25 अगस्त 2018

लहसुन व तेल के औषधीय घरेलू प्रयोग

loading...

Medicinal Use of Garlic and Oil


सर्वत्र मिलने वाला लहसुन (Garlic) एक उत्तम खाद्य पदार्थ तथा प्रसिद्ध रसायन है प्राचीन काल से ही भारत में लहसुन का भोजन में, औषधियों में तथा बाजीकरकर व रसायन योग में उपयोग होता आ रहा है लहसुन ना सिर्फ भोजन की स्वाद और सुगंध बढ़ाता है बल्कि भोजन के पौष्टिक गुणों में भी वृद्धि करता है योग्य तरीके से लहसुन खाने से भोजन औषधि समान सिद्ध हो जाता है-

लहसुन व तेल के औषधीय घरेलू प्रयोग

सर्दियों की ऋतु में लहसुन (Garlic) का विधिवत सेवन किया जाए तो मनुष्य शरीर निरोगी, तेजस्वी, बलवान तथा दीर्घायु बनता है लहसुन एक उत्तम रसायन है इससे बुद्धि, आयुष्य, वीर्य, ओज तथा पुरुषत्व बढ़ता है लहसुन गर्म प्रकृति का होने से सर्दियों में तथा वर्षा ऋतु में इसका प्रयोग बेहद हितकर माना गया है-

लहसुन (Garlic) एक उत्तम एंटीसेप्टिक है लहसुन खाने से फेफड़े, त्वचा, किडनी, लीवर, वगैरह की कार्यक्षमता सुधरती है तथा शरीर से विषैले तत्व निकलने में मदद मिलती है लहसुन का नियमित सेवन करने से खांसी, कफ इन्फेक्शन, टीबी, हृदय संबंधित समस्याएं, सूजन, जलोदर, गर्भाशय संबंधी समस्याएं, पैरालिसिस, वृध्धावस्था की वजह से या लंबी बीमारी से आई हुई शारीरिक कमजोरी, नसों का कमजोर पड़ना, कोलेस्ट्रॉल, BP जैसी तकलीफ है दूर होती है लहसुन एक उत्तम एंटीबैक्टीरियल भी है इसी वजह से दाद, खाज, खुजली, सोरायसिस, फंगल इन्फेक्शन, डेंड्रफ जैसी समस्याओं पर अक्सर कार्य करता है पुराने घाव, सड़े-गले जख्म, फोड़े फुंसी, कील मुंहासे जैसी समस्याओं पर रामबाण इलाज है-

क्या हैं इसके प्रयोग-


1- 25 ग्राम लहसुन को कूट-पीसकर तिल के तेल में मिलाकर आधा ग्राम सेंधा नमक डालकर खाने से विषम ज्वर वात कफ ज्वर तथा सर्व प्रकार के वात व्याधि दूर होते हैं-

2- लहसुन की 10 कलियां ले कर  एरंड तेल में गुलाबी होने तक तल लें इन टुकड़ों पर चुटकी हींग तथा सेंधा नमक मिलाकर भोजन से पहले गरम चावल में मिलाकर खाने से आम जन्यशूल, कटिशूल, पेट दर्द, आफरा तथा गैस की समस्या में आराम मिलता है-

लहसुन व तेल के औषधीय घरेलू प्रयोग

3- 50 ग्राम लहसुन की कलियों को कूट-पीसकर 100 ग्राम गाय के घी में मिलाकर अच्छे से पका ले भोजन में प्रतिदिन एक एक चम्मच इस घी का प्रयोग करने से पेट की गड़बड़ी, आमवात, कब्ज की समस्या, अरुचि, भूख का कम लगना, जैसी पेट संबंधी तकलीफों में बहुत आराम मिलता है-

4- खांसी में इसी घी को एक चम्मच लेकर एक कप गर्म पानी या अजवाइन के काढ़े के साथ पीने से खांसी तथा जमा हुआ कफ निकलता है फेफड़ों में अगर इंफेक्शन हो तो दूर होता है तथा छाती का दर्द व पीठ का दर्द भी दूर होता है-

5- 50 Ml लहसुन के रस को 100 ml जैतून के तेल में अच्छे से चला ले तथा यह तेल कांच की शीशी में भरकर रख लें जरूरत के हिसाब से इस तेल को गर्म करके बच्चों की छाती तथा पीठ पर मलने से काली खांसी, कुकुर खांसी और हुपिंग कफ में आश्चर्यजनक लाभ मिलता है एक तरह से यह काली खांसी की रामबाण दवा है-

6- लहसुन को लसोट कर घोटकर  मल्हम जैसा बनाकर उसमें एक चम्मच नीम का तेल या तिल तेल डाल कर खरल  कर कपड़े की पट्टी पर लगाकर यह पट्टी गले की गांठ ऊपर यानी कंठमाला पर लगाकर रखने से कुछ ही दिन में गले की गांठे ठीक हो जाती है-

7- लहसुन की 3 कली को सरसों के तेल में जलाकर यह तेल कान में डालने से कान दर्द, कान का इन्फेक्शन, कान का पकना, बहरापन, जैसी समस्याओं में आश्चर्यजनक लाभ मिलता है-

8- 10 लहसुन की कलियों को कूटकर जैतून के तेल में पका लें यह तेल सर में लगाने से डैंड्रफ, बाल झड़ना, सर की त्वचा पर खुजली आना जैसी समस्याएं दूर होती है-

9- 10-12 लहसुन की कलियों को अलसी के तेल में खूब घोटकर मरहम बनाकर दाद खाज खुजली पर लगाने से लाभ मिलता है-


विशेष सूचना-

सभी मेम्बर ध्यान दें कि हम अपनी नई प्रकाशित पोस्ट अपनी साइट के "उपचार और प्रयोग का संकलन" में जोड़ देते है कृपया सबसे नीचे दिए "सभी प्रकाशित पोस्ट" के पोस्टर या लिंक पर क्लिक करके नई जोड़ी गई जानकारी को सूची के सबसे ऊपर टॉप पर दिए टायटल पर क्लिक करके ब्राउज़र में खोल कर पढ़ सकते है....

किसी भी लेख को पढ़ने के बाद अपने निकटवर्ती डॉक्टर या वैद्य के परमर्श के अनुसार ही प्रयोग करें-  धन्यवाद। 

Chetna Kanchan Bhagat Mumbai

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Loading...

कुल पेज दृश्य

Upchar और प्रयोग

प्रस्तुत वेबसाईट में दी गई जानकारी आपके मार्गदर्शन के लिए है किसी भी नुस्खे को प्रयोग करने से पहले आप को अपने निकटतम डॉक्टर या वैध्य से अवश्य परामर्श लेना चाहिए ...

लोकप्रिय पोस्ट

लेबल