22 अप्रैल 2018

डायबिटीज तथा मोटापा के लिए संवा चावल का सेवन क्यों व कैसे करें

Use Sama Rice to Control Diabetes and Obesity


पिछले लेख में हमने संवा चावल (Sama Rice) के गुण तथा लाभ उपयोग के बारे में विस्तार से पढा तथा यह भी जाना कि संवा चावल एक पौष्टिक (Wholesome) स्वादिष्ट तथा औषधीय गुणों से भरपूर अन्न है आज हम आपको डायबिटीज (Diabetes) तथा मोटापा (Obesity) जैसी समस्याओं में संवा चावल कैसे और क्यों खाया जाए इसके बारे में विस्तार से जानकारी देंगे-

डायबिटीज तथा मोटापा के लिए संवा चावल का सेवन क्यों व कैसे करें

आजकल अनुचित जीवन शैली, स्ट्रेस, तथा भोजन की अनियमितता और जंक फूड का बढ़ता प्रचलन व पौष्टिक पारंपरिक भारतीय आहार के प्रति बढ़ती हुई लोगों की अरुचि की वजह से घर-घर में डायबिटीज तथा मोटापा (Obesity) जैसे रोग मेहमान बनकर घुस गए हैं और कई बार दवाई, व्यायाम, डाइटिंग सब कुछ करने पर भी डायबिटीज (Diabetes) और मोटापा जैसी समस्याओं से मुक्ति नहीं मिल पाती है और तब डायटिशियन व डॉक्टर रोगी को चावल बंद कर देने को कहते हैं और तब लोगों को बिना चावल के भोजन करने में दिक्कत होने लगती है या चावल खाने के बाद उनको ग्लानी व डर लगने लगता है जिस वजह से रोगी भोजन का स्वाद तथा आनंद नहीं ले पाता ऐसी समस्याओं में श्रेष्ठ विकल्प संवा चावल है जो पौष्टिक और स्वादिष्ट होने के साथ-साथ चावल से कई ज्यादा गुणकारी व मोटापा तथा डायबिटीज को नियंत्रित करने में चमत्कारी लाभ देने वाला है-

संशोधन किये तथ्य-


1- 2009 के जर्नल ऑफ यूनिफार्र्मकोलॉजी में प्रकाशित एक संशोधन के अनुसार संवा चावल (Sama Rice) डायबिटीज के लिए उत्तम औषधि है-

डायबिटीज तथा मोटापा के लिए संवा चावल का सेवन क्यों व कैसे करें

2- 2005 में फुड केमिस्ट्री जनरल में प्रकाशित संशोधन के अनुसार संवा चावल में चर्बी की मात्रा कम तथा फाइबर (Fibre) का की मात्रा ज्यादा होने से समा चावल वजन कम करने (Obesity) में तथा वजन को नियंत्रित रखने में मदद करता है और इसीलिए विदेशों में शुगर फ्री राइस के नाम से संवा चावल (Sama Rice) बड़े लोकप्रिय हो रहे हैं तथा बड़े-बड़े रेस्टोरेंटस और हेल्थ केयर सेंटर के मैन्यू में भी बड़ी शान से विराजमान है-

मोटापा (Obesity) व डायबिटीज के लिए कैसे बनाएं समा चावल-


जैसा की हमने पिछले लेख में देखा कि संवा चावल (Sama Rice) पौष्टिक है लेकिन गुणधर्म में रुक्ष मल को रोकने वाला तथा वात कारक भी है इसीलिए संवा चावल को हमेशा पत्तेदार सब्जियों तथा उचित चिकनाई के साथ पकाने से वह ज्यादा पौष्टिक, पाचक तथा गुणकारी बनते हैं-

आजकल समय की कमी के चलते वन पॉट मील (One Pot Meal) खाने का प्रचलन बढ़ गया है जब भी वजन कम करना हो या किसी व्याधि को नियंत्रित करना हो तब इस तरह के वन पॉट मील खाने से पेट भी भरता है साथ-साथ और पौष्टिकता भी मिलती है-

आज हम आपको संवा चावल (Sama Rice) बनाने वो विधि बताएंगे जो एक परिपूर्ण आहार है जो आप नाश्ते में, दोपहर के खाने में, या रात के खाने में खा सकते हैं तथा इसके लाभ ले सकते हैं-

