This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

loading...

4 दिसंबर 2016

प्रसवोत्तर मालिश कराने से पहले ध्यान दें

By
प्रसवोत्तर मालिश(After Delivery Massage)में निपुण बहुत सी मालिश करने वाली सामान्यत: घर पर आकर ही मालिश करती हैं लेकिन यदि आप चाहे तो अपने मौहल्ले या कॉलोनी या फिर नजदीकी ब्यूटी पार्लर से अच्छी मालिशवाली के बारे में भी पता कर सकती हैं तथा शिशु के पास रहकर ही घर पर आराम से मालिश के फायदे उठा सकती हैं-

प्रसवोत्तर मालिश कराने से पहले ध्यान दें

कुछ बातें ध्यान रक्खें-


प्रसवोत्तर मालिश(After Delivery Massage)में निपुण मालिश वाली को आप पूरे 40 दिन के पैकेज के लिए या फिर प्रतिदिन के हिसाब से कीमत के बारे मोल-भाव भी कर सकती हैं लेकिन उसके बारे में दूसरे लोगों से पता कर लें और उससे वैध पहचान पत्र ले लें-

जब आपको मालिश करवानी हो तो अपने पति-माँ-सास या परिवार के किसी अन्य विश्वसनीय सदस्य से शिशु की देखभाल के लिए मदद अवस्य लें लें या फिर मालिश तब करवाएं जब आपका शिशु सो रहा हो-

अधिक लाभ आपको चिंतामुक्त होकर मालिश कराने में ही मिलेगा इसलिए मालिश करवाते समय आप किसी भी बारे में चिंता नहीं करें-

शिशु को दूध पिलाने और उसकी नैपी और कपड़े बदलने के तुरंत बाद ही मालिश करवाना शुरु करें फिर वह एक या दो घंटे तक आपसे कुछ नहीं चाहेगा-

प्रसवोपरांत 14 सप्ताह के अंदर ही स्कार टिशू मालिश शुरु करने का सही समय होता है लेकिन अगर आपका सीजेरियन हुआ है तो फिर मालिश शुरु करवाने से पहले आप घाव को भर जाने दें इसमें करीब एक या दो सप्ताह का समय लगेगा मगर आपका शरीर मालिश के लिए तैयार है या नहीं तो इस बारे में पहले अपनी डॉक्टर से सलाह अवश्य ले लें-

मालिशवाली को अपने घाव और पेट पर मालिश न करने के निर्देश पहले ही दे दें क्युकि प्रसव के बाद इतनी जल्दी उस क्षेत्र पर दबाव डालने से आपको समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं इसलिए तब तक पैरों-सिर और पीठ की मालिश तक ही सीमित रहना सुरक्षित रहता है-

घाव की मालिश आपके ऊत्तकों को आपस में चिपकने से बचा सकती है क्युकि आॅपरेशन के बाद ऊत्तकों का आपस में चिपकना काफी आवश्यक है इसलिए घाव को अवश्य बचाये-

मालिश करवाना नुकसानदेह भी हो सकता है यदि आपको त्वचा की समस्याएं जैसे कि चकत्ते, छाले, फोड़े या छाजन(एग्जिमा)है या फिर आपके साथ कोई चिकित्सकीय जटिलता हैअथवा आपका रक्तचाप(ब्लड प्रेशर)उच्च रहता है या फिर आपको हर्निया है ऐसे में हल्की मालिश ज्यादा उपयुक्त रहेगी अथवा अपने चिकित्सक की राय लें लें-



Upcharऔर प्रयोग-

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें