12 जनवरी 2018

अनंतमूल त्वचा के लिए बेहद उपयोगी औषधि है


पिछली पोस्ट में हमने आपको अनंतमूल (Anantmul) की उपयोगिता के बारे में जानकारी दी जबकि अनंतमूल  केवल सुगंधित द्रव्य ही नही त्वचा का रंग सुधारने वाला तथा पसीना लाने वाला, त्वचा की जलन या दाह मिटाने वाला, रंग निखारने वाला, त्वचा तथा बालों को पोषण देने वाला, इन्फेक्शन मिटने वाला, सूजन मिटाने वाला व रक्त शुद्धि करने वाला (Blood Purifier) उत्तम औषधि भी है-

अनंतमूल त्वचा के लिए बेहद उपयोगी औषधि है

रक्तविकार (Blood disorder), पेट की गर्मी, हार्मोन्स का असंतुलन (Inbalance of Hormones) जैसी तकलीफ़ो से होने वाले त्वचा विकार या चेहरे पर फोड़े फुंसी, कील मुंहासे (Acne), दाग धब्बे जैसी समस्याओं पर अनंतमूल एक उत्तम उपचार है इसीलिए हर्बल कॉस्मेटिक इंडस्ट्री में अनंतमूल (Anantmul) से बने प्रोडक्ट काफी प्रचलित तथा लोकप्रिय है त्वचा विकार में तथा रक्त विकार में अनंतमूल व गिलोय का चूर्ण समभाग 3-3 ग्राम पानी के साथ सुबह शाम लेने से रक्त विकार दूर होकर त्वचा के रोग मिटते हैं कील मुहासे, फोड़े फुंसी तथा त्वचा का कालापन कम होता है-

अंदरूनी उपचार के साथ साथ अगर बाहरी तौर पर भी अनंतमूल का उपयोग लेप या फेस पैक के तौर पर किया जाए तो यह उत्तम लाभ देता है इस लेख में  हम आपको एक ऐसे ही फेस पैक की विधि बताएँगे जो बहुत आसान एवम अनुभूत है जिसे आप घर पर आसानी से बना सकते हैं-

कील मुंहासे फोड़े फुंसी के लिए लेप (Anti Acne Pack) -

अनंतमूल त्वचा के लिए बेहद उपयोगी औषधि है


अक्सर कई लोग ज्यादा पसीना आना या ज्यादा ओइली त्वचा से परेशान होते हैं तथा उन्हें कील-मुहांसे (Pimples) , बदन की खुजली (Body Itching) तथा पसीने की बदबू (Body Odour) जैसी तकलीफें होती रहती है और वह चाहे कितने भी महंगे सौंदर्य प्रसाधन, परफ्यूम, क्रीम उपयोग करें लेकिन उन्हें कोई लाभ नहीं मिलता है व कभी-कभी तो रसायन युक्त क्रीम या परफ्यूम्स से समस्या कम होने की जगह बढ़ जाती है ऐसी समस्याओं पर इस लेप को लगा सकते हैं यह लैप आप फेस पैक के तौर पर उपयोग कर सकते हैं तथा इसे पूरे बदन पर उबटन की तरह भी लगा सकते हैं-

लेप बनाने की विधि-


अनंतमूल- 50 ग्राम
नीम की पत्तियां- 50 ग्राम
दारुहल्दी- 50 ग्राम
जायफल- 10 ग्राम
आंवला- 25 ग्राम
मंजिष्ठा- 50 ग्राम
नींबू की छाल- 35 ग्राम
संतरे की छाल- 50 ग्राम
जामुन गुठली चूर्ण- 40 ग्राम
काले तिल- 50 ग्राम

प्रयोग-विधि-

उपर दी गई सभी सामग्री को अच्छे से चूर्ण करके मिलाकर रख लें जरुरत के मुताबिक इसमें नींबू का रस या ग्लिसरीन तथा दूध मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बना लें अगर आपकी त्वचा ज्यादा तैलीय है तो आप सिर्फ पानी से इसकी गाढी पेस्ट बनाएं तथा चेहरे गर्दन व अन्य भागों पर लगाएं सूखने पर छुड़ा ले- 

इसके प्रयोग से त्वचा का कालापन, खुरदुरापन, सन टैन कम होता है तथा कील मुंहासे की समस्या भी मिटती है अगर ज्यादा पसीना व पसीने की बदबू से परेशान हो तो नहाने वक्त इस लेप को गर्दन, बगल तथा जांघों में जरूर लगाएं इससे पसीना छोड़ने वाली ग्रंथियां सुचारू होती है तथा पसीने की बदबू भी कम होती है-

आप इसे भी देखे-
loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कुल पेज दृश्य

सर्च करें-रोग का नाम डालें

Information on Mail

Loading...