This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

16 जून 2017

अचानक शरीर में नस का खिंच जाना

By
आधुनिक जीवन शैली जिसमें व्यक्ति आराम पसंद जीवन जीना चाहता है और सभी काम मशीनों के द्वारा करता है तथा खाओ पीओ और मौज करो की इच्छा रखता है जो आपके जीवन में इस प्रकार के जटिल रोगों को जन्म दे रही हैं रात को सोते समय या अचानक ही कभी-कभी नस(Vein)चढ़ जाती है इसकी वजह से लगता है कि बस जान निकल जायेगी और कई लोगों को टांगों और पिंडलियों में मीठा दर्द सा भी महसूस होता है तथा पैरों में दर्द के साथ ही जलन, सुन्न, झनझनाहट(Sensation)या सुई चुभने जैसा एहसास होता है-

अचानक शरीर में नस का खिंच जाना

नस पर नस चढ़ना(Vein Climbing on Vein) के घरेलू उपचार-


नस पर नस चढ़ना एक बहुत साधारण सी प्रक्रिया है लेकिन जब भी शरीर में कहीं भी नस पर नस चढ़ना जाए तो आपकी जान ही निकाल देती है और अगर रात को सोते समय पैर की नस पर नस(Vein climbing on Vein)चढ़ जाए तो व्यक्ति चकरघिन्नी की तरह घूम कर उठ बैठता है यदि आपके साथ हो जाये तो तुरंत ये उपाय करें-

क्या करें-


1- अगर आपकी नस पर नस चढ़ जाती है तो आप जिस पैर की नस चढ़ी है तो  उसी तरफ के हाथ की बीच की ऊँगली के नाखून के नीचे के भाग को दबाए और छोड़ें ऐसा जब तक करें जब तक ठीक न हो जाए-

2- आप लंबाई में अपने शरीर को आधा आधा दो भागों में चिन्हित करें अब जिस भाग में नस चढ़ी है उसके विपरीत भाग के कान के निचले जोड़ पर उंगली से दबाते हुए उंगली को हल्का सा ऊपर और हल्का सा नीचे की तरफ बार बार 10 सेकेंड तक करते रहें-नस उतर जाएगी-

3- सोते समय पैरों के नीचे मोटा तकिया रखकर सोएं तथा जब भी आराम करें तो पैरों को ऊंचाई पर रखें-

4- जिस अंग में सुन्नपन हो तो प्रभाव वाले स्थान पर बर्फ की ठंडी सिकाई करे ये सिकाई 15 मिनट दिन में तीन-चार बार करे-

5- अगर गर्म-ठंडी सिकाई तीन से पांच मिनट की करें तो इस समस्या और दर्द दोनों से जल्द ही राहत मिलेगी-

6- आहिस्ते से ऎंठन वाली पेशियों यानी तंतुओं पर हल्का सा खिंचाव दें और आहिस्ता से मालिश करें-

7- वेरीकोज वेन के लिए पैरों को ऊंचाई पर रखे तथा पैरों में इलास्टिक पट्टी बांधे जिससे पैरों में खून जमा न हो पाए-

क्या परहेज करें-


1- यदि आप मधुमेह या उच्च रक्तचाप से ग्रसित हैं तो परहेज और उपचार से नियंत्रण करें तथा शराब, तंबाकू, सिगरेट, नशीले तत्वों का सेवन नहीं करें-

2- सही नाप के आरामदायक, मुलायम जूते पहनें और यदि आप में अतिरिक्त वसा है तो अपना वजन घटाएं तथा रोज सैर पर जाएं या जॉगिंग करें-इससे टांगों की नसें मजबूत होती हैं-

3- फाइबर युक्त भोजन करें जैसे चपाती, ब्राउन ब्रेड, सब्जियां व फल आदि और मैदा व पास्ता जैसे रिफाइंड फूड का सेवन बिलकुल भी न करें-

4- लेटते समय आप अपने पैरों को ऊंचा उठा कर रखें तथा पैरों के नीचे तकिया रख लें-इस स्थिति में सोना आपके लिए बहुत फायदेमंद रहता है-

भोजन में क्या लें-


आप अपने भोजन में नीबू-पानी, नारियल-पानी, फलों का विशेषकर मौसमी, अनार, सेब, पपीता केला आदि अवश्य ही शामिल करें-

नियमित सब्जियों में आप पालक, टमाटर, सलाद, फलियाँ, आलू, गाजर, चाकुँदर आदि का खूब सेवन करें-

दो-तीन अखरोट की गिरी, दो-तीन पिस्ता, पांच-छ बादाम की गिरी, पांच-दस किशमिश का रोज़ सेवन करें-

Read Next Post-


Upcharऔर प्रयोग-

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें