This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

loading...

31 मार्च 2017

रुकिए जरा क्या आप अप्रैल फूल मनाने जा रहे है

By With कोई टिप्पणी नहीं:
क्या आप हिन्दू धर्म को मानते है या फिर आप में भी ईसाइयत रच बस गई है क्या आप को पता है अप्रैल का माह हमारे विक्रमी सवंत के अनुसार हम हिन्दुओ का नया साल होता है जो हमारे लिए पावन दिन है फिर आप क्यों इसे "मुर्खता दिवस " के रूप में मनाते हो क्या यही हमारे पूर्वजो के संस्कार थे जिनको आज की पीढ़ी खोती जा रही है-

रुकिए जरा क्या आप अप्रैल फूल मनाने जा रहे है

आप क्यों अप्रैल माह के इस पावन महीने की शुरुआत को मूर्खता दिवस कह रहे हो और अगर आप दूसरो को मुर्ख बना रहे है तो शायद हो सकता है इस श्रेणी में कहीं आप तो नहीं है-क्या आपको पता भी है आखिर क्यों कहते है "अप्रैल फूल" -

जी हाँ #अप्रैल फुल(#April fool)का अर्थ है हिन्दुओ का मूर्खता दिवस और इसकी वास्तविकता क्या है ये नाम अंग्रेज ईसाईयों की देन क्यों है बहुत दिनों से ये #अप्रैल फूल बिना सोचे बिना जाने चलता चला आ रहा है इसलिए संस्कृत के साहित्य में कहा गया है "गतानुगति लोक :" इसका अर्थ है "नक़ल करने वाले लोग

यही हिन्दू करता चला आ रहा है और पाश्चात्य सभ्यता की ओर उन्मुक्त है अंग्रेजो की गुलामी से आजादी की लड़ाई लड़ कर देश को आजाद कराने वाले आज जिन्दा होते तो वे भी अपना सर पीट लेते कि देश तो आजाद करा लिया लेकिन आज की जनरेशन को कौन आजाद कराने आयेगा-

आखिर आप सब हिन्दू कैसे समझेंगें "अप्रैल फूल" का मतलब बड़े दिनों से बिना सोचे समझे चल रहा है ये अप्रैल फूल-अप्रैल फूल(April fool)

अप्रैल फूल(April fool)इसका मतलब क्या है-


बात दरअसल ये है कि जब ईसाइयत अंग्रेजो द्वारा हमे 1 जनवरी का नववर्ष थोपा गया तो उस समय हिन्दू लोग विक्रमी संवत के अनुसार 1 अप्रैल से अपना नया साल मनाते थे जो आज भी सच्चे हिन्दुओ द्वारा मनाया जाता है आज भी हमारे बही खाते और बैंक 31 मार्च को बंद होते है और 1 अप्रैल से शुरू होते है पर उस समय जब भारत गुलाम था तो ईसाइयत ने विक्रमी संवत का नाश करने के लिए साजिश करते हुए 1 अप्रैल को मूर्खता दिवस "अप्रैल फूल" का नाम दे दिया ताकि हमारी सभ्यता मूर्खता लगे अब आप ही सोचो अप्रैल फूल कहने वाले कितने सही हो आप और आज भी क्यों मना रहे हो-अब ये अंग्रेज तो है नहीं लेकिन आज आपकी सभ्यता भी वही है अपने ही लोगों को मुर्ख बनाने की-

कल फिर भी आने वाला है 1 अप्रैल इस साल भी नई जनरेशन बड़ी ख़ुशी से "अप्रैल फूल" मनायेगा और हम बेवकूफ है जो सभी को समझाने के बजाय अप्रैल फूल ही बनते रहेगें-


Upcharऔर प्रयोग-

खड़े होकर भोजन से क्या-क्या हानियाँ है

By With कोई टिप्पणी नहीं:
आज की सबसे बड़ी बात ये है कि हम सभी सुविधा के गुलाम है और जब हम किसी सुविधा के आदी(गुलाम)हो जाते है या फिर जब कोई चीज प्रतिष्ठा का प्रश्न बना दी जाती है या फिर आप यूँ कहें कि जब कोई चीज घर-घर में पहुँच जाती है तब वह चाहे कितनी भी अवैज्ञानिक ही क्यों न हो चाहे कितने ही रोग पैदा कराने वाली क्यूँ न हो लेकिन हम अपने मानसिक विकारों(लत, दिखावा, भेड़चाल आदि)के कारण उसकी असलियत को जानना ही नहीं चाहते है-

खड़े होकर भोजन से क्या-क्या हानियाँ है

यदि कोई आपको सच्चाई से अवगत भी कराना चाहे तो वह व्यक्ति आपको दक़ियानूसी लगता है और इन मानसिक विकारों के कारण हमारे दिमाग मे सैकड़ों तर्क उठने लगते है हमारे ऋषियों की हर परम्पराओं मे वैज्ञानिकता थी ये बात आज लोग कब समझेंगे बस ये बात आपको समझने की आवश्यकता है-

क्या आपको पता है कि खड़े होकर खाने से आपको क्या-क्या हानियाँ होती है तो फिर आप अब इस लेख को एक बार पूरा अवश्य पढ़ लें-वैसे करना तो आपको अपने ही मन की है क्युकि आखिर आपकी प्रतिष्ठा का सवाल है जो किसी भी कीमत पर कमतर नहीं आंकी जानी चाहिये भले ही आपको कितना ही नुकसान हो रहा हो-

खड़े होकर समारोह में भोजन करने से-


1- सबसे पहले आप जान लें कि विवाह समारोह आदि मे मेहमानो को खड़े होकर भोजन कराने से मेहमान का अपमान होता है जब आप ये मानते है कि 'अथिति देवो भव:'

2- यजमान और मेहमान के लिए भोजन की सही प्रकार से व्यवस्था के बगैर आपका समारोह सफल नही होता है क्युकि मनुष्य के जीवन में आहार-निंद्रा-मैथुन का बहुत ही महत्व है-

3- आहार या भोजन सभ्य समाज में यजमान और मेहमान के लिए आदर सम्मान का प्रतीक है आज से 30-35 साल पहले घर में मेहमान आता था या किसी प्रसंग में जाते थे तो मान मनुहार और अड़ोसी पडोसी को बुलाकर आदर सहित आसन पर बैठाकर पाटले पर थाली रखकर आग्रह पूर्वक खाने की वानगी परोसकर भारतीय परंपरा से जिमाते थे जिसमे यजमान आग्रह करता था और मेहमान ना-ना करते हुए आवश्यकता से अधिक प्रसन्नता से खाते थे तथा जाते-जाते उन्हें भी आने का न्योता देते थे और जब कभी यजमान मेहमान बनकर जाते थे तो उनसे बदला न ले रहे हो इस प्रकार उन्हें ठूस-ठूस कर आग्रह से खिलाते थे-

4- आज समय बदलता रहा ज्यादातर लोग पच्छिमी सभ्यता में आ गये और पैसे कमाने की होड़ में पड़ गये हैं जबकि सच यही है कि लोगों के पास मेहमानों के लिए समय ही नही है लोग इसी शादी-ब्याहों में रात्रि भोजन में हजारो महमानो को बुलाते है स्वरुचि भोज के नाम पर खड़े खड़े खिलाते है हर काउन्टर पर लाइन में लेकर हाथ की डिश में रखकर भीड़ में एक दुसरे से बचके-बचाकर खाना खाते देखा जाता है जहाँ न तो लड़के या लडकी पक्ष वाले कही दूर तक नजर नही आता है कैटर्स(Catters)के लोग ही दीखते है-

5- धार्मिक सम्भारम्भ में भी भोजन करने के लिए स्वरुची भोजन ही रखते है वहां भी सभी लोग खड़े-खड़े खाने का और खिलाने का फैशन चल पड़ा है जो शास्त्रोक्त या वैज्ञानिक दृष्टि से बिलकुल भी उचित नही है-

6- आगुन्तको या मेहमानों को खाना राजशाही अंदाज़ में गद्दी तकिया पाटला बिछाकर खिलाने से जयणा का पालन होता है आपका मेहमान जितना खा सकता है उतना ही लेगा इससे उसका झूठा नही छूटेगा और अन्नपूर्णा देवी का सम्मान भी होगा-

खड़े होकर भोजन करने से हानियाँ(Buffet System's Disadvantage)-


1- क्या आप जानते है कि खड़े होकर भोजन करने से निचले अंगों में वात रोग(कब्ज, गैस, घुटनों का दर्द, कमर दर्द आदि)बढ़ते है और फिर आप जानते ही है कि कब्ज तो बीमारियों का बादशाह है-

2- खड़े होकर खाना खाना खाने से मोटापा, अपच, कब्ज, एसि़डिटी आदि पेट संबंधी बीमारियां होती हैं-

3- खड़े होकर भोजन करने से कब्ज की समस्या होती है इसका वैज्ञानिक कारण यह है कि जब हम खड़े होकर भोजन करते हैं तो उस समय हमारी आंते सिकुड़ जाती हैं और भोजन ठीक से नहीं पच पाता है तथा धीरे-धीरे भूंख भी कम होने लगती है-

4- खड़े होकर भोजन करने से यौन रोगो की संभावना प्रबल होती है जिसमे नपुंसकता, किडनी की बीमारियाँ, पथरी रोग आदि भी होने की संभावना अधिक होती है-

5- खड़े होकर समरोह में भोजन करने पर पैरो में जूते चप्पल होने से पैर गरम रहते है जबकि आयुर्वेद के अनुसार भोजन करते समय पैर ठंडे रहने चाहिए इसलिए हमारे देश में भोजन करने से पहले हाथ के साथ पैर धोने की परंपरा बनायी गई है-

6- बार बार कतार मे लगने से बचने के लिए थाली को अधिक भर लिया जाता है जिससे जूठन अधिक छोडी जाती है और फिर भोजन को छोड़ देने से अन्न देवता का अपमान है खड़े होकर भोजन करने की आदत असुरो की है हम भारतीयों की परम्परा नहीं है-

7- जिस पात्र मे परोसा जाता है वह सदैव पवित्र होना चाहिए लेकिन इस परंपरा में झूठे हाथो के लगने से ये पात्र भी अपवित्र हो जाते है और एक ही चम्मचा  का बार-बार झूठी थाली या प्लेट से टच होने से हम सब सामूहिक झूठन खाते है किसी की भी व्यक्ति की बीमारी को हम खुले तौर आमन्त्रण देते है-

बैठ कर खाने से स्वास्थ-लाभ-


1- पंगत मे भोजन कराने से उस व्यक्ति की शान होती है वह वह व्यक्ति गुणी होता है भोजन अपने हाथों से कराने से अतिथि सम्मान की भावना प्रबल होती है तथा सामने वाला भी आपकी सेवा-भाव से प्रसन्न होता है-

2- जमीन पर सुखासन अवस्था में बैठकर खाने से आप कई स्वास्थ्य संबंधी लाभ प्राप्त कर शरीर को ऊर्जावान और स्फूर्तिवान बना सकते हैं जमीन पर बैठकर खाना खाते समय हम एक विशेष योगासन की अवस्था में बैठते हैं जिसे सुखासन कहा जाता है और सुखासन पद्मासन का एक रूप है सुखासन से स्वास्थ्य संबंधी वे सभी लाभ प्राप्त होते हैं जो पद्मासन से प्राप्त होते हैं-

3- बैठकर खाना खाने से हम अच्छे से खाना खा सकते हैं इस आसन से मन की एकाग्रता बढ़ती है जबकि इसके विपरीत खड़े होकर भोजन करने से यदि गौर करें तो देखेगें कि मन कभी एकाग्र नहीं रहता है तो मित्रो आप धीरे-धीरे इस प्रथा बदले और रोगों से खुद एवं अतिथि को भी सुरक्षित करने में अपना योगदान करे-

