loading...

22 अगस्त 2017

स्वप्न दोष का जड़ी-बूटी से उपचार कैसे करें

सबसे पहले स्वप्नदोष(Nocchural Emission)से पीड़ित व्यक्ति को अपने मन में एक बात पूरी तरह बिठा लेना चाहिए कि स्वप्न दोष कोई रोग नहीं है यह एक सिर्फ प्राकृतिक कारण है और आपके शरीर को इसकी आवश्यकता भी है इसलिए युवा-वर्ग को अपना ध्यान पढ़ाई में लगाकर अच्छे परिणाम के लिए कड़ी मेहनत करने से यह रोग अपने-आप ही दूर हो जाता है इसलिए इलाज के लिए तभी सोचें जब आपको अत्यधिक ही परेशानी का अनुभव हो बेफालतू में किसी वैध्य या डॉक्टर के चक्कर न लगाएं-
स्वप्न दोष का जड़ी-बूटी से उपचार कैसे करें

कुछ लोग आपको ये कहते भी मिलेगें कि सोने से पहले हस्तमैथुन करने से भी स्वप्न-दोष(Nocchural Emission)से बचा जा सकता है किंतु यह कोई समाधान नहीं क्योकि वीर्य स्खानल दोनों ही तरीके से होगा इसलिए रोजाना व्यायाम करने से भी शारीरिक ऊर्जा का सही इस्तेमाल होता है और आप स्वप्न दोष से बच सकते हैं क्योकि व्यायाम द्वारा शरीर थके होने पर अच्छी नींद आने की सम्भावना अधिक होती है बस आप ये कोशिस करें कि कामुक विचारों की पुस्तको से परहेज करें तथा सबसे महत्वपूर्ण यह है कि आप विटामिन बी से भरपूर आहार लेने से भी स्वप्नदोष की समस्या से बच सकते है-

स्वप्न दोष(Nocchural Emission)में जड़ी-बूटी का प्रयोग-


1- स्वप्न दोष(Nocchural Emission)की अधिकता या अत्यधिक हस्तमैथुन के कारण आपका वीर्य पतला हो जाता है यह पतला वीर्य ही स्वप्न दोष के जरिये बाहर आता है इसलिए वीर्य को गाढ़ा करने के लिए शिरीष के बीजों का दो ग्राम चूर्ण, चार ग्राम शक्कर मिलाकर प्रतिदिन गरम दूध के साथ प्रातः-सायं लेने से बहुत लाभ होता है-

2- इमली को पानी में भिगोकर इसके छिलके उतार लें ध्यान रहे कि छिलके उतारने के लिए बीजों को आठ-दस दिन तक भीगा रहने देना पड़ता है इसके बाद सफेद बीजों को सुखाकर बारीक चूर्ण बनाएं तथा इसे एक शीशी में बंद करके रख दें फिर एक चम्मच की मात्रा में दिन में तीन बार दूध के साथ सेवन करने से स्वप्न दोष(Nocchural Emission)नहीं होता है तथा वीर्य का पतलापन भी दूर होता है-

3- ताजी शतावर की जड़ का चूर्ण 250 ग्राम, मिश्री 250 ग्राम आप इन दोनों को कूट-पीस लें तथा पांच से दस ग्राम की मात्रा 250 ग्राम दूध के साथ सुबह-सायं लेने से स्वप्न दोष दूर होता है तथा आपका शरीर बलवान् होता है-

4- आंवले के 20 मिलीलीटर रस में 1 ग्राम इलायची के दाने और ईसबगोल बराबर-बराबर की मात्रा में मिलाकर एक-एक चम्मच सुबह-शाम नियमित रूप से जल के साथ सेवन करने से स्वप्न दोष(Nocchural Emission)नहीं होता है तथा साथ ही वीर्य भी गाढ़ा होता है पेट भी साफ़ रहता है-

