18 जुलाई 2017

आपका वजन क‌ितना होना चाहिए एक जानकारी

loading...

An Information To Your Weight


आज बहुत से लोग अपनी दुर्बलता (Debility) या वजन को लेकर काफी लोग चिंतित व भयभीत रहते है इस पोस्ट में हम आपको बॉडी मास इंडेक्स यानी बीएमआई के हिसाब से आपका वजन कितना होना चाहिए इसका भी फार्मूला बताएगें जिससे आप स्वयं ही कैलकुलेट करके अपना मानक वजन क्या होना चाहिए जान सकते है-

आपका वजन क‌ितना होना चाहिए एक जानकारी

आखिर कौन वर्ग है जो अपने को दुबला मानता है या जिनको अपने वजन को लेकर काफी चिंता है दरअसल वे उस वर्ग के लोग हैं जिन्हे या तो भूख बहुत कम लगती है और उनका वजन कम है या फिर जो लोग जरूरत से ज्यादा दुबले (Debility) हैं वजन बढ़ाने के लिए कई दवाईयां आती हैं लेकिन वजन बढ़ाने के लिए किसी दवाई का प्रयोग न करके बल्कि प्राक़तिक या आयुर्वेदिक प्रणाली का ही इस्तेमाल करना चाहिए और वजन बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक नुस्खों को अपनाने से किसी तरह को कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होता है-

आयुर्वेद के अनुसार अत्यंत मोटे तथा अत्यंत दुबले शरीर वाले व्यक्तियों को निंदित व्यक्तियों की श्रेणी में माना गया है दुबलापन (Debility) एक रोग न होकर मिथ्या आहार-विहार एवं असंयम का परिणाम मात्र है-

दुबलापन (Debility) रोग होने का सबसे प्रमुख कारण मनुष्य के शरीर में स्थित कुछ कीटाणुओं की रासायनिक क्रिया का प्रभाव होना है जिसकी गति थायरायइड ग्रंथि (Thayrayid Gland) पर निर्भर करती हैं यह गले के पास शरीर की गर्मी बढ़ाती है तथा अस्थियों की वृद्धि करने में मदद करती है तथा यह ग्रंथि जिस मनुष्य में जितनी ही अधिक कमजोर और छोटी होगी वह मनुष्य उतना ही कमजोर और पतला होता है तथा ठीक इसके विपरीत जिस मनुष्य में यह थायरायइड ग्रंथि स्वस्थ और मोटी होगी वह मनुष्य उतना ही सबल और मोटा होगा-

वैसे देखा जाए तो 30 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति का वजन यदि उसके शरीर और उम्र के अनुपात सामान्य से कम है तो वह दुबला व्यक्ति कहलाता है तथा जो व्यक्ति अधिक दुबला होता है वह किसी भी कार्य को करने में थक जाता है तथा उसके शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) कम हो जाती है ऐसे व्यक्ति को कोई भी रोग जैसे-सांस का रोग, क्षय रोग, हृदय रोग, गुर्दें के रोग, टायफाइड, कैंसर बहुत जल्दी हो जाते हैं ऐसे व्यक्ति को अगर इस प्रकार के रोग होने के लक्षण दिखे तो जल्दी ही इनका उपचार कर लेना चाहिए नहीं तो उसका रोग आसाध्य हो सकता है और उसे ठीक होने में बहुत दिक्कत आ सकती है अधिक दुबली स्त्री गर्भवती होने के समय में कुपोषण (Malnutrition) का शिकार हो सकती है-

आपका वजन क‌ितना होना चाहिए एक जानकारी

अत्यंत दुबले व्यक्ति के नितम्ब, पेट और ग्रीवा शुष्क होते हैं तथा अंगुलियों के पर्व मोटे तथा शरीर पर शिराओं का जाल फैला होता है जो स्पष्ट दिखता है तथा शरीर पर ऊपरी त्वचा और अस्थियाँ (Bones) ही शेष दिखाई देती हैं-

इसमें अग्निमांद्य या जठराग्नि का मंद होना ही अतिकृशता का प्रमुख कारण है अग्नि के मंद होने से व्यक्ति अल्प मात्रा में भोजन करता है जिससे आहार रस या ‘रस’ धातु का निर्माण भी अल्प मात्रा में होता है इस कारण शरीर में बनने वाले अन्य धातु (रक्त, मांस, मेद, अस्थि, मज्जा और शुक्रधातु) भी पोषण के अभाव में अत्यंत अल्प मात्रा में रह जाते हैं जिसके फलस्वरूप व्यक्ति निरंतर कमजोर से अधिक कमजोर होता जाता है 

अतिरिक्त लंघन अल्प मात्रा में भोजन तथा रूखे अन्नपान का अत्यधिक मात्रा में सेवन करने से भी शरीर की धातुओं का पोषण नहीं होता है आप मानक परिस्थितियों में जाने कि आपका वास्तविक वजन कितना होना चाहिए-

आपका वजन (Weight) क‌ितना होना चाहिए-


आपके लिए यह जानना जरूरी है कि आपके बॉडी मास इंडेक्स यानी बीएमआई के हिसाब से यह जानने कि कोशिश करें कि आपकी लंबाई और उम्र के हिसाब से आपका वजन क‌ितना होना चाहिए-इसका फार्मूला ये है-

बीएमआई = वजन (किलोग्राम) / (ऊंचाई X ऊंचाई (मीटर में)

आमतौर पर 18.5 से 24.9 तक बीएमआई आदर्श स्थिति है इसलिए वजन बढ़ाने के क्रम में ध्यान रखें कि आप इसके बीच में ही रहें-

इसे भी देखे-

आपका वजन क‌ितना होना चाहिए एक जानकारी
पृथ्वी मुद्रा करे अपनी दुर्बलता दूर करके अपना वजन बढ़ाये

प्रस्तुती- Satyan Srivastava

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

5 टिप्‍पणियां:

Loading...

कुल पेज दृश्य

Upchar और प्रयोग

प्रस्तुत वेबसाईट में दी गई जानकारी आपके मार्गदर्शन के लिए है किसी भी नुस्खे को प्रयोग करने से पहले आप को अपने निकटतम डॉक्टर या वैध्य से अवश्य परामर्श लेना चाहिए ...

लोकप्रिय पोस्ट

लेबल