Diabetes-मधुमेह को बाय-बाय कहें

सभी जानते है कि मधुमेह- Diabetes एक खतरनाक बीमारी है इसमें blood sugar levels-रक्त ग्लूकोज स्तर बढ़ जाता है हमारे द्वारा किया गया भोजन glucose (ग्लूकोज) में बदलता है जो एक प्रकार की शर्करा है यही ग्लूकोज हमारे रक्त में मिलकर शरीर की सभी कोशिकाओं में पँहुच जाता है जब आपके रक्त में वसा LDL यानी गंदा कोलेस्ट्रोल की मात्रा बढ जाती है तब रक्त में मोजूद कोलेस्ट्रोल कोशिकाओ के चारों तरफ चिपक जाता है फिर खून में मोजूद जो insulin-इन्सुलिन है कोशिकाओं तक नही पहुँच पाता है-

Diabetes-मधुमेह


आपके शरीर का वो इन्सुलिन किसी भी काम में नही आता है जिस कारण जब हम Sugar levels-शुगर लेवल चैक करते हैं शरीर में हमेशा Sugar level-शुगर का स्तर हमेशा ही बढा हुआ होता है क्यूंकि वो कोशिकाओ तक नहीं पंहुंच पाता है वहाँ LDL VLDL -गंदा कोलेस्ट्रोल जमा हुआ है जबकि जब हम बाहर से Insulin-इन्सुलिन लेते है तब वो नया इन्सुलिन तो वह कोशिकाओं के अन्दर पहुँच जाता है इसलिए अगर मधुमेह को कंट्रोल करना है तो आपको कोलेस्ट्रोल को साथ-साथ कंट्रोल करना होगा-रक्त मे गंदा कोलेस्ट्रॉल के तत्व के बढने से मरीजों में आँखों, गुर्दों, स्नायु, मस्तिष्क, हृदय के क्षतिग्रस्त होने से इनके गंभीर, जटिल, घातक रोग का खतरा बढ़ जाता है-

Diabetes(मधुमेह) के लक्षण-
  1. Diabetes -डायबिटीज के रोगी को बार-बार बहुत अधिक प्यास लगती है और अधिक पेशाब आता है तथा उसके पेशाब में चीनी आना शुरू हो जाता है पेशाब की जगह पर चींटियाँ लग जाती है तथा रोगी का वजन कम होता जाता है-
  2. इस रोग में शुरू में तो भूख बहुत जादा लगती है लेकिन ये धीरे-धीरे भूख कम हो जाती है तथा शरीर सूखने लगता है और फिर रोगी को कब्ज की शिकायत रहने लगती है-
  3. पत्नी के साथ सम्भोग के समय आपस में रूचि में अंतर आता जाता है या सम्भोग के समय बहुत तकलीफ होती है-
  4. Diabetes Patient -डायबिटीज रोगी के शरीर में कहीं भी जख्म या घाव होने पर वह जल्दी नहीं भरता है-
  5. पैरों में सुन्नपन आना, थकान, कमजोरी, शरीर में खुजली का बढ़ जाना, त्वचा रोग होना आदि लक्षण दिखाई देने लगते है-
क्या खाएं-

