This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

loading...

24 नवंबर 2016

बवासीर के मस्से कैसे नष्ट करे How to Destroy Hemorrhoids Moles

By

बवासीर के मस्से कैसे नष्ट करे How to Destroy Hemorrhoids Moles-


आम भाषा में बवासीर(Hemorrhoids)को दो नाम दिये गए है-बादी बवासीर और खूनी बवासीर- बादी बवासीर में गुदा में सुजन- दर्द व मस्सों का फूलना आदि लक्षण होते हैं कभी-कभी मल की रगड़ खाने से एकाध बूंद खून की भी आ जाती है लेकिन खूनी बवासीर में बाहर कुछ भी दिखाई नहीं देता लेकिन पाखाना जाते समय बहुत वेदना होती है और खून भी बहुत गिरता है जिसके कारण रकाल्पता होकर रोगी कमजोरी महसूस करता है-

How to Destroy Hemorrhoids Moles


Hemorrhoids(बवासीर)अर्श के लक्षण उपस्थित प्रकार पर निर्भर करते हैं आंतरिक अर्श में आम तौर पर दर्द-रहित गुदा रक्तस्राव होता है-

Hemorrhoids रोग निदान के पश्चात प्रारंभिक अवस्था में कुछ घरेलू उपायों द्वारा रोग की तकलीफों पर काफी हद तक काबू पाया जा सकता है सबसे पहले कब्ज को दूर कर मल त्याग को सामान्य और नियमित करना आवश्यक है इसके लिये तरल पदार्थों, हरी सब्जियों एवं फलों का बहुतायात में सेवन करें और  तली हुई चीजें, मिर्च-मसालों युक्त गरिष्ठ भोजन न करें तथा रात में सोते समय एक गिलास पानी में इसबगोल की भूसी के दो चम्मच डालकर पीने से भी लाभ होता है- 

बवासीर(Hemorrhoids) होने पर गुदा के भीतर रात के सोने से पहले और सुबह मल त्याग के पूर्व दवायुक्त बत्ती या क्रीम का प्रवेश भी मल निकास को सुगम करता है- गुदा के बाहर लटके और सूजे हुए मस्सों पर ग्लिसरीन और मैग्नेशियम सल्फेट के मिश्रण का लेप लगाकर पट्टी बांधने से भी लाभ होता है मलत्याग के पश्चात गुदा के आसपास की अच्छी तरह सफाई और गर्म पानी का सेंक करना भी फायदेमंद होता है यदि उपरोक्त उपायों के पश्चात भी रक्त स्राव होता है तो चिकित्सक से सलाह लें-

बवासीर(Hemorrhoids) होने पर घरेलू उपाय-

  1. थूहर के दूध में हल्दी का बारीक चूर्ण मिलाकर उसमें सूत का धागा भिगोकर छाया में सुखा लें इस धागे से मस्सों को बांधें- मस्से को धागे से बांधने पर चार-पांच दिन तक खून निकलता है तथा बाद में मस्से सूख कर गिर जाते हैं ध्यान रहे- इसका प्रयोग कमजोर रोगी पर न करें-
  2. नीम के कोमल पत्तियों को घी में भूनकर उसमें थोड़े-से कपूर डालकर टिकिया बना लें अब टिकियों को गुदा के द्वार पर बांधने से मस्से नष्ट होते हैं नियमित जब तक आराम न हो बाधते रहे-
  3. पंद्रह ग्राम काले तिल पिसकर 10-15 ग्राम मख्खन के साथ मिलाकर सुबह सुबह खा लो-कैसा भी बवासीर(Hemorrhoids) हो मिट जाता है-
  4. नीलाथोथा(Copper Sulphate) बीस ग्राम और अफीम चालीस ग्राम लेकर इसे महीन कूट लें इस चूर्ण को चालीस ग्राम सरसों के तेल में मिलाकर पकायें-प्रतिदिन सुबह-शाम उस मिश्रण (पेस्ट) को रूई से मस्सों पर लगाने से मस्से 8 से 10 दिनों में ही सूखकर गिर जाते हैं-

  5. कालीमिर्च और स्याहजीरा (काला जीरा) को बराबर मात्रा में मिलाकर चूर्ण बनायें यह चूर्ण लगभग एक  ग्राम का चौथा भाग से लगभग आधा ग्राम की मात्रा में शहद के साथ प्रतिदिन सुबह-शाम पीने से बवासीर ठीक होता है तथा बवासीर के मस्से भी ठीक होते हैं-
  6. कालीमिर्च 3 ग्राम+पीपल 5 ग्राम+सौंठ 10 ग्राम तथा जिमीकन्द 20 ग्राम को सूखाकर महीन चूर्ण बना लें उस चूर्ण में 200 ग्राम गुड़ डालकर अच्छी तरह मिला लें इससे बेर के बराबर गोलियां बनाकर 1-1 गोली दूध या जल के साथ प्रतिदिन दो बार पीने से खूनी तथा बादी दोनों बवासीर ठीक होती है-
  7. लौकी या तुलसी के पत्तों को जल के साथ पीसकर अर्श(बवासीर)के मस्से पर दिन में दो से तीन बार लगाने से पीड़ा व जलन कम होती है तथा मस्से भी नष्ट होते है-
  8. मूली के रस में नीम की निबौली की गिरी पीसकर कपूर मिलाकर बवासीर के मस्सों पर लेप करने से मस्से सूख जाते हैं-
  9. सूखे आंवलों का चूर्ण 20 ग्राम लेकर 250 मिलीलीटर पानी में मिलाकर मिट्टी के बर्तन में रातभर भिगोकर रखें दूसरे दिन सुबह उसे हाथों से मलकर छान लें तथा छने हुए पानी में 5 ग्राम चिरचिटा(लटजीरा)की जड़ का चूर्ण और 50 ग्राम मिश्री मिलाकर पीयें- इसको पीने से बवासीर कुछ दिनों में ही ठीक हो जाते हैं और मस्से सूखकर गिर जाते हैं-
  10. करेले के बीजों को सूखाकर इसका महीन पाउडर बनाकर इसे कपड़े से छान लें अब इसके पाउडर में थोड़ी-सी शहद तथा सिरका मिलाकर मलहम बना लें तथा इस मलहम को लगातार 20 दिन तक मस्सों पर लगाने से मस्से सूख जाते हैं तथा बवासीर (अर्श) रोग ठीक हो जाता है-
  11. चाय की पत्तियों को पीसकर मलहम बना लें और इसे गर्म करके मस्सों पर लगायें-इस मलहम को लगाने से भी मस्से सूखकर गिरने लगते हैं-
  12. बवासीर के मस्सों को दूर करने के लिए 2 प्याज को भूमल (धीमी आग या राख की आग) में सेंककर छिलका उताकर लुगदी बनाकर मस्सों पर बांधने से मस्से तुरन्त नष्ट हो जाते हैं-
  13. मेंहदीं के पत्तों को जल के साथ पीसकर गुदाद्वार पर लगाकर लंगोट बांधे- इससे मस्से सूख कर गिर जाते हैं-
  14. बैंगन को जला लें अब इनकी राख शहद में मिलाकर मरहम बना लें तथा इसे मस्सों पर लगायें- मस्से सूखकर गिर जायेंगें-
  15. सांप की केंचुली को जलाकर उसे सरसों के तेल में मिलायें- इस तेल को गुदा पर लगाने से मस्से कटकर गिर जाते हैं-
  16. कपूर को आठ गुना अरण्डी के गर्म तेल में मिलाकर मलहम बनाकर रखें- पैखाने के बाद मस्सों को धोकर और पौंछकर मस्सों पर मलहम को लगायें- इसको लगाने से दर्द, जलन, चुभन आदि में आराम रहता है तथा मस्से सूखकर गिर जाते हैं-
  17. भूनी फिटकरी और नीलाथोथा 10-10 ग्राम को पीसकर 80 ग्राम गाय के घी में मिलाकर प्रतिदिन सुबह-शाम मस्सों पर लगायें- इससे मस्से सूखकर गिर जाते हैं-
  18. बवासीर के मस्सों पर करीब एक महीने तक लगातार पपीते का दूध लगाने से मस्से सूख जाते हैं-
  19. चुकन्दर खाने व रस पीते रहने से बवासीर के मस्से समाप्त हो जाते हैं-
  20. जिनको बवासीर है और शौच वाली जगह से जिनको खून आता है वे लोग दो नींबू का रस निकालकर छान लें और एनिमा के साधन से शौच वाली जगह से एनिमा द्वारा नींबू का रस लें और दस मिनट सिकोड़ कर सोये रहें - इतने में वो नींबू गर्मी खींच लेगा और शौच होगा इसे हफ्ते में तीन-चार बार करें-कैसा भी बवासीर हो आराम होगा-
  21. REED MORE-
  22. Fistula Treatment-फिस्टुला या #भगंदर (Fistula) का इलाज

Upcharऔर प्रयोग-

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें