This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

loading...

25 दिसंबर 2016

गुलर आपके लिए वरदान से कम नहीं है

By
गूलर(Ficus racemosa)लंबी आयु वाला वृक्ष है यह सम्पूर्ण भारत में पाया जाता है यह नदी−नालों के किनारे एवं दलदली स्थानों पर उगता है उत्तर प्रदेश के मैदानों में यह अपने आप ही उग आता है लेकिन शायद इतनी जानकारी नहीं होगी कि गूलर कितने गुणों से भरपूर है तो आज आपको इसके गुणों से अवगत कराते है कि ये आपके कितने काम आ सकती है और इसके क्या प्रयोग है-

गुलर आपके लिए वरदान से कम नहीं है

गूलर(Ficus racemosa)का एक परिचय जान लें-


इसके भालाकार पत्ते 10 से सत्रह सेमी लंबे होते हैं जो जनवरी से अप्रैल तक निकलते हैं इसकी छाल का रंग लाल-घूसर होता है तथा फल गोल और गुच्छों में लगते हैं इसके फल मार्च से जून तक आते हैं कच्चा फल छोटा हरा होता है पकने पर फल मीठे, मुलायम तथा छोटे−छोटे दानों से युक्त होता है इसका फल देखने में अंजीर के फल जैसा लगता है इसके तने से क्षीर(Milk)निकलता है-

गूलर का कच्चा फल कसैला एवं दाहनाशक है पका हुआ गूलर रुचिकारक,मीठा,शीतल,पित्तशामक, तृषाशामक, श्रमहर, कब्ज मिटाने वाला तथा पौष्टिक है इसकी जड़ में रक्तस्राव(Bleeding)रोकने तथा जलन शांत करने का गुण है गूलर के कच्चे फलों की सब्जी बनाई जाती है तथा पके फल खाए जाते हैं तथा  इसकी छाल का चूर्ण बनाकर या अन्य प्रकार से उपयोग किया जाता है-आपको चाहिए कि गूलर महत्व को समझे और इसके वृक्ष को काटने से रोके और आने वाली पीढ़ी को इस शौगात से अवगत कराये-

गूलर के प्रयोग-


1- गूलर के नियमित सेवन से शरीर में पित्त एवं कफ का संतुलन बना रहता है इसलिए पित्त एवं कफ विकार नहीं होते है साथ ही इससे उदरस्थ अग्नि एवं दाह भी शांत होते हैं पित्त रोगों में इसके पत्तों के चूर्ण का शहद के साथ सेवन भी फायदेमंद होता है-

2- गूलर की छाल ग्राही है रक्तस्राव को बंद करती है साथ ही यह मधुमेह में भी लाभप्रद है गूलर के कोमल ताजा पत्तों का रस शहद में मिलाकर पीने से भी मधुमेह में राहत मिलती है इससे पेशाब में शर्करा की मात्रा भी कम हो जाती है-

3- गूलर के तने का दूध बवासीर एवं दस्तों के लिए श्रेष्ठ दवा है खूनी बवासीर के रोगी को गूलर के ताजा पत्तों का रस पिलाना चाहिए इसके नियमित सेवन से त्वचा का रंग भी निखरने लगता है-

4- हाथ पैरों की त्वचा फटने या बिवाई फटने पर गूलर के तने के दूध का लेप करने से आराम मिलता है और पीड़ा से छुटकारा मिलता है-

5- गूलर से स्त्रियों की मासिक धर्म संबंधी अनियमितताएं भी दूर होती हैं स्त्रियों में मासिक धर्म के दौरान अधिक रक्तस्राव होने पर इसकी छाल के काढ़े का सेवन करना चाहिए- इससे अत्याधिक बहाव रुक जाता है ऐसा होने पर गूलर के पके हुए फलों के रस में खांड या शहद मिलाकर पीना भी लाभदायक होता है-

6- विभिन्न योनि विकारों में भी गूलर काफी फायदेमंद होता है योनि विकारों में योनि प्रक्षालन के लिए गूलर की छाल के काढ़े का प्रयोग करना बहुत फायदेमंद होता है-