  1. सबसे पहले अगर आप मोटे है या आपका वजन अधिक है तो आपको मधुमेह जैसी बीमारी में अपने वजन को कंट्रोल में रखना बहुत जरुरी है क्योंकी डायबिटीज ज्यादातर मोटापे की वजह से ही होती है-
  2. यदि आपको डायबिटीज की शिकायत है तो आप अपने जीवन व्यायाम को अपना अभिन्न अंग बना ले क्युकि व्यायाम से आपका मटैबलिज़म ठीक रहता है और डायबिटीज की रिस्क को कम करता है-
  3. आप यदि मधुमेह से पीड़ित है तो अपने खाने में शुगर यानी चीनी का कम से कम इस्तमाल करे या फिर इसे त्याग ही दें इससे शरीर में इन्सुलिन को संतुलित करना आसान होता है-
  4. ब्लड शुगर को कंट्रोल में रखने के लिए सफ़ेद चावल,पास्ता,पापकार्न,राईस पफ,वाईट फ्लोर आदि से बचें आपका शरीर डायबिटीज होने पर आपका शरीर कार्बोहाइड्रेट्स को पचा नहीं पता है जिस की वजह से शुगर आपके शरीर में तेज़ी से जमा होने लगती है-
  5. फाइबर युक्त आहार लें ये आपके ब्लड शुगर को कंट्रोल करता है अवशोषित फाइबर ब्लड में शुगर की अधिक से अधिक मात्रा को अब्ज़ोर्ब(अवशोषित) कर लेता है और इन्सुलिन को नार्मल करके मधुमेह को नियंत्रित करता है-
  6. केले का सेवन करे क्युकि फलों में प्राकृतिक चीनी अच्छी मात्रा में है जो की आपकी मिनरल्स और विटामिन्स की कमी को पूरा करेंगे साथी आपकी शुगर को भी कंट्रोल करती है-

Diabetes Treatment (मधुमेह उपचार)-

Homeopathic Remedies(होम्योपैथी उपचार)-

  1. आप शुगर और कोलेस्ट्रोल दोनों की दवा एक साथ ले आपको होम्यो-मेडिकल से दो दवा लानी है पहली दवा है Acid Phos 1000 इसे आप हफ्ते में एक बार लें -इसकी पहली खुराक की चार-पांच बूंद जीभ पर ले ले और फिर दूसरी खुराक आधे घंटे बाद ले इसे हफ्ते में एक बार ही लेना है 
  2. दूसरी दवा है Natrum Sulph 30 इसकी चार-पांच बूंद आप दिन में चार बार ले ये आपको नियमित रखना है बीस दिन बाद आप अपना शुगर लेवल अवश्य ही चेक करा सकते है जब तक नार्मल नहीं होता इसे लेते रहे इसके बाद आप Acid Phos 1000 को एक माह में एक बार रिपीट कर सकते है और Natrum Sulph 30 को आप सुबह-शाम दो बार कर दे दो माह के सेवन के बाद चेक अप करा कर रिपोर्ट मुझे मेल कर सकते है या नीचे कमेन्ट बॉक्स में भी कमेन्ट कर सकते है-

Home remedies(घरेलू उपचार )-

  • बेलपत्र के पत्ते(Belptr leaves)-250 Gram
  • जामुन की गुठली(Berries kernels)-150 Gram
  • तेजपत्ता(Cinnamon leaves)- 100 Gram
  • मेथीदाना(Fenugreek seeds)-100 Gram

उपरोक्त सभी चीजें आसानी से आप आयुर्वेद दवा बेचने वाले पंसारी से लें ले और अब इन सभी को हो सके तो धूप में रख कर सुखा ले और किसी पत्थर पे पीस कर इसका पावडर बना ले सभी वस्तुओं को अलग-अलग पीसें और जब पावडर तैयार हो जाए इसे छान कर आपस में मिला कर एक आंच के बर्तन में रख लें-ये दवा अब तैयार है-

Dose(मात्रा)-

नित्य क्रिया से निवृत होने के बाद आप इसे सुबह-शाम जब खाली पेट हो एक से ढेढ़ चम्मच गर्म पानी के साथ लें यदि आप इसे आधे गिलास पानी में घोल कर भी पीना चाहें तो भी ले सकते है इसका प्रयोग दो-तीन माह करे और मधुमेह को बाय-बाय करे-

इसे भी देखे-  Diabetes-डायबिटीज मरीज मीठा Stevia-स्टेविया खाएं

Upcharऔर प्रयोग-
loading...
Share This Information With Your Friends
    Blogger Comment
    Facebook Comment

2 comments:

  1. dawa ACID PHOS 1000 kitne hafte tak hafte men ek baar lena hai

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इसको दो माह तक ले फिर चेक करा ले अगर आवश्यकता हो तो एक माह और ले सकते है

      हटाएं