सामग्री-


समा चावल- एक कप 
सहजन के पत्ते- आधा कप 
मटर, गाजर, गोभी, टमाटर, या अन्य कोई सब्जियां- एक कप 
प्याज-  पसंद हो तो प्याज भी डाल सकते हैं

बनाने की विधि-


संवा चावल (Sama Rice) को धोकर 2 घंटे पानी में भिगोकर रखें अब कुकर में एक चम्मच घी गर्म करके उसमें जीरा डालकर सहजन के पत्ते तथा बाकी सब्जियां एक कटी हरी मिर्च, धनिया, हल्दी, तथा हींग व स्वादानुसार सेंधा नमक डालकर अच्छे से दो मिनट तक पकाएं तथा दो मिनट बाद में पानी में भिगोए हुए चावल पानी के साथ ही डाल दे जरूरत लगे तो थोड़ा और पानी डाल दे-

अब इसे कुकर में चार से पांच सिटी होने तक पका लें यह एक उत्तम वन पॉट मील (One Pot Meal) है आप इसमें आपके स्वाद तथा आवश्यकतानुसार संवा चावल (Sama Rice) के साथ साथ  दलिया या मूंग की दाल डाल कर भी बना सकते हैं-

फायदे-


1- यह खाने में बेहद स्वादिष्ट तथा बेहद पौष्टिक है इसे अपने स्वाद तथा रुचि अनुसार अलग अलग ढंग से बनाकर प्रतिदिन खाया जाए तो मधुमेह तथा मोटापा (Obesity) जैसी समस्या में अवश्य वांछित लाभ मिलता है-साथ-साथ कब्ज (Constipation), हड्डियों का दर्द, कमजोरी, केल्शियम की कमी, आलस्य तथा पुराने जख्मों का ना भरना जैसी समस्याओं में भी लाभ होता है-

2- यह बढ़ते बच्चों के लिए बेहद गुणकारी व पौष्टिक आहार है पचने में हल्का होने की वजह से तथा अन्य सब्जियों तथा योग्य रूप से चिकनाई डालकर पकाने की वजह से यह  पेट को भारी नहीं करता है तथा आंतों पर अतिरिक्त जोर नहीं आता है जिसकी वजह से बढ़ा हुआ पेट कम होने में मदद मिलती है-

डायबिटीज मोटापा रोकने तथा नियंत्रित करने के लिए क्यों खाए संवा चावल-


1- संवा चावल में 8.5 %प्रोटीन (Protain) 1.2% चर्बी (Fats), 65.9% कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrate) होते हैं जो डायबिटीज (Diabetes) को नियंत्रित करने के लिए लाभदायक है-

2- संवा चावल (Sama Rice) किडनी तथा मूत्राशय जैसे अवयवो तथा मूत्र कृच्छ्र व किडनी संबंधित रोगों के लिए भी लाभदायक है-

3- संवा चावल (Sama Rice) तृण धान्य होने की वजह से जल्दी उगते हैं तथा इनको उगाने में रासायनिक खाद तथा कीटनाशक का प्रयोग नहीं होने से यह संपूर्ण ऑर्गेनिक (Organic) तथा आरोग्य के लिए बेहद उपयुक्त है-

4- चावल की तुलना में संवा चावल में कैल्शियम (Calcium) की मात्रा लगभग 12 गुना ज्यादा पाई जाती है यह शरीर में आयरन (Iron) की कमी को भी पूरा करता है जिसकी वजह से संवा चावल खाने से पोषण तो मिलता ही है साथ-साथ मधुमेह (Diabetes) तथा वजन भी कम होते रहता है-

5-  संवा चावल का ग्लायसेमिक इंडेक्स (Glycemic Index) कम होने की वजह से अनुवांशिक मधुमेह (Genetic Diabetes) को कम या नियंत्रित करने में अत्यंत उपयुक्त है बड़े खेद की बात है कि आज तक हमने जिसे व्रत के खाने तक ही सीमित रखा वह कई समस्याओं को मिटाने वाला तथा शरीर में कैल्शियम की योग्य आपूर्ति करने वाला औषधि अन्न है यह ग्लूटेन फ्री (Gluten Free) होने की वजह से इसे ग्लुटन एलर्जी (Celiac Disease) वाले लोग भी सेवन कर सकते हैं तथा इसकी पौष्टिकता का लाभ ले सकते हैं-


प्रस्तुती- Chetna Kanchan Bhagat-Mumbai

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Tags Post

Information on Mail

Loading...