19 फ़रवरी 2017

शादी-शुदा रिश्ते को मजबूती से कैसे निभाएं

शादी करना जीवन का अभिन्न और महत्वपूर्ण पल है लेकिन क्या आप अपनी शादी-शुदा जिन्दगी(Married life)को ठीक उसी प्रकार निभा रहें है जब आप शादी से पहले एक दूसरे को प्यार करते थे-जी हाँ आज ये सवाल इस लिए पूछ रहा हूँ क्युकि आप जान सकें कि अगर अब नहीं वो बात है तो इसका मुख्य कारण क्या है-

शादी-शुदा रिश्ते को मजबूती से कैसे निभाएं

शादी सामाजिक बंधन के साथ जीवन को जीने की एक कला भी है लेकिन शादी के बाद आपको कैसे जीना है इस बात पर कम लोग ही ध्यान देते है यदि आपने शादी करके इतिश्री कर ली है तो शादीशुदा जीवन का अंतिम पड़ाव नहीं है जबकि शादी के बाद तो जीवन और भी खूबसूरत हो सकता है अगर आपको जीने की कला का ज्ञान है ये बात स्त्री-पुरुष दोनों को सामान रूप से समझना आवश्यक होता है-

हम आप पर ये आरोप नहीं लगा रहे है कि आपको शादी शुदा जीवन(Married life)जीना नहीं आता है परन्तु अगर आप कुछ छोटी-छोटी बातों पर ध्यान देगें तो फिर आप अपनी शादी-शुदा जिन्दगी को और भी खूबसूरत बना सकते है-

शादी एक ऐसी जिम्मेदारी है जहां पर आपका और आपके पार्टनर दोनों का प्रयास काफी जरूरी होता है लेकिन कभी-कभार कई प्रयास करने के बाद भी कुछ कमियां पीछे छूट ही जाती है शादी के बाद कई रिश्ते गलतफहमी और एकरसता के कारण भी कमजोर पड़ जाते हैं आइये जानते है कि आखिर क्यों कई पति अपनी शादीशुदा जिदंगी(Married life)से ना खुश होते जाते हैं-

शादी-शुदा जीवन(Married life)के लिए क्या ध्यान दें-


1- यदि आप पत्नी हैं और आपको अपने पति की कोई भी बात या उनकी कोई आदत आपको परेशान करती है तो आपको बिना देर किये अपने पति से बात करनी चाहिए बिना बात किये किसी चीज का समाधान नहीं हो सकता है-बातचीत करके ही आप किसी समस्या का हल कर सकती हैं लेकिन आपको भी अपने पति की पसंद-नापसंद का ध्यान रखना आवश्यक है-

2- आपकी शादी को कितना भी समय हो गया हो इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है लेकिन जहाँ तक रोमांस की बात हो आपको पहले की तरह ही स्वयं रखना चाहिए हमने बहुत से पुरुषों को यही कहते पाया है कि अब उनकी पत्नी शादी के कुछ समय के बाद से ही रोमांस में कम दिलचस्पी दिखाती हैं हम ये मानते है कि आप शादी के बाद कई प्रकार की जिम्मेदारियों में लिप्त हो जाती है लेकिन ध्यान रक्खें कि आपका प्यार पति के प्रति किसी भी तरह कम नहीं होने पायें तभी आप अपने पति को अपने मोहपाश में बाँध कर रख सकती है ठीक यही बात पति पर भी लागू होती है कि जीविकोपार्जन की जिम्मेदारी के साथ-साथ आपका रोमांस पत्नी के प्रति बढ़ता ही रहना चाहिए क्युकि आपकी आखिरी सांस तक वही साथ देने वाली है-

3- शादी दो विचारों का मिलन है ये जरुरी भी नहीं है सभी के विचार पूर्णतया आपस में मेल खाते हों और ये भी सत्य है कि शादी के बाद आपसी मतभेद भी होते है लेकिन ये जन्म-जन्मान्तर का रिश्ता है जो पूर्व निर्धारित होता है आप चाह कर भी कुछ नहीं कर सकते है आपस का मतभेद आपके रिश्ते को कमजोर कर सकता है इसलिए आप दोनों को मिलकर अपने रिश्ते को बचाने की कोशिश करनी चाहिए और अगर आपकी कोई आदत यदि आपकी शादीशुदा जिंदगी को बर्बाद कर रहीं है तो आप उसे तुरंत ड्रॉप कर दें-

4- शादी के बाद आपके बच्चे आपकी जिन्दगी का अभिन्न अंग हैं लेकिन आप बच्चों पर ध्यान देने के साथ-साथ आपसी रोमासं का भी ध्यान रक्खें वर्ना आपकी लाइफ आगे चल कर बोरिंग बन सकती है हाँ जब भी आप इस मूड में हो बच्चों को अवश्य दूर ही रक्खें कही ऐसा न हो कि एक अच्छी माँ तो बन जाएँ लेकिन एक अच्छी पत्नी का दर्जा आपके हाथों से फिसल जायें-तो हो सके तो आप बच्चों के सो जाने के बाद अपने पति को भी पर्याप्त समय अवश्य दें जिससे आपकी शादी-शुदा जिन्दगी ताउम्र हसीन बनी रहे-

5- कई पति और पत्नी शादी के कुछ अंतराल के बाद सेक्स से दूर होते भी देखे गए है कुछ लोग बाद में एक नीरस जीवन जीते देखे जा सकते है आप अपनी जिन्दगी में ऐसा न होने दे-सेक्स भी आपके जीवन में रिश्ते को भली प्रकार चलाने के लिए बहुत ही आवश्यक है आप इस बात को बखूबी जानते होंगे कि सेक्स ही आपके रिश्ते का एक महत्वपूर्ण तत्व है-

6- जब दो इंसान एक दूसरे के साथ रहने की आदत हो जाती है तो कुछ समय बाद वह एक दूसरे के साथ कमफर्टेबल हो जाते हैं और यह वही समय होता है जब दोनों को ही एक दूसरे को आपस में उनके कामों के प्रति सराहना करनी चाहिए-

7- आपके पति कोई माइंड रिडर नहीं है जो उन्हें क्षण में वह बात पता चल जाए जो आपके मन में हो इसलिए आप मायूस या गुस्सा इजहार करने के बजाय अपने मन की बात समय देख कर आपस में शेयर करें-

8- कुछ पत्नियाँ पति के घर में प्रवेश करते ही पति को एक लिस्ट थमा देती हैं जो कुछ पतियों को शायद अच्छा नहीं लगता है हो सकता है आपकी इस बात से वह काफी नाराज हो सकते हैं इसलिए पहले आप उन्हें प्यार से उनकी थकावट और कामों के प्रति सराहना करें और फिर आप अपनी बातों को प्रस्तुत करें-

9- मेरे कहने का तात्पर्य ये है कि आप अपने रिश्ते में पहले जितनी मस्ती करते थे तो क्या उस मस्ती का एक भी हिस्सा अब आपके रिश्ते में नहीं बचा है अगर ये सच है तो आज से ही आप दोनों खुद को बदलने का प्रयास करें-

10- यदि आपने शादी-शुदा जीवन में कुछ अंतराल के बाद नीरस जीवन जीना शुरू किया है या मेरे कहने का मतलब है आपस में एक दुसरे के साथ इंजॉय करना बंद कर दिया है तो फिर आपका रिश्ता कमजोर हो रहा है तो रिश्ते को लंबे समय तक टिकाने के लिए आप रोमांटिक बने और आपस में उन सभी बातों को दूर करने का प्रयास करें जो आपके जीवन को नीरस बनाने में सहायक हो रही है-

Read Next Post- 

जीवन की गाडी कैसे ड्राइव करे

Upcharऔर प्रयोग-

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Loading...