11 जून 2018

तिल के पुष्प का गुलकंद बनाने की विधि व लाभ

Preparation Method and Health Benefits of Sesame Flower Gulkand


भारतीय भोजन शैली में तिल (Sesame) का एक विशिष्ट स्थान है तिल से विविध प्रकार की मिठाई त्योहारों में बनाई जाती हैं तथा तिल के तेल से कई तरह के व्यंजन बनाए जाते हैं धार्मिक दृष्टि से भारतीय संस्कृति में भी तिल को पवित्र स्थान दिया गया है वही प्राचीन भारतीय चिकित्सा प्रणाली आयुर्वेद ने तो तिल (Sesame) को वात रोगों की विशिष्ट औषधि माना है तथा तिल के तेल को सर्वोत्तम तेल का दर्जा दिया गया है-इस तरह तिल अपने गुणों व स्वाद के चलते हर भारतीय घर की रसोई में विराजमान है-

तिल के पुष्प का गुलकंद बनाने की विधि व लाभ

आज हम आपको तिल के फूलों (Sesame flower) के गुलकंद के बारे में बताएंगे यह गुलकंद (Gulkand) आदिवासी तथा देहाती इलाकों में आज भी कई वैध्य जनों द्वारा उपयोग में है यह गुलकंद बनाने में बेहद आसान है तथा निरापद होने के साथ-साथ चमत्कारिक रूप से असरदार भी हैं-

तिल के पुष्प (Sesame flower) का गुलकंद-


सामग्री-

तिल के पुष्प की पंखुड़ियां- 1 किलो
शक्कर- 1 किलो

विधि-

कांच के बरनी में तिल के पुष्प की पंखुड़ियों को अच्छे से साफ करके तिल के पुष्प (Sesame flower) की एक परत जमा दे उसके ऊपर शक्कर डालकर शक्कर की एक परत जमा दे अब शक्कर की परत के ऊपर फिर तिल के पुष्प की पंखुड़ियों की एक परत  फैला दें इसी तरह शक्कर और पंखुड़ियां खत्म होने तक यह क्रम दोहराए-

इसके बाद कांच के बर्तन को अच्छे से बंद करके ऊपर कपड़ा लपेट के धूप में रख दें 21 दिन में सूर्य तापित गुलकंद (Gulkand) तैयार हो जाएगा-

मात्रा और अनुपान-

सुबह शाम एक-एक चम्मच गुलकंद (Gulkand) खाए ऊपर से गर्म दूध पी सकते हैं-

लाभ व उपयोग-

1- तिल के पुष्पों (Sesame flower) का गुलकंद कैल्शियम की कमी, हड्डियों की कमजोरी, हाथ पैरों में दर्द, घुटनों के दर्द, कमर दर्द (Back ache) जैसी समस्याओं में उत्तम गुणकारी व स्वादिष्ट औषध है-

2- अगर नियमित रूप से इसका सेवन किया जाए तो बाजारु हेल्थ ड्रिंक प्रोटीन या कैल्शियम बढ़ाने वाली गोली या ड्रिंक पीने की जरूरत नहीं पड़ेगी-

3- आयुर्वेद के मुताबिक़ बालों का संम्बध भी हड्डियों से हैं इसीलिए तिल के पुष्पों (Sesame flower) का गुलकंद बालों का झड़ना (Hair fall), बालों का उड़ना (Baldness) या गंजापन, बालों का कम बढ़ना जैसी बालों संबन्धित समस्याओं में भी बेहद उपयोगी है इससे बाल घने व मजबूत बनते हैं-

तिल के पुष्प का गुलकंद बनाने की विधि व लाभ

4- बच्चों को नियमित रुप से अगर तिल के पुष्पों (Sesame flower) का गुलकंद सेवन करवाया जाए तो बच्चों की हड्डियां (Bones) मजबूत बनती है, आंखों की रोशनी बढ़ती है तथा याददाश्त (Memory) भी तेज रहती है-

5- तिल के पुष्पों का गुलकंद बच्चों को योग्य पोषण देने के साथ-साथ ही बच्चों की लंबाई (Height increment) बढ़ाने में भी सहायक है-

6- सूर्य तापित विधि से बना होने की वजह से तिल के पुष्पों (Sesame flower) का गुलकंद विटामिन डी से प्रचुर है आयुर्वेद में तिल को हड्डियों का उत्तम औषध माना गया है-

नोट- 

कई वैध जन इसमें शलगम भी कद्दूकस करके डालते हैं जिससे इसके रंग व पौष्टिकता में वृध्धि होती हैं तथा बच्चे इसे आसानी से खा लेते हैं-

प्रस्तुती- Chetna Kanchan Bhagat-Mumbai

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन
loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कुल पेज दृश्य

सर्च करें-रोग का नाम डालें

Information on Mail

Loading...