4- अगर आपको पोस्ट अच्छी लगी हो तो अपने मित्रों को अवश्य शेयर करना न भूलें जिससे लोगों में जागरूकता बढे और हम अपनी संस्कृति को बढावा दे सकें-



Read More-

Upcharऔर प्रयोग-

30 मार्च 2017

धनियाँ के घरेलू उपयोग क्या हैं

By With कोई टिप्पणी नहीं:
हमारे भारतीय रसोई में धनिया(Corriander)रसोई का अभिन्न हिस्सा है यह बतौर मसाला और व्यंजनों का स्वाद बढ़ाने के लिए इसका खूब इस्तेमाल किया जाता है फिर चाहे धनिया की हरी ताजा पत्तियों की बात हो या इसके सूखे हुए बीज दोनों प्रकार से इनका इस्तेमाल घर-घर में किया जाता है-
धनियाँ के घरेलू उपयोग क्या हैं

आधुनिक विज्ञान ने धनिया के अनेक औषधीय गुणों को प्रमाणित किया है आइये आज हम आपको इससे जुड़े हुए कुछ परंपरिक ज्ञान के बताने का प्रयास करते हैं-

धनिया(Corriander)से घरेलू उपचार-


1- हरे ताजे धनिया की पत्तियां(Coriander leaves)लगभग 20 ग्राम और उसमें चुटकी भर कपूर मिला कर पीसकर रस छान लें अब इस रस की दो बूंदें नाक के छिद्रों में दोनों तरफ टपकाने से तथा रस को माथे पर लगा कर हल्का-हल्का मलने से नाक से निकलने वाला खून-जिसे नकसीर भी कहा जाता है तुरंत ही बंद हो जाता है-

2- थोड़ा-सा ताजा हरा धनिया(Corriander)कुचलकर कर पानी में उबाल कर ठंडा होने के बाद मोटे कपड़े से छान कर शीशी में भर लें तथा इसकी दो बूंदें आंखों में टपकाने से आंखों में जलन, दर्द तथा आंख से पानी गिरना जैसी समस्याएं दूर होती हैं-

3- धनिया महिलाओं में मासिक धर्म संबंधी समस्याओं को भी दूर करता है यदि मासिक धर्म साधारण से ज्यादा हो तो आधा लीटर पानी में लगभग 6 ग्राम धनिया के बीज डालकर खौलाएं और इसमें शक्कर डालकर पिएं, फायदा होगा-

4- धनिया को मधुमेह नासी माना जाता है इसके सेवन से खून में इंसुलिन की मात्रा नियंत्रित रहती है धनिया त्वचा के लिए भी फायदेमंद है-

5- धनिया की पत्तियों के कुचलकर इसकी एक चम्मच मात्रा लेकर चुटकी भर हल्दी का चूर्ण मिलाकर चेहरे पर दिन में कम से कम दो बार लगाएं-इससे मुंहासों की समस्या दूर होती है और यह ब्लैकहेड्स को भी हटाता है-

6- सौंफ, मिश्री व धनिया के बीजों की समान मात्रा लेकर चूर्ण बना कर 6-6 ग्राम प्रतिदिन भोजन के बाद खाने से हाथ-पैर की जलन, एसिडिटी, आंखों की जलन, पेशाब में जलन व सिरदर्द दूर होता है-

7- धनिया, जीरा और बच की बराबर मात्रा लेकर काढ़ा बनाते हैं ये सर्दी और खांसी से पीड़ित बच्चों को भोजन के बाद यह काढ़ा (10 मि.ली) दिया जाता है जिससे उन्हें आराम मिलता है-


8- राजस्थान के काफी हिस्सों में धनिया की चाय पी जाती है इससे स्वास्थ्य में सुधार होता है इसे बनाने के लिए लगभग 2 कप पानी में जीरा, धनिया, चाय पत्ती और कुछ मात्रा में सौंफ डालकर करीब 2 मिनट तक खौलाया जाता है और आवश्यकतानुसार शक्कर और अदरक डाल दिया जाता है-कई बार शक्कर की जगह शहद डालकर इसे और भी स्वादिष्ट बनाया जाता है-गले की समस्याओं, अपच और गैस से परेशान लोगों को इस चाय का सेवन कराया जाता है यह बहुत फायदेमंद होता है-

अधिक जानकारी के लिए-

Read More-

Upcharऔर प्रयोग-

29 मार्च 2017

जातिवाद और सम्प्रदायवाद की राजनीति कब तक होगी

By With 3 टिप्‍पणियां:
क्या कभी सोचा है कि भारत को हम सब मिल कर आखिर कैसा देश बनाना चाहते है?कभी सोचा है कब तक हम सब जातिवाद धर्म सम्प्रदाय की राजनीति करते रहेगें? कुछ छणिक लाभ के लिए हम आखिर अपने देश को को कहाँ लें जा रहे है? हो सकता है मेरी पोस्ट पढ़ कर कुछ निजी स्वार्थी लोगों को तकलीफ होगी लेकिन मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता है क्युकि यही वास्तविक सत्य है-

जातिवाद और सम्प्रदायवाद की राजनीति कब तक होगी

जब भी लैपटॉप खोलता हूँ तो कुछ लोगों के दिल में समर्थन और असमर्थन का धुंवा सा उठता देखता हूँ हर एक की अपनी-अपनी सोच और अपना-अपना विचार है ख़ास कर आज कल सोसल मीडिया पर फैलाई जाने वाली पोस्ट का धुंवा है जो लोगों के बीच जहर की तरह फैलता जा रहा है कुछ लोगों ने अपने-अपने समुदाय के मानने वालों ने सिर्फ ये जातिवाद ,सम्प्रदायवाद,एकतावाद,क्षेत्रवाद का जहर बोने का ठेका सा ले रक्खा है-

आजकल जातिवाद और एकता की बात करने में कुछ कतिपय लोग लगें है मै उनसे एक सवाल पूछना चाहता हूँ आप आखिर ये जातिवाद की रोटी कब तक सेंकते रहेगें ब्राम्हणवाद, राजपूतवाद, जाटवाद, यादववाद, कायस्थवाद,गुर्जर और मीना और अंत में दलित और अल्पसमुदायवाद-क्यों देश को अनेक वाद में बदलने में लगे हो जब आप आपस में ही मनुष्यवाद को बांटना चाहते हो तो फिर आपका देश कभी महानता की ओर कैसे बढेगा फिर तो इसकी कल्पना करना सिर्फ एक बेमानी ही कहा जा सकता है-

पहले भी बँटवारे की राजनीति का परिणाम खतरनाक ही हुआ है और आज तक हम अपने देश के बँटवारे की वजह से परेशान है अपने ही घर को देखों शादी के बाद जब आपकी आने वाली बहूँ अपने पति को लेकर बँटवारे की बात करती है तो आपको कितना महान कष्ट होता है क्या आप अपने पुत्र का विवाह ये सोच कर करते है कि बंटवारा करना है शायद नहीं-लेकिन जब-जब बंटवारा होता है तो दुष्परिणाम ही देखने को मिलता है-

पहले के राजा महराजा अपने-अपने राज्य को बाँट चुके और परिणाम क्या मिला इसका इतिहास गवाह है की राजपूतो ने कभी एक-दूसरे राजपूत की मदद नहीं की बस सब अपनी ही मूंछ पर ही ताव खाते थे और जब मुग़ल एक किले पर हमला करते तो दूसरे किले के राजा तमाशा देखते थे बस राजपूत क्षत्रिय राजाओ में यही सबसे बड़ी कमजोरी थी जिसका फ़ायदा मुग़ल उठाते थे इसलिए मुगलो ने 800 साल तक हम पर राज किया ये एक कड़वी सच्चाई है जिसे जानकर भी हम सभी अनजान है और आज भी आजादी की लड़ाई के बाद यही प्रथा शुरू कर रहें है-

आज कायस्थ समाज कायस्थ एकता की बात कर रहा है उन सभी कायस्थ भाइयों से एक बात पूछना चाहता हूँ कि आप अपना एक अलग समाज क्यों बनाने की बात करते है क्या आपको भी बहती गंगा में हाथ धोना है या राजनीति की रोटियां सेंकनी है एक तरफ तो आप खुद को सर्वश्रेष्ठ बताते हो और दूसरी तरफ आप भी समाज में आरक्षण और एकता की बात करते हो आखिर इस एकता की राजनीति से आप भी पूरे समाज को वही देना चाहते हैं जो दूसरे जातिगत के लोगों ने आज तक किया है और परिणाम आप सब के सामने है आखिर हम मनुष्यवाद की ओर कब ध्यान देगें

आज के दौर में आतंकवाद को किस तरीके से परिभाषित किया जाए ये भी विवाद का एक मुद्दा है इस संवेदनशील मामले में प्रचलित विचारधारा यह है कि किसी एक के विचार में जो आतंकवादी है वह दूसरे के विचार में स्वतंत्रता सेनानी हो सकता है ऐसे में दोनों ही पक्षों को अपने विचारों की अभिव्यक्ति की आज़ादी मिलनी चाहिए लेकिन हिंसा इस समस्या का हल नहीं हो सकता है-

आज आतंकवादियों के ख़िलाफ़ इस लड़ाई में दुनिया के सभी देश एक-जुट नज़र आ रहे हैं लेकिन इन सभी कोशिशों के बावजूद आतंकवाद की परिभाषा अभी तय नहीं हो पाई है हाँ अलबत्ता ब्रिटेन एक ऐसा देश है जहाँ आतंकवादी हरकतों को कानूनी तौर पर परिभाषित किया गया है ब्रिटेन सरकार के मुताबिक ऐसी कोई भी हरकत आतंकवाद है जिसमें किसी सरकार पर किसी काम को करवाने के लिए ग़ैरकानूनी तरीके से जबरन दबाव डाला जाए-

कुछ वर्षो पहले भी कुछ जातिगत लोगों ने अपना वर्चस्व रख कर दूसरे जातिगत लोगों पर अत्याचार किया है ब्राह्मणों ने कभी किसी दूसरी जाती वालों का सम्मान नहीं किया और यहाँ तक कि दलितों को तो मंदिर भी नहीं जाने देते थे ब्राह्मणों की छुआछूत के भेदभाव के कारण विश्व और देश में हिन्दुत्व को बदनामी मिली और ईसाईयो और मुसलमानों को दलित हिन्दुओं को धर्मपरिवर्तन करने में सफलता मिली है हिन्दुत्व का जो नुकसान हुआ उसमें ब्राह्मणों की भी एक बहुत बड़ी भुमिका है चाहे वो मानें या ना मानें इससे समाज को कोई फर्क नहीं पड़ता है-आज का युवा समझदार हो गया है इन सब चीजों से बाहर निकल कर विकास के रास्ते पर बढ़ना चाहता है लेकिन आज भी कुछ स्वार्थी लोग अपने स्वार्थवश समाज में अनेक भ्रांतियाँ फैलाने में अपना योगदान करते नजर आ रहे है-

अब भी समय है संभल सकते है खुद को सारे बेकार के "वाद-विवाद" निकाल कर मनुष्यवाद की ओर अग्रसर हों-जब भी सोचों तो अपनी और अपने देश की उन्नति के बारे में सोचो-बाकी राजनीति तो उन लोगों के लिए है जो सिर्फ सत्ता ,पदलाभ के लिए राजनीति में कदम रखते है हमें तो इनमें से कुछ अच्छे लोगों का साथ देना या चुनाव करना है जो राष्टहित में कार्य कर सकें और सबको साथ लेकर देश का और समाज का विकास कर सकें-

Read More-

Upcharऔर प्रयोग-

28 मार्च 2017

अरंडी के तेल में ये अदभुत गुण पायें जाते हैं

By With कोई टिप्पणी नहीं:
अरंडी का पौधा आपको सर्वत्र ही देखने को मिल जाता होगा इसके चौड़े पत्ते होते है इसके बीज से तेल निकाला जाता है इस तेल को कास्टर आयल(Castor oil)भी पुकारते हैं इसका तेल दूसरे तेलों की तुलना में थोडा चिपचिपा होता है-

अरंडी के तेल में ये अदभुत गुण पायें जाते हैं

अरंडी के तेल में बहुत गुण होते है जिनसे आप अभी तक अनजान है इसके फायदे जानकार आप इसका प्रयोग अवश्य ही करना चाहेगें अरंडी का तेल आपके बालो और आपकी त्वचा के लिए बहुत ही फायदेमंद है आज इस पोस्ट में हम इसके गुणों की चर्चा करते है-

अरंडी के तेल(Castor oil)के उपयोग-


1- यदि आपकी एडियाँ बहुत अधिक फटती हैं तो आप रात को सोते समय अरंडी के तेल को हल्का सा गर्म करके अपनी एडियों पर लगायें तथा रात भर लगा रहने के बाद सुबह आप अपनी एडियों को धो ले बस इसका लगातार रोज रात को लगाने से आपकी एडियाँ मुलायम होने के साथ-साथ फटी और दर्द करने से शीघ्र ही छुटकारा दिला देगा-अरंडी का तेल आपको पंसारी या मेडिकल स्टोर से भी मिल जाएगा मेडिकल स्टोर में इसे कास्टर आयल के नाम से लिया जा सकता है-

2- यदि आप अपने चेहरे को चमक देना चाहती है तो अरंडी के तेल की कुछ बुँदे हाथ में लेकर अपने फेस पर थोड़ी देर लगायें और लगभग एक घंटे बाद आप साफ़ पानी से चेहरे को धो लें कुछ दिन रोज करने से आप अपनी चेहरे की त्वचा चमक से भरपूर होता देखेगी-

3- क्या आप बालों की समस्या से परेशान है तो आप अपने बालों को अरंडी के तेल से मसाज करें ये आपके बालों के लिए एक अच्छे कंडीशनर का काम करता है इसके प्रयोग से आपके बाल काले और घने बनते है-

4- अगर आप काली घनी पलके पाना चाहती है तो कास्टर ऑइल का इस्तेमाल करें आप सोने से पहले रुई के फाहे को अरंडी के तेल में डुबोकर अपनी पलकों पर लगाए कुछ ऐसा करने से आप नेचुरल तरीके से घनी पलके पा सकती हैं-

5- एक चमच्च बादाम के तेल में एक चमच्च कास्टर आयल मिलाए और इस मिश्रण को स्ट्रेच मार्क्स पर लगाए आप देखेगें कि कुछ ही दिनों में स्ट्रेच मार्क्स के निशाँन हलके हो जाएंगे-

6- यदि आप नाख़ून टूटने की समस्या से परेशान है तो कुछ दिनों तक सोने से पहले अपने नाखुनो पर कास्टर ऑइल से मसाज करें-इससे आपके नाख़ून मजबूत होंगे और जल्दी नही टूटेंगे-

Read More-


Upcharऔर प्रयोग-

27 मार्च 2017

Navratri-नवरात्रि का वैज्ञानिक महत्व

By With 1 टिप्पणी:
हमारे देश में साल भर अलग-अलग प्रकार के उत्सव मनाने की हमेशा से एक परम्परा रही है जैसे कि दिवाली, दशहरा, होली, शिवरात्री और नवरात्रि(Navratri)आदि लेकिन इनमे से कुछ उत्सव को हम रात्रि में ही मनाते है-इनका अगर कोई विशेष कारण न होता तो ऐसे उत्सवों को रात्रि न कह कर दिन ही कहा जाता है नवरात्रि का वैज्ञानिक आधार क्या है दरअसल नवरात्र शब्द से “नव अहोरात्रों(विशेषरात्रियों)का बोध” होता है और इस समय शक्ति के नव रूपों की उपासना की जाती है क्योंकि “रात्रि”शब्द सिद्धि का प्रतीकमाना जाता है-

Navratri-नवरात्रि का वैज्ञानिक महत्व

नवरात्रि(Navratri)के दिन नवदिन नहीं कहे जाते हैं लेकिन नवरात्रि के वैज्ञानिक महत्व को समझने से पहले हम थोडा नवरात्रि को समझे-हमारे मनीषियों ने वर्ष में दो बार नवरात्रों(Navratri)का विधान बनाया है मतलब कि विक्रम संवत के पहले दिन अर्थात चैत्र मास शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा(पहली तिथि)से नौ दिन अर्थात नवमी तक और इसी प्रकार इसके ठीक छह मास पश्चात् आश्विन मास शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से महानवमी अर्थात विजयादशमी के एक दिन पूर्व तक नवरात्रि(Navratri)मनाया जाता है-लेकिन फिर भी सिद्धि और साधना की दृष्टि से शारदीय नवरात्रों को ज्यादा महत्वपूर्ण माना गया है और इन नवरात्रों में लोग अपनी आध्यात्मिक और मानसिक शक्ति संचय करने के लिए अनेक प्रकार के व्रत, संयम, नियम,यज्ञ, भजन, पूजन, योग साधना आदि करते हैं-

जो व्यक्ति मंत्रो का सिद्ध करना चाहता है वो साधक इन रात्रियों में पूरी रात पद्मासन या सिद्धासन में बैठकर आंतरिक त्राटक या बीज मंत्रों के जाप द्वारा विशेष सिद्धियां प्राप्त करने का प्रयास करते हैं-

नवरात्रों(Navratri)में शक्ति के 51 पीठों पर भक्तों का समुदाय बड़े उत्साह से शक्ति की उपासना के लिए एकत्रित होता है और जो उपासक इन शक्ति पीठों पर नहीं पहुंच पाते वे अपने निवास स्थल पर ही शक्ति का आह्वान करते हैं-

अधिकांश उपासक शक्ति पूजा रात्रि में नहीं बल्कि पुरोहित को दिन में ही बुलाकर संपन्न करा देते हैं यहाँ तक कि सामान्य भक्त ही नहीं अपितु पंडित और साधु-महात्मा भी अब नवरात्रों(Navratri) में पूरी रात जागना नहीं चाहते और ना ही कोई आलस्य को त्यागना चाहता है-

वैज्ञानिक रहस्य-

आज कल बहुत कम उपासक ही आलस्य को त्याग कर आत्मशक्ति,मानसिक शक्ति और यौगिक शक्ति की प्राप्ति के लिए रात्रि के समय का उपयोग करते देखे जाते हैं जबकि मनीषियों ने रात्रि के महत्व को अत्यंत सूक्ष्मता के साथ वैज्ञानिक परिप्रेक्ष्य में समझने और समझाने का प्रयत्न किया और अब तो यह एक सर्वमान्य वैज्ञानिक तथ्य भी है कि रात्रि में प्रकृति के बहुत सारे अवरोध खत्म हो जाते हैं और हमारे ऋषि-मुनि आज से कितने ही हजारों-लाखों वर्ष पूर्व ही प्रकृति के इन वैज्ञानिक रहस्यों को जान चुके थे-

एक वैज्ञानिक रहस्य ये भी है कि अगर दिन में आवाज दी जाए तो वह दूर तक नहीं जाती है किंतु यदि रात्रि को आवाज दी जाए तो वह बहुत दूर तक जाती है इसके पीछे दिन के कोलाहल के अलावा एक वैज्ञानिक तथ्य यह भी है कि दिन में सूर्य की किरणें आवाज की तरंगों और रेडियो तरंगों को आगे बढ़ने से रोक देती हैं-रेडियो इस बात का जीता जागता उदाहरण है जहाँ आपने खुद भी महसूस किया होगा कि कम शक्ति के रेडियो स्टेशनों को दिन में पकड़ना अर्थात सुनना मुश्किल होता है जबकि सूर्यास्त के बाद छोटे से छोटा रेडियो स्टेशन भी आसानी से सुना जा सकता है इसका वैज्ञानिक सिद्धांत यह है कि सूर्य की किरणें दिन के समय रेडियो तरंगों को जिस प्रकार रोकती हैं ठीक उसी प्रकार मंत्र जाप की विचार तरंगों में भी दिन के समय रुकावट पड़ती है-

इसीलिए हमारे ऋषि-मुनियों ने रात्रि का महत्व दिन की अपेक्षा बहुत अधिक बताया है मंदिरों में घंटे और शंख की आवाज के कंपन से दूर-दूर तक वातावरण कीटाणुओं से रहित हो जाता है यही रात्रि साधना का वैज्ञानिक रहस्य है जो इस वैज्ञानिक तथ्य को ध्यान में रखते हुए रात्रियों में संकल्प और उच्च अवधारणा के साथ अपने शक्तिशाली विचार तरंगों को वायुमंडल में भेजते हैं उनकी कार्यसिद्धि अर्थात मनोकामना सिद्धि उनके शुभ संकल्प के अनुसार उचित समय और ठीक विधि के अनुसार करने पर अवश्य होती है-

नवरात्र के पीछे का वैज्ञानिक आधार यह कि पृथ्वी द्वारा सूर्य की परिक्रमा काल में एक साल की चार संधियाँ हैं जिनमे से मार्च व सितंबर माह में पड़ने वाली गोल संधियों में साल के दो मुख्य नवरात्र पड़ते हैं इस समय रोगाणु आक्रमण की सर्वाधिक संभावना होती है और ऋतु संधियों में अक्सर शारीरिक बीमारियाँ बढ़ती हैं अत: उस समय स्वस्थ रहने के लिए तथा शरीर को शुद्ध रखने के लिए और तन मन को निर्मल और पूर्णत: स्वस्थ रखने के लिए की जाने वाली प्रक्रिया का नाम है"नवरात्रि"-

क्या नवरात्रि(Navratri)में नौ दिन या नौ रात को गिना जाना चाहिए-तो मैं यहाँ बता दूँ कि अमावस्या की रात से अष्टमी तक या पड़वा से नवमी की दोपहर तक व्रत नियम चलने से नौ रात यानी ‘नवरात्रि’ नाम सार्थक है चूँकि यहाँ रात गिनते हैं इसलिए इसे नवरात्रि यानि नौ रातों का समूह कहा जाता है रूपक के द्वारा हमारे शरीर को नौ मुख्य द्वारों वाला कहा गया है और इसके भीतर निवास करने वाली जीवनी शक्ति का नाम ही दुर्गा देवी है-

इन मुख्य इन्द्रियों के अनुशासन,स्वच्छ्ता,तारतम्य स्थापित करने के प्रतीक रूप में-शरीर तंत्र को पूरे साल के लिए सुचारू रूप से क्रियाशील रखने के लिए नौ द्वारों की शुद्धि का पर्व नौ दिन मनाया जाता है और इनको व्यक्तिगत रूप से महत्व देने के लिए नौ दिन नौ दुर्गाओं के लिए कहे जाते हैं-

हालाँकि शरीर को सुचारू रखने के लिए विरेचन,सफाई या शुद्धि प्रतिदिन तो हम करते ही हैं किन्तु अंग-प्रत्यंगों की पूरी तरह से भीतरी सफाई करने के लिए हर छ: माह के अंतर से सफाई अभियान चलाया जाता है जिसमे सात्विक आहार के व्रत का पालन करने से शरीर की शुध्दि,साफ सुथरे शरीर में शुद्ध बुद्धि, उत्तम विचारों से ही उत्तम कर्म,कर्मों से सच्चरित्रता और क्रमश: मन शुध्द होता है क्योंकि स्वच्छ मन मंदिर में ही तो ईश्वर की शक्ति का स्थायी निवास होता है-

जीवनी शक्ति रूपी दुर्गा के नौ रूप हैं-


1.शैलपुत्री
2.ब्रह्मचारिणी
3. चंद्रघंटा
4. कूष्माण्डा
5. स्कन्दमाता
6. कात्यायनी
7. कालरात्रि
8. महागौरी
9. सिध्दीदात्री

इनका नौ जड़ी बूटी या ख़ास व्रत की चीजों से भी सम्बंध है जिन्हें नवरात्र के व्रत में प्रयोग किया जाता है-

1. कुट्टू (शैलान्न)
2. दूध-दही(.ब्रह्मचारिणी)
3. चौलाई (चंद्रघंटा)
4. पेठा (कूष्माण्डा)
5. श्यामक चावल (स्कन्दमाता)
6. हरी तरकारी (कात्यायनी)
7. काली मिर्च व तुलसी (कालरात्रि)
8. साबूदाना (महागौरी)
9. आंवला(सिध्दीदात्री)

ये नौ प्राकृतिक व्रत के खाद्य पदार्थ हैं लेकिन बेटों वाले परिवार में या पुत्र की चाहना रखने वाले परिवार वालों को नवमी में व्रत खोलना चाहिए-


Upcharऔर प्रयोग-

नवरात्रि में आप घटस्थापना कैसे करें

By With कोई टिप्पणी नहीं:
हम हर वर्ष नवरात्रि का आगमन होता है और हम सभी माता की पूजा अर्चना करते है आप सभी जानते है कि मां की पूजा आरम्भ करने से पहले नवरात्र पूजा की सफलता हेतु घट-स्थापन(Kalash-Installation)का किया जाता है और ये घटस्थापन हमेशा ही शुभ मुहूर्त में किया जाता है-

नवरात्रि में आप घटस्थापना कैसे करें

कैसे करें घटस्थापना(Kalash Installation)-

जहां घट स्‍थापना करनी हो आप उस स्‍थान को शुद्ध जल से साफ करके गंगाजल का छिड़काव करें फिर अष्टदल बनाएं तथा उसके ऊपर एक लकड़ी का पाटा रखें और उस पर लाल रंग का वस्‍त्र बिछाएं इन पर आप पांच स्थान बना कर क्रमशः गणेशजी, मातृका, लोकपाल, नवग्रह तथा वरुण देव को स्‍थान दें फिर सर्वप्रथम थोड़े चावल रखकर श्रीगणेजी का स्मरण करते हुए स्‍थान ग्रहण करने का आग्रह करें-

इसके बाद मातृका, लोकपाल, नवग्रह और वरुण देव को स्‍थापित करें और स्‍थान लेने का आह्वान करें फिर गंगाजल से सभी को स्नान(छिडकाव)कराएं-स्नान के बाद तीन बार कलावा लपेटकर प्रत्येक देव को वस्‍त्र के रूप में अर्पित करें-अब हाथ जोड़कर देवों का आह्वान करें फिर आप सभी देवों को स्‍थान देने के बाद अब आप अपने कलश के अनुसार जौ मिली मिट्टी बिछाएं तथा कलश में जल भरें इसके उपरान्त कलश में थोड़ा और जल-गंगाजल डालते हुए 'ॐ वरुणाय नमः' मंत्र पढ़ें और कलश को पूर्ण रूप से भर दें-

इसके बाद आम की टहनी(पल्लव) डालें तथा जौ या कच्चा चावल कटोरे में भरकर कलश के ऊपर रखें-फिर लाल कपड़े से लिपटा हुआ कच्‍चा नारियल कलश पर रख कलश को माथे के समीप लाएं और वरुण देवता को प्रणाम करते हुए कलश पर स्थापित करें और आप कलश के ऊपर रोली से या स्वास्तिक लिखें फिर मां भगवती का ध्यान करते हुए अब आप मां भगवती की तस्वीर या मूर्ति को भी स्‍थान दें तथा थोड़े से चावल डालें फिर आप मां की षोडशोपचार विधि से पूजा करें-अब यदि सामान्य द्वीप अर्पित करना चाहते हैं तो आप दीपक को प्रज्‍ज्वलित करें-लेकिन यदि आप अखंड दीप अर्पित करना चाहते हैं तो फिर सूर्य देव का ध्यान करते हुए उन्हें अखंड ज्योति का गवाह रहने का निवेदन करते हुए जोत को प्रज्‍ज्वलित करें-यह ज्योति पूरे नौ दिनों तक जलती रहनी चाहिए-इसके बाद पुष्प लेकर मन में ही संकल्प लें कि मां मैं आज नवरात्र की प्रतिपदा से आपकी आराधना अमुक कार्य के लिए कर रहा/रही हूं आप मेरी पूजा स्वीकार करके इष्ट कार्य को सिद्ध करो-

पूजा के समय यदि आप को कोई भी मंत्र नहीं आता हो तो चिंता की कोई बात नहीं है आप केवल दुर्गा सप्तशती में दिए गए नवार्ण मंत्र 'ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चे' से सभी पूजन सामग्री चढ़ाएं चूँकि ये "मां शक्ति" का यह मंत्र अमोघ है तथा आपके पास जो भी यथा संभव सामग्री हो उसी से आराधना करें यदि किसी कारण आपको कोई सामग्री उपलब्ध न हो तो आप अक्षत का भी उपयोग कर सकते हैं तथा संभव हो तो श्रृंगार का सामान और नारियल-चुन्नी जरूर चढ़ाएं-

यदि आप दुर्गा सप्तशती पाठ करते हैं तो संकल्प लेकर पाठ आरंभ करें लेकिन सिर्फ कवच आदि का पाठ कर व्रत रखना चाहते हैं तो माता के नौ रूपों का ध्यान करके कवच और स्तोत्र का पाठ करें तथा इसके बाद आरती करें और दुर्गा सप्तशती का पूर्ण पाठ एक दिन में नहीं करना चाहते हैं तो दुर्गा सप्तशती में दिए श्रीदुर्गा सप्तश्लोकी का 11 बार पाठ करके अंतिम दिन 108 आहुति देकर नवरात्र में श्री नवचंडी जपकर माता का पूर्ण आशीर्वाद भी प्राप्त कर सकते हैं-

माता की पूजा में सिर्फ मन की श्रधा का विशेष प्रभाव भी है इस कलियुग में इसलिए जो लोग विधान पूर्वक न कर सके वो श्रधा से भी मन्त्र जप कर सकते है-ईश्वर का ही दिया सब कुछ है इसलिए आप को ईश्वर को जादा से जादा अपनी श्रद्धा अर्पित करना चाहिए-

अधिक जानकारी नीचे लिंक पर क्लिक करें-


हिन्दू नववर्ष की शुरुवात कैसे करें

By With कोई टिप्पणी नहीं:
चैत्र शुक्ल प्रतिपदा के प्रात: ब्रह्म मुहूर्त में नित्यकर्म से निवृत्त होकर अभ्यंग स्नान अथवा तीर्थ, नदी, सरोवर में स्नान करके शुद्ध पवित्र होंना चाहिए तथा स्नान के पश्चात् सूर्योदय के समय नववर्ष के शुभारंभ के अवसर पर सूर्य की प्रथम रश्मि(किरण)के दर्शन के साथ नववर्ष का प्रारम्भ करें-
हिन्दू नववर्ष की शुरुवात कैसे करें

हिन्दू धर्म अनुसार पूर्व दिशा में मुख करके नीचे लिखे मंत्र से सूर्य को जल-पुष्प सहित अर्ध्य प्रदान करें-

           'आकृष्णेन रजसा व्वर्तमानो निवेशयन्नमृतम्मर्त्यञ्च ।
           हिरण्ययेन सविता रधेना देवो याति भुवनानि पश्यन् ।।'

आप सूर्यदेव के सन्मुख ही मानसिक रूप से प्रार्थना करें कि हे सूर्यदेव आप हमारे सभी दुखों को दूर करो जिससे हमारा भला हो आप हमें ज्ञानियों का हित करने वाला ज्ञान प्रदान करें हमारे नेत्रों की रक्षा करें और द्रष्टि को प्रखर करें मुझे सौ वर्षों तक नेत्रों से दिखाई देवे तथा सौ वर्षों का जीवन प्राप्त हो- सौ वर्षों तक श्रवण करें-सौ वर्षों तक अच्छी तरह से संभाषण करें-सौ वर्षों तक किसी के अधीन न रहे और सौ वर्षों से अधिक समय तक भी आनन्दपूर्वक रहें-

आज के दिन क्या सेवन करना है-


1- नववर्ष के पहले दिन आप नीम के कोमल पत्ते, पुष्प, काली मिर्च, नमक, हींग, जीरा मिश्री और अजवाइन मिलाकर चूर्ण बना कर आज के दिन सेवन करने से संपूर्ण वर्ष रोग से मुक्त रहते हैं

2- आज आप अपने गुरु और इष्ट की आरती पूजन करके मंत्र पुष्पांजली और प्रसाद वितरण करें-

3- सभी बंधू-बांधव,मित्रों को नववर्ष का अभिनन्दन और परस्पर शुभकामना, मंगलकामना, नववर्ष मधुर मिलन आदि का कार्यक्रम आयोजित करें-

4- नवसंवत्सर आरंभ के दिन नूतन वर्ष के पंचांग की पूजन, पंचांग का फल श्रवण, पंचांग वाचन और पंचांग का दान करने का उल्लेख धर्मशास्त्र में लिखा है कई जगह यह परंपरा आज भी गाँव-गाँव में प्रचलित है गांव में गुरु, पुरोहित आदि गांवों में पंचांग वाचन करते है-

Upcharऔर प्रयोग-

स्त्री एवं पुरुषों में नपुंसकता का घरेलू प्रयोग

By With कोई टिप्पणी नहीं:
हमारे समाज में आज भी निसंतान(Childless)होना एक अभिशाप माना जाता रहा है जिसमें नपुंसकता(Impotence)के कारण निःसंतान होना भी एक सामान्य कारण होता है कुछ अधिक एलोपैथिक दवाओं के सेवन से भी नपुंसकता उत्पन्न कर संतान उत्पन्न करने में व्याधा उत्पन्न कर सकती हैं-
स्त्री एवं पुरुषों में नपुंसकता का घरेलू प्रयोग

इनमें उच्चरक्तचाप की औषधियां एवं मधुमेह जैसे रोग भी शामिल हैं कई बार नपुंसकता(Impotence)का कारण शारीरिक न होकर मानसिक होता है ऐसे में केवल चिकित्सकीय काऊंसीलिंग ही काफी होती है-

कुछ आयुर्वेदिक नुस्खे स्त्री एवं पुरुषों में नपुंसकता-जन्य निःसंतानता के साथ ही शुक्राणुजन्य समस्याओं को दूर करने में कारगर सिद्ध होती हैं जो निम्नलिखित हैं 

निसंतानता(Childless)के घरेलू प्रयोग-

1- आप आयुर्वेद दवा बेचने वाले पंसारी से-श्वेत कंटकारी लाकर उसके  पंचांग को सुखाकर पाउडर बना लें तथा स्त्री को मासिक धर्म के पाचवें दिन से लगातार तीन दिन तक प्रातः एक बार दूध से दें तथा पुरुष को-अश्वगंधा 10 ग्राम, शतावरी 10 ग्राम, विधारा 10 ग्राम, तालमखाना 5 ग्राम, तालमिश्री 5 ग्राम सब मिलाकर 2 चम्मच दूध के साथ प्रातः सायं लेने पर निश्चित लाभ होता है-

2- स्त्री में "फलघृत" नामक आयुर्वेदिक औषधि भी इनफरटीलीटी को दूर करता है-

3- पलाश के पेड़ की एक लम्बी जड़ में लगभग 250 एम.एल. की एक शीशी खुले मुंह की लगाकर आप इसे जमीन में दबा दें तथा एक सप्ताह बाद आप इसे निकाल लें-अब इसमें इकठ्ठा होने वाला निर्यास द्रव प्रातः पुरुष को एक चम्मच शहद से दें-यह शुक्रानुजनित कमजोरी(ओलिगोस्पर्मीया)को दूर करने में मददगार होता है-

4- अश्वगंधा 1.5 ग्राम. शतावरी 1.5 ग्राम, सफ़ेद मुसली 1.5 ग्राम एवं कौंच बीज चूर्ण को 75 मिलीग्राम की मात्रा में गाय के दूध से सेवन करने से भी नपुंसकता दूर होकर कामशक्ति बढ़ जाती है-

5- शिलाजीत का 250 मिलीग्राम से 500 मिलीग्राम की मात्रा में दूध के साथ नियमित सेवन भी मधुमेह आदि के कारण आयी नपुंसकता को दूर करता है-

6- नपुंसकता(Impotence)को दूर करने के लिए उचित चिकित्सकीय परामर्श एवं समय पर कुछ आयुर्वेदिक औषधियों का प्रयोग कर इस बीमारी से निजात पाया जा सकता है-

Read More-  स्वप्न दोष क्यों और क्या होता है

Upcharऔर प्रयोग-

26 मार्च 2017

वेरीकोज वेन्स(Varicose Veins)क्या है

By With कोई टिप्पणी नहीं:
रक्त में हिमोग्लोबिन(Hemoglobin)नामक लाल पदार्थ होता है इसकी विशेषता यह है कि कार्बन डाइऑक्साइड एवं ऑक्सीजन दोनों के साथ प्रति वतर्यता (Reversibly)से जुड़ सकता है-हिमोग्लोबिन जब शरीर के ऊतकों से कार्बन डाइऑक्साइड को ग्रहण करता है वह कार्बोक्सी हिमोग्लोबिन कहलाता है कार्बोक्सी हिमोग्लोबिन वाला रक्त अशुद्ध होता है जो शिराओं से होकर फेफड़ों में श्वांस लेने की प्रक्रिया में हीमोग्लोबिन कार्बन डाइऑक्साइड को छोड़कर शुद्ध ऑक्सीजन ग्रहण करता है-

वेरीकोज  वेन्स(Varicose Veins)क्या है

क्या होता है वेरीकोज  वेन्स(Varicose Veins)-


1- यह शुद्ध रक्त धमनियों द्वारा कोशिकाओं तक पहुंचता है तथा अशुद्ध रक्त का रंग नील लोहित या बैंगनी होता है-शिराओं की भित्तियां पतली होती हैं और ये त्वचा के ठीक नीचे होती हैं-इसीलिए ऊपर से शिराओं को देखना आसान होता है अशुद्ध नील लोहित रंग के रक्त के कारण शिराएं(Veins)हमें नीले रंग की दिखाई देती हैं-शिराओं की तुलना में धमनियों की भित्ति अधिक मोटी होती है और काफी गहराई में स्थित होती है-इस कारण लाल रक्त प्रवाहित होने वाली धमनी हमें दिखाई नहीं देती है-

2- हमारे शरीर में रक्त को वापस ह्रदय तक ले जाने वाली शिराए जब मोटी होकर उभर कर दिखाई देने लगती है तथा सुजन आ जाती है तब व्यक्ति को टांगो में थकान और दर्द महसूस होता है अधिक उभरी शिराओ के होने का मुख्य कारण  हृदय की तरफ रक्त ले जाने वाली शिराओं में वाल्व लगे होते हैं जिसके कारण ही रक्त का प्रवाह एक दिशा की ओर होता है-

3- कई प्रकार की बीमरियों(कब्ज, खानपान सम्बन्धी विकृतियां, गर्भावस्था से सम्बन्धित रोग) के कारण शिराओं के रक्त संचार में बाधा उत्पन्न हो जाती है जिसकी वजह से ये शिरायें फैल जाती हैं और रक्त शिराओं में रुककर जमा होने लगता है और सूजन हो जाती हैं और अन्य प्रकार की परेशानियां उत्पन्न हो जाती हैं जैसे-व्यायाम की कमी, बहुत समय तक खड़ा रहना, अधिक तंग वस्त्र, अधिक मोटापा के कारण भी यह रोग हो जाता है यह रोग पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं को अधिक होता है क्योंकि आजकल रसोईघर में खड़े होकर ही भोजन बनाया जाता है-

4- इस रोग के कारण रोगी व्यक्ति के टांगों में दर्द होता है तथा रोगी व्यक्ति को थकान और भारीपन महसूस होता है इसमें रोगी के टखने सूज जाते हैं और रात के समय टांगों  में ऐंठन होने लगती है तथा त्वचा का रंग बदल जाता है और उसके निचले अंगों में त्वचा के रोग भी हो जाते हैं-

प्राकतिक उपचार(Natural Treatments)करे-


1- रोगी व्यक्ति को नारियल  का पानी, जौ का पानी, हरे धनिये का पानी, खीरे का पानी, गाजर का रस, पत्तागोभी, पालक का रस आदि के रस को पी कर उपवास रखना चाहिए तथा हरी सब्जियों का सूप भी पीना चाहिए-

2- कुछ दिनों तक रोगी व्यक्ति को फल, सलाद तथा अंकुरित दालों को भोजन के रूप में सेवन करना चाहिए तथा रोगी व्यक्ति को वे चीजें अधिक खानी चाहिए जिनमें विटामिन सी तथा ई की मात्रा अधिक हो और उसे नमक, मिर्च मसाला, तली-भुनी मिठाइयां तथा मैदा नहीं खाना चाहिए-

3- पीड़ित रोगी को गरम पानी का एनिमा भी लेना चाहिए तथा इसके बाद रोगी व्यक्ति को कटिस्नान करना चाहिए और फिर पैरों पर मिट्टी का लेप करना चाहिए तथा यदि रोगी व्यक्ति का वजन कम हो जाता है तो मिट्टी का लेप कम ही करें-

4- जब रोगी व्यक्ति को ऐंठन तथा दर्द अधिक तेज हो रहो हो तो गर्म तथा इसके बाद ठण्डे पानी से स्नान करना चाहिए-रोगी व्यक्ति को गहरे पानी में खड़ा करने से उसे बहुत लाभ मिलता है-

5- इस रोग से पीड़ित रोगी को सोते समय पैरों को ऊपर उठाकर सोना चाहिए-इससे रोगी व्यक्ति को बहुत अधिक लाभ मिलता है-

6- यदि इस रोग में कुछ ये आसन का उपयोग करे तो इसमें निश्चित ही लाभ  होता है जैसे-सूर्यनमस्कार,शीर्षासन,सर्वागासन,विपरीतकरणी,पवनमुक्तासन,उत्तानपादासन,योगमुद्रासन आदि ये किसी अच्छे योगाचार्य से सीख सकते है इसमें समय अवश्य लग सकता है मगर धीरे-धीरे ये रोग चला जाता है-

अधिक जानकारी के लिए देखें-

Upcharऔर प्रयोग-

25 मार्च 2017

बच्चेदानी में सूजन का कारण और उपचार

By With कोई टिप्पणी नहीं:
कई बार महिलाओं की बच्चेदानी(Uterus)में सूजन आ जाती है बदलते वातावरण या मौसम का प्रभाव गर्भाशय(Uterus)को अत्यधिक प्रभावित करता है जिससे प्रभावित होने पे महिलाओं को बहुत कष्ट उठाना पड़ता है इसके प्रभाव से भूंख नही लगती है सर-दर्द-हल्का बुखार या कमर-दर्द-और पेट दर्द की समस्या रहती है-
बच्चेदानी में सूजन का कारण और उपचार

गर्भाशय(Uterus)की सूजन क्या कारण है-


1- पेट की मांसपेशियों में अधिक कमजोरी आ जाने के कारण तथा व्यायाम न करने के कारण या फिर अधिक सख्त व्यायाम करने के कारण भी गर्भाशय(Uterus)में सूजन(Swelling)हो सकती है-

2- पेट में गैस तथा कब्ज बनने के कारण गर्भाशय(Uterus)में सूजन हो जाती है-

3- औषधियों(Medicine)का अधिक सेवन करने के कारण भी गर्भाशय(Uterus)में सूजन हो सकती है-

4- जरुरत से जादा अधिक सहवास(Sexual Intercourse)करने के कारण भी गर्भाशय(Uterus)में सूजन हो सकती है-

5- भूख से अधिक भोजन सेवन करने के कारण स्त्री के गर्भाशय में सूजन आ जाती है तथा अधिक तंग कपड़े पहनने के कारण भी गर्भाशय(Uterus)में सूजन(Swelling)हो सकती है-प्रसव के दौरान सावधानी न बरतने के कारण भी गर्भाशय में सूजन हो सकती है-

गर्भाशय में सूजन(Swelling)का उपचार-


1- गर्भाशय(Uterus)में सूजन(Swelling)से पीड़ित महिला को चटपटे मसालों-मिर्च-तली हुई चीजें और मिठाई से परहेज रखना चाहिए-

2- पीड़ित स्त्री को दो तीन बार अपने पैर कम से कम एक घंटे के लिए एक फुट ऊपर उठाकर लेटना चाहिए और आराम करना चाहिए-

3- गर्भाशय(Uterus)में सूजन(Swelling)हो जाने पर महिला रोगी को चार-पांच दिनों तक फलों का जूस पीकर उपवास करना चाहिए- उसके बाद बिना पका हुआ संतुलित आहार लेना चाहिए-

4- निर्गुण्डी को किसी भी प्रकार के बाहरी भीतरी सूजन के लिए इसका उपयोग किया जाता है यह औषधि वेदना शामक और मज्जा तंतुओं को शक्ति देने वाली है वैसे आयुर्वेद में सुजन उतारने वाली और भी कई औषधियों का वर्णन आता है पर निर्गुण्डी इन सब में अग्रणी है और सर्वसुलभ भी-नीम,(निर्गुन्डी) सम्भालु के पत्ते और सोंठ सभी का काढ़ा बनाकर जननांग में लगाने से सुजन ख़त्म हो जाती है-

5- बादाम रोगन एक चम्मच, शरबत बनफ्सा तीन चम्मच और खांड पानी में मिलाकर सुबह पीयें तथा बादाम रोगन का एक रुई का फोया जननांग के मुह पर रखें-इससे गर्मी के कारण गर्भाशय(Uterus)में सूजन(Swelling)ठीक हो जाती है-

6- अरंड के पत्तों का रस छानकर रुई में भिगोकर जननांग में लगाने से भी सूजन ख़त्म हो जाती है-

7- अशोक की छाल 120 ग्राम, वरजटा, काली सारिवा, लाल चन्दन, दारूहल्दी, मंजीठ प्रत्येक को 100-100 ग्राम मात्रा, छोटी इलायची के दाने और चन्द्रपुटी प्रवाल भस्म 50-50 ग्राम, सहस्त्रपुटी अभ्रक भस्म 40 ग्राम, वंग भस्म और लौह भस्म 30-30 ग्राम तथा मकरध्वज गंधक जारित 10 ग्राम की मात्रा में लेकर सभी औषधियों को कूटछानकर चूर्ण तैयार कर लेते हैं फिर इसमें क्रमश: खिरेंटी, सेमल की छाल तथा गूलर की छाल के काढ़े में 3-3 दिन खरल करके 1-1 ग्राम की गोलियां बनाकर छाया में सुखा लेते हैं फिर इसे एक या दो गोली की मात्रा में मिश्रीयुक्त गाय के दूध के साथ सुबह-शाम सेवन करना चाहिए-इसे लगभग एक महीने तक सेवन कराने से स्त्रियों के अनेक रोगों में लाभ मिलता है-इससे गर्भाशय(Uterus)में सूजन(Swelling)जलन, रक्तप्रदर, माहवारी के विभिन्न विकार या प्रसव के बाद होने वाली दुर्बलता इससे नष्ट हो जाती है-

8- एरण्ड(अंडी) के पत्तों का रस छानकर रूई भिगोकर गर्भाशय के मुंह पर तीन-चार दिनों तक रखने से गर्भाशय(Uterus)में सूजन(Swelling)मिट जाती है-

9- कासनी की जड़, गुलबनफ्सा और वरियादी 6-6 ग्राम की मात्रा में, गावजवां और तुख्म कसुम 5-5 ग्राम, तथा मुनक्का 6 या 7 को एक साथ बारीक पीसकर उन्हें 250 ग्राम पानी के साथ सुबह-शाम को छानकर पिला देते हैं यह उपयोग नियमित रूप से आठ-दस दिनों तक करना चाहिए-इससे गर्भाशय(Uterus)में सूजन(Swelling)रक्तस्राव, श्लैष्मिक स्राव(बलगम, पीव)आदि में पर्याप्त लाभ मिलता है-

10- चिरायते के काढ़े से योनि को धोएं और चिरायता को पानी में पीसकर पेडू़ और योनि पर इसका लेप करें इससे सर्दी की वजह से होने वाली गर्भाशय(Uterus)की सूजन(Swelling) नष्ट हो जाती है-

11- रेवन्दचीनी को 15 ग्राम की मात्रा में पीसकर आधा-आधा ग्राम पानी से दिन में तीन बार लेना चाहिए-इससे गर्भाशय की सूजन मिट जाती है-
Upcharऔर प्रयोग-

क्या हम आज भी उल्लू है

By With कोई टिप्पणी नहीं:
                  "हर डाल पे उल्लू बैठा हो तो अंजामे गुलिस्ता क्या होगा"

जिसने भी कहा यथार्थ सत्य ही कहा है हमारा देश जिसे कभी सोने की चिड़ियाँ कहा जाता था लोगों की बुरी नजर लग गई है पहले मुगलों ने लुटा फिर अंग्रेजो ने लुटा और जब थोडा बहुत बच गया था तो फिर इन राजनीति करने वालों उल्लुओं ने लूटा ये आखिर क्यों हुआ जिसका जवाब हमें ही अपने दिल पे हाथ रख कर पूछना होगा आज कल तो हर गाँव में शहर में चौक और गलियारों में राजनीति(Politics)के इन उल्लुओं(Owls)का ही गुणगान होता दिखता है कारण ये है कि हम सब उल्लू राजनीति के उल्लुओं(Owls)का गुणगान में लगे है-

क्या हम आज भी उल्लू है

आज हमारा संविधान(Constitution)भी इन्ही उल्लुओं(Owls)की जेब में है आम आदमी का भी कसूर है जो पहले इन्हें वोट देकर जिताता है फिर खुद-ब-खुद उल्लू(owl) बन जाता है जब जनमत(Public opinion)हम ही इन उल्लुओं को देते है तो कसूर किस उल्लू का है-
सत्ता के लोलुप की जेब में जब जनमत(Public opinion)आ जाता है तो हमारा संविधान(Constitution)भी इनकी जेब में होता है और हम सिर्फ एक उल्लू बन खुद को सविंधान से आशा करते है कि हमें इंशाफ मिलेगा-

परिणाम आज से वर्षो पहले भी यही था जब हमारे यहाँ राजे-रजवाड़े हुआ करते थे वो तो बस एशो-आराम-नाच गाने और झूठी शान में ही अपना समय गवां देते थे और लोग व्यापार और पनाह के नाम पर अपने हाथ-पाँव फैला कर हमें ही गुलाम बना लेते थे और प्रजा सिर्फ उल्लुओं(Owls)की भाँती अपने राजा को देखता रह जाता था और विवश हो जाता था उल्लुओं की तरह जीने में-

आज भी हम नए युग के उल्लुओं के गुलाम है एक सुप्रीमो या हाईकमान अपना ही वर्चस्व(Domination)रखना चाहता है और उसके नीचे तमाम उल्लू उसकी आज्ञा मानने को विवश है क्युकि हमारे संस्कार ही हो गए है उल्लुओं की तरह जीने के -

आज से पहले जो बलिदान हुए शहीद थे उनकी आत्मा भी कही न कही से हम सभी उल्लुओं को देख कर धिक्कारती ही होगी और ये सोचती होगी कि काश क्या इसी लिए आजादी की जंग लड़ी थी जो आज भी ये गुलाम होकर जीने को विवश है वैसे भी देशभक्तों को इन उल्लुओं(Owls)ने हमेशा उल्लू माना जो कि राष्ट्राभिमान के कारण अंग्रेज सरकार के आगे टेढ़े हो जाने के कारण अपना उल्लू सीधा नहीं कर सके-हमारे शहीद दर-दर जान लेकर भटकते रहे और वंदेमातरम कहकर फांसी के फंदों पर लटकते रहे और जो आजादी के बाद बचे रहे गए-तो वे सपरिवार अपमान और उपेक्षा का जहर गटकते रहे है जबकि अंग्रेजियत से ओत-प्रोत कुछ उल्लू भी समझदार निकले उनको पता था बलिदान देकर क्या मिलेगा सत्ता का सुख तो कोई और लेगा इसलिए उन्होंने अपनी समझदारी से अपना उल्लू सीधा किया-

खुद-ब-खुद जो आदमी उल्लू बना रहना चाहता है उसका तो भगवान् भी कुछ नहीं कर सकते है इसमें भी दो तरह के लोग पाए जाते है एक जो दूसरों को उल्लू बनाती है और दूसरी वो है जो खुद ही उल्लू बनती है

एक विशेष वर्ग जो पहले से ही उल्लू है उसे तो दूसरा कोई भला कैसे उल्लू बना सकता है जब आजादी मिली तो अपने घोसले से चालाक उल्लू बाहर आये चूँकि अब वातावरण उनके अनुकूल हो चुका था तो घोंसले के चालाक उल्लुओं से खुद के पूर्वजों की ख्याति के गुणगान गाने शुरू किये उनके नाम पे जगह-जगह पत्थर से लेकर चिकित्सालय और विध्यालय से लेकर कई तरह की इमारतों पे भी पूर्वज उल्लुओं का नामकरण किया जाने लगा ताकि आने वाले वर्षो में नए जन्मे उल्लुओं(Owls)को सिर्फ यही लगे कि अगर कुछ किया है तो सिर्फ एक विशेष समुदाय वर्ग के उल्लुओं ने ही देश के लिए कुछ किया है -बाकी तो सब निम्नकोटि के उल्लू ही थे -

अमर शहीदों के बलिदानों को इनके दिव्य और भव्य कारनामों के आगे ऐसे प्रस्तुत किया गया जैसे सूरज के आगे सिगरेट लाइटर और फिर शुरू हुआ एक महत्वपूर्ण कार्य और वो कार्य था दूसरे लोगो को उल्लू बनाओ और अपनी सत्ता की लोलुपता को-जांत-पांत-अमीरी-गरीबी में बाँट कर रक्खो -

भविष्य का नया अध्याय शुरू हो चुका था आदर्श और बलिदान खो चुका था बस भ्रष्टाचार के ही उल्लू बोल रहे थे अपने उल्लेखनीय उल्लुत्व के साथ- भारतीय जनमानस में विराट उल्लाप करते हुए ये अपना समुदाय बढ़ाने के लिए उल्लू चहुं ओर सक्रिय हो गए थे-देश के अलग-अलग राज्यों से महान उल्लुओं को ढूढू-कर मन्त्र-दीक्षा दी गई अपना समुदाय डेवलप करो और राज करो बस हम आपके राजा है इसलिए आप बस हमारा समर्थन करते रहे आप मजे ले और हमे भी लेने दे

अब क्या था-काठ के उल्लुओं(Owls)के कंधे पे अपना समुदाय बढाने का भार आ गया था और फिर शुरू हुआ तेजी से उल्लू बनाने का कार्यक्रम जो आज तक विद्यमान है बस सभी अपने-अपने स्वार्थवश एक दूसरे को उल्लू बनाए जा रहे है ये सिलसिला चल रहा है और अनवरत प्रगतिशील है -

भ्रष्टाचार कैसे बढे और उल्लू-संस्कृति का वर्चस्व बढे-इसके लिए तरह-तरह के प्रयोग किये जाने लगे बहुत कुछ परिवर्तन किये गए ताकि गरीब -गरीबी के स्तर से उपर न आये-जाति-बिभाजन तेजी से प्रखर हुआ ताकि कहीं फिर से कोई एकता का बिगुल न बजा सके-समुदायों में बंटवारा हुआ-देश का बंटवारा तो पहले भी हुआ आज भी कुछ उल्लू इसी फिराक में लगे है -

'तमसोमाज्योतिर्गमय' को पलटकर 'ज्योतिर्मातमासोगमय' कर दिया गया-यानी कि उजाले से अंधेरे की ओर-उल्लुओं को उजाला पसंद नहीं होता है वे हमेशा अन्धकार को ही पसंद करते है और अगर कोई एक उजाले की तरफ ले जाने के लिए हंस रूपी मानव आ जाए तो फिर पेट में दर्द होना तो इन उल्लुओं को स्वाभाविक है -

आप सभी जानते ही है उल्लू लक्ष्मी का वाहन है इसलिए उल्लू शब्द बुरा नहीं-लक्ष्मी माता की सवारी को भला आप हेय द्रष्टि से कैसे देख सकते है आपको ये भी पता होगा तंत्र में भी उल्लू का बहुत महत्व है लक्ष्मी प्राप्ति के लिए भी लोग उल्लू तंत्र साधना में लगे रहते है वही हाल प्रजातंत्र में है आपको शोहरत और धन पाना है तो राजनीति के उल्लुओं को सिद्ध किये कुछ नहीं मिलेगा यदि ये नहीं कर पाए तो फिर रह जायेगे सिर्फ-

      'काठ के उल्लू '

जिसे सिर्फ शो केस में ही सजाया जा सकता है-

ये लेख एक कटुब्यंग है- 

Upcharऔर प्रयोग-

24 मार्च 2017

नवजात शिशु के होने वाले संस्कार क्या हैं

By With कोई टिप्पणी नहीं:
आज आधुनिकता में लोग पुरानी परम्पराओं को विस्मृत करते जा रहे है हमारा प्रयास आपको सिर्फ सनातन परम्परा से अवगत कराना है कुछ जगह आज भी बालक के गर्भ में आने से लेकर अन्त तक के सभी संस्कार(Sanskar)परम्परा के अनुसार  पूर्णतया निभाई जाती रही है लेकिन बदलते वातावरण में आज अब लोगों के पास बुजुर्गों के पास बैठने का समय नहीं है इसलिए ये बालकों के संस्कार(Sanskar)अब समाज से प्राय:लुप्त होते जा रहे है-
नवजात शिशु के होने वाले संस्कार क्या हैं

नवजात के सभी संस्कार(Sanskar)की जानकारी-


बालक के जन्म से पहले गर्भवती गर्भवती स्त्री को आठवां महीना प्रारम्भ होने पर घर की बुजुर्ग महिलाओं द्वारा गर्भवती महिला को आठवां पहनाया जाता है इसमें गहरे नीले रंग के वस्त्र तथा चूंडि़यां पहनाने की परंपरा है तथा गर्भवती स्त्री के मायके के लोगों को नारियल व मिठाई भेजकर गोद-भराई के उत्सव का अमंत्रण भेजा जाता है-

गर्भवती स्त्री के प्रथम बार गर्भ के नवें माह में गोद-भराई(सादों)का कार्यक्रम होता है जिसमें गर्भवती स्त्री को मायके पक्ष के द्वारा पुत्री के प्रथम बार मातृत्व धारण करने की खुशी में सुन्दर वस्त्र रत्न आभूषण एवं सुन्दर खाद्य सामग्री दालें,चावल,बरी,बिजोरे,पापड़,मिष्ठान्न आदि तथा दामाद एवं समधिन आदि के लिये यथा शक्ति वस्त्र आभूषण भेजे जाते हैं-

गर्भवती स्त्री को उसकी नन्दों द्वारा भी मेवा फल,मिठाईया,कपडे़ आदि गर्भवती स्त्री के लिए उपहार स्वरूप देकर उसके गर्भ की मंगल कामना करती है जिनसे ससुराल में उत्साह एवं उल्लास पूर्ण वातावरण में(गर्भवती वधु)को नये परिधान में सजाकर घर की व रिश्ते नाते की शादी-शुदा स्त्रियाँ रोरी, कुमकुम, तिलक लगाकर (वधू)का मंगल तिलक कर आरती उतारती तथा बलायें लेती हुई सकुशल निर्विध्न कार्य सम्पन्न होने की मंगल कामना करते हुये उपहार देती हैं इसके पश्चात् वधू के मायके पक्ष वालों का स्वागत सत्कार कर यथा शक्ति भेंट देकर विदा किया जाता है-

यह कार्य आजकल चौक के समय ही पूर्ण किया जाने लगा है परन्तू अच्छा हो शिशु के जन्म के पूर्व ही किया जाये-क्योंकि सादों का अर्थ गर्भवती स्त्री के खानपान,वस्त्र आभूषण आदि से तृप्ति कर सभी इच्छाओं की पूर्ति करना होता है इस अवसर पर खट्टी-मीठी चीजों जैसे दही, पेड़ा आदि भी खिलाया जाता है जिसकी जच्चा एवं बच्चा पर इसकी गहरी छाप पड़ती है अन्य समाजों में इसको दही-भात की रस्म भी कहते है-

जन्म संस्कार(Birth Sanskar)-


शिशु के जन्म होने पर परिवार तथा खास रिश्तेदार की महिलाओं को बुलाकर चरूआ चढाया जाता है तथा पुरोहित जी द्वारा पूजन उपरांत बच्चे की जन्म पत्रिका बनवाई जाती है और अगर जच्चा को मूल पड़े हों तो विधि विधान के साथ मूल शांति का पूजन भी कराया जाता है  मूल शांति के दिन ज्योतिषी से पूजन करावे तथा पुराने कपड़े व अन्नदान कुछ धन आदि संकल्प करके देना चाहिये ब्राम्हणों को भोजन करावें पुरोहित व नाई को यथा योग्य भेट दे सकते है-

शिशु का चौक संस्कार(Sanskar)-


यह नवजात शिशु के सामाजिक जीवन प्रवेश का बड़ा ही महत्वपूर्ण संस्कार(Sanskar)है इस कार्य को बालक के जन्म से दसवें दिन अथवा तदुपरान्त अपनी सुविधा अनुसार शुभ मुहुर्त में आयोजित किया जाता है इसके आयोजन से पूर्व वधू के मायके में आंमत्रण दिया जाता है आमंत्रण के साथ गुड़ के सवा किलो लड्डू,पांच नग पेड़ा, बडे़ दूर्बा एवं श्रद्धा अनुसार रूपये एवं मिठाई 1 किलो भेजा जाता है तथा जच्चे की जितनी ननद हो अर्थात विवाहित पुत्रियों के यहां भी इसी प्रकार से 5 लड्डू एवं 5 पेड़ा, दुर्बा एवं मिठाई भेजना चाहिए- 

चौक समारोह का आयोजन अपनी सामर्थ्य अनुसार किया जाता है वधू के मायके वालों के यहां से पुत्र पुत्रियों तथा बहुओं को धूमधाम से वधू पक्ष के यहाँ आने की परम्परा है जो अपने साथ पुत्री, दामाद तथा नवजात शिशु एवं समधिन,देवरानी,ननद आदि के लिये सामर्थ्य अनुसार,गुड़ के लड्डू, मिठाइयां, वस्त्र,आभूषण, नवजात के लिये करधनी, पायल, पहुंची, गले के लिये हाय-चन्द्रमा अथवा माला या चैन, खिलौने आदि तथा अन्न दान के रूप में चावल, दालें, बरी, पापड़, प्रचलित स्टील बर्तनों में रखकर तथा छोटे गुदेली-पल्ली, तकिया, मच्छरदानी आदि भेजते है- 

चौक के दिन शुभ मुहुर्त में विद्वान आचार्य जी द्वारा चौक का पूजन कराया जाता है तथा आचार्य की दक्षिणा यानी कि उनका नेग परिश्रमिक,नवजात शिशु तथा उसकी मां के हाथ में रखकर ही दिलाना चाहिये-इसी समय नवजाति शिशु की बुआ द्वारा सांतिया रखे जाते है तथा जच्चा द्वारा कुआं का या (नल का)पूजन किया जाता है-तत्पश्चात आमंत्रित अतिथियों को यथा शक्ति भोजन कराया जाता है-

भोजन प्रारम्भ से पहले नवजात शिशु को आये हुये सामाजिक लोग, बड़े बुजुर्गो आचार्य, बन्धु-बान्धव रिश्तेदारों के समक्ष गोद में लेकर स्पर्श तथा आशीर्वाद अवश्य दिलाना चाहिये-यही आशीर्वाद नवजातशिशु के जीवन प्रारंभ की संचित पूंजी हो जाती है-तत्पश्चात वधू के मायके वालों को उनके अपने गृह प्रस्थान के समय यथाशक्ति मान सम्मान के साथ, वस्त्र, आभूषण, नगद राशि के साथ हल्दी, रोरी,तिलक लगाकर श्रीफल भेंटकर विदा करना चाहिये-

बधावा(Bdhawa)या चंगेल संस्कार-


बधावा नवजात शिशु की बुआ-फूफा द्वारा किया जाता है बहनें, भाई के यहां सन्तान जन्म का समाचार पाकर आनन्द विभोर हो जाती हैं चूँकि भाई-बहन का प्रेम इस जगत में सनातन से एक अक्षय निधि के रूप में जाना जाता रहा है-

भाई-बहन के रिश्तों के तुल्य जगत में कोई अन्य रिश्ता नहीं है इस अवसर पर बहिन अपनी सम्पूर्ण सामर्थ अनुसार उत्साहपूर्वक नवजात शिशु के लिये पालनाझूला (सुसज्जित) वस्त्र-आभूषण, खिलौने तथा भैया-भाभी एवं अन्य छोटे बच्चों के लिये वस्त्र-आभूषण उपहार लाती है तथा चौक कार्यक्रम में तन, मन, धन से सर्वाधिक खुशियों का इजहार करती हैं- 

हमें ध्यान रखना चाहिये कहीं से भी बहिन की खुशियों कम न हों ऐसा आचरण करते हुये बड़ी ही उदारता से बहिनों की बिदाई करना चाहिये तथा बहिन-बहनोई के साथ उसकी सास के लिये भी वस्त्र आभूषण यथा शक्ति देकर एवं उनके द्वारा लाये गये सामान के सापेक्ष अनुसार देकर बिदा करना चाहिये-

पूर्व काल में बहिनों द्वारा बड़े ही उत्साह के साथ गाजे- बाजे सहित पथ शोभायात्रा निकाली जाती थी, जो नगर, गांव में निवास करने वाले पितृ पक्ष से सम्बन्धित परिवारों, खानदान एवं नाते रिश्तेदारों जिनकी गोद में वह पली-बढ़ी है, सभी द्वारों में सिर पर पालना रख कर जाती थी तथा अपने मायके पक्ष को आनन्द विभोर करती थी और बदले में सभी लोग अपनी बेटी का स्वागत सत्कार करते, आशीर्वाद देने के साथ ही यथा वस्त्र, धन, आभूषण आदि देकर बिदा करते थे पर आज समयाभाव एवं घटते परस्पर प्रेम के चलते यह नेग मात्र ही रह गया है-शिशु के नामकरण का अधिकार भी सबसे पहले बुआ का है-

अन्नप्रासन संस्कार(Annprasn Sanskar)-


यह संस्कार लगभग पांच माह की आयु होने पर शिशु को अन्न ग्रहण कराकर उसके शारीरिक विकास का मार्ग प्रशस्त करना तथा समय-समय पर नाना प्रकार के सुस्वाद व्यंजनों से अवगत कराना है-

यह कार्य घर में ही शुभ दिन तथा नक्षत्र चौघडि़यां आदि देखकर मुहुर्त अनुसार किया जाना चाहिये तथा बालक को उबटन स्नान के बाद नव वस्त्र पहनाकर शुद्ध साफ बर्तन में खीर बनाकर चांदी की चम्मच कटोरी में रखकर सर्वप्रथम घर के सबसे बुजुर्ग सदस्य के द्वारा बालक को खीर खिलानी चाहिये-तत्पश्चात सभी सदस्य शिशु को खीर चटायें इसका तात्पर्य यह कि घर का हर सदस्य बालक के पोषण का उत्तरदायी है आजकल अनेक समस्याओं के चलते यह कार्य दो माह उपरान्त कभी भी किया जा सकता है-

मुण्डन संस्कार(Mundan Sanskar)-


मुंडन संस्कार बालक की छ माह की उम्र से लेकर एक वर्ष के अन्दर ही किया जाना चाहिये-इस संस्कार को सम्पन्न करने हेतु पूर्वजों द्वारा निर्धारित जो भी पूज्य देवस्थान होता है वहां पर जाकर शिशु के गर्भ के बाल उतरवाना चाहिये आजकल समयाभाव के कारण स्थान परिवर्तित होने या अधिक दूरी होने के कारण यदि जाना संभव हो तथा समय पर संस्कार करवाना आवश्यक हो तो पूर्व मान्यता प्राप्त देवी-देवता का चित्र रख कर किसी भी धार्मिक स्थल में जाकर ही कार्य पूर्ण कर लेना चाहिये-

इसका शुभ मुहुर्त अपने किसी पुरोहित से पूंछ लें अन्यथा दोनों नवरात्रि काल भी सर्वमान्य शुभ मुहुर्त हैं बालक के मुण्डन के समय गर्भ के बाल लेने हेतु बुआ की आवश्यकता होती है क्योंकि झालर गर्भ से शिशु के साथ आती है और इसे भूमि पर नहीं रखा जा सकता है तथा परिवार का पूज्य व्यक्ति ही इन्हें धारण कर सकता है अत: सबसे निकट रिश्ते में पिता की बहन(बुआ)ही उपयुक्त मानी गई है जो बहुत मनोयोग से पूर्ण सम्मान से गुड एवं आटे के पुआ बनाकर उन पर झालर को लेती है और बाद में इसे पवित्र नदी या जलाशय में विसर्जित करती है-इस कार्य हेतु यदि सगी बुआ न हो,तो मामा,चाचा,मौसेरी, फुफेरी अथवा मुंह बोली बुआओं के द्वारा भी किया जा सकता है-

बुआ को इसका उचित नेग भी दिया जाता है (विकल्प स्वरूप सता का निर्माण खोवा-शक़्क़र से भी होता है) झालर उतरने पश्चात एक सता झालर के साथ विसर्जित होता है एवं एक दान किया जाता है और शेष सभी बुआयें जों भी उपिस्थत होती हैं आपस में नेग सहित बांट लेती है बुआओं को नेंग उनकी संख्या देखकर यथाशक्ति अधिका अधिक राशि देना चाहियें-मान्यता यह भी है कि जन्म के बाल वाले शिशु को बिना मुंडन के पवित्र नदी के पार बिना भेंट चढ़ाये नहीं ले जाना चाहिये-

कर्ण छेदन संस्कार(Karncedan Sanskar)-


कर्ण छेदन संस्कार एक प्रमुख संस्कार है इसका बृहद आयोजन किया जाता है पुत्र में यह संस्कार विवाह के बराबर महत्व का है इसके करते समय कुल देव का आवाहन पूजन आवश्यक होता है जो विवाह के बराबर होती है अत: सकल कुटुम्ब जो माँय मैहर से जुड़ा हो एवं बेटी, बहन, बुआ, मामा परिवार आदि को आमंत्रित कर भोजन कराना-इस संस्कार को पूर्ण करने केवल नाई एवं स्वर्णकार अथवा बारी की आवश्यकता होती है-मातृका पूजन की पूर्ण तैयारी कर बालक को स्नान कराकर (उबटन लगाकर) पूर्ण नये वस्त्र, जूते लाल रंग के पहनाकर पटे पर बिठाकर तिलक,आरती करके,नाई द्वारा मुण्डन कर सुनार द्वारा कान छिदवाया जाता है तथा  बालक को मिष्ठान्न खिलाकर मुंह मीठा किया जाता है तथा उपिस्थत लोग बालक की न्यौछावर कर नाई को देंते है-

बालक को भी आमंत्रित रिश्तेदार उपहार देते हैं तत्पश्चात कान छेदने वाले सुनार  व नाई को भी नेग स्वरूप कुछ द्रव्य देते है-आजकल के युवक लड़के कान नहीं छिदवाना चाहते है जबकि कान छिदवाना बड़े ही महत्व का है इसके बैदिक तथा वैज्ञानिक सकारात्मक प्रभाव जीवन तथा शरीर की अनेक क्रियाओं को प्रभावित करते है-

Upcharऔर प्रयोग-

भोजन का संस्कार या तडका क्या है

By With 1 टिप्पणी:
सभी महिलाए जब घर में सब्जी या दाल बनाती है तो बघार(Twist)या तडका लगाती है यानी इसका मतलब है कि खाने को वो एक प्रकार संस्कारित करती है जिस तरह बिना संस्कार(Sanskar)के इंसान जंगली होता है उसी तरह भोजन भी बिना संस्कार के शरीर में उथल पुथल कर देता है और वात-पित्त-कफ का संतुलन बिगाड़ कर बीमार कर देता है-
भोजन का संस्कार या तडका क्या है

क्या आप जानते हैं कि विभिन्न प्रकार के मसालों से तडका लगाने से उनके गुण उस भोजन को संतुलित बना देते है इसलिए भारतीय भोजन बनाने की पद्धति सबसे वैज्ञानिक और स्वास्थकर है हमारे यहाँ परम्परा रही है कि दोपहर के भोजन में अजवाइन और हींग का तडका लगाया जाता है और रात में नहीं लगाते है यह भी एक बहुत बड़ा विज्ञान है जिसे गृहिणियां हमेशा से संजोती आई है-

भोजन संस्कार(Sanskar)के फायदे-


आपने देखा ही होगा कि किसी भी चाइनीज़ और इटेलियन या अंग्रेजी खाने में तडका या छौंक(Twist)नहीं लगता है ज़्यादातर तडके(Twist)में हम राइ जीरे का तडका लगते है पर इसमे मेथी दाने की पावडर, सौंफ, कलौंजी भी डाली जा सकती है-

पंचफोरन में जीरा, राई, कलौंजी, मेथी दाना और सौंफ होता है मेथी दाना से वात-रोगों का शमन होता है इसलिए यह रात के भोजन के लिए उत्तम है हींग, अजवाइन से पित्त-रोग का शमन होता है इसलिए यह दोपहर के भोजन के लिए उत्तम है-

हम लोग स्वाद के चक्कर में खाना पकाने में वैदिक और आयुर्वेदिक सिद्धांतों की पूरी तरह से अवहेलना कर देते हैं जिसकी वजह से आज स्वास्थ्य सम्बन्धी कई समस्याएँ आ रही है अगर कोई ऐसी बीमारी है जो वर्षों से ठीक नहीं हो रही तो खाने में आप ये आजमा कर देखे-

क्या करे और क्या नहीं करे-


1- सूप बनाते समय उसमे दूध नहीं डाले-

2- दही खट्टा हो तो उसमे दूध नहीं डाले-

3- ओट्स पकाते समय उसमे दूध दही साथ साथ न डाले-

4- चाय कॉफ़ी में शहद ना डाले-

5- पूरी,भटूरे,मिठाइयां डालडा घी में ना बना कर शुद्ध घी में बनाए-

6- नमकीन चावलों में तथा सब्जी की करी में दूध न डाले-

7- खट्टे फलों के साथ,फ्रूट सलाद में क्रीम या दूध न डाले-

8- दही बड़ा विरुद्ध आहार है-

9- शाम को 4 बजे के बाद केले,दही,शरबत,आइसक्रीम आदि का सेवन ना करे-

10- आटा लगाने के लिए दूध का इस्तेमाल ना करे-

11- गर्मियों में हरी मिर्च और सर्दियों में लाल मिर्च का  सेवन करे
-
12- सुबह ठंडी तासीर की और शाम के बाद गर्म तासीर के खाने का सेवन करे-

13- पकौड़ों के साथ चाय या मिल्क शेक नहीं गरम कढ़ी ले-

14- फलों को सुबह नाश्ते के पहले खाए किसी अन्य खाने के साथ मिलाकर ना ले और कच्चा सलाद भी खाने के पहले खाना चाहिए-

15- दही वाले रायते को हिंग जीरे का तडका अवश्य लगाएं-

16- दाल में एक चम्मच घी अवश्य डाले-

17- खाली पेट पान का सेवन ना करे-

18- खाने के साथ पानी नहीं न पिए बल्कि ज़्यादा पानी डाला छाछ या ज्यूस या सूप पियें-

19- अत्याधिक नमक और खट्टे पदार्थ सेहत के लिए ठीक नहीं-

20- बघार लगाने में खूब हिंग,जीरा,सौंफ,मेथीदाना,धनिया पावडर,अजवाइन आदि का प्रयोग करें-

21- जो अन्न द्विदलीय है(दो भागों में टूटा हुआ)के साथ दही का प्रयोग वर्जित है उससे नुकसान होगा-अगर खाना ही है तो पहले उससे मेथी और अजवायन से बघार लें-


Upcharऔर प्रयोग-

सुवर्णप्राशन संस्कार क्या है और कैसे किया जाता है

By With कोई टिप्पणी नहीं:
सुवर्णप्राशन(Suvarnprasn)बच्चों में किया जाने वाला सोलह संस्कारों में एक महत्वपूर्ण संस्कार है इसे स्वर्ण-बिंदु-प्राशन भी कहा जाता है सुवर्ण यानि की सोना चटाना ही इसका मूल उद्देश्य है कुछ सुवर्ण के साथ आयुर्वेदिक औषिधि गाय का घी और शहद के मिश्रण को तैयार करके पिलाया जाता है जिस प्रकार रोग-प्रतिकार की शक्ति बढाने के लिए वैक्सीन का प्रयोग किया जाता है ठीक उसी प्रकार आयुर्वेद में सुवर्णप्राशन का विधान है-

सुवर्णप्राशन संस्कार क्या है और कैसे किया जाता है

सुवर्णप्राशन(Suvarnprasn)कैसे किया जाता है-


नियम है जन्म से लेकर सोलह वर्ष की आयु तक बच्चों में सुवर्णप्राशन किया जाता है बच्चों में बुधि का विकास पांच वर्ष की आयु तक हो जाता है इसलिए बचपन से ही बालक का सुवर्णप्राशन(Suvarnprasn) किया जाता है -

इसका उचित समय सूर्योदय से पहले खाली पेट ही करना उचित है शुरू में एक महीने से तीन माह तक रोजाना कराये और इसके उपरान्त प्रत्येक माह के पुष्य नक्षत्र के दिन ही एक बार अवश्य कराये-पुष्य नक्षत्र हर माह सताईसवें दिन आता है जादा जानकारी आप पंचांग से प्राप्त कर सकते है -

सुवर्णप्राशन(Suvarnprasn)में प्रयोग किया जाने वाला मूल शहद है इसे फ्रिज आदि में न रक्खे न ही गर्म तापमान पर रक्खे इसका ख्याल रखना आवश्यक है सुवर्णप्राशन के बाद एवं पहले आधा घंटा कुछ भी खाने को न दे-

यदि किसी कारण से बालक बीमार है तो उस समय सुवर्णप्राशन न कराये-सुवर्णप्राशन के अंतर्गत सुवर्णभस्म , बच, ब्रम्ही, शंखपुष्पी, आमला, यष्टिमधु , गुडूची, बेहडा, शहद और गाय का घी इस्तेमाल होता है -

मात्रा-

1- जन्म से लेकर दो माह तक पुष्य नक्षत्र को दो बूंद तथा वैसे रोजाना एक बूंद ही पर्याप्त है -

2- दो माह से छ:माह तक पुष्य नक्षत्र को तीन बूंद तथा वैसे रोजाना दो बूंद दिया जाता है-

3- छ:माह से लेकर बारह माह की अवधि में पुष्य नक्षत्र को चार बूंद एवं रोजाना दो बूंद पर्याप्त है-

4- एक वर्ष की अवस्था से पांच वर्ष तक पुष्य नक्षत्र को छ: बूंद एवं रोजाना तीन बूंद काफी है -

5- पांच वर्ष से लेकर सोलह वर्ष की आयु तक पुष्य नक्षत्र को सात बूंद वैसे रोजाना चार बूंद पर्याप्त है-

6- सही परिणाम के लिए शास्त्रोक्त विधि द्वारा तैयार सुवर्णप्राशन ही उत्तम है-

सुवर्णप्राशन(Suvarnprasn)के लाभ और महत्व-


1- बालक के लिए सुवर्णप्राशन(Suvarnprasn)मेधा बुधि बल एवं पाचन शक्ति को विकसित करने वाला है यदि कोई भी अपने बालक को जन्म से यह सुवर्णप्राशन को उपर बताये नियम से कर लेता है तो कोई शक नहीं है कि उस बालक के अंदर अद्रितीय मेधा शक्ति और शरीरिक प्रतिरोधक छमता(Physical resistance capabilities)का सम्पूर्ण विकाश होगा और आगे चल कर आपका बालक सभी प्रतियोगिताओं में पूर्ण सफल होगा -

2- सुवर्णप्राशन करने वाले बच्चों में रोग-प्रतिकार शक्ति इतनी सक्षम हो जाती है कि बालक बीमार नहीं होता है और अगर किसी कारण से हो भी गया तो सिर्फ अल्प समय में ही स्वस्थ हो जाता है-

3- सुवर्ण प्राशन से बालक स्ट्रांग हो जाता है तथा उसका स्टेमिना(Stamina) भी अन्य बच्चों से मजबूत होता है-

4- सुवर्णप्राशन करने वाला बालक स्मरण शक्ति में अन्य बालको से जादा होता है ये हर बात को आसानी से समझ लेते है अर्थात तीव्र बुधि के होते है-

5- सुवर्णप्राशन करने वाला बालक की पाचन शक्ति विशेष रूप से ठीक होती है अच्छी भूख लगती है तथा चाव से खाना खाते है-

6- सुवर्णप्राशन(Suvarnprasn) करने वाले बालक का रंग और रूप दोनों में निखार आता है तथा त्वचा कांतिवान होती है -

7- सुवर्णप्राशन करने वाला बालक कफ विकार खांसी ,दमा,खुजली,एलर्जी आदि समस्याओं से हमेशा दूर रहता है -

8- ये  एक  अपने बालक के लिए किया जाने वाला उत्तम संस्कार है प्रत्येक माता-पिता को ये आयुर्वेदिक सुवर्ण प्राशन अवश्य अपनाना चाहिए ताकि उसका बालक निरोगी-कांतिवान-आयुष्मान रह सके -आप इसे करने से पहले किसी आयुर्वेद डॉक्टर से अवस्य ही सलाह ले ले-

Read More- कर्ण छेदन संस्कार क्यों होता है

Upcharऔर प्रयोग-