#कंप्यूटर और लैपटॉप पर जादा रहते है तब आंखों की देखभाल भी करें Computers and laptops remain strongly Then Eye Care

11:55 am 1 comment

यदि आप कंप्यूटर और लैपटॉप पर जादा वक्त रहते है तो ध्यान दें


आजकल आफिस और घर में लगभग बहुत से लोगों को काफी समय कंप्यूटर और लैपटॉप पर बीतता है इसलिए दिन भर लगातार कंप्यूटर और लैपटॉप पर समय बीताने के कारण आंखो को भी काफी नुकसान पहुंचाता है इस नुकसान की पूर्ति करने के लिए आहार और आंखों के लिए जरूरी चीजों पर आपको ध्यान भी देना चाहिए क्युकि शरीर में हमारी इन आँखों का बहुत महत्व है-

Computers and laptops remain strongly Then Eye Care


आइये जानते है कि हम कंप्यूटर और लैपटॉप का प्रयोग करते हुए अपनी आंखों की देखभाल(Eye Care)कैसे करें आंखों की रोशनी को बढ़ाने और उसे बरकरार रखने के लिए जानिए कुछ प्रयोग-

आँखों की देखभाल के लिए क्या करें-

  1. यदि आपकी आंखों की रोशनी बिल्‍कुल ठीक है और आपको पढ़ने में भी किसी प्रकार की कोई समस्‍या भी नहीं होती है तो फिर भी साल में कम से कम एक बार आंखों की जांच अवश्‍य करवानी चाहिए यह आंखों को स्‍वस्‍थ रखने का सबसे बेहतर तरीका है इससे आंखों में होने वाली समस्‍या से भी निजात मिल जाती है और समय पर उसका इलाज भी हो जाता है-
  2. आप अपनी दोनों हथेलियों को आपस में रगड़ें और जब हथेलियां गर्म हो जाएं तो उन्‍हे हल्‍के से आंखों पर रख लें ऐसा करने से आंखों का तनाव काफी हद तक दूर हो जाता है तथा इसके अलावा, आंखों के तनाव को दूर करने का एक और आसान तरीका है आप अपनी आंखों को बंद रखे और किसी सुंदर सी जगह होने की कल्‍पना करें इससे भी आपकी आंखों को काफी आराम मिलता है-
  3. शुद्ध जल भी आपकी सभी समस्‍याओं का निदान करता है कुछ समय बाद आप अपनी आंखों को धोते रहें इससे आंखों में डिहाईड्रेशन नहीं होगा और वह स्‍वस्‍थ रहेगी जब आप काम खत्म कर ले तो आप आंखों पर पानी की छींटे जरूर मारे-
  4. आपनी पलकों को लगातार झपकना एक सामान्‍य प्रक्रिया है जो आपकी आंखों को तरो-ताजा रखता है और आपकी आंखों को तनाव मुक्‍त रखता है कम्‍प्‍यूटर का इस्‍तेमाल करने वाले लोग अपनी आंखों की पलकों को कम झपकाते है ऐसे लोगों को हर सेकेंड कम से कम तीन से चार बार अपनी आंखों को अवश्य ही झपकाना चाहिए इससे आपकी आँखों को राहत मिलती है-
  5. अगर आप कम्‍प्‍यूटर और मोबाइल का इस्‍तेमाल ज्‍यादा करते है तो फिर उसकी ब्राइटनेस को कम रखें इससे आपकी आंखों को ज्‍यादा जोर नहीं लगाना पडेगा और स्‍क्रीन की तीव्र रोशनी से आंखों को कोई नुकसान भी नहीं पहुंचेगा-

  6. यदि आप मांसाहारी है तो हफ्ते में कम से कम तीन बार मछली का सेवन करें इसके सेवन से आंखों में ड्राई-आई सिंड्रोम की समस्‍या दूर हो जाएगी और यदि आप शकाहारी है तो पालक का सेवन करें यह पोषक तत्‍वों से भरपूर होती है जिससे आंखों की रोशनी बढ़ती है अपने आहार में अंडे को भी शामिल करें क्योंकि इससे ल्‍यूटिन और जियाक्‍साथिन मिलता है जो आंखों की रोशनी को बढ़ाता है-
  7. आप पूरी नींद लें इससे आंखों की रोशनी अच्‍छी रहती है आपको सिरदर्द नहीं होगा आंखों से धुंधला दिखने की शिकायत नहीं होगी तथा साथ ही आंखों की मांसपेशियों को आराम भी मिलेगा-
  8. किसी भी ऐ.सी. हवा से बचना चाहिए जिससे आंखों की नमी चली जाती हो जैसे-एसी की सीधी हवा भी आपकी अपनी आखों पे न पड़े इसलिए आप अपने घर, ऑफिस या गाड़ी में एसी के पैनल को हमेशा नीचे रखें ताकि आपकी आंखों पर सीधी हवा न लगे क्युकि शुष्‍क हवा लगने से अंधापन या कार्निया में बीमारी हो सकती है-
  9. आप जब भी कहीं भी बाहर धूप में निकलें तो पहले सनग्‍लास जरूर पहन लें इससे आपकी आंखें पराबैंगनी किरणों से बची रहेगी और उन्‍हे कोई नुकसान भी नहीं होगा इसलिए आप जब भी सनग्‍लास खरीदने बाजार में जाएं तो यह भी सुनिश्चित कर लें कि वह पूर्णत: यूवी प्रोटेक्‍शन देने में सक्षम है या नहीं साधारण कांच के बने सनग्लास आपकी आँखों के लिए और भी जादा नुकसान दायक साबित हो सकते है-
  10. REED MORE

Upcharऔर प्रयोग-

1 टिप्पणी :

TAGS

आस्था-ध्यान-ज्योतिष-धर्म (38) हर्बल-फल-सब्जियां (24) अदभुत-प्रयोग (22) जानकारी (22) स्वास्थ्य-सौन्दर्य-टिप्स (21) स्त्री-पुरुष रोग (19) पूजा-ध्यान(Worship-meditation) (17) मेरी बात (17) होम्योपैथी-उपचार (15) घरेलू-प्रयोग-टिप्स (14) चर्मरोग-एलर्जी (12) मुंह-दांतों की देखभाल (12) चाइल्ड-केयर (11) दर्द-सायटिका-जोड़ों का दर्द (11) बालों की समस्या (11) टाइफाइड-बुखार-खांसी (9) पुरुष-रोग (8) ब्लडप्रेशर (8) मोटापा-कोलेस्ट्रोल (8) मधुमेह (7) थायराइड (6) गांठ-फोड़ा (5) जडी बूटी सम्बन्धी (5) पेशाब में जलन(Dysuria) (5) हीमोग्लोबिन-प्लेटलेट (5) अलौकिक सत्य (4) पेट दर्द-डायरिया-हैजा-विशुचिका (4) यूरिक एसिड-गठिया (4) सूर्यकिरण जल चिकित्सा (4) स्त्री-रोग (4) आँख के रोग-अनिंद्रा (3) पीलिया-लीवर-पथरी-रोग (3) फिस्टुला-भगंदर-बवासीर (3) अनिंद्रा-तनाव (2) गर्भावस्था-आहार (2) कान-नाक-गले का रोग (1) टान्सिल (1) ल्यूकोडर्मा-श्वेत कुष्ठ-सफ़ेद दाग (1) हाइड्रोसिल (1)
-->