26 मार्च 2018

सौंफ का हिम घर पर कैसे बनायें

Make Fennel Seed Detox Water


भारतीय संस्कृति में सौंफ (Fennel Seed) को भोजन तथा मुखवास में महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है आयुर्वेद में भी औषधि निर्माण में सौंफ को विशिष्ट स्थान प्राप्त है मुखवास के तौर पर प्रचलित सौफ आसानी से उपलब्ध होने के साथ-साथ बेहद उपयोगी भी है आजकल विदेशों में भी सौंफ का हिम (Fennel Seed Detox Water) या सौंफ का शरबत पीने का प्रचलन बड़ा है होटल व रेस्टोरेंट के मेन्यू में फेनल सीड ड्रिंक से नाम से सौंफ के शरबत को शामिल किया गया है-

सौंफ का हिम घर पर कैसे बनायें

सौंफ का हिम (Aniseed Detox Water)-


गर्मियों में अरूचि तथा अग्निमांद्य की समस्याएं अधिकांश होती है परिणाम स्वरुप भोजन करने की रुचि रहती नहीं है या भूख मर जाती है तथा तृप्ति का अनुभव नहीं होता है साथ में प्यास भी ज्यादा लगती है ऐसी स्थिति में कमजोरी व थकान (Fatigue) जैसी समस्या हो जाती है तब सौफ का हिम पीने से  बेहद लाभ मिलता है जिन लोगों का स्त्रियों की प्रकृति गरम हो उनके लिए गर्मियों में सौंफ का हिम आशीर्वाद रूप है प्रसूता या बच्चों को दूध पिलाने वाली स्त्रियों ने गर्मियों में नियमित रूप से यह हिम पीना चाहिए सौफ के हिम से उनका दूध बढ़ता है तथा दूध की गुणवत्ता भी बढ़ती है-

सौंफ का हिम घर पर कैसे बनायें

सौफ गुणों में अग्नि को प्रदीप करने वाली, गर्भधारण में मदद रूप होने वाली, हृदय के लिए हितकारी तथा बलवर्धक मानी गई है गर्मियों में सौंफ के हिम (Aniseed Detox Water) का  सेवन करने से और रक्तपित्त, तृषा, व्रण, अतिसार (Diarrhea) तथा आम प्रकोप दूर होता है रात को पानी में भिगोकर सुबह पानी पीने से पेट की गर्मी निकल जाती है तथा गर्मियों में ताजगी तरावट को शांति मिलती है-

महर्षि चरक ने सौफ को गर्भ धारण में सहाय करने वाली तथा शूल प्रशमन करने वाली कहां है हर्षि शुश्रुत ने सौफ को काफ शमन करने वाली कहा है-

पित्त ज्वर में सौंफ के हिम में मिश्री मिलाकर पीने से आराम मिलता है सौफ का हिम पीने से गर्मियों में होने वाली खांसी में राहत मिलती है सौंफ का हिम (Aniseed Detox Water) लंबी बीमारी के बाद अगर रोगी को नियमित पिलाया जाए तो रोगी को जीर्ण रोग से आई थकान कमजोरी दूर होकर बल (Energy) ऊर्जा मिलती है-

सौंफ का हिम पीने से लाभ-


1- सौफ के हिम (Fennel Seed Detox Water) से कुल्ले करने से मुखपाक, मुंह के छाले तथा मुंह की दुर्गंध दूर होती है-

2- सौंफ के हिम (Fennel Seed Detox Water) से आंखें धोने से आंखों की जलन, लाली तथा आंखों से पानी आना जैसी समस्याएं दूर होती है-

3- सौंफ के हिम का नियमित सेवन करने से गर्भाशय की शुद्धि होती है तथा महिलाओं की महावारी संबंधित समस्याओं में लाभ मिलता है-

4- यूनानी मत अनुसार सौंफ आंखों की रोशनी बढाने वाली याने नेत्र ज्योति वर्धक मानी गई है इसीलिए आंखों संबंधित तकलीफों में सौंफ का हिम पीने से लाभ होता है-

5- सौंफ के हिम (Fennel Seed Detox Water) में स्नान करने से घमोरियां तथा कील मुंहासे ठीक होते हैंत्वचा की जलन शांत होती है-

6- नियमित रूप से सौफ का हिम पीने चयापचय की क्रिया सुचारु होने की वजह से वजन कम होने में लाभ होता है सौफ में दीपक, पाचन, शामक, तथा अनुलोमन गुण होने से चयापचय की क्रिया को तेज करती है जिससे वजन कम होने में मदद मिलती है इसीलिए भोजन के बाद सौंफ खाने का प्रचलन भारत में अर्वाचीन युग से है-

7- सौंफ का हिम (Fennel Seed Detox Water) पीने से सूखी खांसी तथा शरीर की गर्मी शांत होती है आंखों के लिए भी अत्यंत उत्तम मानी गई है यूनानी हकीमों ने सौंफ को पाचक तथा पाचन अग्नि को प्रदीप्त करने वाला माना है महिलाओं में कष्टार्तव के लिए सौंफ बेहद फायदेमंद है-

8- सौफ फेफड़े तथा किडनियों के लिए बेहद लाभदायक मानी गई है इसलिय सौफ का हिम (Fennel Seed Detox Water) पथरी को गलने में भी सहायक हैं-

9- सौंफ को हरी याने गीली तथा सुखाकर दोनों तरीके से इस्तेमाल की जाती है सौफ (Fennel Seed) स्वाद और सुगंध बढ़ाने के साथ-साथ भोजन के पाचन में भी मदद करती है इसीलिए अचार में इसे ख़ास कर डाला जाता हैं-

इसे भी देखे-



प्रस्तुती- Chetna Kanchan Bhagat-Mumbai

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कुल पेज दृश्य

सर्च करें-रोग का नाम डालें

Information on Mail

Loading...