Breaking News

आपका भोजन धीमे-धीमे जहर में बदलता जा रहा है

क्या आप जानते है कि आपका भोजन धीमे जहर(Slow Poisoning)में बदल रहा है जी हाँ शायद आपको यकीन नहीं हो रहा है सच माने तो आप मिलावट खोरो की गिरफ्त में है और वो आपको महंगा सामान देकर भी नकली और मिलावटी वस्तुएं देते है और आप बिना तर्क-कुतर्क किये ही अपने घर ला रहे है जबकि दुकानदार अपनी जेब भरने में लगे है हर चीज में मिलावट हो रही है और आपके शरीर को भी इस धीमे जहर की आदत पड़ती जा रही है-

आपका भोजन धीमे-धीमे जहर में बदलता जा रहा है

क्या आपको सावधान(Careful)होने का समय नहीं-


1- आज फल से लेकर दूध तक सब्जी से लेकर तेल तक और आटा-दाल-मसाले-मिठाई तक और हद तो तब हो गई है जब दवा भी नकली बाजार में उतारी जाने लगी है बस आम आदमी एक बात कह कर इतिश्री कर लेता है "हम कर भी क्या सकते है " सच भी है आपको आधुनिकता ने और आवश्यकता ने आपको यहाँ उस मुकाम पे ला के खड़ा कर दिया है जहाँ आपके पास समय का अभाव-ही-अभाव है-

2- आपकी जरूरते इतनी बढती गई है कि आपको उन जरूरतों के लिए लक्ष्मी-पति बनना ही होगा जिसके लिए आपको काम और सिर्फ काम ही करना होगा-फिर समय कहाँ है जो आप ये आवाज उठा सके-

3- लेकिन यदि आप नहीं रोकेगे तो कोई श्रीकृष्ण का अवतार अभी नहीं होने वाला है जो आके इन दुष्ट-पापियों का अत्याचार रोकेगे-जितना दम-ख़म आप आरक्षण-हड़ताल-नेतागिरी में गवां देते है-यदि उसका बीस प्रतिशत आम जनता इन हरामखोरों के अत्याचार के लिए लगाए तो आने वाले आपके नौनिहालों का भविष्य सुरक्षित हो सकता है-

4- बस आवश्यकता है आपके इसके खिलाफ एक जुटता से आंदोलित होने की-सख्त से सख्त कानून बनवाने की-ये भी एक प्रकार से आपको मौत ही दे रहे है अरे जब क़त्ल करने की सजा फांसी है तो धीमे जहर की मौत की सजा क्यों कमतर आकीं जा रही है-

5- बाजार के रसीले आम देख कर जो आपका मन -मचलता है और आप अपने बच्चों को ले जाते है उसे कैल्शियम कार्बाइड(calcium carbide)से पकाया जाता है ये रसायन कितना घातक है इसका अंदाजा इस बात से लगा ले कि जो सस्ते बम और पटाखे बनाये जाते है उसमे इसी का इस्तेमाल होता है तथा फलों को पकाने में जो कैल्शियम कार्बाइड से एसिटिलीन गैस निकलती है यही फलो को पकाने में सहायक है तो सोचिये आप अपने नौनिहालों को खुश करने के लिए धीमा-जहर क्यों ले जा रहे है केले को पपीता को अन्य कई फलो को असमय ही पकाने में इसका उपयोग 99 प्रतिशत हो रहा है और उन पर चमक लाने के लिए सस्ते वैक्स(मोम) की पालिश की जा रही है-

6- दूध आप जिसे शक्ति और स्फूर्ति के लिए अपने बच्चों को पिला रहे है वो भी सिंथेटिक-यूरिया- डिटरजेंट और खाद्य तेल से बनाया जा रहा है और नकली मावे का प्रयोग मिठाई में हो रहा है मिठाई पे लगाया जाने वाला चांदी वर्क के नाम पर एलुमिनियम की पतली पर्त आपके पेट में उतारी जा रही है वो भी गाय के या जानवरों के आंतो में डाल कर अच्छी तरह पीटने के बाद तैयार की जाती है और फिर इसका भोग आप देवताओं को अर्पित करते है आखिर क्यों

7- क्युकि आप खुद कुछ नहीं कर सकते है सिर्फ अपने लिए जीना सीख चुके है और जो व्यक्ति अपने लिए जीता है उसी का देश-विदेशियों का गुलाम हो जाता है आखिर आप अपने दुह:मुहें बच्चों को क्यों इस गर्त में ले जाने के भागीदार बन रहे है-

8- अब आइये पहले भी हमने एक पोस्ट में बताया था कि जो सब्जी हम दैनिक उपयोग में लेते है क्या आपको पता है उनमे भी सब्जी का आकार बढाने के लिए आक्सीटोसिन हार्मोस(Oxytocin Hormone)के इंजेक्शन लगाए जा रहे है ये आक्सीटोसिन वही इंजेक्शन है जो दूध उतारने के लिए भैंस को लगाया जाता है और ये इतना गर्म होता है कि इस बात का अंदाजा भी आप नहीं लगा सकते है शरीर में इतनी गर्मी बढ़ जाती है कि वो दूध उतारने पर विवश हो जाती है-अब सोचिये जब ये आपके और आपके बच्चों के शरीर में सब्जी के माध्यम से जाएगा तो इसका क्या प्रभाव होगा इसी के प्रभाव से हमारी बच्चियां असमय ही कम उम्र में जवानी की दहलीज पे आ जाती है और किशोर युवावस्था से पहले ही जवान हो जाता है और उतनी ही तेजी से बुढापे की ओर अग्रसर होता है-

9- चावल की पालिस के बाद आपको क्या मिल रहा है गेहूं के आटे के पैकेट का फाइबर निकला आता है आप आटा नहीं मैदा खा रहे है बस इसलिए कि आपकी रोटी देखने में सफ़ेद दिखे आज पिसी हल्दी -पिसी मिर्च -धनियाँ पावडर तक बाजार में नकली और मिलावटी बेचे जा रहे है क्या आपको पता है कि आपको ये मिलावटी सामन लीवर की परेशानी देने में सक्षम है आज गरम मसाला भी मिलावटी मिलता है जिससे आपको पेट के अल्सर की शिकायत होती है-

10- आजकल जो मेवा भी आपको खाने को मिलता है उसमे भी कलर का इस्तेमाल उसको सुंदर दिखने के लिए किया जाता है किशमिश को हरा रंग-गंधक का धुवाँ ऐसी तमाम चीजे मिलाई जाती है जो सीधा-सीधा आपके सेहत से खिलवाड़ है-

11- वैसे भी हम भी ये सोचते है कि आखिर हम क्यों लिख रहे है आपके पास तो आधुनिकता की दौड़ से फुर्सत ही कहाँ है लेकिन मै आपका इतना तो शुक्रगुजार हूँ जो कम से कम आपने इस लेख को पढ़ा है और अगर हो सके तो आप अपने लिए न सही लेकिन अपने नौनिहालों को इससे मुक्त कर ले-

12- आप का एक सवाल होगा कि हम इसकी पहचान कैसे करे तो इस पोस्ट में नीचे आपको लिंक दिया है इसे भी अवस्य पढ़े आपके लिए लाभदायक है-



Upcharऔर प्रयोग-

2 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. इसका उत्तर हम आपको अपनी दूसरी पोस्ट में देंगे कि किस तरह हम इस तरह के दूषित चीजों का कम-से-कम इस्तेमाल करे-और कितना बचाव कैसे किया जा सकता है

      हटाएं

//]]>