7- मुंह के छाले हों तो गूलर के पत्तों या छाल का काढ़ा मुंह में भरकर कुछ देर रखना चाहिए इससे फायदा होता है इससे दांत हिलने तथा मसूढ़ों से खून आने जैसी व्याधियों का निदान भी हो जाता है यह क्रिया लगभग दो सप्ताह तक प्रतिदिन नियमित रूप से करें-

8- आग से या अन्य किसी प्रकार से जल जाने पर प्रभावित स्थान पर गूलर की छाल को लेप करने से जलन शांत हो जाती है इससे खून का बहना भी बंद हो जाता है- पके हुए गूलर के शरबत में शक्कर, खांड या शहद मिलाकर सेवन करने से गर्मियों में पैदा होने वाली जलन तथा तृषा शांत होती है-

9- नेत्र विकारों में जैसे आंखें लाल होना-आंखों में पानी आना- जलन होना आदि के उपचार में भी गूलर उपयोगी है इसके लिए गूलर के पत्तों का काढ़ा बनाकर उसे साफ और महीन कपड़े से छान लें तथा ठंडा होने पर इसकी दो-दो बूंद दिन में तीन बार आंखों में डालें- इससे नेत्र ज्योति भी बढ़ती है-

10- नकसीर फूटती हो तो ताजा एवं पके हुए गूलर के लगभग 25 मिली लीटर रस में गुड़ या शहद मिलाकर सेवन करने या नकसीर फूटना बंद हो जाती है-

11- धातुदुर्बलता के लिए 1 बताशे में 10 बूंद गूलर का दूध डालकर सुबह-शाम सेवन करने और 1 चम्मच की मात्रा में गूलर के फलों का चूर्ण रात में सोने से पहले लेने से धातु दुर्बलता दूर हो जाती है इस प्रकार से इसका उपयोग करने से शीघ्रपतन रोग भी ठीक हो जाता है-

12- मर्दाना शक्तिवर्द्धक के लिए एक छुहारे की गुठली निकालकर उसमें गूलर के दूध की 25 बूंद भरकर सुबह रोजाना खाये इससे वीर्य में शुक्राणु बढ़ते हैं तथा संतानोत्पत्ति में शुक्राणुओं की कमी का दोष भी दूर हो जाता है-

13- एक चम्मच गूलर के दूध में दो बताशे को पीसकर मिला लें और रोजाना सुबह-शाम इसे खाकर उसके ऊपर से गर्म दूध पीएं इससे मर्दाना कमजोरी दूर होती है-

14- पका हुआ गूलर सुखाकर पीसकर चूर्ण बना लें तथा इस चूर्ण में इसी के बराबर की मात्रा में मिश्री मिलाकर किसी बोतल में भर कर रख दें- इस चूर्ण में से 2 चम्मच की मात्रा गर्म दूध के साथ सेवन करने से मर्दाना शक्ति बढ़ जाती है दो-दो घंटे के अन्तराल पर गूलर का दूध या गूलर का यह चूर्ण सेवन करने से दम्पत्ति वैवाहिक सुख को भोगते हुए स्वस्थ संतान को जन्म देते हैं-

15- बाजीकारक(काम उत्तेजना) के लिए 4 से 6 ग्राम गूलर के फल का चूर्ण और बिदारी कन्द का चूर्ण बराबर मात्रा में मिलाकर मिश्री और घी मिले हुए दूध के साथ सुबह-शाम सेवन करने से पौरुष शक्ति की वृद्धि होती है व बाजीकरण की शक्ति बढ़ जाती है यदि इस चूर्ण का उपयोग इस प्रकार से स्त्रियां करें तो उनके सारे रोग ठीक हो जाएंगे-

16- गर्मी के मौसम में गूलर के पके फलों का शर्बत बनाकर पीने से मन प्रसन्न होता है और शरीर में शक्ति की वृद्धि होती है तथा कई प्रकार के रोग जैसे- कब्ज-खांसी और दमा आदि ठीक हो जाते हैं-

17- उपदंश(फिरंग)के लिए 40 ग्राम गूलर की छाल को एक लीटर पानी में उबालकर काढ़ा बना लें और इसमें मिश्री मिलाकर पीने से उपदंश की बीमारी ठीक हो जाती है-

