This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

29 सितंबर 2016

लड़कियों में बढ़ती पीसीओएस(PCOS) की समस्या

By
समय अनुसार बहुत कुछ परिवर्तन होता है कई सालो पहले पीसीओएस(Polycystic ovary syndrome)सिर्फ 30 से 35 साल से उपर की महिलाओं को हुआ करता था लेकिन अब वक्त बदल गया और आजकल ये बीमारी युवावस्था की किशोरियों में भी होने लगी है-
लड़कियों में बढ़ती पीसीओएस(PCOS) की समस्या

पोलिसिस्‍टिक ओवरी सिंड्रोम(PCOS)क्या है-


1- जब सेक्स हार्मोन में बदलाव होता है तो ये Polycystic ovary syndrome (PCO's) होता है इसका असर मासिक चक्र पे पड़ता है ओवरी(Overy)में एक छोटा सा Ulcers बन जाता है और अगर इस समस्या पे ध्यान नहीं दिया जाता है ओवरी और प्रजनन छमता पे इसका असर सीधा देखने को मिलता है कभी-कभी तो ये Cancer में परिवर्तित हो जाती  है -

लड़कियों में बढ़ती पीसीओएस(PCOS) की समस्या

2- पुरुष और महिलाओं दोनों में ही सामान रूप Reproductive Hormones बनते है Androjens Hormone पुरुषो में बनता है परन्तु PCO's ग्रस्त महिलाओं की Overy में सामान्य से जादा हारमोन बनते है ये घातक हो जाती है जब ये छोटी-छोटी थैली के आकार रचनाये होती है इनमे एक Liquid substance होता है-जहाँ Overy में ये Cyst बनते है तो इनका आकार बढ़ता जाता है -

3- यही स्थिति Polycystic ovary syndrome कहलाती है तब ये  महिलाए Conceive नहीं कर पाती है इसके कुछ लक्षण भी नजर आते है जैसे-अनियमित माहवारी,मुंहासे होना,यौन इच्छा की कमी,चेहरे पर बाल उगना,गर्भधारण में मुश्किल आदि समस्या नजर आती है-छोटी उम्र में PCO's होने के कारण पे भी एक नजर डाले -

4- अधिक मीठा ,जंक फ़ूड ,पीजा और बर्गर ,तैलीय आदि आपके शरीर को नुकसान पहुचाते है इसलिए अपने खाने में महिलाओं को हरी पत्ते-दार सब्जी ,दाले,फल ,सलाद आदि अवस्य खाना चाहिए -

लड़कियों में बढ़ती पीसीओएस(PCOS) की समस्या

5- आप सभी जानते है कि मोटापा हर मर्ज में परेशानी का कारण बनता है-ज्यादा वसा युक्त भोजन, व्यायाम की कमी और जंक फूड का सेवन तेजी से वजन बढ़ाता है अत्यधिक चर्बी से एस्ट्रोजन हार्मोन की मात्रा में बढ़ोतरी होती है जो ओवरी में सिस्ट बनाने के लिए जिम्मेदार माना जाता है इसलिए वजन घटाने से इस बीमारी को बहुत हद तक काबू में किया जा सकता है-जो महिलाएं बीमारी होने के बावजूद अपना वजन घटा लेती हैं, उनकी ओवरीज में वापस अंडे बनना शुरू हो जाते हैं-

आपकी लाइफस्‍टाइल-

आप सबसे पहले अपनी दिनचर्या को दुरुस्त करे तभी PCO's को सही कर सकती है क्युकि बनने वाला हार्मोन सही हो गया तो PCO's अपने आप ठीक हो जाता है व्यायाम पे ध्यान दे अपनी डाईट का सही पैमाना बनाए तभी इसमें सुधार होगा-

जो महिलाए या लडकियां आफिस में काम करती है उनको मानसिक तनाव से बचना चाहिए तनाव और काम के बोझ से वो अपने खाने-पीने का ध्यान नहीं रखती है लेट नाईट पार्टी और ड्रिंक ,स्मोकिंग को तो अपनी लाइफ स्टाइल से बाय-बाय कहना ही उचित है -

Whatsup No- 7905277017

Read Next Post-

स्त्री में बांझपन रोग के लक्षण

Upcharऔर प्रयोग-

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें