अब तक देखा गया

1 अप्रैल 2018

दुबलापन होने का कारण और आयुर्वेदिक उपाय

Debility Reasons and Ayurvedic Treetment


अधिकतर लोग वजन को लेकर चिंताग्रस्त रहते है आपको जानना आवश्यक है कि आपकी दुर्बलता (Debility) का क्या कारण है इस पोस्ट में हम आपको अवगत कराने का प्रयास करेगे कि आप घरेलू और आयुर्वेदिक तरीके से आप अपना वजन कैसे संयमित रख सकते है-

दुबलापन होने का कारण और आयुर्वेदिक उपाय

वजन बढ़ाने के लिए सबसे पहले तो आपका फिट रहना जरूरी है यदि आप वजन बढ़ाना चाहते हैं इसका ये अर्थ नहीं कि आप फिजीकली बिल्कुल भी सक्रिय नहीं होंगे आपको व्यायाम (Exercise) करना तब भी जरूरी होगा-

वजन बढ़ाने (Weight Increase) के लिए सबसे बढि़या उपाय है आप हाई कैलोरी का खाना खाएं तथा उन खाद्य पदार्थों का सेवन ज्यादा करें जिनमें कैलोरी की मात्रा अधिक हो लेकिन इसका ये अर्थ नहीं कि आप जंकफूड (Junk Food) भारी मात्रा में खाने लगे बल्कि आपको हेल्दी और हाई कैलोरी भोजन को प्राथमिकता देनी हैं अगर आप अपना वजन हेल्दी रूप से बढ़ाना चाहते हैं तो आपको सुबह का नाश्ता हेवी करना होगा

च्यवनप्राश भी वजन बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक औषधी है और यह लगभग सभी के लिए आमतौर पर भी हेल्दी रहता है इससे न सिर्फ शारीरिक उर्जा बढ़ती है बल्कि मेटाबोलिज्म (Metabolism) भी मजबूत रहता है शतावरी कल्पा लेने से न सिर्फ आंखें और मसल्स अच्छी रहती है बल्कि इससे वजन भी बढ़ता है वसंतकुसुमकर रस शरीर को न सिर्फ आंतरिक उर्जा देता है बल्कि वजन को जल्दी बढ़ाने में भी लाभकारी है-

दुबलापन (Debility) होने के कारण-


1- जिसकी पाचन शक्ति में गड़बड़ी है वह व्यक्ति अधिक दुबला हो सकता है तथा मानसिक, भावनात्मक तनाव, चिंता की वजह से भी व्यक्ति दुबला हो सकता है और यदि शरीर में हार्मोन्स असंतुलित हो जाए तो व्यक्ति दुबला हो सकता है-

2- चयापचयी क्रिया में गड़बड़ी हो जाने के कारण व्यक्ति दुबला हो सकता है कभी-कभी बहुत अधिक या बहुत ही कम व्यायाम करने से भी व्यक्ति दुबला हो सकता है-

3- आंतों में टेपवर्म या अन्य प्रकार के कीड़े हो जाने के कारण भी व्यक्ति को दुबलेपन का रोग हो सकता है-

4- मधुमेह, क्षय, अनिद्रा, जिगर, पुराने दस्त या कब्ज आदि रोग हो जाने के कारण व्यक्ति को दुबलेपन का रोग हो जाता है-

5- शरीर में खून की कमी हो जाने के कारण भी दुबलेपन का रोग हो सकता है-

दुबलापन (Debility) घरेलू और आयुर्वेदिक उपाय-


1- आप अपनी डाइट में कार्बोहाइड्रेट और हेल्दी फैट्स की मात्रा बढ़ाएं अध‌िक कैलोरी वाली डाइट जैसे रोटियां, रेड मीट,राजमा, सब्जियां, मछली, चिकन, ऑलिव्स और केले जैसे फल आदि की मात्रा बढ़ाएं तथा दिन में कम से कम पांच बार थोड़ी-थोड़ी डाइट लें-

दुबलापन होने का कारण और आयुर्वेदिक उपाय

2- क्या आप जानते है कि अखरोट में आवश्यक मोनोअनसेचुरेटेड फैट होता है जो स्वस्थ कैलोरी को उच्च मात्रा में प्रदान करता है यदि आप रोज़ 20 ग्राम अखरोट खाते है तो आपका वजन तेजी से बढेगा-

3- भोजन में प्रोटीन की मात्रा बढाएं तथा दालों में प्रोटीन की मात्रा ज्यादा होती है अडा, मछली, मीट भी प्रोटीन के अच्छे स्रोत हैं या बादाम, काजू का नियमित सेवन करें-काजू स्वस्थ काया पाने का आसान तरीका है काजू के तेल में न केवल वजन बढ़ाने बल्कि काजू रोज़ खाने से आपकी त्वचा कोमल और बाल चमकदार दिखने लगेगी-

4- च्यवनप्राश वजन बढाने की और स्वस्थ रहने की मशहूर आयुर्वेदिक औषधि है सुबह-शाम दूध के साथ सेवन करते रहें-