18- शरीर को शक्तिशाली बनाने के लिए लगभग 100 ग्राम की मात्रा में गूलर के कच्चे फलों का चूर्ण बनाकर इसमें 100 ग्राम मिश्री मिलाकर रख दें- अब इस चूर्ण में से लगभग 10 ग्राम की मात्रा में रोजाना दूध के साथ लेने से शरीर को भरपूर ताकत मिलती है-

19- प्रदर के लिए गूलर के फूलों के चूर्ण को छानकर उसमें शहद एव मिश्री मिलाकर गोली बना लें रोजाना एक गोली का सेवन करने से 7 दिन में प्रदर रोग से छुटकार मिल जाता है-

20- गूलर के पके फल को छिलके सहित खाकर ऊपर से ताजे पानी पीयें इससे श्वेत प्रदर रोग ठीक हो जाता है-गूलर के फलों के रस में शहद मिलाकर सेवन करने से प्रदर रोग में आराम मिलता है-रक्तप्रदर के लिए गूलर की छाल 5 से 10 ग्राम की मात्रा में या फल 2 से 4 की मात्रा में सुबह-शाम चीनी मिले दूध के साथ सेवन करने से अधिक लाभ मिलता है तथा रक्तप्रदर रोग ठीक हो जाता है-

21- 20 ग्राम गूलर की ताजी छाल को 250 मिलीलीटर पानी में उबालें जब यह 50 मिलीलीटर की मात्रा में बच जाए तो इसमें 25 ग्राम मिश्री और 2 ग्राम सफेद जीरे का चूर्ण मिलाकर सेवन करें इससे रक्तप्रदर रोग में लाभ मिलता है-

22- पके गूलर के फलों को सुखाकर इसे कूटे और पीसकर छानकर चूर्ण बना लें- फिर इसमें बराबर मात्रा में मिश्री मिलाकर किसी ढक्कनदार बर्तन में भर कर रख दें तथा इसमें से 6 ग्राम की मात्रा में रोजाना सुबह-शाम दूध या पानी के साथ सेवन करने से रक्तप्रदर ठीक हो जाता है-

23- पके गूलर के फल को लेकर उसके बीज को निकाल कर फेंक दें जब उसके फल शेष रह जायें तो उसका रस निकाल कर शहद के साथ सेवन करने से रक्त प्रदर में लाभ मिलता है-रोगी इसके सब्जी का सेवन भी कर सकते हैं-

24- एक चम्मच गूलर के फल का रस में बराबर मात्रा में मिश्री मिलाकर सुबह-शाम नियमित रूप से सेवन करने से कुछ ही हफ्तों में न केवल रक्त प्रदर ठीक होता है बल्कि मासिकधर्म में खून अधिक आने की तकलीफ भी दूर होती है-

25- महिलाओ के श्वेत प्रदर के लिए एक किलो कच्चे गूलर लेकर इसके 3 भाग कर लें अब इसमें से कच्चे गूलर को एक भाग उबाल लें और इनकों पीसकर एक चम्मच सरसों के तेल में फ्राई कर लें तथा इसकी रोटी बना लें- रात को सोते समय रोटी को नाभि के ऊपर रखकर कपड़ा बांध लें-इस प्रकार बचे शेष 2 भागों से इसी प्रकार की क्रिया 2 दिनों तक करें इससे श्वेत प्रदर रोग की अवस्था में आराम मिलता है-

26- गर्भावस्था में खून का बहना और गर्भपात होने के लक्षण दिखाई दें तो तुरन्त ही गूलर की छाल 5 से 10 ग्राम की मात्रा में अथवा 2 से 4 गूलर के फल को पीसकर इसमें चीनी मिलाकर दूध के साथ पीएं-जब तक रोग के लक्षण दूर न हो तब तक इसका प्रयोग 4 से 6 घंटे पर उपयोग में लें-

27- गूलर की जड़ अथवा जड़ की छाल का काढ़ा बनाकर गर्भवती स्त्री को पिलाने से गर्भस्राव अथवा गर्भपात होना बंद हो जाता है-

28- भगन्दर के लिए गूलर के दूध में रूई का फोहा भिगोंकर इसे नासूर और भगन्दर के ऊपर रखें और इसे प्रतिदिन बदलते रहने से नासूर और भगन्दर ठीक हो जाता है-

