17 दिसंबर 2017

क्या आपके भी पैरों में खिंचाव होता है


क्या आपको भी अक्सर रात के दौरान पैरों में ऐंठन होती है जी हाँ कई लोगों के प्रश्न मुझसे पूछे जाते है और ये दर्द और ऐठन जिसे नसों का खिचाव भी कह सकते है अधिकतर ये खिचाव (Stretch) रात के समय पैरों में बहुत ज्यादा होती है दर्द के मारे आपका बुरा हाल हो जाता है दर्द जब असहनीय हो जाता है तो बहुत से लोग कस के कपडा भी बांधते हैं ये सिर्फ विकल्प ही है लेकिन स्थाई रूप से आराम नहीं मिलता है-

खिंचाव (Stretch) ये किसी प्रकार की कोई बीमारी नहीं है आपके शरीर में विटामिन डी, कैल्शियम, मैग्नीशियम और पौटेशियम की कमी के कारण भी ये होता है आपको बस अपनी सेहत का ध्यान देना आवश्यक है बहुत से लोग दिन भर भाग-दौड़ करते है उनको भी ये शिकायत आम बात है महिलाओं में गर्भावस्था या पीरियड्स के दौरान ये समस्या सबसे ज्यादा होती है-

पैरों में होने वाले खिंचाव (Stretch) को दूर करने के उपाय-

क्या आपके भी पैरों में खिंचाव होता है

1- पैरों में ऐंठन (Stretch) होने पर आप सरसों के तेल से मसाज करवायें इससे आपके पैरों में रक्त का संचार अच्छी तरह हो जाता है और आपको दर्द में राहत भी  मिलती है-सरसों के तेल में बहुत सारे गुण होते हैं इसमें एसिटीक एसिड होता है जो आपके शरीर के दर्द को दूर भगाता है सरसों के तेल से मालिश करने से मांसपेशियां (Muscles) मजबूत बनती हैं इसलिए आप सरसों के तेल को गुनगुना करके पैरों पर लगाएं-

2- शरीर की हड्डियां कमजोर होने पर भी पैरों में खिंचाव (Stretch) और दर्द होता है ऐसे में आप कैल्शियमयुक्त भरपूर भोजन का सेवन करें हर वो आहार लेना शुरू करें जिसमे कैल्शियम पाया जाता हो कुछ दिन ऐसा करने से दर्द व खिंचाव होना बंद हो जाएगा-

3- अपनी प्रतिदिन की खुराक में नट्स, बीन्स, साबूत अनाज वाली ब्रेड, केला और संतरों को शामिल करें चूँकि इनमें पौटेशियम और मैग्नीशियम, भरपूर मात्रा में होता है जिससे पैरों में होने वाली खिंचाव (Stretch) में आराम मिलता है-

4- अधिक दर्द होने पर आप केले का सेवन करें चूँकि इसमें पौटेशियम और मैग्नीशियम बहुत ज्यादा मात्रा में पाया जाता  है आप दिन में दो-तीन केले प्रतिदिन अवश्य ही खायें और कुछ ही दिनों में लाभ देखें-

5- कभी-कभी कुछ जादा दवाओं के सेवन से भी इस प्रकार का साइड इफेक्ट होता है कि पैरों में ऐंठन होने लगती है अधिकतर गर्भनिरोधक, डिप्रेशन दूर करने वाली दवाओं के सेवन से भी इस प्रकार की समस्या हो सकती है अगर आपको इस प्रकार की समस्या है तो आपको जादा से जादा दवाओं से बचना चाहिए तथा होम्योपैथी या बैच-फ्लावर की दवा का सेवन करके डिप्रेशन आदि से आसानी से और बिना साइड इफेक्ट के आप मुक्त हो सकते है-

6- बहुत अधिक तकलीफ होने पर आप दर्द की जगह पर हॉट पैड रख लें अगर कुछ न हों तो फिर आप पानी गर्म करके उसी से सेंक कर सकते हैं-

7- पैरों में दर्द होने पर सबसे पहले तो आप कारण जानने का प्रयास करें ये समस्या अगर गर्भवती स्त्री को होता है तो फिर डॉक्टर की सलाह से उपाय करें-

प्रस्तुती- Satyan Srivastava

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Tags Post

Information on Mail

Loading...