Breaking News

सिगरेट-तम्बाखू में क्या-क्या होता है क्या आप जानते हैं

नशा में सबसे अधिक खतरनाक तम्बाखू(Tobacco)का नशा माना जाता है इसके सेवन से जीवन शक्ति का नाश होता है और फिर एक बार इसकी लत पड़ने के बाद किसी भी व्यक्ति के लाख कोशिश करने बावजूद भी सिगरेट-तम्बाखू(Tobacco)सेवन करना नही छोड़ पाता है और सबसे विचित्र बात ये है कि सबको पता है कि तम्बाखू का सेवन हानिकारक होता है लेकिन फिर भी इसका सेवन करने वालो की संख्या करोडो में है-

सिगरेट-तम्बाखू में क्या-क्या होता है क्या आप जानते हैं

तम्बाखू(Tobacco)Nicotiana नामक पेड़ की प्रजाति की पत्तियों को सुखा कर बनाया जाता है तम्बाखू नामक जहर धीरे धीरे शरीर के सभी अंगो को नुकसान पहुंचाता है और एक दिन व्यक्ति की मृत्यु के साथ ही खत्म होता है-

सिगरेट-तम्बाखू(Tobacco)में पाए जाने वाले कितने विष है-


निकोटिन
पपरीडीन
अमोनिया
परफैरोल
कोलोडान
मार्श गैस
कार्बन मोनोऑक्साइड
कार्बोलिक एसिड
फोस्फोरल प्रोटिक एसिड
ऐजलिन सायनोजोन

तम्बाखू(Tobacco)का शरीर पर क्या प्रभाव है-


निकोटिन(Nicotine)से आपको  कैंसर, ब्लड प्रेशर आदि की परेशानी होती है और कोलोडान(Kolodan)की उपस्थिति से आपको स्नायु दुर्बलता और सिरदर्द की समस्या हो सकती है तथा कार्बन मोनोऑक्साइड(Carbon monoxide)से दिल की बीमारी, दमा, अंधापन आदि होता है तम्बाखू में मौजूद अमोनिया(Ammonia)आपके शरीर की पाचन शक्ति में कमी लाता है और पित्ताशय विकृत जैसी बिमारी का शिकार हो सकते है-

तम्बाखू में पाया जाने वाला पपरीडीन(Ppreedin)आपकी आँखों में खुजली और अजीर्ण की शिकायत पैदा करता है तथा इसमें मौजूद परफैरोल(Prfarol)आपके दांतों को पीले, मैले और कमजोर करता है-

सिगरेट पीने पर मार्श गैस(Marsh Gas)पैदा होती है जिससे नपुंसकता और शक्तिहीनता उत्पन्न होती है तम्बाखू में पाया जाने वाला कार्बोलिक एसिड(Carbolic acid)चिडचिडापन, विस्मरण और निद्रा में परेशानी लाता है-

ऐजलिन सायनोजोन(Aejlina Cyanogen)से रक्त विकार और भी अनेक समस्यायें हो सकती है तथा फोस्फोरल प्रोटिक एसिड(Fosforl protein acid)-उदासी, टी. बी., थकान और खांसी आदि पैदा करता है-

Read Next Post-

Upcharऔर प्रयोग-

कोई टिप्पणी नहीं