29- खूनी बवासीर के लिए गूलर के पत्तों या फलों के दूध की 10 से 20 बूंदे को पानी में मिलाकर रोगी को पिलाने से खूनी बवासीर और रक्तविकार दूर हो जाते हैं-गूलर के दूध का लेप मस्सों पर भी लगाना लाभकारी है-

30- 10 से 15 ग्राम गूलर के कोमल पत्तों को बारीक पीसकर चूर्ण बना लें फिर 250 ग्राम गाय के दूध की दही में थोड़ा सा सेंधानमक तथा इस चूर्ण को मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने से खूनी बवासीर के रोग में लाभ मिलता है-

31- आंव(पेचिश)के लिए 5 से 10 ग्राम गूलर की जड़ का रस सुबह-शाम चीनी मिले दूध के साथ सेवन करने से आमातिसार ठीक हो जाता है-बताशे में गूलर के दूध की 4-5 बूंदे डालकर रोगी को खिलाने से आमातिसार(आंव) ठीक हो जाता है-गूलर के पके फल खायें इससे पेचिश रोग ठीक हो जाता है-गूलर को गर्म जल में उबालकर छान लें और इसे पीसकर रोटी बना लें फिर इसे खाएं इससे पेचिश में लाभ होता है -

32- दस्त और ग्रहणी के रोग में 3 ग्राम गूलर के पत्तों का चूर्ण और 2 दाने कालीमिर्च के थोड़े से चावल के पानी के साथ बारीक पीसकर, उसमें कालानमक और छाछ मिलाकर फिर इसे छान लें और इसे सुबह-शाम सेवन करें इससे लाभ मिलेगा- गूलर की 10 ग्राम पत्तियां को बारीक पीसकर 50 मिलीलीटर पानी में डालकर रोगी को पिलाने से सभी प्रकार के दस्त समाप्त हो जाते हैं-

33- गूलर के दूध की 5-6 बूंदे चीनी के साथ बच्चे को देने से बच्चों के आंव ठीक हो जाते हैं-

34- विसूचिका(हैजा)के रोगी को गूलर का रस पिलाने से रोगी को आराम मिलता है-

35- रक्तपित्त(खूनी पित्त) के लिए पके हुए हुए गूलर, गुड़ या शहद के साथ खाना चाहिए अथवा गूलर की जड़ को घिसकर चीनी के साथ खाने से लाभ मिलेगा और रक्तपित्त दोष दूर हो जाएगा-हर प्रकार के रक्तपित्त में गूलर की छाल 5 ग्राम से 10 ग्राम तथा उसका फल 2 से 4 ग्राम तथा गूलर का दूध 10 से 20 मिलीलीटर की मात्रा के रूप में सेवन करने से लाभ मिलता है-

36- फोड़े पर गूलर का दूध लगाकर उस पर पतला कागज चिपकाने से फोड़ा जल्दी ठीक हो जाता है-शरीर के अंगों में घाव होने पर गूलर की छाल से घाव को धोएं इससे घाव जल्दी ही भर जाते हैं-

37- गूलर के पत्तों को छांया में सूखाकर इसे पीसकर बारीक चूर्ण बना लें इसके बाद घाव को साफ करकें इसके ऊपर इस चूर्ण को छिड़के तथा इस चूर्ण में से 5-5 ग्राम की मात्रा सुबह तथा शाम को पानी के साथ सेवन करें इससे लाभ मिलेगा-

38- गूलर के दूध में बावची को भिगोंकर इसे पीस लें और 1-2 चम्मच की मात्रा में रोजाना इससे घाव पर लेप करें इससे घाव जल्दी ही ठीक हो जाते हैं-

39- शीतला(चेचक)के लिए गूलर के पत्तों पर उठे हुए कांटों को गाय के ताजे दूध में पीसकर इसमें थोड़ी सी चीनी मिलाकर चेचक से पीड़ित रोगी को पिलाये इससे उसका यह रोग ठीक हो जाएगा-

40- शरीर के किसी भी अंग पर गांठ होने की अवस्था में गूलर का दूध उस अंग पर लगाने से लाभ मिलता है-

41- एक चम्मच गूलर के कच्चे फलों के चूर्ण को 2 चम्मच शहद और दूध के साथ सेवन करने से पेशाब का अधिक मात्रा में आने का रोग दूर हो जाता है-