5- आयुर्वेद में अश्वगंधा और सतावरी के उपयोग से वजन बढाने का उत्तम योग है आप 3-3 ग्राम  दोनों रोज सुबह लें ये चूर्ण दूध के साथ प्रयोग करें तथा वसंतकुसुमाकर रस भी काफ़ी असरदार  दवा है-

6- रोज सुबह 3-4 किलोमीटर घूमने का नियम बनाएं इससे आपको ताजा हवा भी मिलेगी और आपका मेटाबोलिस्म  भी ठीक रह्र्गा और भोजन खूब अच्छी तरह से चबा चबा कर खाना चाहिये क्युकि दांत का काम आंत पर डालना उचित नहीं है-दोनों वक्त शोच निवृत्ति की आदत डालें-

7- 50 ग्राम किशमिश रात को पानी में भिगो दे  सुबह भली प्रकार चबा चबा कर खाएं-दो-तीन  माह के प्रयोग से वजन बढेगा-किशमिश में अनाज की 99 % कैलोरी पायी जाती है और फाइबर भी बहुत अच्छी मात्रा में पाया जाता है- ये शरीर के फैट को हटा के स्वस्थ कैलोरी में परिवर्तित करता है-

8- मलाई-मिल्क क्रीम में आवश्यकता से ज्यादा फैटी एसिड होता है और ज्यादातर खाद्य उत्पादों की तुलना में अधिक कैलोरी की मात्रा होती है मिल्क क्रीम को पास्ता और सलाद के साथ खाने से Weight Increase होगा-

9- नाश्ते में बादाम, दूध, मक्खन घी का पर्याप्त मात्रा में उपयोग करने से आप तंदुरस्त रहेंगे और वजन भी बढेगा-

10- तुरंत वजन बढाना हो तो केला खाइये-रोज़ दो या दो से अधिक केले खाने से आपका पाचन तंत्र भी अच्छा रहेगा आप केले को दूध में फेट के भी ले सकते है -

11- आलू कार्बोहाइड्रेट और काम्प्लेक्स शुगर का अच्छा स्त्रोत है आलू ज्यादा खाने से शरीर में फैट की मात्रा बढ़ जाती है-

12- नारियल का तेल को प्रयोग में लें यह आहार तेलों का समृद्ध स्रोत है और भोजन के लिए अच्छा तथा स्वादिस्ट जायके के लिए जाना जाता है तथा नारियल के तेल में भोजन पकाने से खाने में कैलोरी बढ़ेगी जिससे आपके वजन में वृधि होगी-

13- जो लोग शाकाहारी है और नॉनवेज नहीं खाते उनके लिए बीन्स से अच्छा कोई विकल्प नहीं है-बीन्स के एक कटोरी में 300 कैलोरी होती है यह सिर्फ वजन बढ़ने में ही मदद नहीं करता बल्कि पौष्टिक भी होता है-

14- मक्खन में सबसे ज्यादा कैलोरी पाई जाती है मक्खन खाने के स्वाद को सिर्फ बढ़ाता ही नहीं बल्कि वजन बढ़ाने में भी मदद करता है-

15- ब्राउन राइस कार्बोहाइड्रेट और फाइबर की एक स्वस्थ खुराक का स्रोत है भूरे रंग के चावल कार्बोहाइड्रेट का भंडार है इसलिए नियमित रूप से इसे खाने से वजन तेजी से हासिल होगा-

16- जैतून के तेल में आवश्यक कैलोरी बहुत बड़ी मात्रा में पाई जाती है और यह हृदय रोग से लड़ने में भी बहुत मदद करता है-

17- अश्वगंघा अवलेह को पानी और दूध से लेने से जल्दी असर करता है और वजन प्रबंधन में भी मदद करता है इसका चूर्ण दूध, घी या शहद से लेने में भी असरकारक है-द्राक्षारिष्ट को लगातार एक महीने को गर्म और ठंडे पानी में शहद मिलाकर लेने से अच्छा रहता है इन आयुर्वेदिक औषधियों को लेने से कोई साइड इफेक्ट नहीं होगा और आप आराम से अपना वजन भी बढा़ सकते हैं-

पाचक चूर्ण बना सकते है-


छोटी हरड, बहेडा, आँवला, सोंठ, पीपर, कालीमिर्च, कालानमक ये सब 20-20 ग्राम असली हींग दो ग्राम सब कूट पीस कर रख लें पाचक चूर्ण तैयार है खाना सोने से 2 घंटे पहले चूर्ण थोडे गुनगुने पानी से लें-

इसे भी देखें-

आपका वजन क‌ितना होना चाहिए एक जानकारी
पृथ्वी मुद्रा करे अपनी दुर्बलता दूर करके अपना वजन बढ़ाये
आपको वजन कम करना है सूर्या मुद्रा करो

प्रस्तुती- Satyan Srivastava

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Information on Mail

Loading...