अब तक देखा गया

25 जुलाई 2016

शीतपित्त का घरेलू उपचार करें

Home remedies for Urticaria


शीतपित्त (Urticaria) को छपाकी या पित्ती उछालना भी कहा जाता है शीतपित्त रोग में तीव्र खुजली के साथ उत्पन्न होने वाले दादोड़े समस्त शरीर में विभिन्न आकार में भी हो सकते है रोग की तीव्र-अवस्था रोगी को हल्का बुखार तथा वमन भी हो सकती है इसकी उत्पत्ति किसी एलर्जिक प्रतिक्रिया (Allergic Reactions) के परिणाम स्वरूप भी मानी जाती है-

शीतपित्त का घरेलू उपचार करें

शीतपित्त (Urticaria) होने के लक्षण-


1- रोगी के शरीर पर एकाएक चकत्ते से उभर आते है और इन चकत्तों में तेज खुजली (Itching) होती है और फिर इससे शरीर लाल हो जाता है-

2- रोगी को चकत्ते उभरते ही माथा, सिर, कान, नाक और चेहरे का जादातर हिस्सा कुछ सूज जाता है तथा वमन और मितली भी हो सकती है-

3- इस रोग में चकत्तों के किनारे लाल रंग के होते है और आमतौर पर ये शीतपित्त (Urticaria) छाती और पेट पर निकलते है बच्चो में चकत्तों के अतिरिक्त ये पीडिकाये और फफोले के रूप में भी हो सकते है-

शीतपित्त (Urticaria) का घरेलू उपचार-


1- शीतपित्त के चकत्ते निकलने पर गर्म जल पिलाकर रोगी को कम्बल ओढ़ाकर सुला देना चाहिए इससे उसे पसीना आएगा और रोगी को आराम होगा-

2- गेरू को सरसों के तेल में मिला कर प्रभावित जगह पर लेप करे तथा कम्बल ओढ़ाकर सुला दे अथवा लेप लगा कर सूर्य की रौशनी में 15 मिनट रोगी को बिठा दें बाद में कम्बल ओढा दें-इससे भी रोगी को आराम मिलेगा-

3- दो सौ ग्राम गेहूं के आंटे में 20 ग्राम गेरू मिला कर हल्की मिश्री स्वाद के अनुसार डाल कर सरसों के तेल में पुए या गुलगुले बना कर रोगी को खिलाएं ये लगभग दिन में एक बार सुबह करना है-

4- चक्रमर्दमूल का चूर्ण घी में मिलाकर दे-

5- त्रिफला चूर्ण दो ग्राम, पिप्पली आधा ग्राम दिन में दो बार शहद से दे-

6- गाय का घी 20 ग्राम, काली मिर्च का चूर्ण 10 ग्राम को आपस में मिला ले रोगी को 1 ग्राम से 3 ग्राम दे -

7- महागंधक रसायन 250 मिलीग्राम, गिलोय सत्व 1 ग्राम, शहद और कच्ची हल्दी के स्वरस से सेवन कराये-

एक और अन्य  प्रयोग-


शीतपित्त का घरेलू उपचार करें

हल्दी 250 ग्राम, काली मिर्चफिटकरी तथा सोना गेरू 125 मिलीग्राम के अनुसार, दूर्वा घास का स्वरस 250 मिलीग्राम-इन सभी को लेकर जल की सहायता से अच्छी तरह घोटे फिर दो किलो शक्कर में 5 मिलीलीटर चूने का पानी मिलाकर चाशनी तैयार करे और उपरोक्त सभी सामग्री मिलाकर अच्छी तरह उबाले-फिर छानकर रख ले तथा रोगी को इसमें से रोगी को 25 मिलीलीटर की मात्रा में दिन में दो बार पिलाए-

यूनानी योग-


पोदीना 6 ग्राम जल में घोटे और इसमें 10 ग्राम शक्कर मिलाकर दिन में दो बार पिलाए-

प्रस्तुती- Satyan Srivastava

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

2 टिप्‍पणियां:

Information on Mail

Loading...