5- बबूल की कोमल फलियों को छाया में सुखाकर फिर उसे पीस लें और जितना पिसा हुआ पावडर बने उसके बराबर की मात्रा में मिश्री मिला लें तथा किसी कांच के बर्तन में रख लें फिर एक चम्मच की मात्रा में सुबह-शाम नियमित रूप से जल के साथ सेवन करने से आपको स्वप्न दोष नहीं होता है तथा साथ ही आपका वीर्य भी गाढ़ा होता है-

6- बाजार से अखरोट ला कर उसकी अंदर की गिरी निकाल कर फिर अखरोट के छिलकों को जला कर आप इसकी भस्म बना लें फिर इसमें बराबर की मात्रा में खांड मिलाकर 10 ग्राम तक की मात्रा में जल के साथ 10 दिन प्रातः सायं सेवन करने से स्वप्न दोष दूर होता है अखरोट की गिरी का सेवन भी कर सकते है ये आपके मस्तिष्क के लिए लाभदायक है-

7- तीन ग्राम अजवाइन को सफेद प्याज के रस में लगभग 10 मिलीलीटर मात्रा में मिलाकर दिन में तीन बार 10-10 ग्राम शक्कर मिलाकर सेवन करें आपको 21 दिनों में पूर्ण लाभ होगा-इस प्रयोग से स्वप्न दोष के अलावा नपुंसकता, शीघ्रपतन व शुक्राणु अल्पता के रोग में भी लाभ होता है-

8- यदि आपको स्वप्नदोष के साथ-साथ नपुंसकता भी है तो आप किसी पंसारी से मुंडी की ताज़ी जड़ लायें और मुंडी की ताजी जड़ों के पीसे हुए कल्क(पेस्ट)को कलईदार पीतल की कड़ाही में रखकर चौगुना काले तिल का तेल और सोलह गुना पानी डालकर धीमी आंच में पकाएं फिर पानी और रस जल जाए और केवल तेल शेष रहने पर इसे छान लें-इस तेल को कामेन्द्रियों पर मालिश करने से तथा 10-30 बूंद तक पान में लगाकर दिन में 2-3 बार खाने से स्वप्नदोष में विशेष लाभ होता है तथा इसके साथ-साथ आपकी नपुंसकता भी दूर होती है-

9- प्याज का रस 6 ग्राम, गाय का घी 4 ग्राम और शहद 3 ग्राम प्रातः सायं चाटने से स्वप्न दोष से निजात मिलती है-

10- कसौंदी की मूलवक के चूर्ण को महीन पीसकर एक से चार ग्राम की मात्रा में पांच से दस ग्राम मधु के साथ मिलाकर सुबह-शाम एक गिलास दूध के साथ लेने से वीर्य का पतलापन दूर होकर वीर्य पुष्ट होता है तथा धातु क्षय भी ठीक होता है-

11- पालक के पत्ते लगभग 250 ग्राम पानी से खूब धोकर सिल पर बिना पानी के पीस लें तथा एक मोटे साफ धुले हुए कपड़े को पानी में भिगोकर खूब अच्छी तरह निचोड़ लें ताकि कपड़े में पानी न रहे अब इसमें पिसी हुई पालक रखकर कपड़े को दबा-दबाकर पालक का रस एक कप में टपकाएं और सुबह खाली पेट यह रस, दन्त मंजन करने के बाद पी लें और आधा घंटे तक कुछ खाएं-पिएं नहीं-यह प्रयोग रोजाना छ: से सात दिन तक करने से स्वप्न दोष होना बंद हो जाता है -

12- नीम गिलोय के अंगुलभर आकार के तीन टुकड़े और तीन काली मिर्च सिल पर रखकर कूट-पीसकर खूब बारीक कर लें-इसे सुबह खाली पेट पानी के साथ पिएं-जब स्वप्न दोष होना बिलकुल बंद हो जाए-तब इसका सेवन करना बंद कर दें-


सभी पोस्ट एक साथ पढने के लिए नीचे दी गई फोटो पर क्लिक करें-

सभी पोस्ट एक साथ पढने के लिए नीचे दी गई फोटो पर क्लिक करें-

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Loading...