0751-2342827 (R)

Mob :  09977423220

प्रस्तुतीकरण-Upcharऔर प्रयोग-
loading...
Share This Information With Your Friends
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें