loading...

22 अगस्त 2017

स्वप्न दोष क्यों और क्या होता है

स्वप्नदोष(Nocchural Emission)युवा वर्ग में एक आम समस्या है और ये शरीर में होने वाली एक स्वाभाविक दैहिक प्रक्रिया है इसमें किसी भी मनुष्य को नींद के दौरान वीर्यपात(Ejaculation)हो जाता है आप इसे यूँ भी समझ सकते है वीर्य़ का स्खलन संभोग की एक चरम सीमा है जो अधिकतर निद्रावस्था में कल्पना स्वरूप होता है इसमें न चाहते हुए भी अपने आप ही ये क्रिया हो जाती है जबकि इसमें कोई भी स्त्री शारीरिक रुप से उपस्थित होती ही नहीं है-

स्वप्नदोष क्यों और क्या होता है

स्वप्न दोष(Nocchural Emission)क्यों होता है-


सामान्य अवस्था में स्त्री व पुरुष के सम्मलित संयुग्मन की चरमावस्था पर ही पुरुष का वीर्य स्खलित होता है लेकिन शारीरिक रुप से किसी स्त्री की अनुस्थिति होने के कारण जो मनुष्य केवल अपने कल्पना मात्र से ही सम्भोग को करता है तथा लिग का तनाव होने पर मानसिक सम्भोग की पूर्णता से पहले या पूर्णता पर वीर्य का स्खलन हो जाता है तो इस असामान्य स्थिति को स्वप्नदोष(Nocchural Emission)कहते है-

वास्तव में एक तरह से व्यक्ति के सोच-विचार का ही परिणाम ये स्वप्न दोष होता है मनुष्य की कल्पना में ही वह सम्भोग आनंद की अनुभूति का ही ये सकारात्मक परिणाम है लोग इसे एक रोग के रूप में जानते है वैसे इस रोग को रोग कहना कोई अतिशयोक्ति ही होगी जबकि ये किसी प्रकार का रोग नहीं होता है-

आजकल युवा वर्ग में घर से बाहर और घर के अंदर खान-पान का स्तर भी इसका एक महत्वपूर्ण कारण भी है आज सभी खाध्य वस्तुओं में भारी मिलावट और दूषित अन्न भी व्यक्ति के शरीर में उत्पन्न होने वाले हार्मोन्स पर भी एक विपरीत प्रभाव डाल रहा है तामसिक और उत्तेजना वाले आहार का सेवन भी इसका एक प्रमुख कारण है-

क्या स्वप्न दोष(Nocchural Emission)कोई रोग है-

जहाँ तक स्वप्नदोष होने में कोई खराबी नहीं है यह युवा होने पर स्वाभाविक रूप से होता है यदि आपको बहुत ज्यादा स्वप्नदोष भी होता है तो भी इसका मतलब यह नहीं की आपके शरीर में कोई खराबी हो गई है और इससे आपके शरीर और सेहत पर कोई बुरा असर पड़ने वाला है इस बात को आप आसान तरीके से इस प्रकार समझे जिस तरह किसी बर्तन में आप जल भरते जाए और पूरा भरने के बाद यदि आप अधिक जल डालेगें तो बाकी का जल बाहर निकल जाता है ठीक उसी प्रकार शरीर में वीर्य निर्माण की ये प्रक्रिया अनवरत चलती है और अधिक वीर्य उत्पादन के बाद अश्लील और कामुकता के विचार मात्र से वीर्य का क्षरण होना स्वाभाविक है जैसे-जैसे आप किसोरावस्था की ओर से अग्रसर होते हुए प्रोढ़ावस्था की तरफ बढ़ते जाते है स्वप्नदोष होने की संभावना उतनी ही घट जाती है-

स्वप्नदोष जैसा कि इसके नाम से प्रतीत होता है कि यह स्वप्न से संबधित रोग है जी हाँ यह सच है कि यह स्वप्न से संबधित रोग है यह रोग अधिकतर युवाओं में पाया जाता है लेकिन शादी के उपरान्त स्वप्न दोष समाप्त होता जाता है हाँ एक बात अवश्य लिखना चाहेगें कि स्वप्न दोष और हस्तमैथुन में अंतर है स्वप्नदोष सिर्फ सुप्तावस्था में होता है जबकि हस्तमैथुन जाग्रत अवस्था का परिणाम है-अधिकतर युवा परेशान होकर स्वप्न दोष की दवा(Nightfall Medicine)खोजते हुए देखे जा सकते है-


सभी पोस्ट एक साथ पढने के लिए नीचे दी गई फोटो पर क्लिक करें-



सभी पोस्ट एक साथ पढने के लिए नीचे दी गई फोटो पर क्लिक करें-

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Loading...