This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

30 सितंबर 2016

Gomati Chakra-गोमती चक्र एक समाधान अनेक

By With 5 टिप्‍पणियां:
जीवन में हमें अनेक परेशानियों का सामना करना पड़ता है कुछ परेशानियां स्वयं ही समाप्त हो जाती हैं जबकि कुछ समस्याओं के निदान के लिए विशेष प्रयास करने पड़ते हैं तंत्र शास्त्र के माध्यम से जीवन की कई समस्याओं का निदान किया जा सकता है-गोमती चक्र(Gomati Chakra)एक ऐसा पत्थर है जिसका उपयोग तंत्र क्रियाओं में किया जाता है यह बहुत ही साधारण सा दिखने वाला पत्थर है लेकिन इसका यह बहुत प्रभावशाली है-जो लोग तंत्र या मन्त्र या यंत्र पे विश्वाश  नहीं करते है मेरा उनसे निवेदन है कि हमारी इस प्रकार को इग्नोर कर दे लेकिन बेमलब का कोई कमेन्ट करके अपनी बुद्धिमता का परिचय न दे तो ही उचित होगा आपको पोस्ट लगे अपनाए न और यदि ठीक न लगे तो इग्नोर  करे-

Gomati Chakra-गोमती चक्र एक समाधान अनेक


गोमती चक्र(Gomati Chakra)की उत्पत्ति रहस्य-

गोमती चक्र(Gomati Chakra)की उत्पत्ति भगवान् विष्णु के चक्र से उस समय हुई जब देव दानव दोनों मिल कर समुद्र मन्थन करने लगे-पृथ्वी उसके भयंकर रगड़ एवं गर्जना से उत्तप्त हो गई-रोती बिलखती गाय के रूप में वह भगवान विष्णु की शरण में गयी-भगवान विष्णु ने अपने चक्र से समुद्र में ऐसी भयंकर चक्रवाती गोलाकार तरंग उत्पन्न किया कि मन्दराचल उसी में फँसकर अत्यंत तीव्र गति से पृथ्वी से ऊपर उठकर घूमने लगा-इस चक्र को ही भँवर कहा गया है-इस भँवर में फँसकर बड़े बड़े जलपोत डूब जाते है इस भयंकर वेग से मन्दराचल के निचले सतह से अनेक पत्थर लावा बनकर बाहर छिटकने लगे तथा अनेक मणियाँ, बहुमूल्य धातुएँ तथा अन्य वस्तुएं जैसे शङ्ख आदि भी छिटक कर बाहर गिरने लगे-

कुछ अति कीमती रत्न, पत्थर आदि घर्षण से पिघल तो गए किन्तु ऊपर पानी के सतह पर आते ही ठन्डे पड़ने लगे जो भँवर की अबाध तीव्र गति के कारण गोल रूप लेते चले गये-इनकी संख्या धीरे धीरे इतनी ज्यादा बढ़ गई कि भँवर हल्का पड़ने लगा और अंत में समुद्र मन्थन को रोकना पड़ गया-

वरुण (जल) के निचले सतह-पेंदे और गो रूप धारिणी माता पृथ्वी के ऊपरी सतह के मध्यवर्ती रत्न-धातु आदि “गो मृत्तिका” या “गो मिटटी” या गोमती चक्र(Gomati Chakra)के नाम से जाने गये-रहस्य विज्ञान के प्रवर्तक वरुण देव(जल)के घर्षणमय रासायनिक संयोग के कारण इसके अंदर शक्तिशाली अतिविचित्र शक्तियों का समावेश हो गया और 'गोमाता' पृथ्वी के आशीर्वाद से इसमें धनसंम्पदा आदि प्रदान करने की शक्तियाँ भी समाविष्ट हो गईं-गोमती चक्र(Gomati Chakra)एक अत्यंत शक्तिशाली उग्र रासायनिक प्रभाव वाला जल से उत्पन्न प्राकृतिक पदार्थ है जिसका नियम से और जिसके लिये उपयुक्त है वह प्रयोग करे तो अनेक विघ्न बाधा से निश्चित मुक्ति मिल सकती है-

तंत्र शास्त्र के अंतर्गत तांत्रिक क्रियाओं मे एक ऐसे दिव्य पत्थर का उपयोग किया जाता है जो दिखने में बहुत ही साधारण होता है लेकिन इसका प्रभाव असाधारण होता है  तंत्र शास्त्र के ज्ञाता इस पर अनेक विधि पूजन कर इसे प्राणप्रतिष्ठा से विशेष सिद्धि दायक बना देते हे -

गोमती चक्र(Gomati Chakra)के साधारण तंत्र उपयोग इस प्रकार हैं-

मानसिक शांति ,रोग और भय से मुक्ति,दरिद्रता से मुक्ति,कोर्ट कचेरी के मामलो मे राहत,भुत-प्रेत बाधा शत्रुपीड़ा,संतान प्राप्ति और खास कर धन संचय में-इसकी सिद्धि के विषय में अनेको मत-मतान्तर देखे जाते है कुछ इसे स्वयं सिद्ध बताते है तो कही इसकी सिद्धि के निर्देश मिलते है होली,दीवाली तथा नवरात्र आदि प्रमुख त्योहारों पर गोमती चक्र(Gomati Chakra)की विशेष पूजा की जाती है-ग्रहण या अमावस्या भी महत्त्वपूर्ण और सिद्धि दायक माने जाते है-

अन्य विभिन्न मुहूर्तों के अवसर पर भी इनकी पूजा लाभदायक मानी जाती है जैसे-गुरुपुष्य योग,सर्वसिद्धि योग तथा रविपुष्य योग पर इनकी पूजा करने से घर में सुख-शांति बनी रहती है-खासकर मारण,संमोहन,वशीकरण,स्तम्भन,उच्चाटन जैसे प्रयोग में और व्यापार वृद्धि,अचल-स्थिरलक्ष्मी,शत्रु भय,पीड़ा,देह व्याधि,दुस्वप्न जैसे विषयों में इसका प्रयोग अत्यंत प्रभावी देखा गया है लेकिन अभिमंत्रित करने से गोमती चक्र(Gomati Chakra)का प्रभाव सौ  गुना बढ़ जाता है -

गोमती चक्र(Gomati Chakra)के प्रयोग-

  1. सबसे पहले ये बताना उचित समझता हूँ कि आप जान ले कि गोमती चक्र(Gomati Chakra)क्या है-ये गोमती चक्र कम कीमत वाला एक ऐसा पत्थर है जो गोमती नदी मे मिलता है-विभिन्न तांत्रिक कार्यो तथा असाध्य रोगों में इसका प्रयोग होता है-
  2. असाध्य रोगों को दुर करने तथा मानसिक शान्ति प्राप्त करने के लिये लगभग 10 गोमती चक्र लेकर रात को पानी में डाल देना चाहिऐ तथा सुबह उस पानी को पी जाना चाहिऐ-इससे पेट संबंध के विभिन्न रोग दुर होते है-
  3. यदि शत्रु बढ़ गए हों तो जितने अक्षर का शत्रु का नाम है उतने गोमती चक्र(Gomati Chakra)लेेकर उस पर शत्रु का नाम लिखकर उन्हें जमीन में गाड़ दें तो शत्रु परास्त हो जाएंगे-
  4. प्रमोशन नहीं हो रहा हो तो एक गोमती चक्र लेकर शिव मंदिर में शिवलिंग पर चढ़ा दें और सच्चे ह्रदय से प्रार्थना करें-निश्चय ही प्रमोशन के रास्ते खुल जाएंगे-
  5. यदि गोमती चक्र(Gomati Chakra)को लाल सिंदूर के डिब्बी में घर में रखें तो घर में सुख-शांति बनी रहती है-
  6. यदि पति-पत्नी में मतभेद हो तो तीन गोमती चक्र लेकर घर के दक्षिण में "हलूं बलजाद" कहकर फेंद दें-इश्वेर चाहेगा तो धीरे-धीरे ये मतभेद समाप्त हो जाएगा-
  7. गोमती चक्र(Gomati Chakra)को होली के दिन थोड़ा सिंदूर लगाकर शत्रु का नाम उच्चारण करते हुए जलती हुई होली में फेंक दें-आपका शत्रु भी मित्र बन जाएगा-
  8. यदि किसी का स्वास्थ्य अधिक खराब रहता हो अथवा जल्दी-जल्दी अस्वस्थ होता हो-तो चतुर्दशी को 11 अभिमंत्रित गोमती चक्रों को सफेद रेशमी वस्त्र पर रखकर सफेद चन्दन से तिलक करें फिर भगवान् मृत्युंजय से अपने स्वास्थ्य रक्षा का निवेदन करें और यथा शक्ति महामृत्युंजय मंत्र का जप करें तथा पाठ के बाद छह चक्र उठाकर किसी निर्जन स्थान पर जाकर तीन चक्रों को अपने ऊपर से उसारकर अपने पीछे फेंक दें और पीछे देखे बिना वापस आ जायें बाकि बचे तीन चक्रों को किसी शिव मन्दिर में भगवान् शिव का स्मरण करते हुए शिवलिंग पर अर्पित कर दें और प्रणाम करके घर आ जायें-घर आकर चार चक्रों को चांदी के तार में बांधकर अपने पंलग के चारों पायों पर बांध दें तथा शेष बचे एक को ताबीज का रुप देकर गले में धारण करें-
  9. यदि आपके बच्चे अथवा परिवार के किसी सदस्य को जल्दी-जल्दी नजर लगती हो तो आप शुक्ल पक्ष की प्रथमा तिथि को 11 अभिमंत्रित गोमती चक्र(Gomati Chakra)को घर के पूजा स्थल में मां दुर्गा की तस्वीर के आगे लाल या हरे रेशमी वस्त्र पर स्थान दें -फिर रोली आदि से तिलक करके नियमित रुप से मां दुर्गा को 5 अगरबत्ती अर्पित करें अब मां दुर्गा का कोई भी मंत्र जप करें-जप के बाद अगरबत्ती के भभूत से सभी गोमती चक्रों पर तिलक करें नवमी को तीन चक्र पीड़ित पर से उसारकर दक्षिण दिशा में फेंक दें और एक चक्र को हरे वस्त्र में बांधकर ताबीज का रुप देकर मां दुर्गा की तस्वीर के चरणों से स्पर्श करवाकर पीड़ित के गले में डाल दें- बाकि बचे सभी चक्रों को पीड़ित के पुराने धुले हुए वस्त्र में बांधकर अलमारी में रख दें -
  10. यदि आपको नजर जल्दी लगती हो तो पाँच गोमती चक्र(Gomati Chakra)लेकर किसी सुनसान स्थान पर जायें फिर तीन चक्रों को अपने ऊपर से सात बार उसारकर अपने पीछे फेंक दें तथा पीछे देखे बिना वापस आ जायें - बाकी बचे दो चक्रों को तीव्र प्रवाह के जल में प्रवाहीत कर दें -
  11. यदि आपका बच्चा अधिक डरता हो- तो शुक्ल पक्ष के प्रथम मंगलवार को हनुमान् जी के मन्दिर में जाकर एक अभिमंत्रित गोमती चक्र पर श्री हनुमानजी के दाएं कंधे के सिन्दूर से तिलक करके प्रभु के चरणों में रख दें और एक बार श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें-फिर गोमती चक्र(Gomati Chakra)उठाकर लाल कपड़े में बांधकर बच्चे के गले में डाल दें -
  12. यदि आप कितनी भी मेहनत क्यों न करें परन्तु आर्थिक समृद्धि आपसे दूर रहती हो और आप आर्थिक स्थिति से संतुष्ट न होते हों, तो शुक्ल पक्ष के प्रथम गुरुवार को 21 अभिमंत्रित गोमती चक्र(Gomati Chakra)लेकर घर के पूजा स्थल में मां लक्ष्मी व श्री विष्णु की तस्वीर के समक्ष पीले रेशमी वस्त्र पर स्थान दें फिर रोली से तिलक कर प्रभु से अपने निवास में स्थायी वास करने का निवेदन तथा समृद्धि के लिए प्रार्थना करके हल्दी की माला से “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय”मंत्र की तीन माला जप करें-इस प्रकार सवा महीने जप करने के बाद अन्तिम दिन किसी वृद्ध तथा 9 वर्ष से कम आयु की एक बच्ची को भोजन करवाकर दक्षिणा देकर विदा करें -
  13. यदि व्यवसाय में किसी कारण से आपका व्यवसाय लाभदायक स्थिति में नहीं हो तो शुक्ल पक्ष के प्रथम गुरुवार को 3 गोमती चक्र, 3 कौड़ी व 3 हल्दी की गांठ को अभिमंत्रित कर किसी पीले कपड़े में बांधकर धन-स्थान पर रखें -
  14. यदि आपको अचानक आर्थिक हानि होती हो तो किसी भी मास के प्रथम सोमवार को 21 अभिमन्त्रित गोमती चक्रों(Gomati Chakra)को पीले अथवा लाल रेशमी वस्त्र में बांधकर धन रखने के स्थान पर रखकर हल्दी से तिलक करें  फिर मां लक्ष्मी का स्मरण करते हुए उस पोटली को लेकर सारे घर में घूमते हुए घर के बाहर आकर किसी निकट के मन्दिर में रख दें -
  15. यदि आप अधिक आर्थिक समृद्धि के इच्छुक हैं तो अभिमंत्रित गोमती चक्र(Gomati Chakra)और काली हल्दी को पीले कपड़े में बांधकर धन रखने के स्थान पर रखें-
  16. यदि आपके परिवार में खर्च अधिक होता है भले ही वह किसी महत्त्वपूर्ण कार्य के लिए ही क्यों न हो तो शुक्रवार को 21 अभिमन्त्रित गोमती चक्र लेकर पीले या लाल वस्त्र पर स्थान देकर धूप-दीप से पूजा करें अगले दिन उनमें से चार गोमती चक्र(Gomati Chakra)उठाकर घर के चारों कोनों में एक-एक गाड़ दें- 13 चक्रों को लाल वस्त्र में बांधकर धन रखने के स्थान पर रख दें और शेष किसी मन्दिर में अपनी समस्या निवेदन के साथ प्रभु को अर्पित कर दें -
  17. यदि आपके गुप्त शत्रु अधिक हों अथवा किसी व्यक्ति की काली नज़र आपके व्यवसाय पर लग गई हो तो 21 अभिमंत्रित गोमती चक्र(Gomati Chakra)व तीन लघु नारियल को पूजा के बाद पीले वस्त्र में बांधकर मुख्य द्वारे पर लटका दें-
  18. गोमती चक्रों को यदि चांदी अथवा किसी अन्य धातु की डिब्बी में सिंदूर तथा चावल डालकर रखें तो ये शीघ्र शुभ फल देते हैं- सात गोमती चक्रों को शुक्ल पक्ष के प्रथम अथवा दीपावली पर लाल वस्त्र में अभिमंत्रित कर पोटली बना कर धन स्थान पर रखें -
  19. व्यापार वृद्धि के लिए दो गोमती चक्र लेकर उसे बांधकर ऊपर चौखट पर लटका दें और ग्राहक उसके नीचे से निकले तो निश्चय ही व्यापार में वृद्धि होती है-
  20. धन लाभ के लिए 11 गोमती चक्र अपने पूजा स्थान में रखें- उनके सामने श्री नम: का जप करें- इससे आप जो भी कार्य या व्यवसाय करते हैं उसमें बरकत होगी और आमदनी बढऩे लगेगी-
  21. यदि बार-बार गर्भ गिर रहा हो तो दो गोमती चक्र लाल कपड़े में बांधकर कमर में बांध दें तो गर्भ गिरना बंद हो जाता है-
  22. यदि कोई कचहरी जाते समय घर के बाहर गोमती चक्र रखकर उस पर दाहिना पांव रखकर जाए तो उस दिन कोर्ट-कचहरी में सफलता प्राप्त होती है-
  23. चाँदी में जड़वाकर बच्चे के गले में पहना देने से बच्चे को नजर नहीं लगती तथा बच्चा स्वस्थ बना रहता है -
  24. यदि घर में भूत-प्रेतों का उपद्रव हो तो दो गोमती चक्र लेकर घर के मुखिया के ऊपर से घुमाकर आग में डाल दे तो घर से भूत-प्रेत का उपद्रव समाप्त हो जाता है -
  25. और भी देखे- Dhanteras-धनतेरस पर करे शंख की पूजा 

Upcharऔर प्रयोग-

29 सितंबर 2016

लड़कियों में बढ़ती पीसीओएस(PCOS) की समस्या

By With कोई टिप्पणी नहीं:
समय अनुसार बहुत कुछ परिवर्तन होता है कई सालो पहले पीसीओएस(Polycystic ovary syndrome)सिर्फ 30 से 35 साल से उपर की महिलाओं को हुआ करता था लेकिन अब वक्त बदल गया और आजकल ये बीमारी युवावस्था की किशोरियों में भी होने लगी है-
लड़कियों में बढ़ती पीसीओएस(PCOS) की समस्या

पोलिसिस्‍टिक ओवरी सिंड्रोम(PCOS)क्या है-


1- जब सेक्स हार्मोन में बदलाव होता है तो ये Polycystic ovary syndrome (PCO's) होता है इसका असर मासिक चक्र पे पड़ता है ओवरी(Overy)में एक छोटा सा Ulcers बन जाता है और अगर इस समस्या पे ध्यान नहीं दिया जाता है ओवरी और प्रजनन छमता पे इसका असर सीधा देखने को मिलता है कभी-कभी तो ये Cancer में परिवर्तित हो जाती  है -

लड़कियों में बढ़ती पीसीओएस(PCOS) की समस्या

2- पुरुष और महिलाओं दोनों में ही सामान रूप Reproductive Hormones बनते है Androjens Hormone पुरुषो में बनता है परन्तु PCO's ग्रस्त महिलाओं की Overy में सामान्य से जादा हारमोन बनते है ये घातक हो जाती है जब ये छोटी-छोटी थैली के आकार रचनाये होती है इनमे एक Liquid substance होता है-जहाँ Overy में ये Cyst बनते है तो इनका आकार बढ़ता जाता है -

3- यही स्थिति Polycystic ovary syndrome कहलाती है तब ये  महिलाए Conceive नहीं कर पाती है इसके कुछ लक्षण भी नजर आते है जैसे-अनियमित माहवारी,मुंहासे होना,यौन इच्छा की कमी,चेहरे पर बाल उगना,गर्भधारण में मुश्किल आदि समस्या नजर आती है-छोटी उम्र में PCO's होने के कारण पे भी एक नजर डाले -

4- अधिक मीठा ,जंक फ़ूड ,पीजा और बर्गर ,तैलीय आदि आपके शरीर को नुकसान पहुचाते है इसलिए अपने खाने में महिलाओं को हरी पत्ते-दार सब्जी ,दाले,फल ,सलाद आदि अवस्य खाना चाहिए -

लड़कियों में बढ़ती पीसीओएस(PCOS) की समस्या

5- आप सभी जानते है कि मोटापा हर मर्ज में परेशानी का कारण बनता है-ज्यादा वसा युक्त भोजन, व्यायाम की कमी और जंक फूड का सेवन तेजी से वजन बढ़ाता है अत्यधिक चर्बी से एस्ट्रोजन हार्मोन की मात्रा में बढ़ोतरी होती है जो ओवरी में सिस्ट बनाने के लिए जिम्मेदार माना जाता है इसलिए वजन घटाने से इस बीमारी को बहुत हद तक काबू में किया जा सकता है-जो महिलाएं बीमारी होने के बावजूद अपना वजन घटा लेती हैं, उनकी ओवरीज में वापस अंडे बनना शुरू हो जाते हैं-

आपकी लाइफस्‍टाइल-

आप सबसे पहले अपनी दिनचर्या को दुरुस्त करे तभी PCO's को सही कर सकती है क्युकि बनने वाला हार्मोन सही हो गया तो PCO's अपने आप ठीक हो जाता है व्यायाम पे ध्यान दे अपनी डाईट का सही पैमाना बनाए तभी इसमें सुधार होगा-

जो महिलाए या लडकियां आफिस में काम करती है उनको मानसिक तनाव से बचना चाहिए तनाव और काम के बोझ से वो अपने खाने-पीने का ध्यान नहीं रखती है लेट नाईट पार्टी और ड्रिंक ,स्मोकिंग को तो अपनी लाइफ स्टाइल से बाय-बाय कहना ही उचित है -

Whatsup No- 7905277017

Read Next Post-

स्त्री में बांझपन रोग के लक्षण

Upcharऔर प्रयोग-

रसाहार Rsahar को जीवन में शामिल करे

By With कोई टिप्पणी नहीं:
Rsahar-रसाहार से न केवल आवश्यक शक्तियां ही प्राप्त होती हैं वरन शरीर की रोगों के प्रतिरोध की क्षमता भी कई गुना बढ़ जाती है आज विज्ञान भी इस सत्य को मानने लगा है कि रसाहार(Rsahar)से हम अपने जीवन में आई हुई कमजोरी के साथ रोगों पर भी विजय प्राप्त कर सकते है-

रसाहार Rsahar


रसाहार(Rsahar)के लिये फल,सब्जी या अंकुरित अनाज आदि खाद्यों को बस पूर्णतया ताजा ही काम में लेंना चाहिए तथा सड़े, गले, बासी, काफी देर से कटे हुए खाद्य पदार्थ का नहीं रस न निकालें और रोगाणुओं से मुक्त आहार सामग्री का ही रस निकालें अन्यथा तीव्र संक्रमण हो सकता है-

आप रसाहार(Rsahar)कैसे लें-

पहली बात ये ध्यान रक्खे कि ताजा रस ही काम में लें-निकालकर काफी देर तक रखा हुआ रस न लें-रखे रस में एन्जाइम सक्रियता, थायमिन, रिबोफ्लेविन, एस्कार्बिक एसिड आदि उपयोगी तत्व नष्ट होने लगते हैं तथा वातावरण के कुछ हानिकारक कीटाणु रस में प्रवेश कर रस को प्रदूषित कर देते हैं ऐसा रस पीने से तीव्र प्रतिक्रिया होती है-

दूसरी बात आप रसाहार(Rsahar)बैठकर धीरे धीरे पियें-इसे प्याला या ग्लास में ही लेना चाहिय तथा ग्लास को मुंह की ओर ऐसे झुकायें कि ऊपरी होंठ रस में डूबा रहे-ऐसा करने से वायु पेट में नहीं जातीहै-

रस कैसे निकालें-

ककड़ी,लौकी,गाजर, टमाटर,अनानास, नाशपाती, आलू, सेवादि, का रस निकालने के लिये विभिन्न प्रकार की मशीनें आती हैं-संतरा,मौसम्मी,चकोतरादि नींबू कुल के फलों की अलग तरह की मशीनें आती हैं-बिजली से चलने वाली मशीनों की अपेक्षा हाथ से चलने वाली मशीनों से निकला रसाहार(Rsahar)श्रेष्ठ माना जाता है-

सब्जी को कद्दूकश से कसने के बाद या कूटकर भी रस निकाला जाता है रस निकालने के बाद बचे हुये खुज्झे को फेंके नहीं-इसे बेसन/आटे में मिलाकर रोटी बनाकर काम में लिया जा सकता है यह खुज्झा पेट की सफाई कर कब्ज को दूर करता है-

कब किस रोग के लिए क्या रसाहार(Rsahar)ले-

  1. कब्ज(Constipation)सारे रोगों की जननी है कब्ज होने पर सब्जी तथा फलों को मूल रूप में ही खायें तथा गाजर, पालक,टमाटर, आंवला, लौकी, ककड़ी, 6 घंटे पूर्व भीगा हुआ किशमिश, मुनक्का,अंजीर, गेहूंपौध, करेला, पपीता, संतरा, आलू, नाशपाती, सेव तथा बिल्व का रस लें- 
  2. अजीर्ण अपचन(Indigestion)के लिए भोजन के आधे घंटे पहले आधी चम्मच अदरक का रस लें या अनानास, ककड़ी, संतरा, गाजर, चुकन्दर का रस लेना चाहिए-
  3. उल्टी(Vomiting)मिचली में नींबू, अनार, अनानास, टमाटर ,संतरा, गाजर, चुकन्दर का रस ले सकते है-
  4. एसीडिटी(Acidity)के होने पर पत्ता गोभी+गाजर का रस या ककड़ी, लौकी, सेव, मौसम्मी, तरबूज, पेठे का रस, चित्तीदार केला, आलू, पपीता आदि का भी रस लें-
  5. एक्यूट एसीडीटी(Acute Hyperacidity) होने पर ठंडा दूध या गाजर रस लिया जा सकता है-
  6. बार- बार दस्त(Diarrhea) होने पर बिल्व फल का रस या लौकी, ककड़ी, गाजर का रस या डेढ़ चम्मच ईसबगोल की भुस्सी या छाछ या ईसबगोल की भूसी आदि ले सकते है-
  7. पीलिया(Jaundice)में करेला, संतरा, मौसम्मी, गन्ना, अनानास, चकोतरा का रस,पपीता, कच्ची हल्दी, शहद, मूली के पत्ते, पालक तथा मूली का रस लेना चाहिए-
  8. यदि मधुमेह(Diabetes)की शिकायत है तो जामुन, टमाटर, करेला, बिल्वपत्र, नीम के पत्ते, गाजर पालक टमाटर, पत्ता गोभी का रस लेना लाभदायक है-
  9. पथरी(Stone)होने पर सेव, मूली व पालक, गाजर, इमली, टमाटर का रस लें-फल एवं सब्जियों के नन्हें बीजबिलकुल भी न लें-
  10. गुर्दे के रोग(Kidney disease)में तरबूज, फालसा, करेला, ककड़ी, लौकी, चुकन्दर, गाजर, अनानास, अंगूरादि खट्टे फलों का रस, इमली, टमाटर आदि लें-
  11. किसी भी प्रकार के गले का रोग(Throat diseases)में गर्मपानी या गर्मपानी+एक नींबू शहद या अनानास,गाजर चुकन्दर पालक, अमरूद प्याज लहसुन का रस ले-
  12. खांसी(Cough)में गर्म पानी, एक नींबू रस शहद, गाजर रस, लहसुन, अदरक, प्याज, तुलसी का रस मात्र 50 सी.सी. लें-
  13. अनिद्रा(Insomnia)रोगी को सेव, अमरूद, लौकी, आलू,गाजर पालक, सलाद के पत्ते, प्याज का रस लेना लाभदायक है-
  14. यदि आपको मुंहासे(Acne)जादा है तो गाजर पालक, आलू गाजर चुकन्दर अंगूर, पालक टमाटर, ककड़ी का रस ले-
  15. जिन लोगो को रक्तहीनता(Anemia)की शिकायत होती है उनके लिए पालकादि पत्ते वाली सब्जियों, टमाटर, आंवला, रिजका, चुकन्दर, दूर्वा, पत्ता गोभी, करेला, अंगूर, खुरबानी, भीगा किशमिश, मुन्नका का रस आदि काफी लाभदायक है-
  16. मुंह के छाले(Mouth ulcers)होने पर चौलाई, पत्तागोभी, पालक, टमाटर,ककड़ी व गाजर का रस लें-
  17. उच्च रक्तचाप(High Blood pressure)में प्याज, ककड़ी, टमाटर, संतरा, लौकी, सोयाबीन का दही, गाय की छाछ, गाजर व मौसम्मी का रस फायदेमंद है-
  18. जो लोग अपना वजन वृद्धि(Weight gain)करना चाहते है उनको अनानास, पपीता, केला, दूध, संतरा, आम आदि अधिक कैलोरी वाले मीठे फलों का रस लेना चाहिए-
  19. वजन कम(Weight loss)करने हेतु आपको तरबूज, ककड़ी, लौकी, पालक, पेठा, टमाटर, खीरा आदि कम कैलोरी वाली सब्जियों का रस लेना चाहिए-
Upcharऔर प्रयोग-

चिरचिटा-अपामार्ग हर बीमारी भगायें

By With 2 टिप्‍पणियां:
अपामार्ग(Chaff Tree)का पौधा भारत के सभी सूखे क्षेत्रों में उत्पन्न होता है यह गांवों में अधिक मिलता है खेतों के आसपास घास के साथ आमतौर पाया जाता है इसे बोलचाल की भाषा में आंधीझाड़ा या चिरचिटा(Chaff Tree)भी कहते हैं-अपामार्ग की ऊंचाई लगभग 60 से 120 सेमी होती है आमतौर पर लाल और सफेद दो प्रकार के अपामार्ग देखने को मिलते हैं-सफेद अपामार्ग के डंठल व पत्ते हरे रंग के, भूरे और सफेद रंग के दाग युक्त होते हैं इसके अलावा फल चपटे होते हैं जबकि लाल अपामार्ग(RedChaff Tree)का डंठल लाल रंग का और पत्तों पर लाल-लाल रंग के दाग होते हैं-

चिरचिटा-अपामार्ग हर बीमारी भगायें

इस पर बीज नुकीले कांटे के समान लगते है इसके फल चपटे और कुछ गोल होते हैं दोनों प्रकार के अपामार्ग के गुणों में समानता होती है फिर भी सफेद अपामार्ग(White chaff tree) श्रेष्ठ माना जाता है इनके पत्ते गोलाई लिए हुए 1 से 5 इंच लंबे होते हैं चौड़ाई आधे इंच से ढाई इंच तक होती है- पुष्प मंजरी की लंबाई लगभग एक फुट होती है, जिस पर फूल लगते हैं, फल शीतकाल में लगते हैं और गर्मी में पककर सूख जाते हैं इनमें से चावल के दानों के समान बीज निकलते हैं इसका पौधा वर्षा ऋतु में पैदा होकर गर्मी में सूख जाता है-

आपमार्ग(Chaff Tree)के प्रयोग-


गुर्दे की पथरी(Kidney stone)-

लगभग 1 से 3 ग्राम चिरचिटा के पंचांग का क्षार बकरी के दूध के साथ दिन में दो बार लेते हैं इससे गुर्दे की पथरी(Kidney stone) गलकर नष्ट हो जाती है-

खूनी बवासीर(Emerods)-

चिरचिटा की 25 ग्राम जड़ों को चावल के पानी में पीसकर बकरी के दूध के साथ दिन में तीन बार लेने से खूनी बवासीर(Emerods)ठीक हो जाती है-

कुष्ठ(Leprosy)-

चिरचिटा के पंचांग का काढ़ा लगभग 14 से 28 मिलीलीटर दिन में तीन बार प्रतिदिन सेवन करने से कुष्ठ(Leprosy)रोग कुछ दिनों में ठीक हो जाता है-

हैजा(Cholera)-

चिरचिटा की जड़ों को 3 से 6 ग्राम तक की मात्रा में बारीक पीसकर दिन में तीन बार देने से हैजा(Cholera) में लाभ मिलता है-

शारीरिक दर्द(Physical pain)-

चिरचिटा की लगभग 1 से 3 ग्राम पंचांग का क्षार नींबू के रस में या शहद के साथ दिन में तीन बार देने से शारीरिक दर्द(Physical pain) में लाभ मिलता है-

तृतीयक बुखार(Typhoid fever)-

चिरचिटा(अपामार्ग या ओंगा)की जड़ को लाल रंग के 7 धागों में रविवार के दिन लपेटकर रोगी चिरचिटा की कमर में बांध देने से तिजारी बुखार(Typhoid fever) चला जाता है-

खांसी(Cough)-

चिरचिटा को जलाकर, छानकर उसमें उसके बराबर वजन की चीनी मिलाकर 1 चुटकी दवा मां के दूध के साथ रोगी को देने से खांसी बंद हो जाती है-

आंवयुक्त दस्त(Dysentery diarrhea)-

अजाझाड़े (चिरचिटा) के कोमल के पत्तों को मिश्री के साथ मिलाकर अच्छी तरह पीसकर मक्खन के साथ धीमी आग पर रखे जब यह गाढ़ा हो जाये तब इसको खाने से ऑवयुक्त दस्त में लाभ मिलता है-

बवासीर(Hemorrhoids)-

250 ग्राम चिरचिड़ा का रस, 50 ग्राम लहसुन का रस, 50 ग्राम प्याज का रस और 125 ग्राम सरसों का तेल इन सबको मिलाकर आग पर पकायें और पके हुए रस में 6 ग्राम मैनसिल को पीसकर डालें और 20 ग्राम मोम डालकर महीन मलहम (पेस्ट) बनायें अब इस मलहम को मस्सों पर लगाकर पान या धतूरे का पत्ता ऊपर से चिपकाने से बवासीर के मस्से सूखकर ठीक हो जाते हैं-

चिरचिटा के पत्तों के रस में 5-6 काली मिर्च पीसकर पानी के साथ पीने से बवासीर में आराम मिलता है-

गुर्दे के रोग(Kidney disease)-

5 ग्राम से 10 ग्राम चिरचिटा की जड़ का काढ़ा 1 से 50 ग्राम सुबह-शाम मुलेठी, गोखरू और पाठा के साथ खाने से गुर्दे की पथरी खत्म हो जाती है इसकी क्षार अगर भेड़ के पेशाब के साथ खायें तो गुर्दे की पथरी में ज्यादा लाभ होता है-

पक्षाघात-लकवा(Paralysis)-

एक ग्राम कालीमिर्च के साथ चिरचिटा की जड़ को दूध में पीसकर नाक में टपकाने से लकवा या पक्षाघात ठीक हो जाता है-

जलोदर(Dropsy)-

अजाझाड़े (चिरचिटा) का चूर्ण लगभग 1 ग्राम का चौथाई भाग की मात्रा में लेकर पीने से जलोदर (पेट में पानी भरना) की सूजन कम होकर समाप्त हो जाती है-

शीतपित्त(Urticaria)-

अपामार्ग(चिरचिटा) के पत्तों के रस में कपूर और चन्दन का तेल मिलाकर शरीर पर मालिश करने से शीतपित्त की खुजली और जलन खत्म होती है-

घाव-व्रण(Wound)-

फोड़े की सूजन व दर्द कम करने के लिए चिरचिटा, सज्जीखार अथवा जवाखार का लेप बनाकर फोड़े पर लगाने से फोड़ा फूट जाता है जिससे दर्द व जलन में रोगी को आराम मिलता है-

उपदंश-सिफलिस(Syphilis)-

चिरचिटा की धूनी देने से उपदंश के घाव मिट जाते हैं-10 ग्राम चिरचिटा की जड़ के रस को सफेद जीरे के 8 ग्राम चूर्ण के साथ मिलाकर पीने से उपदंश में बहुत लाभ होता है-इसके साथ रोगी को मक्खन भी साथ में खिलाना चाहिए-

नाखून की खुजली(Nail itch)-

चिरचिटा के पत्तों को पीसकर रोजाना 2 से 3 बार लेप करने से नाखूनों की खुजली दूर हो जाती है-

नासूर(Ulcer)-

नासूर दूर करने के लिए चिरचिटे की पत्तियों को पानी में पीसकर रूई में लगाकर नासूर में भर दें- इससे नासूर मिट जाता है-

शरीर में सूजन(Swelling)-

लगभग 5-5 ग्राम की मात्रा में चिरचिटा खार, सज्जी खार और जवाखार को लेकर पानी में पीसकर सूजन वाली गांठ पर लेप की तरह से लगाने से सूजन दूर हो जाती है-

बच्चों के रोगों में लाभकारी(Children disease)-

अगर बच्चे की आंख में माता (दाने) निकल आये तो दूध में चिरमिटी को घिसकर आंख में काजल की तरह लगाएं-

बिच्छू का जहर(Poison Scorpion)-  

जिस बच्चे या औरत-आदमी के बिच्छू ने डंक मारा हो, उसे चिरचिटे की जड़ का स्पर्श करायें अथवा 2 बार दिखायें- इससे जहर उतर जाता है-

Read More-

Upcharऔर प्रयोग-

सदाबहार की पत्ती से मधुमेह रोग से राहत मिलती है

By With 1 टिप्पणी:
सदाबहार(सदाफूली)की तीन-चार कोमल पत्तियाँ चबाकर रस चूसने से मधुमेह(Diabetes)रोग से राहत मिलती है सदाबहार(Catharanthus Roseus)के पौधे के चार पत्तों को साफ़ धोकर सुबह खाली पेट चबाएं और ऊपर से दो घूंट पानी पी लें इससे मधुमेह मिटता है यह प्रयोग कम से कम तीन महीने तक करना चाहिए-


सदाबहार की पत्ती से मधुमेह रोग से राहत मिलती है

सदाबहार(Catharanthus)पुष्प का एक परिचय-


सदाबहार की कुल आठ प्रकार जातियाँ हैं सदाबहार का वैज्ञानिक नाम केथारेन्थस(Catharanthus)है यह फूल न केवल सुन्दर और आकर्षक है बल्कि औषधीय गुणों से भी भरपूर माना गया है सदाबहार बारहों महीने खिलने वाला फूल है कठिन शीत के कुछ दिनों को छोड़कर यह पूरे वर्ष खूब खिलता है सदाबहार को भारत की किसी भी उष्ण जगह की शोभा बढ़ाते हुए सालों साल बारह महीने इसे देखे जा सकते हैं इसके फूल तोड़कर रख देने पर भी पूरा दिन ताजा रहता है सदाबहार पुष्प को सदाफूली, नयनतारा नामों से भी जाना जाता है-


सदाबहार का उपयोग खांसी, गले की खराश और फेफड़ों के संक्रमण में उपयोग किया जाता है तथा इसे मधुमेह के उपचार में भी बहुत ही उपयोगी पाया गया है क्योंकि इसमें दर्जनों क्षार ऐसे पाए गए हैं जो कि उनसे रक्त शर्करा की मात्रा को नियत्रिंत किया जा सकता है सदाबहार की पत्तियों में विनिकरस्टीन नामक क्षारीय पदार्थ होता है जो कैंसर और विशेषकर रक्त कैंसर में बहुत उपयोगी होता है-

आयुर्वेदिक गुण-


1- आधे कप गरम पानी में सदाबहार(सदाफूली)के तीन ताज़े गुलाबी फूल पांच मिनिट तक भिगोकर रखें फिर उसके बाद फूल निकाल दें और यह पानी सुबह ख़ाली पेट पियें आप यह प्रयोग आठ-दस दिन तक करें तथा अपनी शुगर की जाँच कराएँ यदि कम आती है तो एक सप्ताह बाद यह प्रयोग पुनः दोहराएँ-

2- लाल और गुलाबी फूलों का उपयोग डायबिटीज़ में लाभकारी मानते हैं अब तो आधुनिक विज्ञान भी इन फूलों के सेवन के बाद रक्त में ग्लुकोज़ की मात्रा में कमी को प्रमाणित कर चुका है बस दो फूल को एक कप उबले पानी या बिना शक्कर की उबली चाय में डालकर ढंककर रख दें और फिर इसे ठंडा होने पर रोगी को पिलाएं ऐसा लगातार सेवन मधुमेह में फायदा पहुंचाता है-

3- इसकी पत्तियों को तोड़े जाने पर जो दूध निकलता है उसे घाव पर लगाने से किसी तरह का संक्रमण नहीं होता और घाव जल्दी सूख भी जाता है पत्तियों को तोड़ने पर निकलने वाले दूध को खाज-खुजली में लगाने पर जल्द आराम मिलने लगता है इस दूध को पौधे से एकत्र कर प्रभावित अंग पर दिन में कम से कम दो बार लेप किया जाना चाहिए-त्वचा पर घाव या फोड़े-फुंसी हो जाने पर इसकी पत्तियों का रस दूध में मिला कर लगाते हैं ऐसा करने से घाव पक जाता है और जल्द ही मवाद बाहर निकल आता है-

4- अब वैज्ञानिक सदाबहार के फूलों का उपयोग कर कैंसर जैसे भयावह रोगों के लिए भी औषधियां बनाने पर शोध कर रहे हैं इस पौधे की पत्तियों में पाए जाने वाले प्रमुख अल्कलायड रसायनों जैसे विनब्लास्टिन और विनक्रिस्टिन को ल्युकेमिया के उपचार के लिए उपयोगी माना गया है-

5- सदाबहार के फूलों और पत्तियों के रस को मुहांसों पर लगाने से कुछ ही दिनों में इनसे निजात मिल जाती है पत्तियों और फूलों को पानी की थोड़ी सी मात्रा में कुचल कर लेप को मुहांसों पर दिन में कम से कम दो बार लगाने से जल्दी आराम मिलता है-

6- इसकी पत्तियों के रस को ततैया या मधुमक्खी के डंक मारने पर लगाने से बहुत जल्दी आराम मिलता है इसी रस को घाव पर लगाने से घाव भी जल्दी सूखने लगते हैं तथा त्वचा पर खुजली, लाल निशान या किसी तरह की एलर्जी होने पर पत्तियों के रस को लगाने पर आराम मिलता है-

7- डेंगू व चिकनगुनिया के उपचार में भी सदाबहार के पत्ते उपयोगी साबित होते हैं पत्तों का उपयोग हाई BP में भी कारगर रहता है सदाबहार पर हुए शोधों से ये प्रमाणित होता जा रहा है कि इसका उपयोग हमें कई रोगों से बचा सकता है-

8- यह रक्तचाप को कम करने और मधुमेह जैसी बीमारी को काबू में करने में बहुत सहायक होता है शोधों के कारण जैसे-जैसे इसकी खूबियों का पता चलता जाता है वैसे-वैसे इस की मांग भी देश-विदेश में बढती जा रही है इसीलिए अब इसकी खेती भी की जाने लगी है यह अनोखा पौधा अब एक प्रकार से संजीवनी बूटी बन गया है-

9- सबसे चमत्कृत करने वाली बात है कि यह बारूद जैसे पदार्थ को भी निष्क्रिय करने की क्षमता रखता है इसी के चलते आज विस्फोटक क्षेत्रों और भंडारण वाली हजारों एकड़ भूमि को यह निरापद बना रहा है-

10- सदाबहार और नीम के दोनों के सात-सात पत्तों का खाली पेट सेवन करना मधुमेह में काफी उपयोगी होता है इसके पौधे को लगाना या उगाना बहुत आसान है इसके डंठल को कहीं भी रोप दिया जाए यह अपनी जिन्दगी शुरू कर देता है-

Read Next Post-

डायबिटीज के मरीज मीठा स्टेविया खा सकते है

Upcharऔर प्रयोग-

Blood Disorders-रक्त विकार एक घातक रोग है

By With कोई टिप्पणी नहीं:
जी हाँ-खून की खराबी यानि कि रक्त विकार(Blood Disorders)भी एक घातक रोग है और यदि समय रहते इसका उपचार न किया जाए तो फिर कष्टदायी चर्म रोग घेर लेते हैं इनसे व्यक्ति के मन में हीन भावना उत्पन्न हो जाती है Blood Disorders से छुटकारा पाने के लिए सबसे पहले मिर्च, चाय, अचार, तेल, खटाई आदि का प्रयोग बंद कर देना चाहिए-तभी कोई उपचार कारगर सिद्ध होता है-

Blood Disorders-रक्त विकार एक घातक रोग है


समय से भोजन न करने,मिर्च-मसालों का अधिक प्रयोग,प्रकृति के विरुद्ध भोजन जैसे-मछली-दूध,केला-करेला, दही-नीबू,दही-शहद,शहद-नीबू आदि का सेवन, नाड़ी की दुर्बलता, कब्ज, अजीर्ण आदि कारणों से खून में खराबी(Blood Disorders) पैदा हो जाती है-

खून खराब(Blood Disorders)होने पर तरह-तरह के चर्म रोग हो जाते हैं-त्वचा के ददोरे,फोड़े-फुन्सी, दाद-खाज, खुजली आदि अनेक रोग बन जाते हैं-त्वचा में खुजली होती है और चकत्ते पड़ जाते हैं तथा खून नीला-सा दिखाई देने लगता है और पेट साफ नहीं रहता है खांसी एवं वायु रोग का प्रकोप भी हो जाता है-

खून की खराबी(Blood Disorders)में करे ये उपाय-

  1. सोते समय रात को गरम पानी के साथ दो हरड़ का चूर्ण लें तथा दिन में दो बार एक-एक चम्मच त्रिफला चूर्ण गुनगुने पानी से लें-
  2. नीम की छाल,उसवा और कुटकी-इन तीनों का चूर्ण 3-3 ग्राम दिन में दो बार शहद के साथ चाटें-
  3. चोपचीनी, मंजीठ और गिलोय का चूर्ण 3-3 ग्राम फांककर ऊपर से एक गिलास दूध पी लें-
  4. सौंफ,गावजबां,गुलाब के फूल तथा मुलहठी इन सब की 5-5 ग्राम की मात्रा में लेकर दो कप पानी डालकर आग पर रख दें जब पानी जलकर आधा रह जाए तो छानकर उसमें मिश्री मिलाकर सुबह-शाम सेवन करें इससे पेट साफ हो जाएगा और साफ खून बनने की क्रिया शुरू हो जाएगी-
  5. लौकी की सब्जी बगैर नमक के उबली हुई खाने से भी खून की खराबी(Blood Disorders) दूर होती है-
  6. 10 ग्राम गुलकंद का सेवन दूध के साथ करें-
  7. नीम की छाल को पानी में घिस लें फिर उसमें कपूर मिलाकर शरीर के रोगग्रस्त भाग पर लगाएं-शरीर पर गोमूत्र मलकर थोड़ी देर तक यों ही बैठे रहें और फिर स्नान कर लें-गोमूत्र त्वचा रोगों के लिए बहुत लाभकारी है-
  8. खून की खराबी(Blood Disorders)दूर करने के लिए सरसों के तेल में लाल मिर्च को पीसकर डालें फिर यथास्थान लगाएं-
  9. अंजीर के पत्तों को पीसकर घी में मिला लें-स्नान से पूर्व शरीर पर इसकी मालिश करें-
  10. चर्म रोग वाले स्थान को दिन में तीन-चार बार फिटकिरी के पानी से धोना चाहिए-
  11. कच्चे पपीते का रस दो चम्मच सुबह के समय सेवन करें-
  12. Blood Disorders में करेले का रस एक-एक चम्मच सुबह-शाम सेवन करें तथा शरीर पर मूंगफली के तेल की मालिश करें-
  13. पानी में लहसुन का रस दो चम्मच की मात्रा में मिलाकर पिएं-
  14. मुनक्का रक्त को शुद्ध करके बढ़ाने वाला है-
  15. नारियल पानी से रक्त शुद्ध होता है-
  16. परवल के पत्तों को ओटा मधु मिलाकर पिलाने से रक्त शुद्ध होता है-
  17. वद्र्धमान पिप्पली के प्रयोग से रक्त शुद्ध होकर शरीर का मल बढ़ता है-
  18. सूखे पौदीने को पीस के फंकी लेने से रुधिर का जमना बन्द हो जाता है-
  19. भांगरे के पत्ते बलवद्र्धक और रक्तशोधन है-
  20. बकरी के कच्चे दूध में आठवां भाग मधु मिला के पिलाने से रुधिर शुद्ध हो जाता है जिन दिनों में यह प्रयोग किया जाए उन दिनों में उस रोगी को सांभर  नमक और लालमिर्च के बदले में सैन्धा नमक और कालीमिर्च देनी चाहिए-
  21. पिस्ते के तेल का सेवन करने से रक्त में जो किसी तत्व की न्यूनता होती है वह मिट जाती है-
  22. गोरखमुण्डी के पुष्पों के प्रयोग से रक्त शुद्ध होता है-
  23. सफेद मुसली रक्त शोधक, मूत्र और पुरुषार्थवद्र्धक है-
  24. रत्नजोत के पत्तों के रस में मधु मिला के पिलाने से रक्त शुद्ध होता है-
  25. एरण्ड के पत्तों को रार्इ तेल से चुपड़ अगिन पर तपा के बांधने से शरीर में  जमा हुआ रक्त बिखर जाता है-
  26. लज्जालू (छुर्इमुर्इ) सूजन रोकती है और रक्त को शुद्ध करती है-
  27. बादाम की जड़ का क्वाथ पीने से रक्त शुद्ध होता है-
  28. बिदारीकंद रक्त को शुद्ध करने वाली और दूध बढ़ाने वाली है-
  29. शरफोंका के पंचाग के क्वाथ में मधु मिलाकर पिलाने से रक्त शुद्ध होता है  तथा फोड़े-फुनिसयां ठीक होते हैं-
  30. सफेद जीरा और अनन्तमूल का क्वाथ पिलाने से रक्त शुद्ध हो जाता है-
  31. बच्चों का रुधिर शुद्ध करके निर्बलता मिटाने के लिए अन्नतमूल को दूध और  शक्कर के साथ औटा के पिलाना चाहिए-
  32. सेब खाने से शरीर पुष्ट तथा रुधिर शुद्ध होता है-
  33. वासापत्र, त्रिफला, खदिरत्वक नीम की अन्तरछाल, पटोल पत्र और गिलोय  को बराबर भाग में लेकर यवकुट कर क्वाथ बना उसमें मधु या मिश्री मिलाकर  पिएं-
  34. शतावरी मूल, चक्रमर्द मूल और बलामूल को समान मात्रा में लेकर इनका क्वाथ बनाकर (32 गुने जल में अष्टमांश शेष जल) इसमें मिश्री और इलायची मिलाकर पिलावें-
  35. शतावरी स्वरस में दुगुनी शक्कर मिलाकर शर्बत बनाएं फिर उसमें केसर,जायफल,जावित्री और छोटी इलायची चूर्ण मिलाकर (शर्बत 40 मि.ली., चूर्ण 50 मि.ग्रा.) 42 दिनों तक पीने से रक्त विकृति जन्यविष मूत्र द्वारा बाहर  निकल जाता है और रक्तशुद्धि हो जाती है शर्बत में दूध या पानी भी मिलाया जा सकता है-
  36. शालपर्णी की जड़ और पत्तों का काढ़ा कालीमिर्च के साथ रक्त विकार शामक  है-
  37. श्वेत सरिता, कृष्ण सरिता, माषपर्णी, मुग्दपर्णी, इलायची, लवंग, कचूर इनका  क्वाथ बनाकर इस क्वाथ में अमलतास के गूदे का चूर्ण मिलाकर सेवन करने   से प्राय: सभी प्रकार के रक्त विकार मिटते हैं-
  38. सरिवा(अनन्त मूल), सुगन्धबाला, नागरमोथा, सौंठ, कुटकी सम मात्रा में चूर्ण  करके 2-3 ग्राम पानी के साथ सेवन करने से लाभ होता है-
  39. जटामांसी को घोट छानकर मधु मिलाकर पीने से रक्त शुद्ध होता है-
  40. गाय के गोबर को निचोड़कर उसके पानी से शरीर की मालिश करें-
  41. परवल पाचक,गरम,स्वादिष्ट,ह्वदय के लिए हितकर,वीर्यवर्धक,जठराग्निवर्धक,पौष्टिक,विकृत कफ को बाहर निकालने वाला और त्रिदोष नाशक है तथा यह सर्दी, खाँसी, बुखार, कृमि, रक्तदोष, जीर्ण ज्वर, पित्त के ज्वर और रक्ताल्पता को दूर करता है परवल दो प्रकार के होते हैं-मीठे और कड़वे-सब्जी के लिए सदैव मीठे, कोमल बीजवाले और सफेद गूदेवाले परवल का उपयोग किया जाता है जो परवल ऊपर से पीले तथा कड़क हो जाते हैं वे अच्छे नहीं माने जाते है रक्त-विकार में परवल का अधिक उपयोग करे-
  42. इसे भी देखे- 
  43. Nasal-Skin Allergy-नाक-त्वचा की एलर्जी का Treatment
Upcharऔर प्रयोग-

