Homyopathy-Blindness in pregnancy-गर्भावस्था मेँ अन्धत्व

Blindness in pregnancy
Blindness in pregnancy
डबरा में सिंचाई विभाग के एक सेवानिवृत्त कार्य पालन यंत्री जी ने मुझसे कहा कि-मैंने सुना हैं कि तुम बहुत अच्छे डॉक्टर हो - मेरी बहू को ठीक कर दोगे तो मैं मान जाऊँगा- मेंने कहा कि आपकी बहू को क्या कष्ट हैं तो उन्होंने बताया कि जब भी वह गर्भवती होती हैँ तों उसे दिखना बन्द होजाता है और प्रसव के बाद उसकी दृष्टि सामान्य हो जाती है - 


पहिले तो मुझे भी बहुत आश्चर्य हुआ किन्तु गहराई से अध्यन करने के बाद ज्ञात हुआ कि इसे एक्लेम्पिनया कहते हैं  इसके कईं अन्य लक्षण भी हो सकते हैँ जैसे उच्च रक्तचाप, चवकर, उल्टियाँ आदि इसका कारण यह होता हैं कि भ्रूण की संरचना कुछ ऐसी होती हैं कि उसके शरीर में कोई ऐसी प्रोटीन बन जाती है जो माँ के शरीर की प्रोटीन से प्रतिक्रिया करने लगती है ओर जब तक भ्रूण शरीर मेँ रहता है तब तक वे लक्षण बने रहते हैं -

केवल 'नक्सवोमिका' के प्रयोग से माँ पूर्ण कालिक स्वस्थ रही और यथा समय सामान्य प्रसव के द्वारा स्वस्थ शिशु का जन्म हुआ यद्यपि यह होम्योपैथिक सिद्धन्तो के विपरीत है तथापि मैंने अनुभव किया हैं कि गर्भावस्था मेँ कभी कभी क्या देते रहने से 'माता व शिशु' स्वस्थ रहते हैँ तथा किसी प्रकार की जटिलता नहीं होती कल्केरिया फ्लोर 6x दूसरी ऐसी औषधि है जिसे गर्भावस्था की तीसरी तिमाही में निरन्तर देते रहने से प्रसव के समय किसी कठिनाई का डर नहीं रहता है यह औषधि उन माताओँ के लिये वरदान ही कह सकते है जिनके प्रसव आंपरेशन के विना नही होते है -

मेरा पता-


होम्योपैथी दवा के लिए रोगी ही फोन करे ताकि लक्षण को जाना जा सके बेमतलब जानकारी मात्र के लिए डिस्टर्व न करे-

KAAYAKALP

Homoeopathic Clinic & Research Centre

23,Mayur Market, Thatipur, Gwalior(M.P.)-474011

Director & Chief Physician:

Dr.Satish Saxena D.H.B.

Regd.N.o.7407 (M.P.)

Ph :    0751-2344259 (C)
          0751-2342827 (R)
Mob :  09977423220

प्रस्तुतिकरण-Upcharऔर प्रयोग-
loading...
Share This Information With Your Friends
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें