1 फ़रवरी 2018

गुलाब के घरेलू औषधीय प्रयोग

Home Remedies of Rose


हिंदी में आयुर्वेद उपचार-Ayurveda treatment in Hindi


पिछले लेख में हमने गुलाब (Rose) के गुण,लाभ तथा उपयोग के बारे में विस्तार से चर्चा की इस लेख की दूसरी कड़ी के अंतर्गत हम आपको गुलाब के घरेलू औषधीय प्रयोग के बारे में जानकारी देंगे-

गुलाब (Rose) का फूल जो कि बागीचों में, बाजार में तथा हमारे घर के आंगन में भी आसानी से उपलब्ध है इसी वजह से इसके घरेलू नुस्खे प्रयोग करने में बड़ी आसानी होती हैं यह नुस्खे बेहद आसान होने के साथ-साथ कारगर भी है आप इसे घर पर प्रयोग करके स्वास्थ्य लाभ ले सकते हैं-

गुलाब के घरेलू औषधीय प्रयोग

गुलाब (Rose) के घरेलू औषधीय प्रयोग-


1- गुलाब (Rose) की सौ ग्राम पंखुड़ियों को 250 ग्राम पानी में उबाल लें इस काढ़े में 3 ग्राम बड़ी इलायची के छिलके उबालकर हैजा (Cholera) के रोगी को पिलाने से लाभ होता है-

2- गुलाब के फूल, सोंठ,बड़ी हरड़ तथा मुनक्का को पानी में मिलाकर पीने से उल्टी, दस्त, अतिसार (Diarrhea) में लाभ होता है-

3- गुलाब का गुलकंद (Gulkand) 6 ग्राम व 5 मुनक्का  खाकर ऊपर से गुनगुना दूध पीने से उल्टियों (Vomitting) में राहत मिलती है-

4- लू लगने (Sunstroke) पर धनिया 3 ग्राम, काहू के बीज 3 ग्राम पानी में पीसकर 20 ग्राम गुलाब के अर्क (RoseWater) व 20 ग्राम चंदन के शरबत में पिलाने से लू लगने से होने वाली समस्याओं में शीघ्र लाभ होता है-

5- गुलाब (Rose) के फूल, गिलोय, इलायची,धनिया व चंदन चूरा इन सब की दूध ठंडाई बनाकर पीने से स्वप्नदोष (emission) में लाभ होता है-

6- गुलाब की पंखुड़ियों को दूध में पीसकर पिलाने से गांजे का नशा उतरता है-

7- गुलाब के अर्क (Rose Water) 50 ml  में सिरका 10ml मिलाकर इसमें पट्टियों को भिगोकर यह पट्टिया सर पर रखने से गर्मी की वजह से होने वाला सिरदर्द, उष्माघात, चक्कर तथा उच्च रक्तचाप (High blood pressure) में लाभ मिलता है-

8- यकृत शोथ (Hepatitis) में गुलाब की पंखुड़ियों के काढे में गिलोय सत्व मिलाकर पीने से लाभ होता है-

9- यदि कान में दर्द (Ear pain) हो तो गुलाब की पंखुड़ियों के रस की दो चार बूंद कान में डालने से कर्णशूल में लाभ मिलता है-

10- गर्भावस्था के दौरान होने वाली कब्ज (Constipation) में गुलकंद (Gulkand) को दूध के साथ सेवन करने से कब्ज मिटती है तथा गर्भ भी स्वस्थ बना रहता है-

11- 50 ग्राम गुलाब के फूल, 50 ग्राम मुलेठी चूर्ण, 50 ग्राम सौंफ, 50 ग्राम सनाय की पत्ती तथा 150 ग्राम मिश्री इन सब को मिलाकर छानकर चूर्ण बना लें रात को सोते समय प्रतिदिन इस चूर्ण को एक चम्मच एक कप गर्म दूध के साथ लेने से कब्ज (Constipation) दूर होती है-

12- यदि दिल बहुत धड़क (Anxiety) रहा हो तो गुलाब(Rose) की पंखुड़ियों के चूर्ण में बराबर मात्रा में मिश्री मिला लें इस चूर्ण का गाय के दूध के साथ सेवन करें-

गुलाब के घरेलू औषधीय प्रयोग

13- यदि दिल घबरा कर पसीना हो रहा हो तथा बेचैनी लग रही हो तो गुलाब का चूर्ण, धनिया बीज का चूर्ण तथा मिश्री समान मात्रा में लेकर चूर्ण बना लें इस चूर्ण के दो-दो चम्मच गाय के दूध के साथ दिन में दो बार सेवन करें-

14- गुलाब की पत्ती 30 ग्राम, सनाय के पत्ते 20 ग्राम तथा छोटी हरड़ 10 ग्राम लेकर ढाई कप पानी में उबालें एक कप पानी रहने पर इसे छानकर गुनगुना ही पिए यह कब्ज (Constipation) की रामबाण दवा है-

15- शरीर में बहुत जलन, गर्मी या हल्का बुखार (Fever) हो तो काली मिर्च 5 दाना, 5 हरी इलायची, 10 ग्राम गुलाब की पंखुड़ियां तथा 10 ग्राम मिश्री मिलाकर दिन में तीन बार लेने से उपरोक्त समस्याओं में लाभ मिलता है-

गुलाब (Rose) का गुणकारी शर्बत-


गुलाब के घरेलू औषधीय प्रयोग

गुलाब जल- 1 लीटर 
चीनी- डेढ़ किलो 
साइट्रिक एसिड- 1 ग्राम 

गुलाब जल (Rose water) में चीनी डालकर उबाल कर गाढ़ा शरबत बना ले जब ये उबल जाए तब सिट्रिक एसिड डालकर इसे ठंडा करके बोतलों में भर ले (आप चाहे तो इसमें रंग व एसेंस भी डाल सकती हें )

लाभ- 


यह शरबत प्यास की अधिकता, अंतर दाह, थकान, चित्त की अस्थिरता, पेशाब की जलन, आंखों की जलन, तथा पित्त संबंधी समस्याएं व उष्मा जन्य रोगों में बेहद लाभदाई हैं-आप इसे दूध या पानी में मिलाकर पिए-
loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कुल पेज दृश्य

सर्च करें-रोग का नाम डालें

Information on Mail

Loading...