This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

loading...

18 अप्रैल 2017

ऋतुस्राव के समय अधिक रक्तस्राव का होना

By
महिलाओं में ऋतुस्राव(Menstrual)के समय अधिक रक्तस्राव(Bleeding)के कारण ज्‍यादा ब्‍लीडिंग होने का पता आसानी से चल जाता है अगर आपको दिन में कई बार पैड बदलने की जरूरत महसूस हो रही है तो जरूर कुछ गड़बड़ है तो आइए जानें पीरियड्स के दौरान ज्‍यादा ब्‍लीडिंग होने के क्या कारण हो सकते हैं -

ऋतुस्राव के समय अधिक रक्तस्राव का होना

सभी जानते हैं कि पीरियड्स के दौरान महिलाओं के शरीर में हार्मोन में परिवर्तन होते हैं और यह सामान्य भी है लेकिन कुछ महिलाओं के शरीर में यह परिवर्तन काफी तेजी से होता है जो ज्यादा ब्लीडिंग का कारण हो सकता है ऐसे में बिना देर किए आपको अपने डॉक्टर से अवश्य ही संपंर्क करना चाहिए-


1- जिन महिलाओं के गर्भाशय(Uterus)में ट्यूमर होता है वे पीरियड के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग(Bleeding)की समस्या से ग्रस्त होती है यह समस्या अक्सर 30 से 40 की उम्र के बाद होती है ऑपरेशन और इलाज के जरिए इस ट्यूमर को गर्भाशय से निकाल दिया जाता है जैसे - Utrin balloon therapy, Andometriyl ablation, Moymektomi, Utrin artery Mbelijeshn आदि -

2- एंडोमेट्रियल पॉलीप्‍स, कैंसर का प्रकार नहीं है य‍ह सिर्फ गर्भाशय की सतह पर उभरता या पनपता है इसके बनने का कारण भी अभी तक पता नहीं लगाया जा सका है लेकिन इसका इलाज कई विधियों से चिकित्‍सा जगत में संभव है इसके बनने से बॉडी में एस्‍ट्रोजन या अन्‍य प्रकार के Ovarian Tumor बन जाते हैं जो कि जादा ब्लीडिंग का कारण भी हो सकते हैं-

3- प्रजनन अंगों में कई तरह के संक्रमण होने के कारण महिलाओं को उन दिनों में ज्यादा ब्लीडिंग(Bleeding)की समस्या हो सकती है जैसे गर्भाशय के पेल्विक में सूजन और संक्रमण के कारण है इस प्रकार की समस्या ज्यादा होती है-

4- गर्भाशय ग्रीवा कैंसर में गर्भाशय, असामान्य और नियंत्रण से बाहर हो जाता है उसके होने से शरीर के कई हिस्से नष्ट हो जाते हैं- 90 प्रतिशत से अधिक सर्वाइकल कैंसर, मानव पेपिलोमा वायरस का कारण होता है इसके उपचार के दौरान रोगी की सर्जरी के द्वारा उसे केमोथेरेपी और विकिरण दिया जाता है इस बीमारी का इलाज संभव है-

5- एंडोमेट्रियल कैंसर मुख्यतः 50 वर्ष से अधिक उम्र के महिलाएं को होता है इसके उपचार में सबसे पहले गर्भाशय को ऑपरेशन करके निकाल दिया जाता है तथा इस रोग की शिकायत होने पर तुरंत चिकित्सक ही सलाह लें और जल्द से जल्द उपचार करें-इस तरह के कैंसर में केमोथेरेपी और रेडिएशन उपचार की आवश्यकता होती है-

6- यदि आपका पीरियड्स अचानक 90 दिन से अधिक समय के लिये बंद हो जाता हैं लेकिन आप गर्भवती भी नहीं हैं तथा सात दिनों से अधिक समय तक ब्लीडिंग होती रहती है और बहुत ज्यादा ब्लीडिंग होती है जैसे पीरियड्स के बीच में अधिक मात्रा में ब्लीडिंग होना या पीरियड्स का अंतराल 21 दिन से कम या 35 दिन से अधिक होना-पीरियड्स के दौरान अत्यधिक दर्द होना आदि लक्षण होने पर आपको महिला चिकित्सक से तुरंत ही सम्पर्क करना चाहिए-


Upcharऔर प्रयोग-

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें