9 अप्रैल 2017

नेत्र ज्योति जल घर में बनाकर चश्मे से छुटकारा पायें

जब से खानपान में मिलावटपन आया है और पोषक तत्वों की कमी हुई है कम उम्र में चश्मा(Eyeglas)लग जाना आजकल एक सामान्य सी बात हो चुकी है आज बहुत से छोटे-छोटे बच्चे भी इस समस्या से जूझ रहे है और अब लोग इसे मजबूरी मानकर हमेशा के लिए अपना लेते हैं लेकिन सच में ऐसा नहीं है कि अगर किसी कारण से एक बार चश्मा लग जाए तो वह उतर नहीं सकता है-


नेत्र ज्योति जल घर में बनाकर चश्मे से छुटकारा पायें

चश्मा(Eyeglas)लगने का सबसे प्रमुख कारण है कि आप आंखों की ठीक से देखभाल नही कर सकें हैं कुछ तो पोषक तत्वों की कमी से या फिर अनुवांशिक हो सकते हैं लेकिन कुछ इनमें से अनुवांशिक कारण को छोड़कर अन्य कारणों से लगा चश्मा(Eyeglas)सही देखभाल व खानपान का ध्यान रखने के साथ ही देसी नुस्खे अपनाकर उतारा जा सकता है-

द्रष्टिदोष(Visual defect)रोग को ठीक करने के लिए एक व्यायाम है कि रोगी को अपने सिर और गर्दन को सीधा रखकर बिल्कुल सामने देखना चाहिए तथा फिर इसके बाद दाहिने तरफ देखना चाहिए और फिर से बाईं तरफ देखना चाहिए तथा इसके कुछ देर बाद आसमान की तरफ देखना चाहिए और इसके बाद पृथ्वी की तरफ देखना चाहिए इस प्रकार से व्यायाम करने से कुछ ही दिनों के बाद द्रष्टिदोष रोग ठीक होने लगते हैं सबसे पहले रोगी को व्यायाम करने के लिए अपनी आंखों को कसकर बंद कर लेना चाहिए-इस क्रिया को कम से कम कुछ देर तक करने के बाद धीरे-धीरे आंखों को खोलना चाहिए-इस प्रकार से प्रतिदिन व्यायाम करने से रोगी को बहुत अधिक फायदा मिलता है तथा घर पर ही आप नेत्र ज्योति जल बना कर आँखों के लिए इसका प्रयोग कर सकते है-

नेत्र ज्योति जल(Eye jyoti water)बनाने की विधि-

सामग्री मात्रा इस प्रकार ले-


नीबू रस - 2 ग्राम
प्याज रस -2 ग्राम
अदरक रस -2 ग्राम
शहद - 20 ग्राम

इस जल को बनाने के लिए प्राकृतिक चिकित्सा के अनुसार सबसे पहले उपर दी गई मात्रा के अनुसार सभी को आपस में मिलाकर एक साफ़ कांच की शीशी में भर कर फ्रीज में रख दें और ध्यान रहे बीस दिन से जादा इस्तेमाल न करें क्युकि एक बार में बनाया गया नेत्र ज्योति जल बीस दिन बाद खराब हो जाता है इसकी दो-दो बूंद सुबह दोपहर और शाम नियम से डालते रहें तथा उपर दिए गए व्यायाम को साथ-साथ अवश्य करते रहें ये प्रयोग आपको तीन माह लगातार करना है यकीन मानिए कि आपकी आँखों का चस्मा उतर जाएगा अगर जिनका नम्बर जादा बढ़ा हुआ है उनको ये प्रयोग जादा दिन भी करना पड़ सकता है लेकिन अगर शरुवात है तो तीन माह ही में परिणाम आपके सामने अवश्य होगा-

नेत्र ज्योति बढ़ाने के आसान प्रयोग-

प्रथम प्रयोग-


बड़ी हरड़- 10 ग्राम
बहेड़ा- 20 ग्राम
आँवला- 30 ग्राम
मुलहठी- 3 ग्राम
बँसलोचन- 3 ग्राम
पीपर- 3 ग्राम

उपर लिखी सभी चीजों को लेकर चूर्ण बना लें फिर उसमें लगभग 150 ग्राम मिश्री मिला लें फिर इस मिश्रण में 10 ग्राम देशी घी भी मिला लें-तत्पश्चात इसमें आवश्यकतानुसार इतना शहद मिलाएँ कि चाटने लायक अवलेह(अर्थात्‌ चटनी)बन जाए अब इस अवलेह को आप किसी काँच के मर्तबान में सावधानीपूर्वक रख लें अब इसमें से छह ग्राम की मात्रा में नित्य सोते समय चाटने से नेत्र ज्योति बढ़ती है-

दूसरा प्रयोग-


बादाम गिरी-  250 ग्राम
खसखस- 100 ग्राम
सफेद मिर्च (काली मिर्च की तरह परन्तु सफेद रंग की)- 50 ग्राम
मिश्री- 100 ग्राम

मिश्री को छोड़कर बाकी सभी चीजों का अलग-अलग चूर्ण बना कर इसे देशी गाय के घी में भून लें इसके तत्पश्चात 100 ग्राम मिश्री को अलग से पीस लें और फिर इन सबको मिलाकर किसी शीशे के साफ और सूखे मर्तबान में भरकर रख लें अब आप सुबह खाली पेट गर्म दूध के साथ दो चम्मच की मात्रा में लें इससे दृष्टि बढ़ती है और छह मास लगातार लेने से चश्मा उतर सकता है-

अन्य उपाय भी आजमा सकतें है-

1- पैर के तलवों पर सरसों के तेल की मालिश करके सोएं तथा सुबह के समय नंगे पैर हरी घास पर चलें व नियमित रूप से अनुलोम-विलोम प्राणायाम करें इससे भी आंखों की कमजोरी दूर हो जाएगी-

2- एक चने के दाने जितनी फिटकरी को तवे पर सेंककर सौ ग्राम गुलाबजल में डालकर रख लें और रोजाना रात को सोते समय इस गुलाब जल की चार-पांच बूंद आंखों में डाले तथा साथ ही पैर के तलवों पर घी की मालिश करें इससे चश्में के नंबर कम हो जाते हैं-

3- बादाम की गिरी, बड़ी सौंफ व मिश्री तीनों को समान मात्रा में मिला लें तथा रोज इस मिश्रण को एक चम्मच मात्रा में एक गिलास दूध के साथ रात को सोते समय लें इससे आपकी आखों की कमजोरी दूर होती है-

Read Next Post- 

चश्मा हटाएं आंखों पर अपने मुंह की बासी लार लगाकर

Upcharऔर प्रयोग-

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Loading...