26 अप्रैल 2018

आम्रपाक कायाकल्प करने वाले उत्तम रसायन है


आयुर्वेद में निरोगी रहने का उत्तम तरीका कोई औषध या उपचार करके नहीं बल्कि मौसमी फलों का सेवन तथा मौसम के अनुसार आहार को बताया गया है प्रकृति हर मौसम में मनुष्य को अलग-अलग फलों का उपहार देती है जिसका सेवन करके मनुष्य ऊर्जा तथा स्वास्थ्य व सौंदर्य प्राप्त कर सकता है साथ ही साथ ऋतु के अनुसार मिलने वाले फलों का सेवन करके कई रोग भी दूर किये जा सकते हैं तथा पुरे साल भर के लिए बल प्राप्ति व उत्साह भी प्राप्त किया जा सकता है-

आम्रपाक कायाकल्प करने वाले उत्तम रसायन है

इसी कड़ी में आज हम फलों का राजा कहे जाने वाले आम के तीन तरह के अत्यंत लाभदायक आम्रपाक (Amrapak) की विधि लाभ व उपयोग बताने जा रहे हैं यह आम्रपाक सदियों से ऋषि, मुनियो, राजवैद्यो तथा आयुर्वेदिक उपचार्कों के पसंदीदा तथा अनुभूत योग रहे हैं-

आज से करीब 200 वर्ष पूर्व भारत के राजवैद तथा आयुर्वेद मार्तंड श्री शास्त्री पदे ने अपनी पुस्तक में इन सारे ही आम्रपाक के  बड़े गुणगान किए हैं तथा इनकी की उपयोगिता वह महत्व लिखते हुए उन्होंने कहा है कि यह सारे आम्रपाक (Amrapak) ब्रह्मा देवता ने स्वयं भार्गव ऋषि को बताए थे इसी वजह से आम को अमृत फल का नाम मिला-

आम्रपाक कायाकल्प करने वाले उत्तम रसायन है

यह सभी आम्रपाक (Amrapak) अर्वाचीन तथा अनुभूत कायाकल्प (Rejuvenation) करने वाले हैं जो बनाने में भी बेहद सरल तथा स्वादिष्ट भी है-

स्त्री, पुरुष, बड़े, बूढ़े तथा बच्चों के लिए बेहद गुणकारी है (मात्राओं अनुपान अलग-अलग) इसीलिए गर्मियों में जब अच्छे देसी आम बाजार में उपलब्ध हो तब यह सुअवसर ना गवाते हुए यह पाक  अवश्य बनाने चाहिए तथा इसका सेवन करके स्वास्थ्य तथा सौंदर्य वर्धन करना चाहिए-

आप अपनी आवश्यकता तथा समस्या के अनुरूप इनमें से कोई भी एक या दों आम्रपाक (Amrapak) चुनकर इसका सेवन पूरी गर्मी की ऋतु तक कर सकते हैं व घर बैठे ही स्वास्थ्य लाभ ले सकते हैं-

आम्रपाक (Amrapak) तन मन की पुष्टि के लिए बेहद उपयोगी है जैसा  की हमने आपको पहले बताया यह पाक स्त्री, पुरुष, बच्चे, बूढ़े सब के लिए समान हितकारी हैं-

पुरुषों के लिए आम्रपाक-


भारत के प्राचीन ग्रंथ आर्यभिषेक में मिले वर्णन के अनुसार आम्रपाक (Amrapak) का सेवन करने से वृद्ध पुरुष जवान होता है तथा जवान पुरुष पराक्रमी तथा बलवान बनता है यह पाक खाने से शारीरिक बल के साथ साथ मानसिक बल की भी वृध्धि होती है चिंता, स्ट्रेस, अनिद्रा (Insomnia) रोग भी नष्ट होते हैं शरीर में वीर्य बनता है कमजोरी दूर होकर वजन (Weight Gain) भी बढ़ता है-

स्त्रियों के लिए आम्रपाक-


आम्रपाक के सेवन से बार बार गर्भपात (Miscarriage) होना जैसी समस्या दूर होती है तथा वन्ध्त्व में इसके प्रयोग से स्वस्थ व उत्तम सन्तान प्राप्ति होती हैं-

आम्रपाक (Amrapak) के सेवन से त्वचा स्निग्ध व चमकीली होती हैं स्तन पुष्ट होते हैं, सौन्दर्य बढ़ता हैं तथा वृद्ध स्त्री तरुणी के समान दिखने लगती हैं-

बच्चों के लिए आम्रपाक-


आम्रपाक कायाकल्प करने वाले उत्तम रसायन है

छोटे बच्चों को कम अनुपात में आम्रपाक (Amrapak) नियमित देने से बच्चों की बुद्धि का योग्य विकास होता है यादशक्ति (Memory) बढती हैं, कमजोरी व दुबलेपन का नाश होता है, बच्चों में मिर्गी (Epilepsy) जैसी तकलीफ दूर होती है, रोग प्रतिकारक शक्ति बढ़ती है तथा बच्चे तेजस्वी होते हैं-

इस तरह यह आम्रपाक बलवर्धक, वीर्यवर्धक, बुद्धिवर्धक, आयुष्यवर्धक, सौंदर्यवर्धक, वृद्धावस्था को दूर करने वाले, हिस्टीरिया, मिर्गी, बेहोशी को दूर करने वाले तथा ओज को बढाकर कायाकल्प (Rejuvenation) करने वाले चमत्कारी औषधि पाक है-

आम्रपाक हीमोग्लोबिन (Hemoglobin) को बढ़ाते हैं आंतों के लिए उत्तम टोनिक हैं आमाशय (Stomach) के रोगों को नष्ट करते हैं इसके सेवन से शरीर की कांति सुंदर (Glowing Skin) बनती है तथा मनुष्य तेजस्वी बनता है उसका कायाकल्प होता है-

आने वाले लेखो में हम आपको ब्रह्म देव द्वारा भार्गव ऋषि को बताए गए तीनो आम्रपाक- आम्रपाक, खंडाम्रपाकपकवाम्रपाक नाम से जाने जाते हैं उनकी बनाने की विधी तथा उसके उपयोग के बारे में बताएँगे-


प्रस्तुती- Chetna Kanchan Bhagat-Mumbai

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कुल पेज दृश्य

सर्च करें-रोग का नाम डालें

Information on Mail

Loading...