27 सितंबर 2016

मूत्रविकार-जलन या पेशाब रुक जाना

By With कोई टिप्पणी नहीं:
मूत्र विकार(Urinary Disorders)के अंतर्गत कई रोग आते हैं जिनमें मूत्र(Urine)की जलन, मूत्र रुक जाना, मूत्र रुक-रुककर आना, मूत्रकृच्छ और बहुमूत्र प्रमुख हैं और यह सभी रोग बड़े कष्टदायी होते हैं यदि इनका यथाशीघ्र उपचार न किया जाए तो घातक परिणाम भुगतने पड़ते हैं यदि मूत्राशय में पेशाब इकट्ठा होने के बाद किसी रुकावट की वजह से बाहर न निकले तो उसे मूत्रावरोध(Urinary Disorders)कहते हैं-

मूत्रविकार-जलन या पेशाब रुक जाना

स्त्रियों में किसी बाहरी चीज के कारण तथा पुरुषों में सूजाक, गरमी आदि से मूत्राशय एवं मूत्र मार्ग पर दबाव पड़ता है जिससे पेशाब(Urine)रुक जाता है तथा वृद्ध पुरुषों की पौरुष ग्रंथि(Prostate Gland)बढ़ जाती है जिसके कारण उनका पेशाब रुक जाता है-मूत्रकृच्छ में पेशाब करते समय दर्द होता है जब मूत्राशय में दर्द उत्पन्न होता है तो Urine रुक जाता है और इसी प्रकार हिस्टीरिया(स्त्री रोग), चिन्ता, सिर में चोट लग जाना, आमाशय का विकार, खराब पीना, आतशक, कब्ज, पौष्टिक भोजन की कमी आदि के कारण भी बार-बार पेशाब आता है-

पेशाब की कमी या न निकलने से मूत्राशय फूल जाता है और रोगी को बड़ी बेचैनी होती है तब पेशाब बड़े कष्ट के साथ बूंद-बूंद करके निकलता है-कब्ज, मन्दाग्नि, अधिक प्यास, पेशाब अधिक आने, मूत्र पीला होने आदि के कारण रोगी को नींद नहीं आती है और वह दिन- प्रतिदिन कमजोर होता जाता है तथा कमर, जांघों तथा पिंडलियों में दर्द होता है-

करे ये प्रयोग-


1- मक्के के भुट्टे(कच्ची मक्का)को पानी उबाल लें फिर लगभग एक गिलास पानी छानकर उसमें मिश्री मिलाकर पी जाएं इससे पेशाब की जलन(Dysuria)जाती रहती है-

2- पेशाब की जलन दूर करने के लिए रात में तरबूज को ओस में रखें तथा सुबह उसका रस निकालकर मिश्री मिलाकर पी जाएं-

3- एक गिलास पानी में 25 ग्राम जौ उबालें और फिर उसे ठंडा करके केवल पानी को घूंट-घूंट पिएं-

4- लगभग चार चम्मच ईसबगोल की भूसी पानी में भिगो दें फिर उसमें बूरा डालकर पी जाएं इससे पेशाब की जलन शान्त हो जाएगी-

5- चार चम्मच फालसे के रस में काला नमक डालकर पिएं आपकी पेशाब की जलन(Dysuria) जाती रहेगी-

6- पेशाब की जलन के लिए एक कप चावल का मांड़ लेकर उसमें चीनी मिलाकर पिएं या थोड़ा-सा बथुआ पानी में उबालें फिर उसमें काला नमक, भुना जीरा, कालीमिर्च तथा जरा-सी शक्कर डालकर सेवन करें-

7- 50 ग्राम प्याज के छोटे-छोटे टुकड़े काटें फिर एक गिलास पानी में वह प्याज उबालकर छान लें अब उसमें थोड़ी-सी चीनी डालकर सेवन करें यह मूत्र रोगी के लिए बड़ा अच्छा नुस्खा है-

8- पेशाब की जलन(Dysuria)में एक कप अनार का शरबत सुबह नाश्ते के बाद सेवन करें-

9- यदि पेशाब में जलन हो और खुलकर पेशाब न आए या बूंद-बूंद पेशाब हो तो पालक के एक कप रस में आधा कप नारियल का पानी मिलाकर पी जाएं-

10- पीपल के वृक्ष की पांच कोंपलों को पानी में उबालें और जब पानी आधा रह जाए तो उसे छानकर शक्कर डालकर पी जाएं-

11- पेशाब की जलन में हरे आंवले के रस को पानी में मिलाकर पिएं आप स्वाद के लिए जरा-सी शक्कर या शहद डाल लें-

12- कलमी शोरा दो चम्मच तथा बड़ी इलायची के दानों का चूर्ण एक चम्मच-दोनों को मिलाकर सेवन करें-

13पेशाब की जलन के लिए बेल के पत्तों को पानी में पीस लें तथा इसमें जरा-सी कालीमिर्च तथा दो चम्मच शहद मिलाएं और फिर घूंट-घूंट पी जाएं-

14- प्रतिदिन सुबह एक कप गाजर के रस में नीबू निचोड़कर पिएं ये पेशाब की जलन के लिए लाभदायक है-

15- गन्ने के ताजे रस में नीबू तथा सेंधा नमक मिलाकर पीने से मूत्र की जलन दूर होती है और मूत्र खुलकर आता है-

16पेशाब की जलन के लिए एक कप ककड़ी के रस में शक्कर मिलाकर सेवन करें-यदि पेशाब करते समय दर्द होता हो तो दूध में सोंठ और मिश्री मिलाकर सेवन करें-

17- गुर्दे की खराबी के कारण यदि पेशाब बंद हो गया हो तो एक चम्मच मूली के रस में जरा सा सेंधा नमक मिलाकर पी जाएं-

18- अगर पेशाब में रक्त आता हो तो कुलफा के साग के पत्तों का रस चार-चार चम्मच की मात्रा में दिनभर में तीन बार पिएं-

19- यदि पेशाब में रक्त आने की शिकायत हो तो एक चम्मच दूब के रस में जरा- सी नागकेसर मिलाकर सेवन करें-

 20- पेशाब की जलन के लिए सुबह-शाम एक-एक चम्मच काले तिल चबाकर खाना चाहिए या आधा चम्मच अजवायन दिन में दो बार गुनगुने पानी के साथ सेवन करें-

परहेज क्या करे-


उचित समय पर पचने वाला हल्का भोजन करें और सब्जियों में लौकी, तरोई, टिण्डा, परवल, गाजर, टमाटर, पालक, मेथी, बथुआ, चौलाई, कुलफा आदि का सेवन करें-

दालों में मूंग व चने की दाल खाएं-

फलों में सेब, पपीता, केला, नारंगी, संतरा, ककड़ी, खरबूजा, तरबूज, चीकू आदि का प्रयोग करें-

अरहर, मलका, मसूर, मोठ, लोबिया, काबुली चने आदि का सेवन न करें-

गुड़, लाल मिर्च, मिठाई, तेल, खटाई, अचार, मसाले, मैथुन तथा अधिक व्यायाम से परहेज करें-

Whatsup No- 7905277017

Read Next Post-


Upcharऔर प्रयोग-

26 सितंबर 2016

Cannabis-भांग सिर्फ नशा ही नहीं Benifits भी है

By With कोई टिप्पणी नहीं:
भारत में भांग(Cannabis)नशे और औषिधि  के रूप में प्राचीनकाल से प्रयुक्त होती आ रही है वैसे तो हिन्दुओ में एक मान्यता भी है कि भांग का पौधा "अमृत" से पैदा हुआ है तथा इसका सेवन भगवान् शिव किया करते है इसलिए इसे 'शिव-बूटी' का भी नाम दे दिया गया है अब तो अनेक शोधकर्ताओं ने भी इस पे शोध किया है और निष्कर्ष रूप में ये पाया गया है कि लम्बे अवधि तक भी इसका प्रयोग करने के उपरान्त भी इसका शरीर और मस्तिष्क पर विशेष विपरीत प्रभाव नहीं पड़ता है भांग(Cannabis)से ही गांजा और चरस बनती है लेकिन ये दोनों ही चीज जादा नुकसानदायक है आयुर्वेद इसे कई रोगों में प्रमाणिक औषिधि मानता है-

Cannabis-भांग सिर्फ नशा ही नहीं Benifits भी है


आइये अब जानते है आयुर्वेद में इसके क्या प्रयोग है-

1- भांग के पत्ते को जल के साथ चटनी की तरह पीसकर फिर साफ़ सूती कपडे में बाँध कर इसका रस निचोड़ ले इस रस को थोडा सा आंच पर गर्म करके कान में टपका दे इस प्रयोग से कान का दर्द(ear ache) मिट जाता है साथ ही यदि कान में कीड़े पड़ गए हो तब वे भी मर जाते है -

2- भांग के चूर्ण(Cannabis powder)को साफ़ सूती कपडे में बाँध कर एक छोटी सी पोटली बनाए और इसमें एक धागा बांधे इस पोटली को योनी(vagina)में तीन घन्टे तक रहने दे बाद में धागे की सहायता से वापस निकाल ले इस प्रयोग को कुछ दिन करने से ढीली योनी(loose vagina)भी तंग हो जाती है-

3- भांग को जल के साथ पीसे और पेस्ट बनाकर इसे अपने बालो पे एक घंटे लगा रहने दे सिर में जितने भी जुएँ और लीखें है खत्म हो जाती है -

4- एरण्ड के तेल(Castor oil)में भांग को पीसकर शिश्न(Penis)पर लेप करने से उसकी ताकत में इजाफा होता है -

5- भांग की मात्रा 10 ग्राम ले और अलसी की मात्रा 30 ग्राम दोनों को साथ पीस कर पुल्टिस बना कर बवासीर के मस्सों पर रख कर कुछ दिन बांधे बहुत फायदा होता है-भांग को आप जल में पीस कर गुनगुना-गुनगुना पुल्टिस बवासीर(Piles)पर बाँधने से दर्द भी मिट जाता है-

6- भांग,सेंधा नमक 1-1 ग्राम तथा सौंफ और जीरा 2-2 ग्राम लेकर चूर्ण बनाकर छाछ के साथ दिन में तीन बार सेवन करने से भूंख न लगना या खाया-पिया न पचना तथा दस्त लगना आदि रोग मिट जाता है -

7- खरल में भांग की पत्तियों को बकरी के दूध के साथ पीसकर पैरों के तलवे पर लेप करने से जल्दी ही नींद आने लगती है उन्माद रोगी को सुलाने में ये प्रयोग बेहतर है-

8- भांग का महीन चूर्ण कपडे में छानकर घाव में भर देने से सूजन और दर्द दूर होकर घाव(Injury) जल्दी भर जाता है इसमें टिटनेस(Tetanus)होने का खतरा भी नहीं रहता है तथा घाव में कीड़े पड़ जाने पर भी यह प्रयोग अच्छा रहता है -

9- एक ग्राम भांग को घी में भून ले फिर दस ग्राम शहद या गुड में मिलाकर देने से नींद अच्छी आती है वृद्ध लोगो को रात देर से नींद न आने की शिकायत के लिए ये नुस्खा उत्तम है-

10- अपचन(Indigestion)की स्थिति में हो रहे पेट दर्द(Abdominal Pain)से राहत के लिए भांग और काली मिर्च के चूर्ण को गुड में मिलाकर खिला दे लाभ मिलेगा-

11- जिस रोगी को दस्त(Diarrhea)हो रहे हो उसे भांग के चूर्ण को शहद या सौंफ के अर्क के साथ खिलाना चाहिए-

12- भांग और बीजबंद(बलाबीज) 100-100  ग्राम ,पोस्तदाना 50 ग्राम और काली मिर्च 25 ग्राम लेकर महीन चूर्ण बना ले इस चूर्ण में से 3-3 ग्राम चूर्ण को मिश्री मिले गर्म दूध के साथ नित्य सेवन करने से शीघ्रपतन(Premature Ejaculation)रोग दूर हो जाता है -

13- भांग के पत्तो के स्वरस में शहद मिला कर लेने से खांसी(Cough)में आराम मिलता है-

14- आधा ग्राम भांग,एक ग्राम काली मिर्च,दस ग्राम बादाम गिरी और 25 ग्राम मिश्री को 250 मिलीलीटर पानी में घोटकर छानकर पीने से परिश्रम करने से आई थकावट(Weariness)दूर हो जाती है-

15- जुकाम की एक अचूक दवा है -भांग के पत्तो को पीस कर बरगद या फिर पीपल के पत्तो में लपेटकर धागे से बाँध दे अब इस पर एक अंगुल मोटा मिटटी का लेप चढ़ा दे और इसे कंडे की आग में दबा दे जब मिटटी का रंग लाल हो जाए तो उसे ठण्डा कर ले तत्पश्चात भांग को उसमे से निकालकर चूर्ण कर ले और उसमे सेंधा नमक तथा तेल मिलाकर एक ग्राम की मात्रा सेवन करे-इस प्रयोग से कैसा भी जुकाम(Common Cold)हो मिट जाता है-

Upcharऔर प्रयोग-

Cannabis-भांग का Industrial उपयोग

By With कोई टिप्पणी नहीं:
भांग(Cannabis)का जिक्र करते ही आपके दिमाक में नशे का चित्र आ जाता है लेकिन क्या नशे जैसी चीज भी उपयोगी होगी ये जान कर आपको आश्चर्य होगा-जी हाँ भांग(Cannabis)यानी गांजा(Hemp)का भी औद्योगिक उत्पादन में योगदान है आइये जानते है कि औद्योगिक उत्पादन(Industrial Production)में Cannabis प्रयोग कैसे किया जा रहा है-

Cannabis-भांग का Industrial उपयोग


क्या आपको पता है कि भांग(Cannabis)से आप ईन्धन भी बना सकते हैं भांग(Cannabis)पौधे के जड़ और बीज में मौजूद तेल से बायोडीजल बनाया जा सकता है-जी हां- बायोफ्युल-दुर्भाग्य से Cannabis-भांग पौधा इतना कुख्यात है कि इस योजना पर कोई भी देश या प्रशासन ठीक से अमल नहीं कर रहा-

क्या आपको पता है कि भांग(Cannabis)से कपड़ो(Fabric)का निर्माण किया जा रहा है तो अब है न चौकने की बारी-लेकिन ये सच है इस कला का विकास आठ हजार साल पहले चीनियों द्वारा किया गया था ये बहुत ही उम्दा किस्म के और टिकाऊ भी है आज कल तो चीन इससे बने कपड़ो(Hemp textiles)का उपयोग फैशन के लिए शुरू किया गया है सिर्फ इतना ही नहीं भांग के पौधो से जीन्स और जूते भी तैयार हो रहे है -

कागज के उत्पादन(Hemp Paper)में भी इसका योगदान कम करके नहीं आँका जा सकता है दुनियां में हो रहे उत्पादन में इसका हिस्सा 0.05 प्रतिशत भांग के पौधे से हो रहा है इसके बने कागज की खासियत ये है कि रिन्यूबल होता है हाँ ये बात अवस्य है कि भांग के पौधे से कागज बनाने का खर्च और लकड़ी से जादा है मगर ये पर्यावरण के भी अनुकूल है -

Cannabis(भांग)एक कैल्सियम और आयरन का स्त्रोत भी है भांग का एक तिहाई वजन जड़ अथवा बीज में मौजूद तेल में होता है इस तेल  में फैटी एसिड की मौजूदगी इसे गुणकारी बना देती है इसमें करीब 25 फीसदी से अधिक प्रोटीन होता है तथा इसमें अखरोट से कहीं ज्यादा ओमेगा-3 की मौजूदगी होती है यही वजह है कि इस तेल को पूरक आहार माना गया है- भांग का इस्तेमाल लोग आइस टी या बीयर में भी करते हैं- खास बात यह है कि भांग के पौधे से दूध भी प्राप्त होता है-

प्लास्टिक उत्पादन(plastic products)में भांग के पौधों का इस्तेमाल धड़ल्ले से होता है-40 के दशक में कार निर्माता कम्पनी फोर्ड ने भांग के पौधे से बनी प्लास्टिक से एक प्रोटोटाइप कार बनाने में सफलता हासिल की थी-हालांकि इस कार को कभी बाजार के लिए नहीं बनाया गया था-हाल के दिनों में इन पौधों का इस्तेमाल सीडी और डीवीडी केस और अन्य तरह के उत्पाद बनाने के लिए भी हो रहा है-

कपड़ा, खाद्य पदार्थ या कागज ही नहीं, भांग के पौधे से बिल्डिंग मैटेरियल भी बनाए जाते हैं-नीदरलैन्ड और आयरलैन्ड में कम्पनियां इन पौधों से building materials(बिल्डिंग मैटेरियल) जैसे फाइबर बोर्ड, प्रेस बोर्ड और हेम्पक्रीट जैसे प्रोडक्ट्स का उत्पादन करती हैं- इनकी खासियत यह है कि ये मजबूत, टिकाऊ और हल्के होते हैं तथा ये पर्यावरण की दृष्टि से भी सुरक्षित हैं और कंक्रीट का स्थान ले सकने में सक्षम हैं-

मिट्टी में मौजूद Toxic chemicals(जहरीले रसायन)की सफाई के लिए भी भांग का इस्तेमाल होता है-नब्बे के दशक में युक्रेन के चेर्नोबिल में हुए परमाणु हादसे के बाद इलाके में मिट्टी की सफाई के लिए भांग का इस्तेमाल किया गया था दुर्घटना से प्रभावित पूरे इलाके में भांग के पौधे रोपे गए और इस तरह यहां की मिट्टी की सफाई हो सकी थी-

Upcharऔर प्रयोग-

Cannabis-भांग के Amazing-अदभुत प्रयोग

By With कोई टिप्पणी नहीं:
भांग(Cannabis)यानी विजया का उल्लेख अथवर्वेद तथा कौशिक सूत्र में भी मिलता है कत्यायन ऋषि ने भी इसका उल्लेख किया है इससे ज्ञात होता है Cannabis)-भांग के बारे में प्राचीन काल में भी जानकारी थी भांग के पौधे पर फूल और फल शरद ऋतु में लगती है पौधे पे लगने वाले नये पत्ते और फूल तथा फलो से युक्त कोमल शाखाओं को भांग(Cannabis))कहा जाता है-

Cannabis-भांग के Amazing-अदभुत प्रयोग


भांग(Cannabis))के मादा पौधों के पुष्पित शिखर जब मंजरी से भर जाते है तब उन्हें तोडकर सुखा लेते है यह गांजा(Hemp)होता है यह तम्बाखू की तरह पिया जाता है नशेबाज लोग तम्बाखू के साथ मिलाकर चिलम में रखकर गांजे का दम लगाते है गांजे(Hemp)में विशेषता यह होती है कि मसलने पर इसका नशीला प्रभाव बढ़ता है भांग(Cannabis)के पौधे के वायु में रहने वाले सभी भागों में उत्पन्न होने वाले एक रेजिन निस्यंद को जिसमे विषैले तेल की अधिक मात्रा होती है ,'चरस' कहलाता है-अब इसके परिचय के बाद हम आपको कुछ आयुर्वेदिक(Ayurvedic)प्रयोग बता रहे है जो कि लाभदायक प्रयोग है-

आयु वर्धक प्रयोग-

भांग के पंचांग का चूर्ण-340 ग्राम 
मिश्री-280 ग्राम 
घी-70 ग्राम 
शहद-140 ग्राम 

भांग(Cannabis)और मिश्री के चूर्ण को आपस में मिला कर घी और शहद में मिलाकर रख दे और नित्य प्रति दिन अपने बल के अनुसार इसकी मात्रा को दूध के साथ 120 दिन तक सेवन करे इसके प्रयोग से व्यक्ति दीर्घायु प्राप्त करता है वृधावस्था के लिए विशेष लाभकारी  योग है-

बाजीकरण(स्तम्भन) शक्ति प्रयोग-

शुद्ध भांग -640 ग्राम 
शक्कर-320 ग्राम
गाय का घी-250ग्राम 
शहद-120ग्राम 

शुद्ध  की गई भांग को कूट-पीस कर चूर्ण बनाए और उसमे बाकी सभी चीजो को मिला दे अब ये माजून तैयार है आप इसमें से 10 ग्राम की मात्रा सम्भोग से आधे घंटे पहले दूध से ले ये आपकी स्तम्भन शक्ति को बढाता है-

कमजोरी मिटाने का योग-

शुद्ध भांग -30 ग्राम 
असगंध -30 ग्राम 
बिदारीकंद-30 ग्राम 
ईसबगोल की भूसी -30 ग्राम 
मिश्री - 30 ग्राम 

उपरोक्त सभी सामग्री को महीन कूट-पीस ले गर्मी के सीजन में इस चूर्ण 3 ग्राम की मात्रा में लेकर आंवले के मुरब्बे के साथ अथवा घी-शक्कर व काली मिर्च के चूर्ण के साथ लेकर गर्म दूध से सेवन करे-सर्दी में इसे शहद व मक्खन के साथ लेकर दूध पी ले इस प्रयोग को करने के दिनों में दूध-भात या हलवा का सेवन करना चाहिए इस प्रयोग को करने से दुर्बल स्त्री-पुरुष भी हष्ट-पुष्ट हो जाते है-

मानसिक रोग के लिए-

भांग(Cannabis)और काली मिर्च एक-एक ग्राम,जटामासी और सूखी ब्राह्मी दो-दो ग्राम तथा सर्पगंधा एक ग्राम -इन सबको एक साथ पीसकर मिश्री मिले दूध में मिलाकर सेवन करने से ज्ञान सम्बन्धी मानसिक रोग दूर होते है तथा अच्छी नींद आती है-

भांग(Cannabis)को कैसे शुद्ध करे-

औषिधि प्रयोग के लिए भांग को शोधन अवस्य कर लेना चाहिए ताकि इसके सभी दोष समाप्त हो जाए-

1- भांग(Cannabis)के सूखे पत्तो को जल में भिगोकर निचोड़कर धूप में सुखाकर गाय के घी में धीमी आंच पर अच्छी तरह भूनकर नीचे उतार ले इस प्रकार भांग के पत्ते शुद्ध हो जाते है -

2- भांग(Cannabis)को सूती कपडे में बांधकर जल में तब तक धोते रहे जब तक हरा रंग आता रहे जब हरा रंग आना बंद हो जाए तब कपड़े से जल निचोड़कर भांग को बाहर निकालकर छाया में सुखा कर रख ले इस प्रकार सूखी हुई भांग शुद्ध होती है-

भांग(Cannabis)के बारे में दी गई जानकारी सिर्फ औषिधि उपयोग के लिए है जो लोग नशे के लिए इसका इस्तेमाल करते है उनके लिए कहना चाहूँगा इसके मादक गुण आपके जीवन के लिए अहितकर है नशा कैसा भी हो खराब होता है हम किसी भी प्रकार के नशे का समर्थन नहीं करते है सिर्फ उपरोक्त प्रयोग आपके काम के प्रयोग हेतु लिखे है -
Upcharऔर प्रयोग-

ज़ुकाम कुछ सेकंड्स में दूर हो जाता है

By With कोई टिप्पणी नहीं:
आप जीरे(Cumin)का इस्तेमाल सब्ज़ी में तड़का लगाने और चावल बनाने में करते हैं ताकि खाने का स्वाद बढ़ जाए और महक भी आए लेकिन क्या आप जानते हैं कि जीरा आपके ज़ुकाम(Cold)होने पर आपकी घरेलू औषिधि भी है जो आपको सेकंड्स में बंद और बहते नाक से आराम दिला सकता है

कोल्ड(Cold)के आसार बारिश के दिनों में ज़्यादा होते हैं तो इससे पहले कि आप इसकी चपेट में आएं या फिर Cold(ज़ुकाम)की वजह से हमारा कोई रिश्तेदार परेशान है तो आइए जान लेते हैं कि जीरे का इस्तेमाल कैसे कोल्ड(Cold)से निजात दिला सकता है-

ज़ुकाम कुछ सेकंड्स में दूर हो जाता है


दरअसल इस छोटे से जीरे(Cumin)में न सिर्फ ज़ुकाम(Cold)और सिर दर्द भगाने के गुण हैं बल्कि यह फंगस और बैक्टीरिया से भी लड़ता है जीरा(Cumin)इन्फेक्शन्स से भी बचाता है और इससे आपका इम्यून सिस्टम भी स्ट्रॉन्ग रहता है जीरे में विटामिन ए और विटामिन सी भी हैं ये सर्दी-ज़ुकाम(Cold)से बचाते हैं अब जानिए कि जीरे को किस रूप में खाना चाहिए-जिससे आपका ज़ुकाम सेकंड्स में दूर हो जाए-

ज़ुकाम(Cold)होने पर जीरे(Cumin)का यूज़ कैसे करें-


दो कप पानी में एक चम्मच जीरा डालकर उबालें और जब पानी उबल जाए तो उसमें पिसी हुई अदरक और तुलसी डालकर फिर से उबालें ताकि इस पानी में इन्फेक्शन्स से लड़ने की ताकत आ जाए अब आप इस पानी को छाने और फिर इसे धीरे-धीरे चुस्की के साथ पिएं-

पानी में जीरा उबालकर स्टीम भी ले सकते हैं लेकिन इसमें थोड़ी लौंग मिला लें-इससे आपकी बंद नाक खुल जाएगी और ज़ुकाम(Cold)से राहत मिलेगी बस ये ध्यान रहे कि स्टीम(Steam)लेने के बाद थोड़ी देर अपना सिर और छाती चादर से ज़रूर ढक लें-अगर स्टीम लेने के बाद बाहर गए और ठंड लग गई तो चेस्ट कन्जेशन के चांसेस हैं-

अगर आपको ज़ुकाम(Cold)के साथ ठंड भी लग रही है तो रात में गर्म दूध में थोड़ी हल्दी डालकर पिएं-इससे आपको ज़ुकाम के साथ-साथ खांसी से भी रहात मिलेगी-

हल्दी इंफेक्शन्स(Infection)से बचाये-


हल्दी(Turmeric)यह गर्म होती है और यह आपके शरीर को इंफेक्शन्स(Infection)से लड़ने की ताकत देती है हल्दी  दर्द कम करने और घाव को भरने में भी सहायक होती है-

दूध(Milk)में कैल्शियम(Calcium) और विटामिन डी(Vitamin D) होता है जो आपकी हड्डियां मज़बूत रखने के साथ शरीर में बीमारियों से लड़ने की ताकत भी पैदा करता है-

क्या रखें सावधानी-


यह आप दिन में एक 1 गिलास से ज़्यादा न पिएं और इसे आदत न बनाएं वरना बलगम(Mucus)की दिक्कत हो सकती है एक गिलास दूध में आधी छोटी चम्मच हल्दी ही काफी है-

घर पर बनायें ये सीरप(Syrup)-


ज़ुकाम या सर्दी लगने पर नींबू, दालचीनी और शहद तीनों को मिलाकर सिरप बनाएं-इसे पीने से आप जल्दी ठीक हो जाएंगे-

बनाने की विधि-

एक पैन में शहद डालकर तब तक उबालें जब तक कि शहद पतला न हो जाए फिर उसके बाद इसमें दालचीनी और नींबू मिलाएं-अब यह सिरप तैयार है-

शहद(Honey)- यह गर्म होता है और इसमें एंटीऑसीडेंट्स होते हैं जो हमारे इम्यून सिस्टम को स्ट्रॉन्ग करते हैं-

नींबू(Lemon)-  इसमें विटामिन सी होता है जो ज़ुकाम ठीक करने में मददगार होता है-

दालचीनी(Cinnamon)-  यह ब्लड ग्लूकोज़ लेवल कंट्रोल में रखता है और इम्यूनिटी को बढ़ाता है-

आंवला(Gooseberry)भी जुखाम में लाभदायक है-


ज़ुकाम, सर्दी और खांसी से बचने के लिए आप रोज़ सुबह खाली पेट आंवला खाएं-इससे भी आपको किसी भी सीज़न में होने वाली बीमारियों से राहत मिलेगी-आंवला आपके लिवर(Liver)और ब्लड सर्कुलेशन(Blood circulation)को भी सही रखता है-दरअसल ये आंवला विटामिन सी का स्रोत है और ज़ुकाम(Cold)दूर भगाने के लिए विटामिन सी लाभकारी होता है इसे आप किसी भी रूप में खा सकते हैं-चाहे आप बाज़ार से आंवला कैंडी खरीद लें, चाहे तो आंवला रस की बोतल या फिर मुरब्बा और अगर आपके पास समय है, तो आप घर पर ही आंवले का ताज़ा जूस निकाल सकते हैं-हर रोज़ 4-5 आंवला कैंडी या फिर एक चौथाई कप आंवला रस सुबह उठकर खाली पेट पी सकते हैं-हर रोज़ सुबह दूध के एक गिलास के साथ एक मुरब्बा भी बहुत फायदा देगा-

Upcharऔर प्रयोग-

कलौंजी के क्या गुण है

By With कोई टिप्पणी नहीं:
हर घर में मसाले के रूप में कलौंजी(Kalounji)का इस्तेमाल होता है पर क्या आपको कलौंजी के गुण पता हैं अगर नहीं पता है तो आज आप इसके गुणों को पढ़ कर हैरान हो जायेगे कि ये कितने काम की चीज है कलौंजी(Kalounji)के बीजों तेल भी बनाया जाता है जो रोगों के लिए बहुत प्रभावशाली होता है इसका तेल न मिलने पर कलौंजी से काम चलाया जा सकता है-

कलौंजी के क्या गुण है

कलौंजी(Kalounji)की उपयोगिता-

1- कलौंजी(Kalounji)वनस्पति पौधे के बीज है और औषधियों के रूप में बीजों का ही प्रयोग किया जाता है अत: कलौंजी के बीजों को बहुत बारीक पीसकर सिरका, शहद या पानी में मिलाकर उपयोग किया जाता है-

2- कलौंजी(Kalounji)का तेल कफ को नष्ट करने वाला और रक्तवाहिनी नाड़ियों को साफ करने वाला होता है इसके अलावा यह खून में मौजूद दूषित व अनावश्यक द्रव्य को भी दूर होता है कलौंजी का तेल सुबह खाली पेट और रात को सोते समय लेने से बहुत से रोग समाप्त होते हैं-

3- गर्भावस्था के समय स्त्री को कलौंजी(Kalounji)के तेल का उपयोग नहीं कराना चाहिए इससे गर्भपात होने की सम्भावना रहती है-

4- कलौंजी मूत्र लाने वाला, वीर्यपात को ठीक करने वाला और मासिक-धर्म के कष्टों को दूर करने वाला होता है-

5- कलौंजी(Kalounji) का तेल कैसे बनाया जाता है इसके बारे में भी आपको अवगत कराते है-

कलौंजी का तेल(Kalounji seed oil)बनाने की विधि-

250ग्राम कलौंजी(Kalounji)पीसकर ढाई लीटर पानी में उबालें-उबालते-उबलते जब यह केवल एक लीटर पानी रह जाए तो इसे ठंडा होने दें-कलौंजी को पानी में गर्म करने पर इसका तेल निकलकर पानी के ऊपर तैरने लगता है-इस तेल पर हाथ फेरकर तब तक कटोरी में पोछें जब तक पानी के ऊपर तैरता हुआ तेल खत्म न हो जाए-फिर इस तेल को छानकर शीशी में भर लें और इसका प्रयोग औषधि के रूप में करें-

ध्यान रहे कि अधिक मात्रा में कलौंजी सेवन करने से दर्द, भ्रम, उत्तेजना आदि पैदा हो सकता है-त्वचा, किडनी, आंत, आमाशय और गर्भाशय पर कलौंजी का उत्तेजक प्रभाव पड़ता है-कलौंजी का सेवन करते समय नींबू को न खाएं-

मात्रा-

यह 1 से 3ग्राम की मात्रा में उपयोग किया जाता है-

इसकी अन्य उपयोगिता-

1- जली हुई कलौंजी(Kalounji)को हेयर ऑइल में मिलाकर नियमित रूप से सिर पर मालिश करने से गंजापन दूर होकर बाल उग आते हैं-

2- कलौंजी के चूर्ण को नारियल के तेल में मिलाकर त्वचा पर मालिश करने से त्वचा के विकार नष्ट होते हैं-

3- कलौंजी(Kalounji)का तेल एक चौथाई चम्मच की मात्रा में एक कप दूध के साथ कुछ महीने तक प्रतिदिन पीने और रोगग्रस्त अंगों पर कलौंजी के तेल से मालिश करने से लकवा रोग ठीक होता है-

4- कलौंजी का तेल(Kalounji Oil)कान में डालने से कान की सूजन दूर होती है-इससे बहरापन में भी लाभ होता है-

5- कलौंजी के बीजों(Kalounji Seeds)को सेंककर और कपड़े में लपेटकर सूंघने से और कलौंजी का तेल और जैतून का तेल बराबर की मात्रा में नाक में टपकाने से सर्दी-जुकाम समाप्त होता है-

6- 10 ग्राम कलौंजी को पीसकर 3 चम्मच शहद के साथ रात सोते समय कुछ दिन तक नियमित रूप से सेवन करने से पेट के कीडे़ नष्ट हो जाते हैं-

7- कलौंजी का काढ़ा बनाकर सेवन करने से प्रसव की पीड़ा दूर होती है-

8- रक्तचाप (ब्लडप्रेशर)में  एक कप गर्म पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल(Kalounji Oil)मिलाकर दिन में 2 बार पीने से रक्तचाप सामान्य बना रहता है तथा 28 मिलीलीटर जैतुन का तेल और एक चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर पूर शरीर पर मालिश आधे घंटे तक धूप में रहने से रक्तचाप में लाभ मिलता है- यह क्रिया हर तीसरे दिन एक महीने तक करना चाहिए-

9- आधे कप गर्म पानी में एक चम्मच शहद व आधे चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर सुबह खाली पेट और रात को सोते समय लें इससे पोलियों का रोग ठीक होता है-

10- सिरके में कलौंजी को पीसकर रात को सोते समय पूरे चेहरे पर लगाएं और सुबह पानी से चेहरे को साफ करने से मुंहासे कुछ दिनों में ही ठीक हो जाते हैं-

11- आधा कप पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल व चौथाई चम्मच जैतून का तेल मिलाकर इतना उबालें कि पानी खत्म हो जाएं और केवल तेल ही रह जाएं- इसके बाद इसे छानकर 2 बूंद नाक में डालें- इससे सर्दी-जुकाम ठीक होता है- यह पुराने जुकाम भी लाभकारी होता है-

12- एक चम्मच सिरका, आधा चम्मच कलौंजी का तेल  दो चम्मच शहद मिलाकर सुबह खाली पेट और रात को सोते समय पीने से जोड़ों का दर्द ठीक होता है-

13- स्फूर्ति के लिए नांरगी के रस में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर सेवन करने से आलस्य और थकान दूर होती है-

14- कलौंजी को रीठा के पत्तों के साथ काढ़ा बनाकर पीने से गठिया रोग समाप्त होता है-

15- आंखों की लाली, मोतियाबिन्द, आंखों से पानी का आना, आंखों की रोशनी कम होना आदि- इस तरह के आंखों के रोगों में एक कप गाजर का रस, आधा चम्मच कलौंजी का तेल और दो चम्मच शहद मिलाकर दिन में 2बार सेवन करें- इससे आंखों के सभी रोग ठीक होते हैं- आंखों के चारों और तथा पलकों पर कलौंजी का तेल रात को सोते समय लगाएं- इससे आंखों के रोग समाप्त होते हैं- रोगी को अचार, बैंगन, अंडा व मछली नहीं खाना चाहिए-