42- पेशाब में खून आने पर गूलर की छाल 5 ग्राम से 10 ग्राम या इसके फल 2 से 4 लेकर पीस लें और इसमें चीनी मिलाकर दूध के साथ खायें इससे यह रोग पूरी तरह से ठीक हो जाता है-

43- प्रतिदिन सुबह गूलर के 2-2 पके फल रोगी को सेवन करने से मूत्रकच्छ (पेशाब की जलन) में लाभ मिलता है

44- गूलर के 8-10 बूंद को 2 बताशों में भरकर रोजाना सेवन करने से मूत्ररोग(पेशाब के रोग) तथा पेशाब करने के समय में होने वाले कष्ट तथा जलन दूर हो जाती है-

45- मधुमेह के लिए एक चम्मच गूलर के फलों के चूर्ण को एक कप पानी के साथ दोनों समय भोजन के बाद नियमित रूप से सेवन करने से पेशाब में शर्करा आना बंद हो जाता है इसके साथ ही गूलर के कच्चे फलों की सब्जी नियमित रूप से खाते रहना अधिक लाभकारी होता है मधुमेह रोग ठीक हो जाने के बाद इसका सेवन करना बंद कर दें-

46- दांतों की मजबूती के लिए गूलर की छाल के काढे़ से गरारे करते रहने से दांत और मसूड़ों के सारे रोग दूर होकर दांत मजबूत होते हैं-

47- गूलर के पत्तों पर उठे हुए कांटों को पीसकर इसे मीठे या दही मिला दें और इसमें चीनी मिलाकर रोजाना एक  बार सेवन करें इससे कंठमाला के रोग से मुक्ति मिलती है-

48- खांसी के लिए रोगी को बहुत तेज खांसी आती हो तो गूलर का दूध रोगी के मुंह के तालू पर रगड़ने से आराम मिलता है-

49- पके गूलर में चीनी भरकर घी में तलें, इसके बाद इस पर काली मिर्च तथा इलायची के दानों का आधा-आधा ग्राम चूर्ण छिड़कर प्रतिदिन सुबह के समय में सेवन करें तथा इसके बाद बैंगन का रस मुंह पर लगाएं इससे नाक से खून गिरना बंद हो जाता है-

50- गूलर का पेड़, शाल पेड़, अर्जुन पेड़, और कुड़े के पड़े की पेड़ की छाल को बराबर मात्रा में लेकर पानी के साथ पीसकर चटनी बना लें अब इन सब चीजों का काढ़ा भी बनाकर रख लें तथा इसके बाद इस चटनी तथा इससे 4 गुना ज्यादा घी और घी से 4 गुना ज्यादा काढ़े को कढ़ाही में डालकर पकाएं अब पकने पर जब घी के बराबर मात्रा रह तो इसे उतार कर छान लें-अगर नाक पक गई हो तो इस घी को नाक पर लगाने से बहुत जल्दी आराम मिलता है-

51- नाक से, मुंह से, योनि से, गुदा से होने वाले रक्तस्राव में गूलर के दूध की 15 बूंदे 1 चम्मच पानी के साथ दिन में 3 बार सेवन करने से लाभ मिलता है-

52- गूलर का दूध कुछ बूंदों की मात्रा में मां या गाय-भैंस के दूध के साथ मिलाकर नियमित रूप से कुछ महीने तक रोजाना एक बार बच्चों को पिलाने से शरीर हृष्ट-पुष्ट और सुडौल बनाता है लेकिन गूलर के दूध बच्चों उम्र के अनुसार ही उपयोग में लेना चाहिए-

53- पांच बूंद गूलर के दूध को एक बताशे पर डालकर इसका सेवन बच्चों को कराएं इससे सूखा रोग(रिकेटस) ठीक हो जाता है-

54- बच्चों के गाल की सूजन को दूर करने के लिए उनके गाल पर गूलर के दूध का लेप करें इससे लाभ मिलेगा-

55- जहां पर बिच्छू ने काटा हो उस स्थान पर गूलर के अंकुरों को पीसकर लगाए इससे जहर चढ़ता नहीं है और दर्द से आराम मिलता है-

Read More-  क्या आप सुपारी के गुण जानते है 

Upcharऔर प्रयोग-

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें