Breaking News

दाम्पत्य जीवन(Married Life)की खुशियाँ बढाने का प्रयोग

एक ज़माना था जब लोगों के चेहरे पे चमक हुआ करती थी क्युकि लोगों को शुद्ध और सात्विक आहार प्राप्त होता था तथा जीवन भी संयम युक्त था लेकिन आज जिधर देखो मुरझाये हुए चेहरों की भरमार है उपर से देखने में भले आप अपने चेहरे की लीपा-पोती करके सुंदर और आकर्षक दिखने का प्रयास करे लेकिन अंदर की यौन कमजोरी(Sexual Weakness)को तो आप किसी को बताने लायक भी नहीं है-

दाम्पत्य जीवन(Married Life)की खुशियाँ बढाने का प्रयोग


थकावट, उच्च-रक्तचाप, मानसिक चिंताएं, कमज़ोरी, अलसायापन, आलस, कांतिहीन चेहरा, फूला हुआ शरीर परन्तु जान नहीं, पैदल चल नहीं सकते है और जो मित्र विवाहित हैं वो भी अपने आप में शारीरिक कमज़ोरी (Physical weakness)महसूस करते हैं तथा दाम्पत्य जीवन(Married life)का आनंद पूर्ण रूप से नहीं ले पाते हैं या फिर बस यूँ मानिये कि किसी तरह से समझौता किये जा रहे हैं ये प्रयोग उनके लिए राम-बाण है-

ये पति और पत्नी दोनों के लिए सामान रूप से लाभकारी प्रयोग है बस आप कोशिश करे की दूध(Milk)के साथ ले यदि किसी कारण से दूध उपलब्ध न हो तो आप गुनगुने पानी से इसका सेवन करे-बस एक बार प्रयोग करके तो देखिये फिर आप स्वयं ही कह उठेगें -वाह क्या चीज बताई है -

gokhuru

सबसे पहले तो आप किसी आयुर्वेद दवा बेचने वाले पंसारी से 100 ग्राम बड़े गोखुरू ले आये ये सस्ते मिल जाते है या आप का कोई गाँव का मित्र हो तो वो भी आपको ला देगा क्युकि गाँव में आसानी से मिल जाते है अगर ताजे गोखुरू मिले तो आप उसे सुखा ले -

अब आप इन 100 ग्राम गोखुरू को अगर मिटटी लगी हो तो धो कर साफ़ करके सुखा ले इसके बाद आप इनको मिक्सी आदि में पीस ले जब बारीक चूर्ण हो जाए तो एक तवे पर चार छोटे चम्मच शुद्ध देशी घी खौला ले और इन पिसे हुए गोखुरू को इसमें डाल दे जब घी ठण्डा हो जाए इसे मिक्स करके किसी कांच के टाईट कंटेनर में रख ले -

प्रयोग कैसे करे-


आप रोज रात को सोने से पहले आधा चम्मच 100 ग्राम दूध से या फिर एक कप गुनगुने पानी से ले बस हफ्ते दस दिन में ही आपके चेहरे की रंगत बदलनी शुरू हो जायेगी और आपके दाम्पत्य जीवन का सुख दस गुना बढ़ जाएगा-शरीर में ताक़त, चेहरे में कांति, अलसायापन ख़तम, स्फूर्ति, चुस्ती और चहकने लगोगे आप की उम्र भले ही कुछ हो बस एक बार करके देखिये-ये वाजीकारक का एक चमत्कारिक नुस्खा है-

बिना नागा प्रयोग करे और सिर्फ रात को एक बार ले इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है और जब तक दिल चाहे इसका प्रयोग करते रहे-

गोखरू का फल कांटेदार होता है और औषधि के रूप में काम आता है बारिश के मौसम में यह हर जगह पर पाया जाता है- Impotence disease(नपुंसकता रोग)में गोखरू के लगभग 10 ग्राम बीजों के चूर्ण में इतने ही काले तिल मिलाकर 250 ग्राम दूध में डालकर आग पर पका लें तथा पकने पर इसके खीर की तरह गाढ़ा हो जाने पर इसमें 25 ग्राम मिश्री का चूर्ण मिलाकर सेवन करना चाहिए-इसका सेवन नियमित रूप से करने से नपुसंकता रोग(Impotence disease)में बहुत ही लाभ होता है-

इसके अलावा गोखरू का चूर्ण, आंवले का चूर्ण, नीम और गिलोय को बराबर मात्रा में मिलाकर चूर्ण बना लें- इस बने हुए चूर्ण को रसायन चूर्ण कहा जाता है-इस चूर्ण को रोजाना 3 बार 1-1 चम्मच की मात्रा में दूध या ताजे पानी के साथ लेने से नपुंसकता,संभोग करने की इच्छा न करना,वीर्य की कमी होना,प्रमेह,प्रदर और मूत्रकृच्छ जैसे रोगों में लाभ होता है-




सभी पोस्ट एक साथ पढने के लिए नीचे दी गई फोटो पर क्लिक करें-

कोई टिप्पणी नहीं

//]]>