16- एक कप गर्म पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल डालकर रात को सोते समय पीने से स्नायुविक व मानसिक तनाव दूर होता है-

17- Kalounji Oil को गांठो पर लगाने और एक चम्मच कलौंजी का तेल गर्म दूध में डालकर पीने से गांठ नष्ट होती है-

18- पिसी हुई कलौंजी आधा चम्मच और एक चम्मच शहद मिलाकर चाटने से मलेरिया का बुखार ठीक होता है-

19- यदि रात को नींद में वीर्य अपने आप निकल जाता हो तो एक कप सेब के रस में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में 2 बार सेवन करें- इससे स्वप्नदोष दूर होता है-

20- प्रतिदिन कलौंजी के तेल की चार बूंद एक चम्मच नारियल तेल में मिलाकर सोते समय सिर में लगाने स्वप्न दोष का रोग ठीक होता है- उपचार करते समय नींबू का सेवन न करें-

21- चीनी 5 ग्राम, सोनामुखी 4 ग्राम, 1 गिलास हल्का गर्म दूध और आधा चम्मच कलौंजी का तेल- इन सभी को एक साथ मिलाकर रात को सोते समय पीने से कब्ज नष्ट होती है-

22- एक कप पानी में 50 ग्राम हरा पुदीना उबाल लें और इस पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर सुबह खाली पेट एवं रात को सोते समय सेवन करें- इससे 21 दिनों में खून की कमी दूर होती है- रोगी को खाने में खट्टी वस्तुओं का उपयोग नहीं करना चाहिए-

23- किसी भी कारण से पेट दर्द हो एक गिलास नींबू पानी में 2 चम्मच शहद और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में 2 बार पीएं- उपचार करते समय रोगी को बेसन की चीजे नहीं खानी चाहिए- या चुटकी भर नमक और आधे चम्मच कलौंजी के तेल को आधा गिलास हल्का गर्म पानी मिलाकर पीने से पेट का दर्द ठीक होता है या फिर 1 गिलास मौसमी के रस में 2 चम्मच शहद और आधा चम्मच कलौंजी का तेल(Kalounji Seeds Oil)मिलाकर दिन में 2 बार पीने से पेट का दर्द समाप्त होता है-

24- आधा चम्मच कलौंजी का तेल और आधा चम्मच अदरक का रस मिलाकर सुबह-शाम पीने से उल्टी बंद होती है-

25- तीन चम्मच करेले का रस और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर सुबह खाली पेट एवं रात को सोते समय पीने से हार्निया रोग ठीक होता है-

26- कलौंजी के तेल को ललाट से कानों तक अच्छी तरह मलनें और आधा चम्मच कलौंजी के तेल को 1 चम्मच शहद में मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने से सिर दर्द ठीक होता है-

27- कलौंजी खाने के साथ सिर पर कलौंजी का तेल और जैतून का तेल मिलाकर मालिश करें- इससे सिर दर्द में आराम मिलता है और सिर से सम्बंधित अन्य रोगों भी दूर होते हैं-

28- एक कप गर्म पानी में 2 चम्मच शहद और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में तीन बार सेवन करने से मिर्गी के दौरें ठीक होते हैं- मिर्गी के रोगी को ठंडी चीजे जैसे- अमरूद, केला, सीताफल आदि नहीं देना चाहिए-

29- एक कप दूध में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर प्रतिदिन 2 बार सुबह खाली पेट और रात को सोते समय 1 सप्ताह तक लेने से पीलिया रोग समाप्त होता है- पीलिया से पीड़ित रोगी को खाने में मसालेदार व खट्टी वस्तुओं का उपयोग नहीं करना चाहिए-

30- एक गिलास अंगूर के रस में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में 3 बार पीने से कैंसर का रोग ठीक होता है- इससे आंतों का कैंसर, ब्लड कैंसर व गले का कैंसर आदि में भी लाभ मिलता है- इस रोग में रोगी को औषधि देने के साथ ही एक किलो जौ के आटे में 2 किलो गेहूं का आटा मिलाकर इसकी रोटी, दलिया बनाकर रोगी को देना चाहिए- इस रोग में आलू, अरबी और बैंगन का सेवन नहीं करना चाहिए- कैंसर के रोगी को कलौंजी डालकर हलवा बनाकर खाना चाहिए-

31- कलौंजी का तेल और लौंग का तेल 1-1 बूंद मिलाकर दांत व मसूढ़ों पर लगाने से दर्द ठीक होता है आग में सेंधानमक जलाकर बारीक पीस लें और इसमें 2-4 बूंदे कलौंजी का तेल डालकर दांत साफ करें- इससे साफ व स्वस्थ रहते हैं-

32- दांतों में कीड़े लगना व खोखलापन के लिए रात को सोते समय कलौंजी के तेल में रुई को भिगोकर खोखले दांतों में रखने से कीड़े नष्ट होते हैं-

33- रात में सोने से पहले आधा चम्मच कलौंजी का तेल और एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से नींद अच्छी आती है-

34- कलौंजी आधा से एक ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम सेवन करने से मासिकधर्म शुरू होता है इससे गर्भपात होने की संभावना नहीं रहती है-

35- कलौंजी और गाजर के बीज समान मात्रा में लेकर चूर्ण बना लें और यह 3 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम सेवन करें- इससे गर्भपात हो जाता है-

36- 50 ग्राम कलौंजी 1 लीटर पानी में उबाल लें और इस पानी से बालों को धोएं- इससे बाल लम्बे व घने होते हैं-

37- बेरी-बेरी रोग में  कलौंजी को पीसकर हाथ-पैरों की सूजन पर लगाने से सूजन मिटती है-

38- जिन माताओं बहनों को मासिकधर्म कष्ट से आता है उनके लिए  कलौंजी आधा से एक ग्राम की मात्रा में सेवन करने से मासिकस्राव का कष्ट दूर होता है और बंद मासिकस्राव शुरू हो जाता है-

39- कलौंजी का चूर्ण 3 ग्राम की मात्रा में शहद मिलाकर चाटने से ऋतुस्राव की पीड़ा नष्ट होती है-

40- मासिकधर्म की अनियमितता में लगभग आधा से डेढ़ ग्राम की मात्रा में कलौंजी के चूर्ण(Kalounji Powder)का सेवन करने से मासिकधर्म नियमित समय पर आने लगता है-

41- 50 ग्राम कलौंजी को सिरके में रात को भिगो दें और सूबह पीसकर शहद में मिलाकर 4-5 ग्राम की मात्रा सेवन करें इससे भूख का अधिक लगना कम होता है-

42- कलौंजी आधा से एक ग्राम की मात्रा में प्रतिदिन 2-3 बार सेवन करने से मासिकस्राव शुरू होता है गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन नहीं कराना चाहिए क्योंकि इससे गर्भपात हो सकता है-

43- यदि मासिकस्राव बंद हो गया हो और पेट में दर्द रहता हो तो एक कप गर्म पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल और दो चम्मच शहद मिलाकर सुबह-शाम पीना चाहिए- इससे बंद मासिकस्राव शुरू हो जाता है-

44- स्त्रियों के चेहरे व हाथ-पैरों की सूजन: कलौंजी पीसकर लेप करने से हाथ पैरों की सूजन दूर होती है-

45- कलौंजी का तेल और जैतून का तेल मिलाकर पीने से नपुंसकता दूर होती है-

46- कलौंजी आधे से एक ग्राम की मात्रा में प्रतिदिन सुबह-शाम पीने से स्तनों का आकार बढ़ता है और स्तन सुडौल बनता है-

47- कलौंजी को आधे से 1 ग्राम की मात्रा में प्रतिदिन सुबह-शाम खाने से स्तनों में दुध बढ़ता है-

48- 50 ग्राम कलौंजी के बीजों को पीस लें और इसमें 10 ग्राम बिल्व के पत्तों का रस व 10 ग्राम हल्दी मिलाकर लेप बना लें- यह लेप खाज-खुजली में प्रतिदिन लगाने से रोग ठीक होता है-

49- नाड़ी का छूटना के लिए आधे से 1 ग्राम कालौंजी को पीसकर रोगी को देने से शरीर का ठंडापन दूर होता है और नाड़ी की गति भी तेज होती है- इस रोग में आधे से 1ग्राम कालौंजी हर 6घंटे पर लें और ठीक होने पर इसका प्रयोग बंद कर दें- ध्यान रखें कि इस दवा का प्रयोग गर्भावस्था में नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे गर्भ नष्ट हो सकता है-

50- एक ग्राम पिसी कलौंजी शहद में मिलाकर चाटने से हिचकी आनी बंद हो जाती है तथा कलौंजी आधा से एक ग्राम की मात्रा में मठ्ठे के साथ प्रतिदिन 3-4 बार सेवन से हिचकी दूर होती है या फिर  कलौंजी का चूर्ण 3 ग्राम मक्खन के साथ खाने से हिचकी दूर होती है और यदि आप काले उड़द चिलम में रखकर तम्बाकू के साथ पीने से हिचकी में लाभ होता है-

51- कलौंजी को पीसकर लेप करने से नाड़ी की जलन व सूजन दूर होती है-

52- लगभग 2 ग्राम की मात्रा में कलौंजी को पीसकर 2 ग्राम शहद में मिलाकर सुबह-शाम खाने से स्मरण शक्ति बढ़ती है-

53- कलौंजी और सूखे चने को एक साथ अच्छी तरह मसलकर किसी कपड़े में बांधकर सूंघने से छींके आनी बंद हो जाती है-

54- कलौंजी के बीजों को गर्म करके पीस लें और कपड़े में बांधकर सूंघें- इससे सिर का दर्द दूर होता है- कलौंजी और काला जीरा बराबर मात्रा में लेकर पानी में पीस लें और माथे पर लेप करें- इससे सर्दी के कारण होने वाला सिर का दर्द दूर होता है-

55- कलौंजी को लगभग एक ग्राम की मात्रा में प्रतिदिन सुबह-शाम प्रसूता स्त्री को देने से स्तनों में दूध बनता है-

56- कलौंजी, जीरा और अजवाइन को बराबर मात्रा में पीसकर एक चम्मच की मात्रा में खाना खाने के बाद लेने से पेट का गैस नष्ट होता है-

57- 250 मिलीलीटर दूध में आधा चम्मच कलौंजी का तेल और एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से पेशाब की जलन दूर होती है-

58- एक चुटकी नमक, आधा चम्मच कलौंजी का तेल और एक चम्मच घी मिलाकर छाती और गले पर मालिश करें और साथ ही आधा चम्मच कलौंजी का तेल 2 चम्मच शहद के साथ मिलाकर सेवन करें- इससे दमा रोग में आराम मिलता है-

59- 250 ग्राम कलौंजी पीसकर 125 ग्राम शहद में मिला लें और फिर इसमें आधा कप पानी और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर प्रतिदिन 2 बार खाली पेट सेवन करें- इस तरह 21 दिन तक पीने से पथरी गलकर निकल जाती है-

60- यदि चोट या मोच आने के कारण शरीर के किसी भी स्थान पर सूजन आ गई हो तो उसे दूर करने के लिए कलौंजी को पानी में पीसकर लगाएं- इससे सूजन दूर होती है और दर्द ठीक होता है- कलौंजी को पीसकर हाथ पैरों पर लेप करने से हाथ-पैरों की सूजन दूर होती है-

61- दही में कलौंजी को पीसकर बने लेप को पीड़ित अंग पर लगाने से स्नायु की पीड़ा समाप्त होती है-

62- बीस ग्राम कलौंजी को अच्छी तरह से पकाकर किसी कपड़े में बांधकर नाक से सूंघने से बंद नाक खुल जाती है और जुकाम ठीक होता है-

63- जैतून के तेल में कलौंजी का बारीक चूर्ण मिलाकर कपड़े में छानकर बूंद-बूंद करके नाक में डालने से बार-बार जुकाम में छींक आनी बंद हो जाती हैं और जुकाम ठीक होता है- कलौंजी को सूंघने से जुकाम में आराम मिलता है-

64- कलौंजी की भस्म को मस्सों पर नियमित रूप से लगाने से बवासीर का रोग समाप्त होता है-

65- वात रोग में कलौंजी के तेल से रोगग्रस्त अंगों पर मालिश करने से वात की बीमारी दूर होती है-

66- यदि बार-बार छींके आती हो तो कलौंजी के बीजों को पीसकर सूंघें-


Upcharऔर प्रयोग-