This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

8 जुलाई 2017

ल्यूकोडर्मा(Leukoderma)होने पर आहार और योग

By
ल्यूकोडर्मा(Leukoderma)क्या है और होने के क्या लक्षण और कारण होते है इसके बारे में हमने अपनी पिछली पोस्ट में आपको अवगत कराया था कई रोगी जानना चाहते है कि ल्यूकोडर्मा होने पर किन-किन चीजों को खाना चाहिए और किन चीजों से परहेज करें तो आपकी जानकारी के लिए हम इस लेख में आपको बता रहें है-

Diet and Yoga on Vitiligo

ल्यूकोडर्मा(Leukoderma)पर क्या आहार लें-


1- ल्यूकोडर्मा(Leukoderma)होने पर रोगी को लगभग एक हफ्ते तक सिर्फ फलों के रस पर आधारित रहना चाहिए तथा एक हफ्ते बाद रोगी को ताज़े फल, सब्जियां या उबली हुई सब्जियां और अनाज पर आधारित रहना चाहिए लेकिन आप दूध व दही कुछ दिनों बाद ही आहार में सम्मिलित कर सकते हैं इसके बाद रोगी अपने आहार में बीज़, अनाज़, फल व सब्जियों को सम्मिलित करें आप अपने आहार में शहद का उपयोग भी कर सकते हैं अब यह पूरा आहार चक्र हर दो महीनों में रिपीट करें-

2- आप अपने आहार में पालक, सोया मिल्क, अदरक, मेवे आदि भी प्रचुर मात्रा में ले सकते है-


ल्यूकोडर्मा(Leukoderma)पर क्या आहार न लें-


ल्यूकोडर्मा से पीड़ित रोगी को बेरी और नाशपाती तथा माँसाहारी भोजन और जंक फ़ूड, चाय और कॉफ़ी, शराब, खट्टे आहार, सुगन्धयुक्त पेय, शक्कर, मैदे की बनी वस्तुओं के सेवन से बचना चाहिए-

योग और व्यायाम करें-


1- शारीरिक गतिविधि स्वच्छता में सहायक होती है इससे संतुलन आता है और तनाव घटता है इसके लिए पैदल चलना, दौड़ना, नृत्य करना, एरोबिक्स, जिमनास्टिक्स, स्ट्रेचिंग आदि करें तथा आप क्लोरीन रहित पानी में तैराकी भी कर सकते हैं-

2- गोमुखासन, वृक्षासन, प्राणायाम भी करें इससे आपको आश्चर्यजनक लाभ मिलेगा व्यायाम नियमित करें एवं स्वस्थ आहार लें इसके लिए आप अपने स्वास्थ्य सलाहकार से मिलें और सहयोग लें-

लाल मिटटी का प्रयोग-


रेड क्ले(लाल मिट्टी)के नाम से मिलने वाली नदी किनारे या पहाड़ी इलाकों से मिल जाती है यह भी श्वेतदाग को कम करने के लिए एक असरदार उपाय है आप इस मिट्टी को अदरक के रस में 1:1 की मात्रा में मिलाएं और श्वेतदाग की जगह पर दिन में एक बार लगाएं इस मिट्टी के अंदर कॉपर स्किन के पिगमेंट को वापस लाने में मदद करता है तथा अदरक का रस उस जगह पर रक्त संचार बढ़ाता है साथ ही तांबे के बर्तन में रात भर रखा हुआ पानी भी पीने से इस रोग को कम करने में मदद मिलती है-

Read Next Post-


Upcharऔर प्रयोग-

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें