30 अक्तूबर 2017

ह्रदय दौर्बल्य, अवसाद व उदासी के लिए हर्बल चाय

Herbal Tea for Stress-Depression


हिंदी में आयुर्वेद उपचार-Ayurveda treatment in Hindi


आज हम आपको शारिरिक तथा मानसिक परेशानियों के लिए एक उत्तम असरकारक तथा संपूर्ण निराप्रद औषधीय चाय की विधि बता रहे है जो आपके लिए लाभदायक है-

ह्रदय दौर्बल्य, अवसाद व उदासी के लिए हर्बल चाय


यह चाय पीने से जख्म जल्दी ठीक होते है, यह चाय मस्तिष्क को एलर्ट रखती है, ह्रदय की नसों को मजबूत बनाती है, धमनी काठिन्य याने धमनियों का कड़ापन दूर करती है तथा शरीर मे होने वाली कॉपर की कमी को दूर करती है-

यह चाय  Procyanidin , Catechin, Epicatechin जैसे फ्लेवोनॉयड्स से भरपूर है जिनके एंटीऑक्सीडेंट शरीर के कोषों को बीमार होने से बचाता है तथा नए कोषों का निर्माण करता है तथा ह्र्दय को मजबूती देकर शरीर की नसों में खून के थक्के याने ब्लड क्लॉटिंग्स  को भी रोकता है-

ह्रदय दौर्बल्य, अवसाद व उदासी के लिए हर्बल चाय


यह चाय शारीरिक ही नही मानसिक समस्याओं में भी यह चाय उत्तम लाभ देती है यह चाय उत्तम एंटीडिप्रेसेंट है यह मूड़ को ताजा व प्रसन्न रखती है थकान, अवसाद तथा उदासी को दूर करती है शरीर से आलस व भारीपन दूर करती है धड़कनों की गति को सामान्य करती है तथा रक्त संचार को सुचारू करती है यह चाय सुबह शाम पीने से त्वचा भी निखरती है तथा कील मुहाँसे भी दूर होते है-

चाय बनाने की विधि-


कोको पावडर-100 ग्राम
अश्वगंधा पावडर- 20 ग्राम
अर्जुन छाल पावडर- 20 ग्राम
दालचीनी पावडर- 10 ग्राम

उपर लिखे गए सारे पावडर्स को अच्छे से मिलाकर रख दे और जब चाय बनानी हो तब एक बड़ा चम्मच पावडर (5ग्राम) ले यह माप एक कप चाय के लिए है अब आप इससे चाय की तरह ही चाय बनाए तथा उबलते वख्त इसमे पीपल का एक कोमल पत्ता डालकर उबाले फिर आप इसे छानकर स्वादानुसार शक्कर या सुगरफ़्री मिलाकर गरम-गरम पिये-

इस तरह यह चाय आपका शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य सुधरेगी व साथ मे सौंदर्य को भी बढ़ाएगी आप इसे एक बार अवश्य आजमा कर देखें आप खुद आश्चर्यजनक परिणाम महसूस करेगें-

विशेष सूचना-

सभी मेम्बर ध्यान दें कि हम अपनी नई प्रकाशित पोस्ट अपनी साइट के "उपचार और प्रयोग का संकलन" में जोड़ देते है कृपया सबसे नीचे दिए "सभी प्रकाशित पोस्ट" के पोस्टर या लिंक पर क्लिक करके नई जोड़ी गई जानकारी को सूची के सबसे ऊपर टॉप पर दिए टायटल पर क्लिक करके ब्राउज़र में खोल कर पढ़ सकते है....

किसी भी लेख को पढ़ने के बाद अपने निकटवर्ती डॉक्टर या वैद्य के परमर्श के अनुसार ही प्रयोग करें-  धन्यवाद। 

Upchar Aur Prayog 

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Tags Post

Information on Mail

Loading...