This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

loading...

22 सितंबर 2016

Oil Massage-तेल मालिश किस दिन किस तेल से करें

By
आजकल लोग आधुनिकता की दौड़ में पड़कर लोग Oil Massage-तेल मालिश से दूर ही रहना चाहते है और साबुन का अँधाधुध प्रयोग करते है और तेल लगाने को आज का युवावर्ग  हीनता की द्रष्टि से देख रहा है परिणाम स्वरूप युवाओं में स्फूर्ति की कमी पाई जाती है साथ ही सेक्स की कमजोरी,नपुंसकता,शीघ्रपतन,स्तन की शिथिलता(Breast sag)आदि व्याधियां जादा घेर रही है पहले के लोग धूप-स्नान और तेल मालिश(Oil Massage)का ध्यान रखते थे और स्वस्थ रहते थे-

Oil Massage


पिछली पोस्ट में हमने आपको यौवन को बरकरार रखने के लिए तेल मसाज(Oil Massage) के फायदे के बारे में जानकारी दी थी आज हम आपको किस दिन किस तेल से मालिश(Massage)करना लाभदायक है इसके बारे बताने जा रहे है तथा ये भी बतायेगे कि मालिश करने के तुरंत बाद क्या न करे और क्या है उसके नुकसान -
  1. रविवार(Sunday)के दिन आपको गुलाब का रस युक्त तेल(Rose oil) की मालिश करनी चाहिए सिर और चेहरे की मालिश करना अत्यंत आवश्यक है-
  2. सोमवार(Monday) के दिन सरसों के तेल(Mustard oil) से गले,फेफड़े और छाती की मालिश करनी चाहिए-
  3. मंगलवार(Tuesday) को पान के पत्ते का रस(Betel oil)डालकर इस तेल से पेट,आमाशय व अग्नाशय की तेल मालिश(Oil Massage) करनी चाहिए-
  4. बुधवार(Wednesday)के दिन चमेली के तेल(Jasmine oil)से हाथ-पैर व नर्वस-सिस्टम की तेल मालिश करनी चाहिए-
  5. गुरूवार(Thursday)को गेंदा के रसयुक्त तेल(marigold oil) से कमर व योनि-प्रदेश की मालिश करनी चाहिए-शुक्रवार(Friday)को कडवाहट लिए हुए शुद्ध सरसों के तेल(Pure Mustard oil) से गुप्तांग(private parts)व जननांग की मालिश करना चाहिए-
  6. शनिवार(Saturday) को घी या सरसों के तेल(Ghee or mustard oil) से पैर के पिंडलियों की तेल मालिश करे-यही शास्त्रोक्त विधि है-
मालिश की सबसे पहले शुरुवात किस अंग से और शरीर के किस हिस्से से शुरू की जानी चाहिए ये भी बहुत महत्वपूर्ण है तेल या घी से भीगी अँगुलियों से धीरे-धीरे रगड़ते हुए वक्ष अर्थात छाती से मालिश की शुरुवात करनी चाहिए चूँकि ये हिस्सा शरीर के केन्द्रीय क्षेत्र में है और अग्नि अर्थात उर्जा इसी क्षेत्र में स्थित है अत:इस भाग की मालिश अच्छी तरह करे-कमर से उपर छाती की ओर तथा कमर से नीचे पाँव की ओर हाथ ले जाते हुए तेल मालिश(Oil Massage) की जानी चाहिए-शीतकाल में धूप में बैठकर अंगो की मालिश से शरीर की चमक बढ़ जाती है- 

तेल मालिश(Oil Massage) करते समय ध्यान रक्खे-

  1. तेल मालिश(Oil Massage) का स्थान खुला और हवादार होना चाहिए मालिश के तुरंत बाद ए सी रूम या पंखे के नीचे न  जाए-
  2. तेल मालिश के तुरंत बाद स्नान नहीं करें-कम से कम एक घंटे बाद शरीर को रगड कर स्नान करे-
  3. तेल मालिस के तुरंत बाद पानी नहीं पीना चाहिए लेकिन मालिश के तुरंत बाद पेशाब करने से शरीर के विकार पेशाब के साथ निकल जाते है-
  4. तेल मालिश(Oil Massage)के बाद आये हुए पसीने के तुरंत बाद स्नान करने से आपके वजन में कमी आती है लेकिन जिनका शरीर बदलाव को सहने की छमता रखता है वो लोग स्नान कर सकते है-
  5. सबसे जरुरी और अंतिम बात -मालिश के तुरंत बाद सम्भोग या हस्त-मैथुन करने से बांझपन या यौन रोगों को बुलावा देना है -
  6. यौवन को निखारना है और बुढ़ापे को दूर रखना है तो आप इसे करके अवस्य देखे लेकिन दो चार दिन में जादू की अपेक्षा न करे -लेकिन इस प्रयोग को एक दो माह करने से आपको खुद पता होगा कि आपके शरीर को कितना लाभ मिलने लगा है-
  7. और भी देखे-
Upcharऔर प्रयोग-

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

लेबल